संक्षिप्त रूप से "अधोगामी निस्पंदन सिद्धांत "का वर्णन करें !?...


play
user

Neha S

UPSC कोच

0:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सोना का क्वेश्चन बहुत ज्यादा तो मुझे क्लियर नहीं समझ में आ रहा है लेकिन जिसे आपने लिखा है अधोगामी है चंदन चंदन सिद्धांत में क्या क्या क्या बात कर रहे हैं डाउनलोड फिल्ट्रेशन थ्योरी कि अगर आप डाउनलोड फिल्ट्रेशन थ्योरी की बात कर रहे हैं तो मैं बता देती हूं कि वह क्या होता है बेफिक्रे क्या होता है कि यह ब्रिटिश रूल में भारत में ब्रिटिश जब रोड स्थान भारत में कब आया था और उसकी सब को शिक्षित करना मुश्किल था असंभव था तो केवल जो ऊपर के जो अपन क्लास कि जो लोग थे उन को पढ़ा दो जिससे कि जो शिक्षा है ऑटोमेटिक नीचे की लेवल तक पहुंच जाएगी इसमें अंग्रेजों का एक-एक इंटरनेशनल शामिल था कि जो कंपनी जॉब कंपनी शासन था उनकी जो ब्रिटिश का काम था जो स्थापित हो रखा था ब्रिटिश काल में तुझे स्थापित था वह स्वामित्व ऊपर के तत्वों के लोग दे दिया जाएगा वह अंग्रेजी पढ़ कर नौकरी करेंगे और उनकी इजाजत पाकर नंगी ब्रिटिश इसकी इजाजत सही बाकी का सारा काम करेंगे नीचे के लोगों को नीचे के लोग उनसे तक की रहेंगे तो यह था डाउनलोड कल ट्यूशन थ्योरी

sona ka question BA hut zyada toh mujhe clear nahi samajh mein aa raha hai lekin jise aapne likha hai adhogami hai chandan chandan siddhant mein kya kya kya BA at kar rahe hai download filteration theory ki agar aap download filteration theory ki BA at kar rahe hai toh main BA ta deti hoon ki vaah kya hota hai befikre kya hota hai ki yah british rule mein bharat mein british jab road sthan bharat mein kab aaya tha aur uski sab ko shikshit karna mushkil tha asambhav tha toh keval jo upar ke jo apan kashi ki jo log the un ko padha do jisse ki jo shiksha hai Automatic niche ki level tak pohch jayegi isme angrejo ka ek ek international shaamil tha ki jo company job company shasan tha unki jo british ka kaam tha jo sthapit ho rakha tha british kaal mein tujhe sthapit tha vaah swamitwa upar ke tatvon ke log de diya jaega vaah angrezi padh kar naukri karenge aur unki ijajat pakar nangi british iski ijajat sahi BA ki ka saara kaam karenge niche ke logo ko niche ke log unse tak ki rahenge toh yah tha download kal tuition theory

