महिलाओं को सबरीमाला मंदिर में जाने के लिए आयु प्रमाण दिखाना होगा, आप इसके बारे में क्या सोचते हैं?...


user
Play

Likes  2  Dislikes    views  39
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
2:47
Play

Likes  31  Dislikes    views  621
WhatsApp_icon
user

Usha Devi Urawat Krishna

हाउस वाईफ

0:20
Play

Likes  26  Dislikes    views  510
WhatsApp_icon
Likes  6  Dislikes    views  183
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महिलाओं को सबरीमाला मंदिर में जाने के लिए आयु प्रमाण पत्र दिखाना होगा यह बहुत ही बड़ी कुरीति हमारे देश के लिए क्या हमारे देश में हमेशा महिलाओं को नहीं जाना चाहता है और उनको हर जगह हर जगह उनको यह दर्शाया जाता है कि वह पुरुषों से कम है और उनकी बराबरी नहीं कर सकती थी और यह बहुत ही गलत बात है अगर हम ऐसा करते रहेंगे तो हमारा देश आगे बढ़ी नहीं पायेगा हमारी वह सोच खत्म ही नहीं होगी जो कि महिलाओं और पुरुषों को समान अधिकार दे सके तो वह आ जाइए चीज हो रही है उसके मैं सख्त खिलाफ हूं और मेरा मानना है और मैं यही सोचती हूं कि महिलाओं को ऐसी चीजों से बचना चाहिए और महिलाओं को खुद अपने हक के लिए हमेशा खड़ा होना चाहिए मुझे जब तक वह खड़ी नहीं होंगे तब तक कुछ समाज में बदलाव नहीं आएगा और इस तरह की कुरीतियों को जितना हो सके उतना जड़ से समाप्त करने की कोशिश करनी चाहिए

mahilaon ko sabarimala mandir mein jaane ke liye aayu pramaan patra dikhana hoga yah bahut hi badi kuriti hamare desh ke liye kya hamare desh mein hamesha mahilaon ko nahi jana chahta hai aur unko har jagah har jagah unko yah darshaya jata hai ki vaah purushon se kam hai aur unki barabari nahi kar sakti thi aur yah bahut hi galat baat hai agar hum aisa karte rahenge toh hamara desh aage badhi nahi payega hamari vaah soch khatam hi nahi hogi jo ki mahilaon aur purushon ko saman adhikaar de sake toh vaah aa jaiye cheez ho rahi hai uske main sakht khilaf hoon aur mera manana hai aur main yahi sochti hoon ki mahilaon ko aisi chijon se bachna chahiye aur mahilaon ko khud apne haq ke liye hamesha khada hona chahiye mujhe jab tak vaah khadi nahi honge tab tak kuch samaj mein badlav nahi aayega aur is tarah ki kuritiyon ko jitna ho sake utana jad se samapt karne ki koshish karni chahiye

महिलाओं को सबरीमाला मंदिर में जाने के लिए आयु प्रमाण पत्र दिखाना होगा यह बहुत ही बड़ी कुरी

