बलूच लोग भारत के समर्थक हैं और पाकिस्तान द्वारा शोषित हैं। उनके लिए भारत ने क्या कदम उठाये हैं?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

1947 में जब देश आजाद हुआ उस समय बलूच एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में जाना जाता था और जिस प्रकार से भारत की 566 रियासतों को यह स्वतंत्रता मिली थी कि वह जिसके साथ जाना चाहे भारत के साथ जाना चाहे तो ठीक है संघीय ढांचे में या फिर स्वतंत्र ना चाहे क्रमशः ऐसा ही अवसर उनके पास भी था ब्लूप्रों के पास और बलूचिस्तान के जो राजा थी वह नेहरू जी के पास आए भी थे उन्होंने प्रस्ताव भी रखा था कि बलूचिस्तान को भारत में शामिल कर लिया जाए क्योंकि बलूच भारत के साथ ज्यादा सुरक्षित महसूस करेंगे लेकिन उस प्रस्ताव को दारु ने ठुकरा दिया और सैनिक कार्यवाही करते हुए पाकिस्तान ने पूरे बलूचिस्तान को कब्जा कर लिया और अपने देश का आंतरिक हिस्सा बना लिया बलूच एक तरफ तो अफगानिस्तान से सट्टा है और दूसरी तरफ से आज बलूचिस्तान का हिस्सा है उसके साथ मिलता है और बलूचिस्तान क्षेत्रफल की दृष्टि से पाकिस्तान का सबसे बड़ा हिस्सा है दुर्भाग्य से पुरुषों का दमन पाकिस्तानी सेना हमेशा करती चली आ रही है और बलूचिस की आवाज अलग-अलग फोरम पर उठाते भी है क्योंकि राजनीतिक दृष्टि से पाकिस्तान की सीमा के का क्षेत्र है आंतरिक मामला है इसलिए अधिकृत तौर पर भारत कुछ कर नहीं सकता उसने फिर भी भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से ब्लूज का मामला उठाया था और दुनिया के सामने ब्लूजों के ऊपर हुए अत्याचार को पहली बार विश्व मंच पर किसी राष्ट्र के नेता ने रखा था इसका श्रेय अगर जाता है तो भारत को ही जाता है और उसके बाद पुरुषों की लड़ाई पूरे विश्व के सभी मंचों पर बहुत तेज हो गई

1947 mein jab desh azad hua us samay baluch ek swatantra rashtra ke roop mein jana jata tha aur jis prakar se bharat ki 566 riyasato ko yah swatantrata mili thi ki vaah jiske saath jana chahen bharat ke saath jana chahen toh theek hai sanghiy dhanche mein ya phir swatantra na chahen kramashah aisa hi avsar unke paas bhi tha blupron ke paas aur baluchistan ke jo raja thi vaah nehru ji ke paas aaye bhi the unhone prastaav bhi rakha tha ki baluchistan ko bharat mein shaamil kar liya jaaye kyonki baluch bharat ke saath zyada surakshit mehsus karenge lekin us prastaav ko daaru ne thukara diya aur sainik karyavahi karte hue pakistan ne poore baluchistan ko kabza kar liya aur apne desh ka aantarik hissa bana liya baluch ek taraf toh afghanistan se satta hai aur dusri taraf se aaj baluchistan ka hissa hai uske saath milta hai aur baluchistan kshetrafal ki drishti se pakistan ka sabse bada hissa hai durbhagya se purushon ka daman pakistani sena hamesha karti chali aa rahi hai aur baluchis ki awaaz alag alag forum par uthate bhi hai kyonki raajnitik drishti se pakistan ki seema ke ka kshetra hai aantarik maamla hai isliye adhikrit taur par bharat kuch kar nahi sakta usne phir bhi bharat ke pradhanmantri narendra modi ne laal kile ki prachir se bluj ka maamla uthaya tha aur duniya ke saamne blujon ke upar hue atyachar ko pehli baar vishwa manch par kisi rashtra ke neta ne rakha tha iska shrey agar jata hai toh bharat ko hi jata hai aur uske baad purushon ki ladai poore vishwa ke sabhi manchon par bahut tez ho gayi

1947 में जब देश आजाद हुआ उस समय बलूच एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में जाना जाता था और जिस प्

Romanized Version
Likes  294  Dislikes    views  4303
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!