क्या भारत से आरक्षण समाप्त कर देना चाहिए?...


play
user

Chandraprakash Joshi

Ex-AGM RBI & CEO@ixamBee.com

0:40

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां इसमें तो कोई दो राय नहीं है कि आरक्षण समाप्त कर देना चाहिए जब देश आजाद हुआ था उस समय आरक्षण की व्यवस्था पहले 10 साल के लिए यह सोच कर की गई थी कि जो लोग जुड़े हैं वह आगे बढ़ पाएंगे लेकिन उसके बाद यह राजनीति का मुद्दा बन गया है और अब तो इससे देश बांट रहा है समाज बन रहा है और देश के लोगों को बहुत ज्यादा नुकसान हो रहा है तो इससे ज्यादा मजबूरी का समय कहीं नहीं होगा तो सही समय है कि आरक्षण के खिलाफ सभी लोगों को आवाज उठानी चाहिए और आरक्षण खत्म कर देना चाहिए

haan isme toh koi do rai nahi hai ki aarakshan samapt kar dena chahiye jab desh azad hua tha us samay aarakshan ki vyavastha pehle 10 saal ke liye yah soch kar ki gayi thi ki jo log jude hain vaah aage badh payenge lekin uske baad yah raajneeti ka mudda ban gaya hai aur ab toh isse desh baant raha hai samaj ban raha hai aur desh ke logo ko bahut zyada nuksan ho raha hai toh isse zyada majburi ka samay kahin nahi hoga toh sahi samay hai ki aarakshan ke khilaf sabhi logo ko awaaz uthani chahiye aur aarakshan khatam kar dena chahiye

हां इसमें तो कोई दो राय नहीं है कि आरक्षण समाप्त कर देना चाहिए जब देश आजाद हुआ था उस समय आ

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  384
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ravi Sharma

Advocate

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत से जातिगत आरक्षण को समाप्त कर देना चाहिए, परंतु इसे अकस्मात कर देना, यह बिल्कुल भी ठीक नहीं होगा| इससे पहले संविधानिक समिति का निर्माण होना चाहिए, जो कि उच्चतम न्यायालय के मार्गदर्शन में कार्य करें, तथा यह सुनिश्चित करें, कि सभी राज्य सरकारें, केंद्र सरकार तथा अन्य जो हमारी कार्यपालिकाएं हैं, तथा विधायिका है, उन सभी को विश्वास में रखकर अपनी व्यापक जो रिपोर्ट है, अपनी पूरी प्रक्रिया से संबंधित उच्चतम न्यायालय को प्रस्तुत करें, जिससे कि संविधान संशोधन की प्रक्रिया प्रारंभ हो सके| साथ ही मुझे यह भी लगता है कि आर्थिक आधार पर जो आरक्षण है, उसको प्रारंभ करना चाहिए, तथा यह सुनिश्चित करना चाहिए कि इस को किसी भी प्रकार से गलत तरह से इस्तेमाल ना कर पाए लोग, इसके लिए एक समिति बनानी चाहिए, जो इसकी इससे संबंधित अपनी रिपोर्ट बनाए, तथा इस पूरी प्रक्रिया का जो अनुपालन करें तथा सुनिश्चित करें, कि इसको सुविधापूर्ण तरीके से तथा सख्ताई से पूरे भारत में लागू किया जा सके | साथ ही साथ विकलांगता के आधार पर जो आरक्षण प्राप्त होता है, उसको बिलकुल भी समाप्त नहीं किया जाना चाहिए| साथ ही साथ बहुत सी ऐसी जातियां और जनजातियां है, जो वास्तविक रूप से पिछड़े हुई है, तथा उनका प्रतिनिधित्व कार्यपालिका, विधानपालिका, न्यायपालिका समेत निजी क्षेत्र में भी ना के बराबर है, उनको आरक्षण का लाभ मिलते रहना चाहिए | साथ ही साथ शिक्षा के क्षेत्र में आर्थिक आधार पर आरक्षण प्रदान किया जाना चाहिए| मुझे ऐसा लगता है, कि इसको अगर बदलना है, उसको समाप्त करना है, उससे पहले एक व्यापक प्रक्रिया है, उसका अनुपालन करना होगा| तथा उसके बाद ही इस प्रकार का सख्त फैसला सरकार को अथवा न्यायपालिका को लेना चाहिए| धन्यवाद|

