गस्त सही है या गलत?...


play
user

Shubham

Software Engineer in IBM

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अनिल जीतू जीएसटी भारत सरकार ने लागू किया 1 जुलाई 2017 से ही हमारे देश के लिए हमारी इकनोमिक के लिए बहुत फायदेमंद है उसका रिस्पॉन्स होगा इसका जो असर होगा अभी ज्यादा नहीं दिखाई देगा वह दिखाई देगा कुछ टाइम बाद जब वह दिखाई देगा तो वह अच्छे से दिखाई देगा बहुत अच्छा होगा उसका जीएसटी का अब मैं आपको बताऊंगा यह जीएसटी फायदेमंद कैसे जीएसटी का मन होता गुड्स एंड सर्विस टैक्स जीएसटी के आने के बाद लगभग 22 इन डायरेक्ट डायरेक्ट टैक्स को हटाकर सिर्फ एक ही टैक्स रखा गया है जो किसी के नाम से है पहले क्या होता था कि एक आइटम अगर अपन खरीदने जाते थे उसको बहुत सारे टैक्स लगता जैसे एंटरटेनमेंट टैक्स लॉटरी टैक्स रेट बहुत सारे स्टेप पर टैक्स लगते थे जिस जिस वजह से हर स्टेट की जो को स्टडी एक ही आइटम की हर स्टेट में अलग-अलग कॉस्ट होती थी क्योंकि हर चीज का टेक्स्ट अलग अलग होता था पहले दिक्कत यदि दूध टैक्सेशन सिस्टम था इतना कन्फ्यूजन समझ में नहीं आता टेक्स्ट के बारे में इतना सिंपल कर दिया गया जीएसटी के बाद कि पूछो मत और टेक्स्ट सारे स्टेट में एक ही लगेगा आप एक चीज की परेशानी हो गया क्या कर दो दूसरी चीज जीएसटी के आने के बाद सारा काम ऑनलाइन होगा जिससे फायदा यह है कि आप टेक्स्ट की दूरी बहुत कम हो जाएगी मैं आपको बताऊं जीएसटी के आने के बाद कुछ पैसे बहुत कम हो जाएगा कुछ चीजों पर टैक्स नहीं लगेगा फिर से टूट Facebook गया इस टाइप की जॉब इन सब चीजों पर टैक्स नहीं लगेगा एक और चीज बताओ जिससे ज्ञानी तो मेक इन इंडिया को प्रमोशन मिलेगा मतलब मेक इन इंडिया की जो पॉलिसी लॉन्च की भारत सरकार ने मोदी ने वह इनक्रीस होगी जैसे पहले जो बाहर के सामान पर सिर्फ एक टैक्स लगता कस्टम ड्यूटी के नाम से अबे को टैक्स लगेगा जीएसटी के नाम से तो लोग इंडिया का बना सामान नहीं खरीदेंगे बाहर का सामान नहीं खरीदेंगे किससे टैक्स भर चुका है जिसके आने के बाद ही

anil jeetu gst bharat sarkar ne laagu kiya 1 july 2017 se hi hamare desh ke liye hamari economic ke liye bahut faydemand hai uska rispans hoga iska jo asar hoga abhi zyada nahi dikhai dega vaah dikhai dega kuch time baad jab vaah dikhai dega toh vaah acche se dikhai dega bahut accha hoga uska gst ka ab main aapko bataunga yah gst faydemand kaise gst ka man hota goods and service tax gst ke aane ke baad lagbhag 22 in direct direct tax ko hatakar sirf ek hi tax rakha gaya hai jo kisi ke naam se hai pehle kya hota tha ki ek item agar apan kharidne jaate the usko bahut saare tax lagta jaise Entertainment tax lottery tax rate bahut saare step par tax lagte the jis jis wajah se har state ki jo ko study ek hi item ki har state mein alag alag cost hoti thi kyonki har cheez ka text alag alag hota tha pehle dikkat yadi doodh taxation system tha itna confusion samajh mein nahi aata text ke bare mein itna simple kar diya gaya gst ke baad ki pucho mat aur text saare state mein ek hi lagega aap ek cheez ki pareshani ho gaya kya kar do dusri cheez gst ke aane ke baad saara kaam online hoga jisse fayda yah hai ki aap text ki doori bahut kam ho jayegi main aapko bataun gst ke aane ke baad kuch paise bahut kam ho jaega kuch chijon par tax nahi lagega phir se toot Facebook gaya is type ki job in sab chijon par tax nahi lagega ek aur cheez batao jisse gyani toh make in india ko promotion milega matlab make in india ki jo policy launch ki bharat sarkar ne modi ne vaah increase hogi jaise pehle jo bahar ke saamaan par sirf ek tax lagta custom duty ke naam se abe ko tax lagega gst ke naam se toh log india ka bana saamaan nahi khareedenge bahar ka saamaan nahi khareedenge kisse tax bhar chuka hai jiske aane ke baad hi

