क्या BJP कर्नाटक में अपनी सरकार बना पाएगी?...


play
user

Sa Sha

Journalist since 1986

1:51

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए यह सही है कि राहुल गांधी और मोदी की अगली जन्म कर्नाटक पर होगी पर निष्पक्ष आकलन कहता है कि गुजरात और हिमाचल में जीत के बावजूद कर्नाटक में भाजपा के लिए रास्ता इतना आसान नहीं होगा क्योंकि अब मोदी लहर टूट गई है इसमें कोई शक नहीं कि मोदी ज्वार का समय निकल गया है और अब हटा शुरू हो चुकी अमित शाह कर्नाटक जीतने के लिए पूरा जोर लगा देंगे अगर गुजरात का ताजा भाजपा के लिए उत्साहवर्धक है तो नए युवा नेतृत्व के साथ कांग्रेस के लिए भी कुछ कम उत्साहजनक नहीं है वैसे कर्नाटक की राजनीति अपने आप में बड़ी उठापटक वाली रही है राज्य में कांग्रेस भाजपा और जनता दल सेकुलर तीन पाटिया है वैसे पूर्व भाजपा मुख्यमंत्री यदुरप्पा की एक और पार्टी है कर्नाटक जनता पार्टी जो 2012 में बनी थी जिसे उन्होंने भाजपा से अलग होकर बनाया था पर पार्टी ने यदुरप्पा और भाजपा दोनों को ही नुकसान पहुंचाया है इसलिए यदुरप्पा वापस भाजपा लौट गए और अब भाजपा और यदुरप्पा एक है एक साथी चुनाव लड़ेंगे 2018 का चुनाव ऐसे में त्रिकोणीय मुकाबला होने की उम्मीद है इस समय राज्य में कांग्रेस आज भी मजबूत है भाजपा और यदुरप्पा के एक हो जाने के बाद भी कांग्रेस को बहुत ज्यादा नुकसान नहीं होने वाला है आप कांग्रेस और जनता दल सेकुलर एक होकर चुनाव लड़ती है तो यह स्थिति कांग्रेस के लिए और जनता दल सेकुलर के लिए भी बेहतर होगी ऐसा होने पर भाजपा राज्य में कुछ ज्यादा हासिल नहीं कर पाएगी

dekhiye yah sahi hai ki rahul gandhi aur modi ki agli janam karnataka par hogi par nishpaksh aakalan kahata hai ki gujarat aur himachal mein jeet ke bawajud karnataka mein bhajpa ke liye rasta itna aasaan nahi hoga kyonki ab modi lahar toot gayi hai isme koi shak nahi ki modi jwar ka samay nikal gaya hai aur ab hata shuru ho chuki amit shah karnataka jitne ke liye pura jor laga denge agar gujarat ka taaza bhajpa ke liye utsahavardhak hai toh naye yuva netritva ke saath congress ke liye bhi kuch kam utsahajanak nahi hai waise karnataka ki raajneeti apne aap mein badi uthapatak wali rahi hai rajya mein congress bhajpa aur janta dal secular teen patiya hai waise purv bhajpa mukhyamantri yadurrapa ki ek aur party hai karnataka janta party jo 2012 mein bani thi jise unhone bhajpa se alag hokar banaya tha par party ne yadurrapa aur bhajpa dono ko hi nuksan pahunchaya hai isliye yadurrapa wapas bhajpa lot gaye aur ab bhajpa aur yadurrapa ek hai ek sathi chunav ladenge 2018 ka chunav aise mein trikodiye muqabla hone ki ummid hai is samay rajya mein congress aaj bhi majboot hai bhajpa aur yadurrapa ke ek ho jaane ke baad bhi congress ko bahut zyada nuksan nahi hone vala hai aap congress aur janta dal secular ek hokar chunav ladati hai toh yah sthiti congress ke liye aur janta dal secular ke liye bhi behtar hogi aisa hone par bhajpa rajya mein kuch zyada hasil nahi kar payegi

देखिए यह सही है कि राहुल गांधी और मोदी की अगली जन्म कर्नाटक पर होगी पर निष्पक्ष आकलन कहता

