बरेली में एक लंगड़ा आदमी भूख से मर जाता है। क्या भारत धीरे-धीरे मानवता की भावना को खो रहा है?...


user

singh

Teacher

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बरेली में एक लंगड़ा आदमी भूख से मरता है और क्या भारत में धीरे-धीरे मानवता की भावना हो रहा है जिन्हें मानव मानवता को खो नहीं रहा है वह लंगड़ा आदमी जो भूखे प्यासे मर रहा है वे अपने कर्मों से मार रहा है मानवता आज भी जिंदा है

bareilly me ek langda aadmi bhukh se marta hai aur kya bharat me dhire dhire manavta ki bhavna ho raha hai jinhen manav manavta ko kho nahi raha hai vaah langda aadmi jo bhukhe pyaase mar raha hai ve apne karmon se maar raha hai manavta aaj bhi zinda hai

बरेली में एक लंगड़ा आदमी भूख से मरता है और क्या भारत में धीरे-धीरे मानवता की भावना हो रहा

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  618
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आज के समय में लोग इमोशन होते जा रहे हैं इस बात से मैं एग्री करती हूं हम अपनी लाइफ की भाग दौड़ में इतने ज्यादा बिजी हो जाते कीमत के आस-पास वाले लोगों की तकलीफों के बारे में सोच ही नहीं पाते देखी मुझे एक चीज और लगती है कि अगर आप अगर हम लोग आने वाली सॉन्ग है तो हम इसे एक बार कह देना कि एक टिकट बना लेते हैं अपना एक स्टेटस बना लेते हैं कि वह गरीबों के बारे में क्यों सोचें जो कि बिल्कुल गलत है अगर हम सक्षम है तो दूसरों की मदद करना तो हमारा फर्ज है बरेली में एक व्यक्ति भूख से मर गया अब इस से बुरा क्या हो सकते हैं कि उसके पास खाने को रोटी नहीं तो उसके पास दो रोटियां खाने के रूप में नहीं थी जिसकी वजह से कमर कराओ और हम कॉलेज में जाकर ऑफिस में जाकर पार्टीज करके इतना खाना विश कर देते हैं और हम उस व्यक्ति के बारे में सोच ही नहीं पाते और देखिए आप अपनी क्वेश्चन पूछा मैंने जवाब दिया किसी ने सुना यह भावना शायद तब तक ही सीमित रह जाएगी इसकी एक बात है दो दिन बाद शायद हम इस बारे में दोबारा विचार भी ना करें क्योंकि गलत है अगर हम इतने सक्षम है कि हम किसी एक व्यक्ति को या किसी जानवर को भी खाना खिला सके तो हमें जरूर करना चाहिए हमें खुद को भी बहुत अच्छा फील होगा

dekhiye aaj ke samay mein log emotion hote ja rahe hain is baat se main agree karti hoon hum apni life ki bhag daudh mein itne zyada busy ho jaate kimat ke aas paas waale logo ki takaleephon ke bare mein soch hi nahi paate dekhi mujhe ek cheez aur lagti hai ki agar aap agar hum log aane wali song hai toh hum ise ek baar keh dena ki ek ticket bana lete hain apna ek status bana lete hain ki vaah garibon ke bare mein kyon sochen jo ki bilkul galat hai agar hum saksham hai toh dusro ki madad karna toh hamara farz hai bareilly mein ek vyakti bhukh se mar gaya ab is se bura kya ho sakte hain ki uske paas khane ko roti nahi toh uske paas do rotiyan khane ke roop mein nahi thi jiski wajah se kamar karao aur hum college mein jaakar office mein jaakar parties karke itna khana wish kar dete hain aur hum us vyakti ke bare mein soch hi nahi paate aur dekhiye aap apni question poocha maine jawab diya kisi ne suna yah bhavna shayad tab tak hi simit reh jayegi iski ek baat hai do din baad shayad hum is bare mein dobara vichar bhi na kare kyonki galat hai agar hum itne saksham hai ki hum kisi ek vyakti ko ya kisi janwar ko bhi khana khila sake toh hamein zaroor karna chahiye hamein khud ko bhi bahut accha feel hoga

देखिए आज के समय में लोग इमोशन होते जा रहे हैं इस बात से मैं एग्री करती हूं हम अपनी लाइफ की

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
play
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:51

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बरेली में जिस व्यक्ति की भूख की वजह से मौत हो गई वह एक नई का काम करते थे और पैरालिसिस होने के वजह से उनका सारा काम छूट गया और इसी कारणवश उनके पास पैसे की कमी हो गई और वह राशन भी नहीं खरीद पा रहे थे और ना दवाई अच्छे तरीके से हो पा रही थी उनकी और उनके घर में उनकी बूढ़ी माता जी भी हैं जिनकी उम्र 83 वर्ष है तो उन्होंने बताया कि और आसन जो उन्हें सरकार की तरफ से दिया जाता था उसे बेच बेचकर वह अपने बेटे के लिए दवा की व्यवस्था कर दी थी और पिछले चार पांच दिनों से ना तो उन्होंने कुछ खाया और ना उनके बेटे ने जिसकी वजह से उनके बेटे की आकस्मिक मौत हो गई तो यह बात हमारे पूरे देश के लिए बहुत ही शर्मसार करने वाली एक घटना है और इसे साफ पता चलता है कि हमारे देश के लोग अब मानवता धीरे धीरे खो रहे हैं क्योंकि जिस गांव में वह व्यक्ति रहता था वहां पर अन्य बहुत सारे लोग होंगे लेकिन किसी ने भी उस वक्त को खाना खिलाने आंख की जरुरत नहीं समझी और उन्होंने उन्हें ऐसा थोड़ा भी दया भी नहीं आई उस व्यक्ति पर कि वह बिचारा तीन-चार दिनों से 5 दिनों से भूखा है तो यह एक बहुत ही आदत ना घटना हुई है ऐसी कई घटनाएं हमारे देश में होती है लेकिन लोगों को उसके बारे में पता नहीं चल पाता है बस कुछ ही घटनाएं सामने आ पाती हैं तो हमारे सरकार को कुछ ना कुछ ऐसी व्यवस्था करनी चाहिए जिससे समाज का गरीब से गरीब व्यक्ति भी कभी भी भूख की वजह से अपनी जान ना गवाएं और जो भी सरकार की पॉलिसी है वह बिल्कुल रूट लेवल तक कैसे पहुंचाए इसके लिए सरकार को ऑफ कर कड़े कदम उठाने की जरूरत है ताकि भविष्य में ऐसी घटनाएं कम हो और धीरे-धीरे करके यह सारी घटना जो हो रही हमारे देश में भुखमरी की समस्या जो है वह पूरी तरीके से दूर हो जाए