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  175
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बी आर अंबेडकर ने सही कहा था कि सार्वजनिक सड़कों और विद्यालयों जैसे सार्वजनिक मंदिर सार्वजनिक उपयोग के लिए होते हैं इसलिए प्रविष्टि का सवाल अनिवार्य रूप से क्वालिटी का सवाल है भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने बार-बार भेदभावपूर्ण धार्मिक प्रथाओं को तबाह करने की कोशिश की है जिनमें से सबसे रीसेंट तीन तलाक है सबरीमाला यीशु कोर्ट तक पहुंचाइए अपने आप में एक क्रांतिकारी न्याय कदम है सबरीमाला मंदिर में महिलाओं की प्रविष्टि को पवित्रता की एक तर्क हीन और अप्रचलित धारणा के साथ रोकने से स्पष्ट रूप से संविधान में क्वालिटी के नियमों को नकार दिया गया है यह एक पेड़ से आकर और पाकिस्तान पूर्ण दृष्टिकोण को दर्शाता है या अनुच्छेद 351 द्वारा आश्वासन की गई उनकी धार्मिक स्वतंत्रता को कम करता है रितु के आधार पर महिला प्रवेश के प्रति निषेध और चरित्र से संबंधित जैविक विशेषताएं महिलाओं के लिए अपमानजनक है केरल हिंदू लोकसभा अधिनियम का उद्देश्य सभी हिंदुओं को भेदभावपूर्ण बिना मंदिरों में प्रवेश सुनिश्चित करना है यह नियम जो मेंस्ट्रुएशन के आधार पर महिलाओं को प्रगति में रुकावट पैदा करता है जाहिर तौर पर पैरेंट अधिनियमित के उद्देश्य को काउंटर करता है और इसलिए और 13 सुप्रीम कोर्ट अपने फैसले में प्रतिस्पर्धी दावों के गहन विश्लेषण किए बिना मुख्य पुजारी राय पर बहुत अधिक निर्भर था जो धार्मिक संस्थानों के मामले के शीर्ष पर हैं वे केवल एक वैध और उचित तरीके से संस्थानों का प्रबंधन कर सकते हैं और उन्हें दूसरों के स्वतंत्रता का प्रबंधन करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है उस हिसाब से देखा जाए तो इस अभ्यास का अंत बहुत पहले प्रयास किया जाना चाहिए था इन पांच लोग अभी भी एक धार्मिक मंदिर में प्रवेश करने के लिए कुछ उम्र की महिलाओं को प्रतिबंधित करने को धार्मिक स्वतंत्रता कह रहे हैं यह केवल मूर्खता ही नहीं बल्कि अनुच्छेद भी है

be R ambedkar ne sahi kaha tha ki sarvajanik sadkon aur vidhayalayo jaise sarvajanik mandir sarvajanik upyog ke liye hote hain isliye pravishti ka sawaal anivarya roop se quality ka sawaal hai bharat ke sarvoch nyayalaya ne baar baar bhedbhavpurn dharmik prathaon ko tabah karne ki koshish ki hai jinmein se sabse recent teen talak hai sabarimala yeshu court tak pahunchaiye apne aap mein ek krantikari nyay kadam hai sabarimala mandir mein mahilaon ki pravishti ko pavitrata ki ek tark heen aur aprachalit dharana ke saath rokne se spasht roop se samvidhan mein quality ke niyamon ko nakar diya gaya hai yah ek ped se aakar aur pakistan purn drishtikon ko darshata hai ya anuched 351 dwara ashwasan ki gayi unki dharmik swatantrata ko kam karta hai ritu ke aadhaar par mahila pravesh ke prati nishedh aur charitra se sambandhit Jaivik visheshtayen mahilaon ke liye apamanajanak hai kerala hindu lok sabha adhiniyam ka uddeshya sabhi hinduon ko bhedbhavpurn bina mandiro mein pravesh sunishchit karna hai yah niyam jo menstrueshan ke aadhaar par mahilaon ko pragati mein rukavat paida karta hai jaahir taur par parent adhiniyamit ke uddeshya ko counter karta hai aur isliye aur 13 supreme court apne faisle mein pratispardha davon ke gahan vishleshan kiye bina mukhya pujari rai par bahut adhik nirbhar tha jo dharmik sansthano ke mamle ke shirsh par hain ve keval ek vaidh aur uchit tarike se sansthano ka prabandhan kar sakte hain aur unhe dusro ke swatantrata ka prabandhan karne ki anumati nahi di ja sakti hai us hisab se dekha jaaye toh is abhyas ka ant bahut pehle prayas kiya jana chahiye tha in paanch log abhi bhi ek dharmik mandir mein pravesh karne ke liye kuch umr ki mahilaon ko pratibandhit karne ko dharmik swatantrata keh rahe hain yah keval murkhta hi nahi balki anuched bhi hai

बी आर अंबेडकर ने सही कहा था कि सार्वजनिक सड़कों और विद्यालयों जैसे सार्वजनिक मंदिर सार्वजन

