फिल्मों और खेलों से जुड़े व्यक्ति राजनीति में क्यों कामयाब नहीं होते?...


play
user

Jagroop Singh Jarkhar

Sports Promoter & Journalist

0:33

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक तो उनकी जो डेडीकेशन है वह नहीं होती देख ले फिल्म एक्टर है जो उस मेडिटेशन से कांटेक्ट में काम नहीं करते हैं एक दूसरे के दिल पॉलिटिक्स और इमानदार लोगों की लोगों के गेम नहीं है मेन रीजन

ek toh unki jo dedikeshan hai vaah nahi hoti dekh le film actor hai jo us meditation se Contact mein kaam nahi karte hain ek dusre ke dil politics aur imaandaar logo ki logo ke game nahi hai reason

एक तो उनकी जो डेडीकेशन है वह नहीं होती देख ले फिल्म एक्टर है जो उस मेडिटेशन से कांटेक्ट मे

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  311
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिल मोर खेलों से जुड़ी राजनीति में टांग नहीं होता उन्हें ज्ञान नहीं होता इसलिए उन्हें कामयाबी नहीं मिलती है ऐसे लोगों को खेलो को ज्यादा महत्व देते हैं और राजनीति में कम सक्रिय रहते हैं इस वजह से भी उन्हें इसमें ज्यादा कामयाबी

dil mor khelo se judi raajneeti mein taang nahi hota unhe gyaan nahi hota isliye unhe kamyabi nahi milti hai aise logo ko khelo ko zyada mahatva dete hain aur raajneeti mein kam sakriy rehte hain is wajah se bhi unhe isme zyada kamyabi

दिल मोर खेलों से जुड़ी राजनीति में टांग नहीं होता उन्हें ज्ञान नहीं होता इसलिए उन्हें कामय

Romanized Version
Likes  287  Dislikes    views  3963
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए ऐसी बात नहीं है फिल्मों से जुड़े हुए कई अभिनेताओं ने राजनीति में बहुत ही बड़ा मुकाम हासिल किया है जैसे जयललिता को देखने उन्होंने सॉन्ग कन्नड़ फिल्म इंडस्ट्री से अभिनय के क्षेत्र में शुरुआत करके राजनीति में जाकर मुख्यमंत्री के पद तक पहुंची है इससे यह नहीं कहा जा सकता है कि फिल्मों से जुड़े हुए लोग राजनीति में सफल नहीं हुई चाहिए

dekhiye aisi baat nahi hai filmo se jude hue kai abhinetaon ne raajneeti mein bahut hi bada mukam hasil kiya hai jaise Jayalalitha ko dekhne unhone song kannada film industry se abhinay ke kshetra mein shuruat karke raajneeti mein jaakar mukhyamantri ke pad tak pahuchi hai isse yah nahi kaha ja sakta hai ki filmo se jude hue log raajneeti mein safal nahi hui chahiye

देखिए ऐसी बात नहीं है फिल्मों से जुड़े हुए कई अभिनेताओं ने राजनीति में बहुत ही बड़ा मुकाम

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  99
WhatsApp_icon
user

Prem Verma

Journalist

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

समाज में हर वर्ग बना हुआ है फिल्म में एक अलग वर्ग है खेल जगत एक अलग और का ताला तोड़कर कोई खिलाड़ी नहीं बन सकता है एक खिलाड़ी बनने के लिए एक तपस्या करनी पड़ती है एक समय देना पड़ता है मानसिकता जो है पूरी फोकस कांटेक्ट कंसंट्रेशन जो है खेल के प्रति बन जाती है किसी भी खिलाड़ी कि उसे राजनीति का नहीं पता उसका फोकस खेल में बना हुआ है तो अचानक से राजनीति में आ जाएगा राजनीति नहीं अगर किसी और फील्ड में चला जाएगा तो उसके चांसेस वहां पर सफल होने के बहुत कम होते हैं या कह लीजिए किस्मत की बात है वह इतने ज्यादा पॉपुलर है चर्चित है मशहूर है लोगों में इस वजह से उनको लोगों का सपोर्ट मिल रहा है नहीं अदर वाइज एक वर्ग दूसरे वर्ग में जाकर कामयाब हो जाए इसकी कोई गारंटी नहीं होती यही वजह है कि फिल्मों खेलों से जुड़े लोग राजनीति में कामयाब नहीं पाते और किसी पार्टी का रैली जिओ इंटरेस्ट होता है कोई रुचि होती है तो उनको प्रमोट करते हैं निरहुआ अपने लेवल पर आप देख सकते हैं किसी भी हस्ती को जिस जिस ने फिल्म चाहिए खेलों से राजनीति में कदम रखा है तूने अपने लेवल पर क्या किया है राजनीति में आने के बाद किया है वह अलग बात है पर राजनीति में आने से पहले उन्होंने कुछ नहीं कि उन्होंने अपने ही फील्ड में अपने ही वर्ग में जो अपने जो उनका दायरा था उस दायरे में उन्हें काम किया था इस वजह से ही वह राजनीति में क्लिप ज्यादा कामयाब नहीं हो पाते हैं जो को पॉपुलर है वह कामयाब हो जाते हैं उनको मिलती रहती है लोगों की जो सहानुभूति क्या लीजिए या लोगों का सपोर्ट नहीं मिलता

