प्राचीन भारत में शिक्षा का अंतिम लक्ष्य क्या था?...


user

.

Hhhgnbhh

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्राचीन भारत में शिक्षा हर किसी को हासिल करना इतना आसान नहीं होता थाl ज्यादातर जो राजाओं के बेटे होते थे या मंत्रियों के बेटे होते थे वह लोग ही शिक्षा ले पाते थे और जो बाकी लोग होते थे वह जो भी कला उन्हें आती थी उसके अंदर निपुण होते थे तो प्राचीन काल के अंदर शिक्षा का सिर्फ यह नहीं था कि जो राजा के बेटे हैं या फिर जो मंत्रियों के बेटे हैं जो किसी अध्यापिका अध्यापक से शिक्षा लेने उसी को शिक्षा मानी जाती थीl प्राचीन काल के अंदर वह जिस कला जो उन्हें आती थी वह उसके अंदर बहुत अच्छे से अपने आप को एक सेल करते थे और उसे भी शिक्षा कहा जाता थाl तो प्राचीन काल के अंदर शिक्षा पे इतना ज्यादा ना फोकस करते हुए इंसान को वैल्यू सिखाई जाती थीl उसे क्या कब कौन सा डिसीजन लेना यह बताया जाता थाl तो वह प्रैक्टिकल नॉलेज पे ज्यादा ध्यान देते थे ना कि थेओरतिकल नॉलेज, तो प्राचीन काल की शिक्षा एक इंसान को निपुण बनाने के काम आती थी कि वह उस इंसान को कोई भी हरा ना पाएl वह अपनी वैल्यूज पे इतना ज्यादा मजबूत हो जाए कि बाकी बाहर की दुनिया उसे इतना कमजोर ना बना पाएl तो इन चीजों पर प्राचीन काल की शिक्षा ज्यादा फोकस करती थी बल्कि थेओरतिकल नॉलेज है जो पढ़ाई हम आज करते हैंl

prachin bharat mein shiksha har kisi ko hasil karna itna aasaan nahi hota tha jyadatar jo rajaon ke bete hote the ya mantriyo ke bete hote the vaah log hi shiksha le paate the aur jo BA ki log hote the vaah jo bhi kala unhe aati thi uske andar nipun hote the toh prachin kaal ke andar shiksha ka sirf yah nahi tha ki jo raja ke bete hai ya phir jo mantriyo ke bete hai jo kisi adhyapika adhyapak se shiksha lene usi ko shiksha maani jaati thi prachin kaal ke andar vaah jis kala jo unhe aati thi vaah uske andar BA hut acche se apne aap ko ek cell karte the aur use bhi shiksha kaha jata tha toh prachin kaal ke andar shiksha pe itna zyada na focus karte hue insaan ko value sikhai jaati thi use kya kab kaun sa decision lena yah BA taya jata tha toh vaah practical knowledge pe zyada dhyan dete the na ki theoratikal knowledge toh prachin kaal ki shiksha ek insaan ko nipun BA naane ke kaam aati thi ki vaah us insaan ko koi bhi hara na paye vaah apni values pe itna zyada majboot ho jaaye ki BA ki BA har ki duniya use itna kamjor na BA na paye toh in chijon par prachin kaal ki shiksha zyada focus karti thi BA lki theoratikal knowledge hai jo padhai hum aaj karte hain

प्राचीन भारत में शिक्षा हर किसी को हासिल करना इतना आसान नहीं होता थाl ज्यादातर जो राजाओं क

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्राचीन काल में शिक्षा ज्योति वह काफी मुश्किल था शिक्षा प्राप्त करना कि प्राचीन काल में क्या था कि हर एक लोक को अपने लेख कैटेगरीज बाइक बांट दिया गया था लेकिन छत्रिय शुद्ध या फिर हम ब्राह्मण सबका अलग अलग अपना-अपना काम था आज एक जोगी राजा महाराजा के बेटे हैं सिर्फ वही शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं वही पढ़ सकते हैं ब्राह्मण के लड़के पढ़ सकते लेकिन जो सुधर थे या वैसे थे वह कास्ट के लोग नहीं पढ़ पाते थे क्योंकि उनको जो स्किल को उनके पूर्वज करते आ रहे हैं वही चीज़ हमको करना होता था ताकि वह जो है वह चेंज नहीं कर सकती अपना प्रोफेशन हमको सिर्फ अपना ही काम करने में आजादी थी उसी में वह निपुण होते थे अच्छा काम करते तो अच्छा पैसा कमाते तो यह ज्योति शिक्षा की पद्धति थी पहले पूरा प्राचीन भारत में प्राचीन समाज में दीदी अभी तक वह काफी चीज चेंज हो गई है अभी जो है सबको समान अधिकार है हर एक लोग को शिक्षा लेने का तो प्राचीन भारत की HD हमारे मध्य प्राचीन भारत में