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  164
WhatsApp_icon
user

Sefali

Media-Ad Sales

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

केरल का जो सबरीमाला मंदिर है, भगवान अयप्पा का l उसमें, जो महिलाएं हैं १२ से ५० उम्र के उनको जाना बैन है ,क्योंकि यह जो महिलाएं ये जो ऐज ग्रुप है वो मेंसुरेशन ऐज ग्रुप के अंडर में आता है l और यह महिलाएं बैन है मंदिर के अंदर जाने के लिए और कोई भी महिला अगर अंदर जाती है, तो उन्हें अपना ऐज प्रूफ सर्टिफिकेट या फिर गवर्नमेंट कोई भी आयडी प्रूफ दिखाना होगा की वो उस ऐज ग्रुप से बिलोंग नहीं करती l मगर जिस तरह से अभी टाइम बदल रहा है, हम काफी आगे आ चुके हैं, पुराने वक्त से हाँ l भगवान मंदिरों के काफी सारे दुसरे रूल, मान्यताएं होती है l उनमें कोई दो राय नहीं है, ना ही कोई उसके अगेंस्ट में जा रहा है , पर भगवान भी नहीं देखते, कि मेरा भक्त कोई पुरुष है या महिला और महिला है तो वो मेंसुरेशन पीरियड में है कि नहीं l वह भगवान का दिया हुआ गिफ्ट ही है l तो मेरी हिसाब से जो अथॉरिटी को एक बार ओवरलुक करना चाहिए,एक बार देखना चाहिए की, ये इंजस्टिस हो जाता है एक तरीके से ,क्योंकि महिलाओं को एंट्री नहीं मिल रही है बस पुरुषों को मिल रही है l तो यह सही नहीं लगता, तो एक बार अथॉरिटी को , शबरीमला की अथॉरिटी को, एक बार ओवरलुक करना चाहिए, अपनी राय बदलनी चाहिए,और एक चान्स देना चाहिए कि हाँ, यहां पर भी इक्वलिटी मेन्टेन की जाए l तो मेरी यह राय है l

kerala ka jo sabarimala mandir hai bhagwan ayappa ka l usmein jo mahilaye hain 12 se 50 umr ke unko jana ban hai kyonki yah jo mahilaye ye jo age group hai vo mensureshan age group ke under mein aata hai l aur yah mahilaye ban hai mandir ke andar jaane ke liye aur koi bhi mahila agar andar jaati hai toh unhe apna age proof certificate ya phir government koi bhi ID proof dikhana hoga ki vo us age group se belong nahi karti l magar jis tarah se abhi time badal raha hai hum kaafi aage aa chuke hain purane waqt se haan l bhagwan mandiro ke kaafi saare dusre rule manyatae hoti hai l unmen koi do rai nahi hai na hi koi uske against mein ja raha hai par bhagwan bhi nahi dekhte ki mera bhakt koi purush hai ya mahila aur mahila hai toh vo mensureshan period mein hai ki nahi l vaah bhagwan ka diya hua gift hi hai l toh meri hisab se jo authority ko ek baar ovaraluk karna chahiye ek baar dekhna chahiye ki ye injustice ho jata hai ek tarike se kyonki mahilaon ko entry nahi mil rahi hai bus purushon ko mil rahi hai l toh yah sahi nahi lagta toh ek baar authority ko shabarimla ki authority ko ek baar ovaraluk karna chahiye apni rai badalni chahiye aur ek chance dena chahiye ki haan yahan par bhi Equality maintain ki jaaye l toh meri yah rai hai l

केरल का जो सबरीमाला मंदिर है, भगवान अयप्पा का l उसमें, जो महिलाएं हैं १२ से ५० उम्र के उनक