सोना का क्वेश्चन बहुत ज्यादा तो मुझे क्लियर नहीं समझ में आ रहा है लेकिन जिसे आपने लिखा है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  166
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अधोगामी निस्पंदन सिद्धांत बेसिकली है क्या? यह सिद्धांत है ईस्ट इंडिया कंपनी ने स्टेबलाइज किया इंडिया में सबसे पहले | ईस्ट इंडिया कंपनी जो है शिक्षा प्रणाली के लिए, विकास के लिए इतनी गंभीर नहीं थी, सीरियस नहीं थी | उनका प्राइमरी मोटो यह था कि इंडिया में आकर व्यापार करना है, लाभ कमाना है | लेकिन भारत में शासन करने के लिए उन्हें एक उच्च या मध्यम वर्ग या छोटे वर्ग इस समय शिक्षित करने की योजना बना था | ताकि वह ऐसा वर्ग तैयार कर पाए, जो रंग से तो भारतीय हो लेकिन उनकी पसंद और व्यवहार के मामले में वह अंग्रेज के समान होता कि वह जनता और सरकार के बीच में जो आपसी बातचीत है उस को संभव बना सके | इसलिए ऐसे सिद्धांत को निस्पंदन सिद्धांत की संज्ञा दी गई, निस्पंदन सिद्धांत बोला गया | उच्च शिक्षा के विकास के लिए ब्रिटिश ने कुछ कदम उठाए जिससे कि उस कदम के कुछ पॉइंट्स में बताना चाहूंगा | लॉर्ड मैकाले ने शिक्षा प्रणाली 1835 में शुरू की | इस प्रणाली के अनुसार भारत में शिक्षा प्रणाली की स्थापना का एक प्रयास था जिसमें कि समाज के केवल उच्च वर्ग को अंग्रेजी माध्यम से शिक्षा प्रदान करने की बात की गई थी | दूसरा, फ़ारसी की जगह पर अंग्रेजी को न्यायालय की भाषा बना दिया गया था | तीसरी, अंग्रेजी पुस्तक छपाई मुफ्त में होने लगी थी ताकि यह सस्ते दामों पर बेचा जा सके | चौथा जो था यह शिक्षा की अपेक्षा अंग्रेजी शिक्षा को अधिक अनुदान मिलने लगा था और 1894 बेथुन ने बेथुन स्कूल की स्थापना की थी | पूसा में सबसे पहले कृषि संस्थान खोला गया और रुड़की में इंजीनियरिंग संस्थान खोला गया | तो यह सारे संसथान खोले गए ताकि शिक्षा प्रणाली को उच्च वर्ग के लोग हैं उन को बेहतर शिक्षा दी जाए और वह अपना काम निकाल सके|

adhogami nispandan siddhant BA sically hai kya yah siddhant hai east india company ne stabilised kiya india mein sabse pehle east india company jo hai shiksha pranali ke liye vikas ke liye itni gambhir nahi thi serious nahi thi unka primary moto yah tha ki india mein aakar vyapar karna hai labh kamana hai lekin bharat mein shasan karne ke liye unhe ek ucch ya madhyam varg ya chote varg is samay shikshit karne ki yojana BA na tha taki vaah aisa varg taiyar kar paye jo rang se toh bharatiya ho lekin unki pasand aur vyavhar ke mamle mein vaah angrej ke saman hota ki vaah janta aur sarkar ke beech mein jo aapasi BA tchit hai us ko sambhav BA na sake isliye aise siddhant ko nispandan siddhant ki sangya di gayi nispandan siddhant bola gaya ucch shiksha ke vikas ke liye british ne kuch kadam uthye jisse ki us kadam ke kuch points mein BA taana chahunga lord maikale ne shiksha pranali 1835 mein shuru ki is pranali ke anusaar bharat mein shiksha pranali ki sthapna ka ek prayas tha jisme ki samaj ke keval ucch varg ko angrezi madhyam se shiksha pradan karne ki BA at ki gayi thi doosra farsi ki jagah par angrezi ko nyayalaya ki bhasha BA na diya gaya tha teesri angrezi pustak chapai muft mein hone lagi thi taki yah saste daamo par becha ja sake chautha jo tha yah shiksha ki apeksha angrezi shiksha ko adhik anudan milne laga tha aur 1894 bethun ne bethun school ki sthapna ki thi pusha mein sabse pehle krishi sansthan khola gaya aur roorkee mein Engineering sansthan khola gaya toh yah saare sansthan khole gaye taki shiksha pranali ko ucch varg ke log hai un ko behtar shiksha di jaaye aur vaah apna kaam nikaal sake

अधोगामी निस्पंदन सिद्धांत बेसिकली है क्या? यह सिद्धांत है ईस्ट इंडिया कंपनी ने स्टेबलाइज क

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  146
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
nisyandan sidhant ; निस्पंदन सिद्धांत ; निस्पंदन सिद्धांत क्या है ; nisyandan sidhant in hindi ; nisyandan sidhant kya hai ; नीचे निस्पंदन सिद्धांत ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!