bharat se jaatigat aarakshan ko samapt kar dena chahiye parantu ise akasmat kar dena yah bilkul bhi theek nahi hoga isse pehle samvidhanik samiti ka nirmaan hona chahiye jo ki ucchatam nyayalaya ke margdarshan mein karya kare tatha yah sunishchit kare ki sabhi rajya sarkaren kendra sarkar tatha anya jo hamari karyapalikaen hain tatha vidhayika hai un sabhi ko vishwas mein rakhakar apni vyapak jo report hai apni puri prakriya se sambandhit ucchatam nyayalaya ko prastut kare jisse ki samvidhan sanshodhan ki prakriya prarambh ho sake saath hi mujhe yah bhi lagta hai ki aarthik aadhaar par jo aarakshan hai usko prarambh karna chahiye tatha yah sunishchit karna chahiye ki is ko kisi bhi prakar se galat tarah se istemal na kar paye log iske liye ek samiti banani chahiye jo iski isse sambandhit apni report banaye tatha is puri prakriya ka jo anupaalan kare tatha sunishchit kare ki isko suvidhapurn tarike se tatha sakhtai se poore bharat mein laagu kiya ja sake saath hi saath vikalaangata ke aadhaar par jo aarakshan prapt hota hai usko bilkul bhi samapt nahi kiya jana chahiye saath hi saath bahut si aisi jatiya aur janajatiyan hai jo vastavik roop se pichade hui hai tatha unka pratinidhitva karyapalika vidhanpalika nyaypalika samet niji kshetra mein bhi na ke barabar hai unko aarakshan ka labh milte rehna chahiye saath hi saath shiksha ke kshetra mein aarthik aadhaar par aarakshan pradan kiya jana chahiye mujhe aisa lagta hai ki isko agar badalna hai usko samapt karna hai usse pehle ek vyapak prakriya hai uska anupaalan karna hoga tatha uske baad hi is prakar ka sakht faisla sarkar ko athva nyaypalika ko lena chahiye dhanyavad

भारत से जातिगत आरक्षण को समाप्त कर देना चाहिए, परंतु इसे अकस्मात कर देना, यह बिल्कुल भी ठी

Romanized Version
Likes  48  Dislikes    views  472
WhatsApp_icon
user
1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप लोगों ने जवाब दिया कि आरक्षण समाप्त कर देना चाहिए गुर्जर आरक्षण नहीं समाप्त करना चाहिए लेकिन अगर देखा जाए भारतीय परिपेक्ष में वह जो वर्ग एक पिछड़ा था जिसे उठाने के लिए आरक्षण दिया गया था वह अभी पिछड़ा का पिछड़ा ही है तो अर्चना अगर सब समाप्त कर दिया गया तू तो छोड़कर नहीं समाप्त किया गया तो जो हम विश्व गुरु बनना चाहते हैं वह एक सपना हमारा टूट जाएगा क्योंकि हम जो बनवा जाते हैं वह आरक्षण उसे हटा रहा है उसे मिटा रहा क्योंकि हमारे प्रतिभा का राशि और आरक्षण की वजह से अच्छे लोग जहां तुम लोग पहुंचे जमानत नहीं पहुंच पाती है कि आरक्षण जातिगत ना करके आर्थिक स्थिति आधार पर कर देना चाहिए मुझे लगता है कि आधार कर देना की और उसके लिए समिति बनानी चाहिए और या फिर सबको यह कैटेगरी वाइज जो एससी एसटी है जर्नल है यह भी समाप्त कर देना चाहिए और उसकी जगह पर और सिर्फ इसका नाम है जरा सब सामान्य है अंडर 17 का भी क्रियान्वयन अच्छे से हो जाएगा 1514 भी अच्छे से क्रियान्वित होंगे कोई परंतु नहीं लगाना पड़ेगा कोई संशोधन नहीं जोड़ना पड़ेगा यह पाठ अच्छे से ज्ञान वन होगा और सबको जनरल कैटेगरी में रखना चाहिए सबको अच्छा मौका मिलेगा कोई ना तो दलित होगा ना कोई कुछ होगा इनको सबको जानवर लेकिन आती हमारी कुरीतियां जो हमारी प्रथाएं चली आ रही उनकी समस्याएं आएंगी जरूर लेकिन वह सामाजिक हैं आपके क्षेत्र में देख सकता है