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  10
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीजेपी कर्नाटक में अपनी सरकार नहीं बना पाएगी इसे कई सारे कारण है पहला कारण ही आएगी कर्नाटक में बीजेपी का कोई शौक के लिए रिमाइंडर नहीं है जिस पर कॉल उत्तर प्रदेश में बीजेपी के पास योगी आदित्यनाथ जी कृष्ण लीला रीजेंसी प्रकार कर्नाटक में बीजेपी के पास कोई लोग के लिए रिमाइंडर नहीं है दूसरों का रंग लाएगी कर्नाटक के लोगों को सरकार की दक्षिण भारतीय राज्यों में हिंदी को आने वाले करना अच्छा नहीं लगा और यह BJP को नुकसान कर सकता है तीसरा कारण ही होगा कि कर्नाटक में बीजेपी की टीम बॉन्डिंग यूनिटी बहुत ही कम है जो बीजेपी की बड़ी समस्या है और इस से बीजेपी को कोई फोटो का नुकसान हो सकता है तो कारण होगा कि जिस प्रकार यू पी गुजरात इलेक्शन में अमित शाह और मोदी जी ने कई सारे रोड शो और रैली की थी उसी प्रकार यह कर्नाटक में नहीं चलेगा क्योंकि कर्नाटक के लोगों को हिंदी समझ में नहीं आती है पांचवा औरों के कारण होगा कि जिस प्रकार GDS में जनता के बीच में कहा है कि मोदी अच्छे प्रधानमंत्री है और बीजेपी अच्छी पार्टी नहीं है उसे जनता को BJP से भरोसा उठ चुका है

bjp karnataka mein apni sarkar nahi bana payegi ise kai saare karan hai pehla karan hi aayegi karnataka mein bjp ka koi shauk ke liye reminder nahi hai jis par call uttar pradesh mein bjp ke paas yogi adityanath ji krishna leela regency prakar karnataka mein bjp ke paas koi log ke liye reminder nahi hai dusro ka rang layegi karnataka ke logo ko sarkar ki dakshin bharatiya rajyo mein hindi ko aane waale karna accha nahi laga aur yah BJP ko nuksan kar sakta hai teesra karan hi hoga ki karnataka mein bjp ki team bonding unity bahut hi kam hai jo bjp ki badi samasya hai aur is se bjp ko koi photo ka nuksan ho sakta hai toh karan hoga ki jis prakar you p gujarat election mein amit shah aur modi ji ne kai saare road show aur rally ki thi usi prakar yah karnataka mein nahi chalega kyonki karnataka ke logo ko hindi samajh mein nahi aati hai panchava auron ke karan hoga ki jis prakar GDS mein janta ke beech mein kaha hai ki modi acche pradhanmantri hai aur bjp achi party nahi hai use janta ko BJP se bharosa uth chuka hai

बीजेपी कर्नाटक में अपनी सरकार नहीं बना पाएगी इसे कई सारे कारण है पहला कारण ही आएगी कर्नाटक

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  18
WhatsApp_icon
user

Janak

An Enthusiastic Entrepreneur.

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम जैसा कि गुजरात के इलेक्शन में हाल हुआ है कुछ रात का खाना की जीत गई है गुजरात बटेंगे उन कांग्रेस में उन्होंने अच्छी-अच्छी टक्कर दी गई थी तो कहना तो मुश्किल है कि कर्नाटक में बीजेपी जीत पाएगी क्योंकि नहीं क्योंकि और कांग्रेस का कमांड है जो कर्नाटक और पंजाब हिमाचल पंजाबी रियाज में है जो कर्नाटक का जो जो कांग्रेस का जो कमांड है वह काफी अच्छा है तू पहले तो वह पहले से तो बोल नहीं सकते हैं वह कंप्लीट ही डिपेंड करता है कांग्रेस और बीजेपी के कैंपेनिंग के ऊपर किस तरह से वह अब बाकी लोगों को कन्वर्ट करते हैं तो मुझे तोला मुश्किल लगता है क्योंकि कांग्रेस ने काफी अच्छी टक्कर दी है गुजरात बीजेपी को गुजरात में तो है ना मुझे तो मुश्किल लगता है कि बीजेपी सरकार कहां कर्नाटक में अपना राज्य चला पाएगी अपनी सरकार बना पाएगी