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी मुझे लगता है कि हमारे समाज में इस तरह की बहुत ज्यादा कुरीतियां है हमारे समाज को इसके ऊपर निकलने की बहुत ज्यादा जरूरत है जैसे हमने इतिहास में देखा हमारे यहां बहुत ज्यादा है ऐसी कुरीतियां थी जिसकी वजह से हमारा देश बहुत पिछड़ गए जिस तरह से मैं बात करूं कि हमारे देश के अंदर सती प्रथा प्रथा प्रथा मुझे लगता हे बहुत ही शर्मनाक बहुत ही घटिया है इस तरह काम कभी नहीं होना चाहिए मुझे लगता है किसी भी मंदिर में जाने के लिए किसी भी व्यक्ति को चाहे वह महिलाओं को चाहे वह पूरे सुख में बच्चा हो कभी भी किसी तरह के प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं होनी चाहिए

dekhi mujhe lagta hai ki hamare samaj mein is tarah ki bahut zyada kuritiyan hai hamare samaj ko iske upar nikalne ki bahut zyada zarurat hai jaise humne itihas mein dekha hamare yahan bahut zyada hai aisi kuritiyan thi jiski wajah se hamara desh bahut pichad gaye jis tarah se main baat karu ki hamare desh ke andar sati pratha pratha pratha mujhe lagta hai bahut hi sharmnaak bahut hi ghatiya hai is tarah kaam kabhi nahi hona chahiye mujhe lagta hai kisi bhi mandir mein jaane ke liye kisi bhi vyakti ko chahen vaah mahilaon ko chahen vaah poore sukh mein baccha ho kabhi bhi kisi tarah ke pramaan patra ki avashyakta nahi honi chahiye

देखी मुझे लगता है कि हमारे समाज में इस तरह की बहुत ज्यादा कुरीतियां है हमारे समाज को इसके

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  268
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए केरल के सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 उम्र की महिलाएं होते हैं उन्हें अंतर नहीं करने दिया जाता हे जो मंदिर है यार लोड अय्यप्पा भगवान अयप्पा की पूजा की जाती है और यह कहा जाता है कि वह नाटक ब्रह्मचारी व्यक्ति थे तो ऐसी महिलाएं जो 10 से 50 साल की उम्र की होती है यानी कि जो जो जो अपने मैं स्टेशन के गेट में होती हैं उन महिलाओं को या इंटर नहीं करने दिया जाता अभी 14 जनवरी को ही काम अभी थोड़े दिन पहले लड़की को उन्होंने रुकने से जाने से रोक दिया वह सिर्फ 11 साल की थी और जो मंदिर की कमेटी है वो कहती है कि हम अपने भगवान के साथ छेड़छाड़ नहीं कर सकते आप मुझे लगता है यह बहुत गलत है कि कि कि कि भगवान सबके लिए एक जैसे ही होते हैं भगवान नहीं किसी को कम या किसी को ज्यादा देते हैं तो ऐसी जो रूढ़िवादी सोच है ऐसे जो कुरीतियां है मुझे लगता ही बहुत गलत है कि जल्दी से जल्दी बंद हो जानी चाहिए

dekhiye kerala ke sabarimala mandir mein 10 se 50 umr ki mahilaye hote hain unhe antar nahi karne diya jata hai jo mandir hai yaar load ayyappa bhagwan ayappa ki puja ki jaati hai aur yah kaha jata hai ki vaah natak brahmachari vyakti the toh aisi mahilaye jo 10 se 50 saal ki umr ki hoti hai yani ki jo jo jo apne main station ke gate mein hoti hain un mahilaon ko ya inter nahi karne diya jata abhi 14 january ko hi kaam abhi thode din pehle ladki ko unhone rukne se jaane se rok diya vaah sirf 11 saal ki thi aur jo mandir ki committee hai vo kehti hai ki hum apne bhagwan ke saath chedchad nahi kar sakte aap mujhe lagta hai yah bahut galat hai ki ki ki ki bhagwan sabke liye ek jaise hi hote hain bhagwan nahi kisi ko kam ya kisi ko zyada dete hain toh aisi jo rudhivadi soch hai aise jo kuritiyan hai mujhe lagta hi bahut galat hai ki jaldi se jaldi band ho jani chahiye

देखिए केरल के सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 उम्र की महिलाएं होते हैं उन्हें अंतर नहीं करने द

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  166
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!