मसूरी की ट्रेनिंग अकैडमी में बिताए दिनों के बारे में कुछ बताएँ? वहाँ की आपकी सबसे सुनहरी यादें कौन सी हैं?...


user

Nikhil Dhanraj Nippanikar

IAS 2018 Batch, BIHAR Cadre

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नवादा में तो आपकी अंजना फिल्म दे दो नमन सुभाष आप किसको वह मदद की दो मूवमेंट कभी नहीं करता हूं बात करके पाकिस्तान की यात्रा पर एक्टिविटी हां यार पढ़ने के बाद बिहार के भागमती फिल्म

nawada mein toh aapki anjana film de do naman subhash aap kisko vaah madad ki do movement kabhi nahi karta hoon baat karke pakistan ki yatra par activity haan yaar padhne ke baad bihar ke bhagmati film

नवादा में तो आपकी अंजना फिल्म दे दो नमन सुभाष आप किसको वह मदद की दो मूवमेंट कभी नहीं करता

Romanized Version
Likes  87  Dislikes    views  872
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय प्रशासनिक सेवा में चुने जाने के बाद में लाल बहादुर शास्त्री अकादमी मसूरी गई अपनी ट्रेनिंग के लिए बहुत ही कम उम्र की थी 23 वर्ष की थी मात्र स्कूल-कॉलेज के बाद पहली बार घर से दूर परिवार से दूर हॉस्टल में रही तो एक अलग तरीके का एक्सपीरियंस था एक नए तरीके का माहौल था काफी सारे दोस्त बनाए वहां पर हॉस्टल मेरा ही बहुत सारे लोगों से मिलकर जो देश के हर कोने से आए थे हमारे साथ ट्रेनिंग करने के लिए उन सब से मिलकर बातचीत करके उनकी भी संस्कृति को समझा उनके स्टेट के बारे में उनके राज्यों के बारे में नई नई चीजें जाने हमारे मसूरी में एक इंडिया डे इवेंट हुआ करता है जिसमें कि कल्चरल इवेंट्स होते हैं सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं सभी देश के सभी कोणों से जो लोग आए हुए हैं वह अपने-अपने राज्यों की अपनी-अपनी हाउ के बारे में अपनी अपनी संस्कृति के बारे में सब को एक दूसरे को बताते हैं और अलग-अलग प्रकार के भोजन जो हमारे देश भर में पाए जाते हैं वह भी हमें उस समय सब लोग मिलकर बनाते हैं और आपस में शेयर करते हैं तो यह एक बहुत ही अच्छा सा यादगार दिन था इसके अलावा सुबह सुबह 5:00 बजे उठकर हम लोग भी करने जाया करते थे और मैं बेहद ही आलसी किस्म की लड़की रही उससे पहले तो मेरे लिए शुरुआत में काफी मुश्किल था लेकिन फिर धीरे-धीरे उसमें मजा आने लगा और अब उन्हीं दिनों को मिस करते हैं याद करते हैं वह दिन इसके अलावा भारत दर्शन पर जब हम लोग गए तो पूरे देश में घूमे रेल से घूमे तो देश के हर रंग को हर रूप को हर प्रथा को हर संस्कृति को हमने नजदीक से देखा ना ठीक से समझा बहुत सारे लोगों से मिले बहुत अच्छे-अच्छे एक्सपीरियंस एस बहुत कुछ सीखने को मिला तो यह सारी जो बातें थी यह जो दिन थे ये प्रिंसेस से यह भी याद आते हैं और हमेशा याद आते रहेंगे और अब बस उम्मीद है कि जल्दी ही अपनी फेस थ्री ट्रेनिंग के लिए मैं वापस मसूरी जाऊंगी और उन दिनों को दोबारा जिऊंगी