aap logo ne jawab diya ki aarakshan samapt kar dena chahiye gurjar aarakshan nahi samapt karna chahiye lekin agar dekha jaaye bharatiya paripeksh mein vaah jo varg ek pichda tha jise uthane ke liye aarakshan diya gaya tha vaah abhi pichda ka pichda hi hai toh archna agar sab samapt kar diya gaya tu toh chhodkar nahi samapt kiya gaya toh jo hum vishwa guru bana chahte hain vaah ek sapna hamara toot jaega kyonki hum jo banwa jaate hain vaah aarakshan use hata raha hai use mita raha kyonki hamare pratibha ka rashi aur aarakshan ki wajah se acche log jaha tum log pahuche jamanat nahi pohch pati hai ki aarakshan jaatigat na karke aarthik sthiti aadhaar par kar dena chahiye mujhe lagta hai ki aadhaar kar dena ki aur uske liye samiti banani chahiye aur ya phir sabko yah category wise jo SC ST hai journal hai yah bhi samapt kar dena chahiye aur uski jagah par aur sirf iska naam hai zara sab samanya hai under 17 ka bhi kriyanvayan acche se ho jaega 1514 bhi acche se kriyanwit honge koi parantu nahi lagana padega koi sanshodhan nahi jodna padega yah path acche se gyaan van hoga aur sabko general category mein rakhna chahiye sabko accha mauka milega koi na toh dalit hoga na koi kuch hoga inko sabko janwar lekin aati hamari kuritiyan jo hamari prathaen chali aa rahi unki samasyaen aayengi zaroor lekin vaah samajik hain aapke kshetra mein dekh sakta hai

आप लोगों ने जवाब दिया कि आरक्षण समाप्त कर देना चाहिए गुर्जर आरक्षण नहीं समाप्त करना चाहिए

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  330
WhatsApp_icon
user

Sefali

Media-Ad Sales

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां बिलकुल आरक्षण जो है हमारे देश से बिल्कुल बिल्कुल समाप्त कर देना चाहिए क्योंकि आरक्षण कब बना था तब यह मुद्दा था कि सरकार के लोग हैं उन्हें बिल्कुल पोस्ट नीति और और कूलर जो भी है राइट मिल सके पर वह भी एक अलग अधिवेशन में जा रहा है और जो डिजाइन लोक है किसी किसी क्षेत्र में होने भी नहीं मिल पा रहा है तो मेरी सबसे यह कोई अच्छा नहीं कर रहा है अभी इस समय में और टाइम पर जैसे ही टाइम बीत रहा है यह जो है यह मुद्दा खराब होता है जा रहा है और यहां तक हम जब भी कोई भी चुनाव होता है पॉलिटिकल चुनाव होता है यह मुद्दे को बहुत ही बुरी तरह से यूज किया जाता है वोटिंग पाने के लिए तुम मेरे हिसाब से वह बहुत बुरा हो रहा है उसकी वजह से हमारी जो सोसाइटी है वह डिवाइड हो रही है जो कि नहीं होनी चाहिए

ji haan bilkul aarakshan jo hai hamare desh se bilkul bilkul samapt kar dena chahiye kyonki aarakshan kab bana tha tab yah mudda tha ki sarkar ke log hain unhe bilkul post niti aur aur cooler jo bhi hai right mil sake par vaah bhi ek alag adhiveshan mein ja raha hai aur jo design lok hai kisi kisi kshetra mein hone bhi nahi mil paa raha hai toh meri sabse yah koi accha nahi kar raha hai abhi is samay mein aur time par jaise hi time beet raha hai yah jo hai yah mudda kharab hota hai ja raha hai aur yahan tak hum jab bhi koi bhi chunav hota hai political chunav hota hai yah mudde ko bahut hi buri tarah se use kiya jata hai voting paane ke liye tum mere hisab se vaah bahut bura ho raha hai uski wajah se hamari jo society hai vaah divide ho rahi hai jo ki nahi honi chahiye

जी हां बिलकुल आरक्षण जो है हमारे देश से बिल्कुल बिल्कुल समाप्त कर देना चाहिए क्योंकि आरक्ष

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  159
WhatsApp_icon
user

Gulnaz

लेवल 1 (बिगिनर)

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से तो वह भारत के भारत से आरक्षण समाप्त कर देना चाहिए और क्योंकि लोग इसके बहुत तेज वेग गलत फायदा उठा रहे हैं बट अभी भारतीय संविधान में इसके लिए कानून बनाया गया है और उस कानून के अनुसार आप और निम्न वर्गों के लोगों को लेकर विशिष्ट खुद के कारण या सामान्य लोगों के बराबर लाने के लिए आरक्षण लागू किया गया था लेकर मिडिल क्लास के या करो क्लास पीपल लोगों के लिए भारत के महिलाओं के लिए भी आरक्षण लिए लाया गया था कानून के हिसाब से और जैसे के आर्थिक रुप से पिछड़े वर्ग के लिए आरक्षण और अनुसूचित जाति के लिए आरक्षण आदि जैसे कई आरक्षण लाए गए जलन की आरक्षण प्रणाली एक स्पष्ट भेदभाव है लेकिन इसकी शुरुआत सामाजिक रुप से यह जो है उद्देश पिलाई गई थी ताकि समाज में उपलब्ध अवसरों में उन्हें सम्मान असमानता मिलना चाहिए करके कि जो भी लो क्लासेस लेकर क्लासेस पीपल को मिल रहा है वही जो हेलो क्लास पेपर लोगों को भी लेकर सीएम इंपॉर्टेंट देना चाहिए घर के लेकिन अभी इसका अर्थ बदल ही गया है जिस तरह लोगों ने द्वारा इसके लाभ उठाएं हैं जिसे के स्किन फायदे लोक उठाने शुरू करते हैं इसे देखकर बहुत से लोगों का मानना है कि कानून बंद हो जाना चाहिए लोगों को इसका उपयोग करना शुरू कर दिया है और राज्य के महा विद्यालय में एडमिशन लेने के लिए जो है नौकरी पाने के लिए छूट 10th पर्स बनाना इसके कई उदाहरण