samaaj mein har varg bana hua hai film mein ek alag varg hai khel jagat ek alag aur ka tala todkar koi khiladi nahi ban sakta hai ek khiladi banne ke liye ek tapasya karni padti hai ek samay dena padta hai mansikta jo hai puri focus Contact kansantreshan jo hai khel ke prati ban jaati hai kisi bhi khiladi ki use raajneeti ka nahi pata uska focus khel mein bana hua hai toh achanak se raajneeti mein aa jaega raajneeti nahi agar kisi aur field mein chala jaega toh uske chances wahan par safal hone ke bahut kam hote hain ya keh lijiye kismat ki baat hai vaah itne zyada popular hai charchit hai mashoor hai logo mein is wajah se unko logo ka support mil raha hai nahi other wise ek varg dusre varg mein jaakar kamyab ho jaaye iski koi guarantee nahi hoti yahi wajah hai ki filmo khelo se jude log raajneeti mein kamyab nahi paate aur kisi party ka rally jio interest hota hai koi ruchi hoti hai toh unko promote karte hain nirahua apne level par aap dekh sakte hain kisi bhi hasti ko jis jis ne film chahiye khelo se raajneeti mein kadam rakha hai tune apne level par kya kiya hai raajneeti mein aane ke baad kiya hai vaah alag baat hai par raajneeti mein aane se pehle unhone kuch nahi ki unhone apne hi field mein apne hi varg mein jo apne jo unka dayara tha us daayre mein unhe kaam kiya tha is wajah se hi vaah raajneeti mein clip zyada kamyab nahi ho paate hain jo ko popular hai vaah kamyab ho jaate hain unko milti rehti hai logo ki jo sahanubhuti kya lijiye ya logo ka support nahi milta

समाज में हर वर्ग बना हुआ है फिल्म में एक अलग वर्ग है खेल जगत एक अलग और का ताला तोड़कर कोई

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  185
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देश की राजनीति में अभिनेता और खिलाड़ी कितने सफल नहीं हो पाते हैं क्योंकि मुझे लगता है कि हर इंसान के भीतर कुछ विशेष गुण होते हैं और वह विशेषता और कार्यों के प्रति रुझान ही उसके जीवन का मार्ग भी तय करते हैं किसी भी व्यक्ति को अपने जीवन में क्या बनना है उसका इंटरेस्ट किस चीज में है वह नेता बनना चाहता है या अभिनेता हूं खिलाड़ी बनना चाहता है या एक सफल व्यवसाई उसके अंदर जो क्वालिटी होती है जिस दिन पर उस उससे जिन चीजों पर उसका होता है उस पर डिपेंड करता है एक नेता मुझे लगता है कि बहुत अच्छा भी नेता बन सकता है क्योंकि वह हमेशा जनता के सामने अभी नहीं तो करता रहता है लेकिन एक खिलाड़ी और अभिनेता की भावनाएं अलग होती है मुझे लगता है कि वह ज्यादा इमोशनल और समर्पित होते हैं अपने कार्यों के प्रति अपने क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ देना ही उनकी प्राथमिकता होती है और सर्वश्रेष्ठ के लिए आपके मन में सच्चाई और मेहनत दोनों का होना जरूरी है लेकिन अफवाह के रूप में हमारे नेताओं में यह क्वालिटी बहुत कम देखने को मिलती है बहुत कम ऐसे नेता होते हैं जो देश और समाज के लिए समर्पित होते हैं तथा भला करने के लिए देश का जनता का राजनीति में आते हैं इसकी अभिनेता खिलाड़ी यहां आकर फेल हो जाते हैं वह इतने सफल राजनीति में नहीं हो पाते हैं जितना अपने क्षेत्र में होते हैं उनका राजनीति में पार्टी सिर्फ इस्तेमाल करती है क्योंकि जनता उन्हें जानती है और उनकी बातों को महत्व देती है लेकिन वह सिर्फ एक चेहरा बनकर रह जाते हैं राजनीति में उनकी सफलता सफलता इतनी नहीं हो पाती है