hum jaisa ki gujarat ke election mein haal hua hai kuch raat ka khana ki jeet gayi hai gujarat batenge un congress mein unhone achi achi takkar di gayi thi toh kehna toh mushkil hai ki karnataka mein bjp jeet payegi kyonki nahi kyonki aur congress ka command hai jo karnataka aur punjab himachal punjabi riyaj mein hai jo karnataka ka jo jo congress ka jo command hai vaah kaafi accha hai tu pehle toh vaah pehle se toh bol nahi sakte hain vaah complete hi depend karta hai congress aur bjp ke campaigning ke upar kis tarah se vaah ab baki logo ko convert karte hain toh mujhe tola mushkil lagta hai kyonki congress ne kaafi achi takkar di hai gujarat bjp ko gujarat mein toh hai na mujhe toh mushkil lagta hai ki bjp sarkar kahaan karnataka mein apna rajya chala payegi apni sarkar bana payegi

हम जैसा कि गुजरात के इलेक्शन में हाल हुआ है कुछ रात का खाना की जीत गई है गुजरात बटेंगे उन

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  10
WhatsApp_icon
user

Apurva D

Optimistic Coder

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां यह जरुर है कि बीजेपी गुजरात और हिमाचल के चुनाव के बाद पावरफुल हुई है अगर देखा जाए तो गुजरात के चुनाव में है उनको कांग्रेस से बहुत टक्कर की चुनौती मिली है बीजेपी से बार बार अपनी सरकार बचाने में सफल रहे हैं लगता है देश में लोगों ने पूरी तरह उनकी डिमांड टाइगर श्रॉफ जीएसटी के डिसीजन को एक्सेप्ट करना मुश्किल ही है कर्नाटक का घर देखा जाए तो वहां पर अभी कांग्रेस का राज है पिछली बार 2013 के चुनाव में बीजेपी को बहुत ही कम सीटों पर जीत हासिल हुई थी बट अभी के उनके जो मुख्यमंत्री है और सिद्धार्थ में है इन्होंने कर्नाटक के लिए बहुत ही अच्छे काम करें इस स्थिति में बीजेपी का यह चुनाव के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ेगी तो बीजेपी में कर्नाटक की सरकार होगी या नहीं तो बीजेपी के प्रदर्शन पर ही पता चलेगा

haan yah zaroor hai ki bjp gujarat aur himachal ke chunav ke baad powerful hui hai agar dekha jaaye toh gujarat ke chunav mein hai unko congress se bahut takkar ki chunauti mili hai bjp se baar baar apni sarkar bachane mein safal rahe hain lagta hai desh mein logo ne puri tarah unki demand tiger Shroff gst ke decision ko except karna mushkil hi hai karnataka ka ghar dekha jaaye toh wahan par abhi congress ka raj hai pichali baar 2013 ke chunav mein bjp ko bahut hi kam seaton par jeet hasil hui thi but abhi ke unke jo mukhyamantri hai aur siddharth mein hai inhone karnataka ke liye bahut hi acche kaam kare is sthiti mein bjp ka yah chunav ke liye bahut mehnat karni padegi toh bjp mein karnataka ki sarkar hogi ya nahi toh bjp ke pradarshan par hi pata chalega

हां यह जरुर है कि बीजेपी गुजरात और हिमाचल के चुनाव के बाद पावरफुल हुई है अगर देखा जाए तो ग

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  16
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभी ऐसा बिल्कुल भी नहीं कह सकते कि बीजेपी कर्नाटक के अपनी सरकार बना पाएगी क्योंकि यह पिछले बार 2013 के इलेक्शन में वहां पर इंडियन नेशनल कांग्रेस जीती थी 122 सीटों से और अब बीजेपी को मात्र 40 सीटें हासिल हुई थी और उनका ग्राफ 2 सीटों का है वह इस फेस्टिवल नीचे गया था 70 सीटों से तो हम कह सकते हैं बीजेपी के लिए बहुत ही बड़ी मुश्किल का काम होगा कर्नाटक में अपनी सरकार बनाना क्योंकि पिछली बार उनकी सीटें कांग्रेस से भी और जनता दल से दोनों से कम थी तो देखते हैं इस पर क्या होता है लेकिन फिर भी इसकी संभावना बहुत कम है कि वह बीजेपी की सरकार बने