mere hisab se toh vaah bharat ke bharat se aarakshan samapt kar dena chahiye aur kyonki log iske bahut tez veg galat fayda utha rahe hain but abhi bharatiya samvidhan mein iske liye kanoon banaya gaya hai aur us kanoon ke anusaar aap aur nimn vargon ke logo ko lekar vishisht khud ke karan ya samanya logo ke barabar lane ke liye aarakshan laagu kiya gaya tha lekar middle class ke ya karo class pipal logo ke liye bharat ke mahilaon ke liye bhi aarakshan liye laya gaya tha kanoon ke hisab se aur jaise ke aarthik roop se pichde varg ke liye aarakshan aur anusuchit jati ke liye aarakshan aadi jaise kai aarakshan laye gaye jalan ki aarakshan pranali ek spasht bhedbhav hai lekin iski shuruat samajik roop se yah jo hai uddesh pilai gayi thi taki samaj mein uplabdh avasaron mein unhe sammaan asamanta milna chahiye karke ki jo bhi lo classes lekar classes pipal ko mil raha hai wahi jo hello class paper logo ko bhi lekar cm important dena chahiye ghar ke lekin abhi iska arth badal hi gaya hai jis tarah logo ne dwara iske labh uthaye hain jise ke skin fayde lok uthane shuru karte hain ise dekhkar bahut se logo ka manana hai ki kanoon band ho jana chahiye logo ko iska upyog karna shuru kar diya hai aur rajya ke maha vidyalaya mein admission lene ke liye jo hai naukri paane ke liye chhut 10th purse banana iske kai udaharan

मेरे हिसाब से तो वह भारत के भारत से आरक्षण समाप्त कर देना चाहिए और क्योंकि लोग इसके बहुत त

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  211
WhatsApp_icon
user

Gunjan

Junior Volunteer

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी बिल्कुल आरक्षण जो है अब समाप्त कर देना चाहिए क्योंकि आरक्षण जब दिलाए गया था तो वह एक अनिश्चित काल के लिए बुलाया गया था कि आज जितने भी लोग अपने सेवाओं से वंचित हैं उनको भी लाभ मिल सके पर आजकल जो है इसका दुरूपयोग हुआ होता है और जो असम पर लोग हैं जो कि आरक्षण पाकर अच्छी पोजीशन पर चले जाते हैं अच्छी सफलता हासिल कर लेते हैं और उसके बाद में भी जो पीढ़ी दर पीढ़ी है वह अच्छी और संपन्न ही रखती है और नहीं जो दूसरे लोग होते हैं जो कि अब बहुत पढ़ाई करते हैं फिर भी उनको अपना डिजाइन को मार्क्स नहीं मिल पाता है या फिर कहां जाए तो वह पोजिशन नहीं मिल पाते हैं जिसके कि वह हकदार हैं तो निश्चित तौर पर अगर आरक्षण खत्म हो जाएगा तो भारत का विकास हो और ज्यादा बढ़ जाएगा

vicky bilkul aarakshan jo hai ab samapt kar dena chahiye kyonki aarakshan jab dilaye gaya tha toh vaah ek anischit kaal ke liye bulaya gaya tha ki aaj jitne bhi log apne sewaon se vanchit hain unko bhi labh mil sake par aajkal jo hai iska duroopayog hua hota hai aur jo assam par log hain jo ki aarakshan pakar achi position par chale jaate hain achi safalta hasil kar lete hain aur uske baad mein bhi jo peedhi dar peedhi hai vaah achi aur sampann hi rakhti hai aur nahi jo dusre log hote hain jo ki ab bahut padhai karte hain phir bhi unko apna design ko marks nahi mil pata hai ya phir kahaan jaaye toh vaah position nahi mil paate hain jiske ki vaah haqdaar hain toh nishchit taur par agar aarakshan khatam ho jaega toh bharat ka vikas ho aur zyada badh jaega

विकी बिल्कुल आरक्षण जो है अब समाप्त कर देना चाहिए क्योंकि आरक्षण जब दिलाए गया था तो वह एक

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  299
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!