prachin kaal mein shiksha jyoti vaah kaafi mushkil tha shiksha prapt karna ki prachin kaal mein kya tha ki har ek lok ko apne lekh kaitegrij bike BA ant diya gaya tha lekin Kshatriya shudh ya phir hum brahman sabka alag alag apna apna kaam tha aaj ek jogi raja maharaja ke bete hai sirf wahi shiksha prapt kar sakte hai wahi padh sakte hai brahman ke ladke padh sakte lekin jo sudhar the ya waise the vaah caste ke log nahi padh paate the kyonki unko jo skill ko unke purvaj karte aa rahe hai wahi cheez hamko karna hota tha taki vaah jo hai vaah change nahi kar sakti apna profession hamko sirf apna hi kaam karne mein azadi thi usi mein vaah nipun hote the accha kaam karte toh accha paisa kamate toh yah jyoti shiksha ki paddhatee thi pehle pura prachin bharat mein prachin samaj mein didi abhi tak vaah kaafi cheez change ho gayi hai abhi jo hai sabko saman adhikaar hai har ek log ko shiksha lene ka toh prachin bharat ki HD hamare madhya prachin bharat mein

प्राचीन काल में शिक्षा ज्योति वह काफी मुश्किल था शिक्षा प्राप्त करना कि प्राचीन काल में क्

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  185
WhatsApp_icon
play
user

Sharmistha

Ops Answerer

0:34

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन के उच्च आदर्शों के मामले में भारत की ख्याति जो है अति प्राचीन काल से ही रही है और प्राचीन काल में भारत के विद्यार्थियों ने ऊंचे आदर्शों की प्राप्ति के लिए यह अपनी जान की बाज़ी तक लगा दी और उन दिनों जो है मानव जीवन को चार आश्रमों में बांट दिया गया था और हर रस आश्रम के लेजर में विशिष्ट कर्तव्य और नियम निश्चित थी और जीवन का जो सबसे पहला और सर्वाधिक महत्वपूर्ण आश्रम ब्रह्मचर्य आश्रम अथवा विद्यार्थी जीवन काल कहलाता था

jeevan ke ucch aadarshon ke mamle mein bharat ki khyati jo hai ati prachin kaal se hi rahi hai aur prachin kaal mein bharat ke vidyarthiyon ne unche aadarshon ki prapti ke liye yah apni jaan ki BA zi tak laga di aur un dino jo hai manav jeevan ko char aashramon mein BA ant diya gaya tha aur har ras ashram ke laser mein vishisht kartavya aur niyam nishchit thi aur jeevan ka jo sabse pehla aur sarvadhik mahatvapurna ashram brahmacharya ashram athva vidyarthi jeevan kaal kehlata tha

जीवन के उच्च आदर्शों के मामले में भारत की ख्याति जो है अति प्राचीन काल से ही रही है और प्र

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  3
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
jain matanusar shiksha ka antim lakshya kya hai ; jain mart anusar shiksha ka antim lakshya hai ; जैन मतानुसार शिक्षा का अंतिम लक्ष्य ; jain mat ke anusar shiksha ka antim lakshya kya hai ; jain ke anusar shiksha ka antim lakshya kya hai ; jain mat anusar shiksha ka antim lakshya kya hai ; jain mart anusar shiksha ka antim lakshya kya hai ; jain mat anusar shiksha ka antim lakshya hai ; jain mata anusar shiksha ka antim lakshya hai ; jain mata anusar shiksha ka antim lakshya kya hai ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!