अनिल जीतू जीएसटी भारत सरकार ने लागू किया 1 जुलाई 2017 से ही हमारे देश के लिए हमारी इकनोमिक

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  81
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

amitkul

CA student,pursuing bcom too

1:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीएसटी आने गुड एंड सर्विस टैक्स जो इस साल 1000 2017 में 1 जुलाई से लागू की गई है गुड एंड सर्विस टैक्स इन है वह जाकर है जो जो किसी भी सामान जो भारत ने बेचा जाता है या जो कोई सेवा बेची जाती है या कोई सामान जो है बनाया जाता है उस पर जाकर लगता है उसे गुर्जर सर्विस टैक्स क्या है जीएसटी जो है इस फैसले से अलग अलग टेक्स्ट है जैसे की एक्साइज ड्यूटी सर्विस टैक्स टैक्स रेट यह सब मिलाकर एक टैक्स लगाया जाता है इस सब का सब सामान और सेवाओं पर यह फैसला मेरे हिसाब से तो काफी सही फैसला है क्योंकि पहला तो यही कहना चाहूंगा कि जो अलग-अलग डिपार्टमेंट बनी हुई थी और अलग-अलग रिटर्न फाइलिंग प्रोसीजर की और उन सब में जो जो स्टाफ इन वर्ल्ड सजाने की जो कार्य करने वाले कार्यकर्ता इन्वर्टर हाउस अब घर छोड़ा है वह सब को दूसरे हाथ से दूसरे महत्वपूर्ण कार्यों में लगाया जा सकता है और जीएसटी जो है काफी सारे डेवलप नेशंस में भी अपनाया गया है कि एक ही टैक्स लगाओ शब्द सेवाओं पर अलग-अलग सौ तरह के टैक्स इस नहीं होनी चाहिए जीएसटी से जो है हमारी अर्थव्यवस्था काफी हद तक सुधारने के बहुत संभावनाएं हैं शुरुआत में जरूरत थोड़ी तकलीफ होगी क्योंकि जैसी काफी नया है उसका कानून काफी कांप्लेक्स है तो सब लोग को समझने में वक्त लगेगा लेकिन अगर लॉन्ग रन में यह काफी अच्छा कदम उठाया गया है

gst aane good and service tax jo is saal 1000 2017 mein 1 july se laagu ki gayi hai good and service tax in hai vaah jaakar hai jo jo kisi bhi saamaan jo bharat ne becha jata hai ya jo koi seva bechi jaati hai ya koi saamaan jo hai banaya jata hai us par jaakar lagta hai use gurjar service tax kya hai gst jo hai is faisle se alag alag text hai jaise ki excise duty service tax tax rate yah sab milakar ek tax lagaya jata hai is sab ka sab saamaan aur sewaon par yah faisla mere hisab se toh kaafi sahi faisla hai kyonki pehla toh yahi kehna chahunga ki jo alag alag department bani hui thi aur alag alag return Filing procedure ki aur un sab mein jo jo staff in world sajane ki jo karya karne waale karyakarta inverter house ab ghar choda hai vaah sab ko dusre hath se dusre mahatvapurna karyo mein lagaya ja sakta hai aur gst jo hai kaafi saare develop nations mein bhi apnaya gaya hai ki ek hi tax lagao shabd sewaon par alag alag sau tarah ke tax is nahi honi chahiye gst se jo hai hamari arthavyavastha kaafi had tak sudhaarne ke bahut sambhavnayen hain shuruat mein zarurat thodi takleef hogi kyonki jaisi kaafi naya hai uska kanoon kaafi kampleks hai toh sab log ko samjhne mein waqt lagega lekin agar long run mein yah kaafi accha kadam uthaya gaya hai

जीएसटी आने गुड एंड सर्विस टैक्स जो इस साल 1000 2017 में 1 जुलाई से लागू की गई है गुड एंड स

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  29
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!