abhi aisa bilkul bhi nahi keh sakte ki bjp karnataka ke apni sarkar bana payegi kyonki yah pichle baar 2013 ke election mein wahan par indian national congress jeeti thi 122 seaton se aur ab bjp ko matra 40 seaten hasil hui thi aur unka graph 2 seaton ka hai vaah is festival niche gaya tha 70 seaton se toh hum keh sakte hain bjp ke liye bahut hi badi mushkil ka kaam hoga karnataka mein apni sarkar banana kyonki pichali baar unki seaten congress se bhi aur janta dal se dono se kam thi toh dekhte hain is par kya hota hai lekin phir bhi iski sambhavna bahut kam hai ki vaah bjp ki sarkar bane

अभी ऐसा बिल्कुल भी नहीं कह सकते कि बीजेपी कर्नाटक के अपनी सरकार बना पाएगी क्योंकि यह पिछले

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  21
WhatsApp_icon
user

Ridhima

Mass Communications Student

0:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीजेपी का कर्नाटक में अपनी सरकार बनाना थोड़ा मुश्किल ही बात है क्योंकि अगर आप देखे तो इस बार गुजरात के बाद के लक्षण दिखे तो आप ही जरुर जानते होंगे पर कांग्रेस पार्टी ने बीजेपी को अच्छा कर दिया है उनका इस टाइम का टाइम बहुत ही अच्छा रहा है और यह परिवर्तन संभव अर्थ डेमोनेटिसेशन जीएसटी कारण से हुआ है मोस्ट आबु में कई लोग इस कदम को स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं और अगर हम हम कल कर्नाटक की बात करते हैं तो कर्नाटक में अभी कांग्रेस का राज है कर्नाटक के जो भी के मुख्यमंत्री है सिद्धार्थ ramaiya चुकी कांग्रेस पार्टी के है उन्होंने राज्य में कई अच्छे काम किए और वहां के लोगों को लोगों का जीना बहुत अभी एहसान किया है तो इस बात को देखकर यह तो निश्चित है कि अगर बीजेपी को जीतना है कर्नाटक में उनको बहुत ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी

bjp ka karnataka mein apni sarkar banana thoda mushkil hi baat hai kyonki agar aap dekhe toh is baar gujarat ke baad ke lakshan dikhe toh aap hi zaroor jante honge par congress party ne bjp ko accha kar diya hai unka is time ka time bahut hi accha raha hai aur yah parivartan sambhav arth demonetiseshan gst karan se hua hai most abu mein kai log is kadam ko sweekar nahi kar paa rahe hain aur agar hum hum kal karnataka ki baat karte hain toh karnataka mein abhi congress ka raj hai karnataka ke jo bhi ke mukhyamantri hai siddharth ramaiya chuki congress party ke hai unhone rajya mein kai acche kaam kiye aur wahan ke logo ko logo ka jeena bahut abhi ehsaan kiya hai toh is baat ko dekhkar yah toh nishchit hai ki agar bjp ko jeetna hai karnataka mein unko bahut zyada mehnat karni padegi

बीजेपी का कर्नाटक में अपनी सरकार बनाना थोड़ा मुश्किल ही बात है क्योंकि अगर आप देखे तो इस ब

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  12
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

1:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कर्नाटका में 2015 के विधानसभा चुनाव से पहले गुजरात चुनाव के परिणाम कांग्रेस और भाजपा के लिए कुछ उपयोगी सबक हैं नतीजे ने स्पष्ट शहरी ग्रामीण विभाजन को दिखाया है जहां कांग्रेस अपने ग्रामीण आधार को बढ़ाने में कामयाब रही है भाजपा ने शहरी इलाकों पर नियंत्रण बरकरार रखा है यदि यह प्रवृत्ति कर्नाटका में फैल जाती है तो राजनीति कब्ज का कहना है कि कांग्रेस के लिए शायरी मतदाताओं को जीतना होगा और भाजपा को ग्रामीण चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक कर्नाटका में लगभग 70 शायरी और 154 ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र हैं और दो या अक्सर कहा जाता है कि चुनाव कर्नाटका में ग्रामीणों ने लड़े और जीते हैं 28 की डील में स्टेशन एक्सरसाइज में शहरी सीटों की संख्या में वृद्धि की और शहरी मतदाताओं को कर्नाटका के नियमों का चयन करने में एक निर्णायक बना दिया हालांकि एक सामान्य धारणा है कि शहरी में नेताओं ने किसी भी अन्य पार्टी की तुलना में बीजेपी का समर्थन किया है एक तलोजा एनालिसिस बताता है कि राज्य के शहरी मतदाताओं ने पिछले दो दशकों में एक पार्टी के लिए लगातार प्रिफरेंस नहीं दिखाई है जनता किसको चुनेगी इस बारे में अभी कहना जल्दबाजी होगी

