राजनीतिक दल को लोकतंत्र का प्राण क्यों कहा जाता है?...


play
user

Vikas Singh Rajput

Political Analyst

1:34

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राजनीतिक दल को लोकतंत्र का प्राण इसलिए कहा जाता है सबसे पहले तो हमें राजतंत्र को समझना होगा शासन तंत्र तंत्र को समझना होगा और उसके बाद लोकतंत्र को समझना को राजतंत्र में जो राजतंत्र हुआ करता था तो उसमें राजाओं का जमाना हुआ करता था और राजा का बेटा ही राजा बनता था लेकिन लोकतंत्र में ऐसा नहीं है लोग में परिवारवाद नहीं है जातिवाद नहीं है ऐसा कुछ भी नहीं है लोकतंत्र में जनता अपने प्रतिनिधि को चुनती है और जनता चाहे भी तो अशिक्षित हो सब के वोट का बराबर बराबर महत्व है और सब कुछ करिए भारत की जनसंख्या सवा सौ करोड़ है तो सवा सौ करोड़ देशवासियों का सबका अपना अलग-अलग विचार है सभी लोग अपने विचार के आधार पर वोट देते हैं उसमें से बहुत सारे लोग शिक्षित हैं बहुत सारे लोग अशिक्षित भी हैं लेकिन दोनों लोग शिक्षित और अशिक्षित दोनों के वोट का बरा वह तो है सभी लोग अपना वोट देते हैं और एक बहुत सारी राजनीतिक पार्टियों में से एक पार्टी का प्रतिनिधि प्रधानमंत्री बनता है मुख्यमंत्री बनता है सांसद विधायक बनता है तो लोकतंत्र सबको समान अधिकार देता है समान विचारधारा सबको बराबर नजर से देखता है तो लोकतंत्र में राजनीतिक पार्टियों का होना बहुत महत्व है 100 200 पार्टी है सभी पार्टियां चुनाव लड़ती हैं उसमें से एक एक पार्टी बहुमत में आती है जिस की सरकार बनती है यही है लोकतंत्र धन्यवाद

raajnitik dal ko loktantra ka praan isliye kaha jata hai sabse pehle toh humein rajtantra ko samajhna hoga shasan tantra tantra ko samajhna hoga aur uske BA ad loktantra ko samajhna ko rajtantra mein jo rajtantra hua karta tha toh usme rajao ka jamana hua karta tha aur raja ka beta hi raja BA nta tha lekin loktantra mein aisa nahi hai log mein parivaarvaad nahi hai jaatiwad nahi hai aisa kuch bhi nahi hai loktantra mein janta apne pratinidhi ko chunati hai aur janta chahe bhi toh ashikshit ho sab ke vote ka BA rabar BA rabar mahatva hai aur sab kuch kariye bharat ki jansankhya sava sau crore hai toh sava sau crore deshvasiyon ka sabka apna alag alag vichar hai sabhi log apne vichar ke aadhaar par vote dete hai usme se BA hut saare log shikshit hai BA hut saare log ashikshit bhi hai lekin dono log shikshit aur ashikshit dono ke vote ka BA ra wah toh hai sabhi log apna vote dete hai aur ek BA hut saree raajnitik partiyon mein se ek party ka pratinidhi Pradhanmantri BA nta hai mukhyamantri BA nta hai saansad vidhayak BA nta hai toh loktantra sabko saman adhikaar deta hai saman vichardhara sabko BA rabar nazar se dekhta hai toh loktantra mein raajnitik partiyon ka hona BA hut mahatva hai 100 200 party hai sabhi partyian chunav ladati hai usme se ek ek party BA humat mein aati hai jis ki sarkar BA nti hai yahi hai loktantra dhanyavad

राजनीतिक दल को लोकतंत्र का प्राण इसलिए कहा जाता है सबसे पहले तो हमें राजतंत्र को समझना होग

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  503
KooApp_icon
WhatsApp_icon
10 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
लोकतंत्र का प्राण किसे कहा जाता है ; rajnitik dal ko loktantra ka pran kyu kaha jata hai ; राजनीतिक दल को लोकतंत्र का प्राण क्यों कहा जाता है ; rajnitik dal ko loktantra ka pran kyon kaha jata hai ; loktantra ka pran kaha jata hai ; लोकतंत्र का प्राण किसे कहा गया है ; लोकतंत्र का प्राण किसे कहते हैं ; loktantra ka pran kaun hai ; राजनीतिक दल को लोकतंत्र का प्राण क्यों कहते हैं ; राजनितिक दल को लोकतंत्र का प्राण क्यों कहा जाता है ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!