desh ki raajneeti mein abhineta aur khiladi kitne safal nahi ho paate hain kyonki mujhe lagta hai ki har insaan ke bheetar kuch vishesh gun hote hain aur vaah visheshata aur karyo ke prati rujhan hi uske jeevan ka marg bhi tay karte hain kisi bhi vyakti ko apne jeevan mein kya bana hai uska interest kis cheez mein hai vaah neta bana chahta hai ya abhineta hoon khiladi bana chahta hai ya ek safal vyavasai uske andar jo quality hoti hai jis din par us usse jin chijon par uska hota hai us par depend karta hai ek neta mujhe lagta hai ki bahut accha bhi neta ban sakta hai kyonki vaah hamesha janta ke saamne abhi nahi toh karta rehta hai lekin ek khiladi aur abhineta ki bhaavnaye alag hoti hai mujhe lagta hai ki vaah zyada emotional aur samarpit hote hain apne karyo ke prati apne kshetra mein sarvashreshtha dena hi unki prathamikta hoti hai aur sarvashreshtha ke liye aapke man mein sacchai aur mehnat dono ka hona zaroori hai lekin afavah ke roop mein hamare netaon mein yah quality bahut kam dekhne ko milti hai bahut kam aise neta hote hain jo desh aur samaj ke liye samarpit hote hain tatha bhala karne ke liye desh ka janta ka raajneeti mein aate hain iski abhineta khiladi yahan aakar fail ho jaate hain vaah itne safal raajneeti mein nahi ho paate hain jitna apne kshetra mein hote hain unka raajneeti mein party sirf istemal karti hai kyonki janta unhe jaanti hai aur unki baaton ko mahatva deti hai lekin vaah sirf ek chehra bankar reh jaate hain raajneeti mein unki safalta safalta itni nahi ho pati hai

देश की राजनीति में अभिनेता और खिलाड़ी कितने सफल नहीं हो पाते हैं क्योंकि मुझे लगता है कि ह

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  167
WhatsApp_icon
user

amitkul

CA student,pursuing bcom too

1:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फिल्म और खेलों से जुड़े व्यक्ति अक्षर राजनीति में कामयाब नहीं होते यह मेरे हिसाब से तो हर बार जो ऐसे ही नहीं हो सकता अगर आप फिल्म और खेलों से जुड़े व्यक्ति जो है यह लोग जॉइन नामचीन व्यक्ति होते हैं उनके फैंस तो बहुत होते हैं लेकिन पॉलिटिक्स में जो है सिर्फ फैंस ने सी होती है वह पिक्चर का पावर से होता है यानी कि करंट गवर्नमेंट पुलिस ऑफिसर Gunday वगैरा इन सब के साथ न कुछ एक कनेक्शन हो तो एक व्यक्ति आसानी से जो इलेक्शन वगैरा जीत जाता है क्योंकि उसका जो है कैंपिंग के लिए जो है एडवरटाइजिंग की जो अलग-अलग कैंपिंग होती है प्रमोशन होता है उसके लिए जो यह लोग इन सब का होना अत्यंत जरुरी है तो यह जानकारियां यह तरकीब है यह नुस्खे अलग-अलग जो है फिल्म और खेलों के खेलों से जुड़े व्यक्ति के पास इतना होता नहीं है अगर तो पॉलिटिशंस किया कभी यही चाल रहती है कि ऐसे लोगों को जो है गवर्नमेंट में डालकर लेकिन इनके हाथ में पावर नहीं दिया जाता सिर्फ इनके जो है फैन फॉलोइंग का जो है फायदा उठाया जाता है जैसे कई सारे बॉलीवुड स्टार जरा इस समय राज्यसभा में इतना पावर इनको नहीं दिया गया क्योंकि उनको लोकसभा में नहीं डाला गया

film aur khelo se jude vyakti akshar raajneeti mein kamyab nahi hote yah mere hisab se toh har baar jo aise hi nahi ho sakta agar aap film aur khelo se jude vyakti jo hai yah log join naamchin vyakti hote hain unke fans toh bahut hote hain lekin politics mein jo hai sirf fans ne si hoti hai vaah picture ka power se hota hai yani ki current government police officer Gunday vagera in sab ke saath na kuch ek connection ho toh ek vyakti aasani se jo election vagera jeet jata hai kyonki uska jo hai Camping ke liye jo hai advertising ki jo alag alag Camping hoti hai promotion hota hai uske liye jo yah log in sab ka hona atyant zaroori hai toh yah jankariyan yah tarkib hai yah nuskhe alag alag jo hai film aur khelo ke khelo se jude vyakti ke paas itna hota nahi hai agar toh politicians kiya kabhi yahi chaal rehti hai ki aise logo ko jo hai government mein dalkar lekin inke hath mein power nahi diya jata sirf inke jo hai fan following ka jo hai fayda uthaya jata hai jaise kai saare bollywood star zara is samay rajya sabha mein itna power inko nahi diya gaya kyonki unko lok sabha mein nahi dala gaya

