बैटरी का खोज किसने किया?...


user

Roshan Prasad Jaiswal

Junior Volunteer

1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तो विद्युत बैटरी का आविष्कार किसने किया था दुनिया की सबसे बड़ी खोज है तो बिजली के बगैर अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते तो यह जीवन का हमें दिया हुआ ऐसा वरदान है जिसे तकरीबन सभी बड़े-बड़े आविष्कार कहीं ना कहीं जुड़े हुए हैं ऐसा कहा जाता है कि बिजली स्वाभाविक रूप से होती है और यह ऊर्जा का एक रूप है इसलिए इसे खोजा गया था ना कि आविष्कार किया गया था तो बिजली की खोज कई प्रतिभाओं को दिया जाता है तो बिजली की खोज का कार्य जो है यह 600 ईसा पूर्व में शुरू हुआ था जब प्राचीन अहिरानी उन्हें सीखा कि अंबानी जी भाषण वृक्ष पर पर किसने से जो दाल बनती है उसे वस्तुओं के बीच चुंबकत्व का निर्माण होता है जिससे आज फिर ऊर्जा कहा जाता है तो विद्युत बैटरी की बात अगर अधिक अरे तो इलेक्ट्रिकल चार्ज करती बनाने का यह पहला प्रयास था जब पॉजिटिव चार्ज ओ नेगेटिव चार्ज कनेक्टर को जोड़कर और उनके हमसे बोलते चलाकर बिजली के पहले संचालन के प्रबंध का क्रेडिट वोल्टा को मिलता है तो उन्होंने बाद में इलेक्ट्रिक बैटरी का भी निर्माण किया था जो तीन इलेक्ट्रिक प्रभा का निर्माण कर सकती थी

toh vidyut battery ka avishkar kisne kiya tha duniya ki sabse badi khoj hai toh bijli ke bagair apne jeevan ki kalpana bhi nahi kar sakte toh yeh jeevan ka humein diya hua aisa vardan hai jise takareeban sabhi bade bade avishkar kahin na kahin jude hue hain aisa kaha jata hai ki bijli swabhavik roop se hoti hai aur yeh urja ka ek roop hai isliye ise khoja gaya tha na ki avishkar kiya gaya tha toh bijli ki khoj kai pratibhao ko diya jata hai toh bijli ki khoj ka karya jo hai yeh 600 isa purv mein shuru hua tha jab prachin ahirani unhein seekha ki ambani ji bhashan vriksh par par kisne se jo dal banti hai use vastuon ke beech chumbakatva ka nirmaan hota hai jisse aaj phir urja kaha jata hai toh vidyut battery ki baat agar adhik are toh electrical charge karti banane ka yeh pehla prayas tha jab positive charge o Negative charge connector ko jodkar aur unke humse bolte chalakar bijli ke pehle sanchalan ke prabandh ka credit Volta ko milta hai toh unhone baad mein electric battery ka bhi nirmaan kiya tha jo teen electric prabha ka nirmaan kar sakti thi

तो विद्युत बैटरी का आविष्कार किसने किया था दुनिया की सबसे बड़ी खोज है तो बिजली के बगैर अपन

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  39
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Satish Chouhan

I M Student

0:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बैटरी की खोज एलेक्जेंड्रा वोल्टा ने किया था धन्यवाद

battery ki khoj alexandra Volta ne kiya tha dhanyavad

बैटरी की खोज एलेक्जेंड्रा वोल्टा ने किया था धन्यवाद

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  45
WhatsApp_icon
play
user

Preeti

Political Science Teacher

0:06

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बैटरी का आविष्कार वॉल्टर ने किया था

battery ka avishkar walter ne kiya tha

बैटरी का आविष्कार वॉल्टर ने किया था

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  265
WhatsApp_icon
user

Kriti

Volunteer

0:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बैटरी या फिर इलेक्ट्रिक बैटरी का जो आविष्कार है वहां अलेसांद्रो वोल्टा के द्वारा किया गया था

battery ya phir electric battery ka jo avishkar hai wahan alesandro Volta ke dwara kiya gaya tha

बैटरी या फिर इलेक्ट्रिक बैटरी का जो आविष्कार है वहां अलेसांद्रो वोल्टा के द्वारा किया गया

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  480
WhatsApp_icon
user
0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

16वीं शताब्दी में इटली के गाल रेनी नामक एक वैज्ञानिक ने बिजली पर कई प्रयोग किए एक दिन उसने सबसे बड़े मुंह का कांच का बर्तन लिया उसमें कुछ मंत्र जाप भारत में गिरवी रख दी इस पर का अन्य मंदिर तेजाब कहां के बर्तन में डाले उसके बाद उसने इस बैटरी का निर्माण किया जिसकी वजह से वह बहुत ही खुश हुआ था जो कि इसका नाम बैटरी दिया गया था जो आज घरेलू कामों के इस्तेमाल के अलावा कई वाहनों ने लगाए जाते हैं विद्युत बैटरी का आविष्कार अलीशा जो बोलता नहीं 1830 वी में इटली में किया था

vi shatabdi mein italy ke gaal Rene namak ek vaigyanik ne bijli par kai prayog kiye ek din usne sabse bade mooh ka kanch ka bartan liya usme kuch mantra jaap bharat mein girvi rakh di is par ka anya mandir tezab kahaan ke bartan mein dale uske baad usne is battery ka nirmaan kiya jiski wajah se wah bahut hi khush hua tha jo ki iska naam battery diya gaya tha jo aaj gharelu kaamo ke istemal ke alava kai vahanon ne lagaye jaate hai vidyut battery ka avishkar alisha jo bolta nahi 1830 va mein italy mein kiya tha

16वीं शताब्दी में इटली के गाल रेनी नामक एक वैज्ञानिक ने बिजली पर कई प्रयोग किए एक दिन उसने

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  481
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!