आज के समय में ढ़ाई साल की बच्ची के साथ बलात्कार हो रहा है तो देश की बेटियां कैसे सुरक्षित रह सकती हैं और उनकी सुरक्षा के लिए हम क्या कदम उठा सकते हैं?...


user
1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल जो बच्चियों के साथ रेप की घटना होती यह सब समाज की कुरीतियों की वजह से होती है और जो छोटी मानसिकता वाले जो लोग होते हैं जिनकी दिमागी रूप से बहुत ही बीमार होते हैं उन्हें बस लड़कियों और अपने आवाज को मिटाना है फिर भी आपने के अंदर जो भी खुद खुजली होती है या फिर उन्हें जो भी उनके अंदर जो हलचल मस्ती उस वजह से यह सारी हरकतें करते हैं यह समाज के लिए सबसे बड़ा अभिशाप है और सरकार को इसके लिए बहुत ही करें कानून और कदम उठाने चाहिए अगर कोई भी छेड़छाड़ हो या फिर किसी लड़की के साथ साथ हो ऐसे ही रही थी घटना हो तो उसने सबसे पहले मौत का आदेश देना चाहिए ना कि उसे फांसी की सजा देनी चाहिए इससे सरकार को नियम या कानून लाने चाहिए लेकिन ऐसा भारत देश में नहीं हो पाता क्योंकि यहां के जो बड़े-बड़े नेता है या फिर बड़े-बड़े जो पॉलिटिशन से वो खुद ही इन सब में लिप्त होते हैं और उनको जो आजकल सांसद में बैठे हुए हैं या के पार्लियामेंट पर बैठे हुए हैं यह सारे लोग जो है आधे से ज्यादा लोग तो उसने क्रिमिनल होते जिनके ऊपर क्रिमिनल चार्जेस होते हैं मडर यह सारी चीजें तो वह लोग इस वजह से भी कोई भी कानून पास करने नहीं दिया जाता वरना अगर ऐसे कानून हमारे देश में लागू होने लगे तो सारे देश में जो यह सारी चीजें हो रही हो सब चीजें धीरे-धीरे कम हो जाएंगी कि लोग जो कानून से डरेंगे और कानून अगर जब दिलाना चैट करेंगे तो लोगों को इससे पता चलेगा और जो भी बीमार मानसिकता वाले लोग हैं वह इन सब चीजों से डेरिंग और यह सारी चीजें अपने आप कम हो जाएगी

aajkal jo bachiyo ke saath rape ki ghatna hoti yah sab samaj ki kuritiyon ki wajah se hoti hai aur jo choti mansikta waale jo log hote hai jinki dimagi roop se bahut hi bimar hote hai unhe bus ladkiyon aur apne awaaz ko mitana hai phir bhi aapne ke andar jo bhi khud khujli hoti hai ya phir unhe jo bhi unke andar jo hulchul masti us wajah se yah saree harakatein karte hai yah samaj ke liye sabse bada abhishap hai aur sarkar ko iske liye bahut hi kare kanoon aur kadam uthane chahiye agar koi bhi chedchad ho ya phir kisi ladki ke saath saath ho aise hi rahi thi ghatna ho toh usne sabse pehle maut ka aadesh dena chahiye na ki use fansi ki saza deni chahiye isse sarkar ko niyam ya kanoon lane chahiye lekin aisa bharat desh mein nahi ho pata kyonki yahan ke jo bade bade neta hai ya phir bade bade jo politician se vo khud hi in sab mein lipt hote hai aur unko jo aajkal saansad mein baithe hue hai ya ke parliament par baithe hue hai yah saare log jo hai aadhe se zyada log toh usne criminal hote jinke upar criminal Charges hote hai madar yah saree cheezen toh vaah log is wajah se bhi koi bhi kanoon paas karne nahi diya jata varna agar aise kanoon hamare desh mein laagu hone lage toh saare desh mein jo yah saree cheezen ho rahi ho sab cheezen dhire dhire kam ho jayegi ki log jo kanoon se darenge aur kanoon agar jab dilana chat karenge toh logo ko isse pata chalega aur jo bhi bimar mansikta waale log hai vaah in sab chijon se daring aur yah saree cheezen apne aap kam ho jayegi

आजकल जो बच्चियों के साथ रेप की घटना होती यह सब समाज की कुरीतियों की वजह से होती है और जो छ

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  472
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Dr Asha B Jain