karnataka mein 2015 ke vidhan sabha chunav se pehle gujarat chunav ke parinam congress aur bhajpa ke liye kuch upyogi sabak hain natije ne spasht shahri gramin vibhajan ko dikhaya hai jaha congress apne gramin aadhaar ko badhane mein kamyab rahi hai bhajpa ne shahri ilako par niyantran barkaraar rakha hai yadi yah pravritti karnataka mein fail jaati hai toh raajneeti kabz ka kehna hai ki congress ke liye shaayari matdataon ko jeetna hoga aur bhajpa ko gramin chunav aayog ke aankado ke mutabik karnataka mein lagbhag 70 shaayari aur 154 gramin vidhan sabha kshetra hain aur do ya aksar kaha jata hai ki chunav karnataka mein grameeno ne lade aur jeete hain 28 ki deal mein station exercise mein shahri seaton ki sankhya mein vriddhi ki aur shahri matdataon ko karnataka ke niyamon ka chayan karne mein ek niranayak bana diya halaki ek samanya dharana hai ki shahri mein netaon ne kisi bhi anya party ki tulna mein bjp ka samarthan kiya hai ek taloje analysis batata hai ki rajya ke shahri matdataon ne pichle do dashakon mein ek party ke liye lagatar prifarens nahi dikhai hai janta kisko chunegi is bare mein abhi kehna jaldabaji hogi

कर्नाटका में 2015 के विधानसभा चुनाव से पहले गुजरात चुनाव के परिणाम कांग्रेस और भाजपा के लि

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  50
WhatsApp_icon
user

Vatsal

Engineering Student

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी हाल ही में जो गुजरात और हिमाचल के चुनाव को हिमाचल में तो BJP अच्छे से जीत गई लेकिन गुजरात में कांग्रेस पार्टी ने बहुत अच्छी ट्रैक्टर दी है तो कहने का मतलब है कि लोग वहां पर अभी भी नाखुश हैं से गुजरात में ही नहीं पूरे भारत देश में ऐसे कई डिसीजन है इस गवर्नमेंट के बीजेपी की सरकार के जैसे लोग नाखुश जैसे जीएसटी का भारी विरोध हो रहा है और उसके अलावा भी लो जो है भ्रष्टाचार प्रोग्राम में कमी नहीं महसूस हो रही है बाकी भी कई फैसले हैं तो उसके कारण से बीजेपी को अब कांग्रेस पार्टी टक्कर दे रही है कहने का मतलब है कि बीजेपी से से भरोसा धीरे-धीरे बढ़ रहा है लोगों का तो कुछ जरूरी नहीं है कि bjp सरकार बना पाए जो 2014 किस चीज की जामा उसके बाद भी राज्यों के चुनाव में BJP की एक अलग लहर थी यह बात समझने की होगी बीजेपी पार्टी अभी तक जो राज्यों में जीत रही है वह केवल नरेंद्र मोदी के नाम पर चित्र गवर्नमेंट जॉब रोहित बीजेपी पार्टी के नाम पर नहीं जीत रही है कहीं पर भी तो यह देखने वाली बात रहेगी कर्नाटक जीत पाएगी या नहीं जीत पाएगी बीजेपी