फिल्म और खेलों से जुड़े व्यक्ति अक्षर राजनीति में कामयाब नहीं होते यह मेरे हिसाब से तो हर

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  139
WhatsApp_icon
user

Samweta Gaur

Sports Enthusiast

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फिल्म और खेलों से जुड़े व्यक्ति राजनीति में शायद इसलिए कामयाब नहीं हो पाते क्योंकि हर व्यक्ति में सारे टेलिंग नहीं होते जो लोग फिल्मों में है वह एक्टिंग की तरफ और जो लोग खेलो मैं वह खेल की तरह की ज्यादा ध्यान दे पाते हैं उनके लिए राजनीतिक दांव पर समझना शायद थोड़ा कठिन होता है उन्हें यह नहीं समझ आता कि कब कौन सा दवा किस पर और कैसे चलना है इसी वजह से मैं राजनीति में ज्यादा कामयाब नहीं हो पाते लेकिन हर बार ऐसा नहीं होता है कि एक्टर्स और खिलाड़ी राजनीति में कामयाब ना हो कुछ सफल खिलाड़ी भी है जो राजनीति में कामयाब जैसे कि सौरव गांगुली नवजोत सिंह सिद्धू और कुछ एक्टर्स भी ऐसे हैं जो राजनीति में कामयाबी और अभी भी बनाए गए हैं जैसे स्मृति ईरानी हेमा मालिनी अमिताभ बच्चन

film aur khelo se jude vyakti raajneeti mein shayad isliye kamyab nahi ho paate kyonki har vyakti mein saare telling nahi hote jo log filmo mein hai vaah acting ki taraf aur jo log khelo main vaah khel ki tarah ki zyada dhyan de paate hain unke liye raajnitik dav par samajhna shayad thoda kathin hota hai unhe yah nahi samajh aata ki kab kaun sa dawa kis par aur kaise chalna hai isi wajah se main raajneeti mein zyada kamyab nahi ho paate lekin har baar aisa nahi hota hai ki actors aur khiladi raajneeti mein kamyab na ho kuch safal khiladi bhi hai jo raajneeti mein kamyab jaise ki saurav ganguly navjot Singh sidhu aur kuch actors bhi aise hain jo raajneeti mein kamyabi aur abhi bhi banaye gaye hain jaise smriti irani hema malini amitabh bachchan

फिल्म और खेलों से जुड़े व्यक्ति राजनीति में शायद इसलिए कामयाब नहीं हो पाते क्योंकि हर व्यक

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  205
WhatsApp_icon
user

S

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कहिए कि हर कोई हर एक काम नहीं कर सकता जो फिल्मों में है या जो स्पोर्ट्स में है वह अपने काम में अच्छे हैं लेकिन जरूरी नहीं कि वह पॉलिटिक्स में भी है वैसे अच्छे हो मगर किसी पॉलिटिशन को बोलो कि वह किसी मूवी में एक्टिंग करें या भारत के लिए हॉकी खेल एक आपको लगता है कि वह सफलता हासिल कर पाएगा शायद नहीं तो सामाजिक अध्ययन ताज हैं उसको हमारे उस्ताद हैं उनके लिए भी है कि जो आपका काम है वह करो जो नहीं है उसमें हाथ पैर मारने से शायद उतना फायदा आपका नहीं होगा

kahiye ki har koi har ek kaam nahi kar sakta jo filmo mein hai ya jo sports mein hai vaah apne kaam mein acche hain lekin zaroori nahi ki vaah politics mein bhi hai waise acche ho magar kisi politician ko bolo ki vaah kisi movie mein acting kare ya bharat ke liye hockey khel ek aapko lagta hai ki vaah safalta hasil kar payega shayad nahi toh samajik adhyayan taj hain usko hamare ustad hain unke liye bhi hai ki jo aapka kaam hai vaah karo jo nahi hai usme hath pair maarne se shayad utana fayda aapka nahi hoga

कहिए कि हर कोई हर एक काम नहीं कर सकता जो फिल्मों में है या जो स्पोर्ट्स में है वह अपने काम

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  125
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!