Dip in Naturopathy, Yoga therapist Pranic healer, Counselor

1:55

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आजकल छोटी-छोटी बच्चियों के साथ जो बलात्कार हो जाता है उसका कारण है मीडिया जो भी लोगों के हाथों में मोबाइल आ गया है टीवी है घर में उसमें जो भी प्रसारित होता है उस पर कोई बहन नहीं है कोई रोक-टोक नहीं है आप मोबाइल पर यूट्यूब पर जाकर गंदे से गंदे हरकतों को चीजों को देख सकते हैं इतना ज्यादा खुलापन हो गया है उसके कारण मन में वासना की प्रवृत्ति बढ़ती है और छोटे-छोटे बच्चे ही बलात्कार कर लेते हैं छोटे बच्चों के साथ उन्हें यह भी नहीं मालूम होता है कि उसका परिणाम क्या होगा बड़े लोग छोटे के साथ करते हैं क्योंकि वासना इतनी ज्यादा बढ़ जाती है कामुकता इतनी ज्यादा है टीवी पर ऐसे ऐसे डांसर दिखाए जाते हैं कि जिसको फैमिली के साथ आप बैठ कर देख ही नहीं सकते हैं उन सब चीजों पर जब तक बहन नहीं लगेगा कि जब हम परिवार में बैठकर यह सब चीजें नहीं देख सकते हैं उनकी को जब कोई पुरुष देखता है तो उनके अंदर वह भावना पैदा होती हैं और जिसके कारण के हादसे होते हैं और कुछ लोगों की प्रवृत्ति ही गंदी होती है जो यही नहीं सोच पाते हैं कि हम क्या कर्म कर रहे हैं ऐसा क्यों कर रहे हैं क्या उसका दुष्परिणाम होगा इन कर्मों का फल हमें कैसा मिलेगा यह उनके मन में क्वेश्चन ही नहीं होता है सामाजिक रूप से ऐसा ही नहीं दी जाती है कि लड़कियों को औरतों को किस तरीके से सम्मान देना हमारा सामाजिक कर्तव्य है उनकी सुरक्षा के लिए एक ही काम किया जा सकता है कि मां-बाप बहुत ज्यादा लड़कियों के प्रति सचेत रहें और उनको बहुत जल्दी कम उम्र में सेक्स एजुकेशन दे दे और गुड टच बैड टच उनको अब अनुभव करें बस यही हमारे हाथ में हैं जिसको हम कर सकते हैं

aajkal choti choti bachiyo ke saath jo balatkar ho jata hai uska karan hai media jo bhi logo ke hathon mein mobile aa gaya hai TV hai ghar mein usme jo bhi prasarit hota hai us par koi behen nahi hai koi rok tok nahi hai aap mobile par youtube par jaakar gande se gande harkaton ko chijon ko dekh sakte hain itna zyada khulapan ho gaya hai uske karan man mein vasana ki pravritti badhti hai aur chote chhote bacche hi balatkar kar lete hain chote baccho ke saath unhe yah bhi nahi maloom hota hai ki uska parinam kya hoga bade log chote ke saath karte hain kyonki vasana itni zyada badh jaati hai kamukata itni zyada hai TV par aise aise dancer dekhiye jaate hain ki jisko family ke saath aap baith kar dekh hi nahi sakte hain un sab chijon par jab tak behen nahi lagega ki jab hum parivar mein baithkar yah sab cheezen nahi dekh sakte hain unki ko jab koi purush dekhta hai toh unke andar vaah bhavna paida hoti hain aur jiske karan ke haadse hote hain aur kuch logo ki pravritti hi gandi hoti hai jo yahi nahi soch paate hain ki hum kya karm kar rahe hain aisa kyon kar rahe kya uska dushparinaam hoga in karmon ka fal hamein kaisa milega yah unke man mein question hi nahi hota hai samajik roop se aisa hi nahi di jaati hai ki ladkiyon ko auraton ko kis tarike se sammaan dena hamara samajik kartavya hai unki suraksha ke liye ek hi kaam kiya ja sakta hai ki maa baap bahut zyada ladkiyon ke prati sachet rahein aur unko bahut jaldi kam umr mein sex education de de aur good touch bad touch unko ab anubhav kare bus yahi hamare hath mein hain jisko hum kar sakte hain

आजकल छोटी-छोटी बच्चियों के साथ जो बलात्कार हो जाता है उसका कारण है मीडिया जो भी लोगों के ह

Romanized Version
Likes  148  Dislikes    views  2119
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!