dekhi haal hi mein jo gujarat aur himachal ke chunav ko himachal mein toh BJP acche se jeet gayi lekin gujarat mein congress party ne bahut achi tractor di hai toh kehne ka matlab hai ki log wahan par abhi bhi nakhush hain se gujarat mein hi nahi poore bharat desh mein aise kai decision hai is government ke bjp ki sarkar ke jaise log nakhush jaise gst ka bhari virodh ho raha hai aur uske alava bhi lo jo hai bhrashtachar program mein kami nahi mehsus ho rahi hai baki bhi kai faisle hain toh uske karan se bjp ko ab congress party takkar de rahi hai kehne ka matlab hai ki bjp se se bharosa dhire dhire badh raha hai logo ka toh kuch zaroori nahi hai ki bjp sarkar bana paye jo 2014 kis cheez ki jama uske baad bhi rajyo ke chunav mein BJP ki ek alag lahar thi yah baat samjhne ki hogi bjp party abhi tak jo rajyo mein jeet rahi hai vaah keval narendra modi ke naam par chitra government rohit bjp party ke naam par nahi jeet rahi hai kahin par bhi toh yah dekhne wali baat rahegi karnataka jeet payegi ya nahi jeet payegi bjp

देखी हाल ही में जो गुजरात और हिमाचल के चुनाव को हिमाचल में तो BJP अच्छे से जीत गई लेकिन गु

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  13
WhatsApp_icon
user

yashraj Kairav

Happy to help

0:00
Play

कर्नाटका में 2015 के विधानसभा चुनाव से पहले गुजरात चुनाव के परिणाम कांग्रेस और भाजपा के लिए कुछ उपयोगी सबक हैं नतीजे ने स्पष्ट शहरी ग्रामीण विभाजन को दिखाया है जहां कांग्रेस अपने ग्रामीण आधार को बढ़ाने में कामयाब रही है भाजपा ने शहरी इलाकों पर नियंत्रण बरकरार रखा है यदि यह प्रवृत्ति कर्नाटका में फैल जाती है तो राजनीति कब्ज का कहना है कि कांग्रेस के लिए शायरी मतदाताओं को जीतना होगा और भाजपा को ग्रामीण चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक कर्नाटका में लगभग 70 शायरी और 154 ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र हैं और दो या अक्सर कहा जाता है कि चुनाव कर्नाटका में ग्रामीणों ने लड़े और जीते हैं 28 की डील में स्टेशन एक्सरसाइज में शहरी सीटों की संख्या में वृद्धि की और शहरी मतदाताओं को कर्नाटका के नियमों का चयन करने में एक निर्णायक बना दिया हालांकि एक सामान्य धारणा है कि शहरी में नेताओं ने किसी भी अन्य पार्टी की तुलना में बीजेपी का समर्थन किया है एक तलोजा एनालिसिस बताता है कि राज्य के शहरी मतदाताओं ने पिछले दो दशकों में एक पार्टी के लिए लगातार प्रिफरेंस नहीं दिखाई है जनता किसको चुनेगी इस बारे में अभी कहना जल्दबाजी होगी |

karnataka mein 2015 ke vidhan sabha chunav se pehle gujarat chunav ke parinam congress aur bhajpa ke liye kuch upyogi sabak hain natije ne spasht shahri gramin vibhajan ko dikhaya hai jaha congress apne gramin aadhaar ko badhane mein kamyab rahi hai bhajpa ne shahri ilako par niyantran barkaraar rakha hai yadi yah pravritti karnataka mein fail jaati hai toh raajneeti kabz ka kehna hai ki congress ke liye shaayari matdataon ko jeetna hoga aur bhajpa ko gramin chunav aayog ke aankado ke mutabik karnataka mein lagbhag 70 shaayari aur 154 gramin vidhan sabha kshetra hain aur do ya aksar kaha jata hai ki chunav karnataka mein grameeno ne lade aur jeete hain 28 ki deal mein station exercise mein shahri seaton ki sankhya mein vriddhi ki aur shahri matdataon ko karnataka ke niyamon ka chayan karne mein ek niranayak bana diya halaki ek samanya dharana hai ki shahri mein netaon ne kisi bhi anya party ki tulna mein bjp ka samarthan kiya hai ek taloje analysis batata hai ki rajya ke shahri matdataon ne pichle do dashakon mein ek party ke liye lagatar prifarens nahi dikhai hai janta kisko chunegi is bare mein abhi kehna jaldabaji hogi

कर्नाटका में 2015 के विधानसभा चुनाव से पहले गुजरात चुनाव के परिणाम कांग्रेस और भाजपा के लि

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
apni sarkar ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!