bareilly mein jis vyakti ki bhukh ki wajah se maut ho gayi vaah ek nayi ka kaam karte the aur paralysis hone ke wajah se unka saara kaam chhut gaya aur isi karanvash unke paas paise ki kami ho gayi aur vaah raashan bhi nahi kharid paa rahe the aur na dawai acche tarike se ho paa rahi thi unki aur unke ghar mein unki budhi mata ji bhi hain jinki umr 83 varsh hai toh unhone bataya ki aur aasan jo unhe sarkar ki taraf se diya jata tha use bech bechkar vaah apne bete ke liye dawa ki vyavastha kar di thi aur pichle char paanch dino se na toh unhone kuch khaya aur na unke bete ne jiski wajah se unke bete ki aakasmik maut ho gayi toh yah baat hamare poore desh ke liye bahut hi sharmasar karne wali ek ghatna hai aur ise saaf pata chalta hai ki hamare desh ke log ab manavta dhire dhire kho rahe hain kyonki jis gaon mein vaah vyakti rehta tha wahan par anya bahut saare log honge lekin kisi ne bhi us waqt ko khana khilane aankh ki zarurat nahi samjhi aur unhone unhe aisa thoda bhi daya bhi nahi I us vyakti par ki vaah bichara teen char dino se 5 dino se bhukha hai toh yah ek bahut hi aadat na ghatna hui hai aisi kai ghatnaye hamare desh mein hoti hai lekin logo ko uske bare mein pata nahi chal pata hai bus kuch hi ghatnaye saamne aa pati hain toh hamare sarkar ko kuch na kuch aisi vyavastha karni chahiye jisse samaj ka garib se garib vyakti bhi kabhi bhi bhukh ki wajah se apni jaan na gavaen aur jo bhi sarkar ki policy hai vaah bilkul root level tak kaise pahunchaye iske liye sarkar ko of kar kade kadam uthane ki zarurat hai taki bhavishya mein aisi ghatnaye kam ho aur dhire dhire karke yah saree ghatna jo ho rahi hamare desh mein bhukhmari ki samasya jo hai vaah puri tarike se dur ho jaaye

बरेली में जिस व्यक्ति की भूख की वजह से मौत हो गई वह एक नई का काम करते थे और पैरालिसिस होने

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  237
WhatsApp_icon
user

Apurva D

Optimistic Coder

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मैं इस बात से सहमत हूं कि आजकल वर्तमान में मानवता की भावना को लोग को रहे हैं उन्हें रोशन की कोई भी क्वेश्चन पर कॉल करें जो आदमी की मौत हुई है तो कोई कमाने वाला और कोई नहीं था तो वह किसी भी हद से कुछ राशन पर उनका गुजारा करते थे और बाद में आपको खाना भी नहीं हुआ तो मेरे ख्याल से बगोदर कब तक आओगे बिल्कुल भी अच्छी बात नहीं है हमारे देश के लिए प्राचीन काल में देखा जाए तो हर 1 लोगों के लिए लोगों को एक आधार MP3 माता कहीं अधिक हो जा रही है या खो गई है मेरे हिसाब से सिर्फ़ मतलब क्या हो रहा है सरकार को मालूम होना चाहिए क्योंकि हमारे माना कि वह मतलब आदमी को अभी कुछ काम नहीं कर सकता हूं उनका है अगर लोगों ने उसे खाना पीना हो गया सब कुछ भी मतलब कितने दिन पर काम करने के लाभ

dekhiye main is baat se sahmat hoon ki aajkal vartaman mein manavta ki bhavna ko log ko rahe hain unhe roshan ki koi bhi question par call kare jo aadmi ki maut hui hai toh koi kamane vala aur koi nahi tha toh vaah kisi bhi had se kuch raashan par unka gujara karte the aur baad mein aapko khana bhi nahi hua toh mere khayal se bagodar kab tak aaoge bilkul bhi achi baat nahi hai hamare desh ke liye prachin kaal mein dekha jaaye toh har 1 logo ke liye logo ko ek aadhaar MP3 mata kahin adhik ho ja rahi hai ya kho gayi hai mere hisab se sirf matlab kya ho raha hai sarkar ko maloom hona chahiye kyonki hamare mana ki vaah matlab aadmi ko abhi kuch kaam nahi kar sakta hoon unka hai agar logo ne use khana peena ho gaya sab kuch bhi matlab kitne din par kaam karne ke labh

देखिए मैं इस बात से सहमत हूं कि आजकल वर्तमान में मानवता की भावना को लोग को रहे हैं उन्हें

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  162
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!