bharatiya prashaasnik seva mein chune jaane ke baad mein laal bahadur shastri academy masoori gayi apni training ke liye bahut hi kam umr ki thi 23 varsh ki thi matra school college ke baad pehli baar ghar se dur parivar se dur hostel mein rahi toh ek alag tarike ka experience tha ek naye tarike ka maahaul tha kaafi saare dost banaye wahan par hostel mera hi bahut saare logo se milkar jo desh ke har kone se aaye the hamare saath training karne ke liye un sab se milkar batchit karke unki bhi sanskriti ko samjha unke state ke bare mein unke rajyo ke bare mein nayi nayi cheezen jaane hamare masoori mein ek india day event hua karta hai jisme ki cultural events hote hain sanskritik karyakram hote hain sabhi desh ke sabhi konon se jo log aaye hue hain vaah apne apne rajyo ki apni apni how ke bare mein apni apni sanskriti ke bare mein sab ko ek dusre ko batatey hain aur alag alag prakar ke bhojan jo hamare desh bhar mein paye jaate hain vaah bhi hamein us samay sab log milkar banate hain aur aapas mein share karte hain toh yah ek bahut hi accha sa yaadgaar din tha iske alava subah subah 5 00 baje uthakar hum log bhi karne jaya karte the aur main behad hi aalsi kism ki ladki rahi usse pehle toh mere liye shuruat mein kaafi mushkil tha lekin phir dhire dhire usme maza aane laga aur ab unhi dino ko miss karte hain yaad karte hain vaah din iske alava bharat darshan par jab hum log gaye toh poore desh mein ghume rail se ghume toh desh ke har rang ko har roop ko har pratha ko har sanskriti ko humne nazdeek se dekha na theek se samjha bahut saare logo se mile bahut acche acche experience s bahut kuch sikhne ko mila toh yah saree jo batein thi yah jo din the ye Princes se yah bhi yaad aate hain aur hamesha yaad aate rahenge aur ab bus ummid hai ki jaldi hi apni face three training ke liye main wapas masoori jaungi aur un dino ko dobara jiungi

भारतीय प्रशासनिक सेवा में चुने जाने के बाद में लाल बहादुर शास्त्री अकादमी मसूरी गई अपनी ट्

Romanized Version
Likes  117  Dislikes    views  1834
WhatsApp_icon
user

Pamela Satpathy

IAS Officer, Telangana

3:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इतनी सारी चीजें हैं जो जिंदगी में पहली बार किया वहां और ऐसी चीज है जो लगाने का कि हम कभी कर सकते हैं जो सिर्फ एक साथ 10 12 किलोमीटर का चेक करना हो या फिर मतलब हॉर्स राइडिंग करनी हो गुड सवारी कभी सोचा नहीं था लाइफ में यह भी करना है फिर तो हमेशा अच्छा लगता ही था वह गेट और ना का दिमाग और दिल पर बैठा हुआ है लगता नहीं कि कभी वहां जाकर ट्रेनिंग करके वापस आ गए सुबह-सुबह इतनी ठंड में वह चाय वाले भैया का चाय लेकर आना और फिर पीपी जाना फिर बहुत सारे क्लासेस होती थी डिफरेंट सब्जेक्ट इकोनॉमिक्स फॉर लिटरेचर की सारी चीजें जैसे बहुत नहीं थी चलो फैसला सोच तो ऐसी होती रहती है उसके अलावा कल एक्टिविटीज बहुत सारी होती थी जैसे प्ले रामा जामा में मिला बेस्ट एक्टर का अवार्ड जितना रंगोली कंपटीशन उसकी और उसके अलावा लिटरेरी क्लब हो या फिर मैं सो उन सब का नंबर होना इससे बहुत कुछ एक्सपीरियंस मिला और रह जाती है एक तो है कि हमारा अभिलाष भेजो छोटा था जिससे गांव का मतलब दर्शन हो सकते आप हमें गांव यूज़ करते थे और हमें वहां जाकर वहां की व्यवस्था को चढ़ी करना होता था और उसकी रिपोर्ट बनाना होता था तो यह मेरे मेमोरी में हमेशा प्रिंट होकर रह जाएगी उसके अलावा भारत दर्शन हम जैसे लिया बोल सकते हैं भारत का काफी सारा हिस्सा हम घूमते देखिए आभा की आर्मी अटैचमेंट बोल सकते हैं या फिर सोशल सेक्टर पब्लिक सेक्टर 5 हर-हर ट्रैक्टर का थोड़ा-बहुत आईडिया भारत दर्शन से हमको मिला तो 1 महीने 1 महीने तक हम चावल करते रह गए अपने ग्रुप के साथ 15 लोगों का ग्रुप होता था आज उसे अमीन बहुत कुछ सीखने को मिला बॉन्डिंग फ्रेंडशिप डिलीवरी कैसे होती है यह देखने को मिला लेकिन सबसे अच्छी आप बोल सकते हैं उसके साथी छोटी छोटी चीजों से लास्ट हमारा कंप्लीट हुआ तो एक बार बन के आया जिसमें आपकी फ्रेंड आपके बारे में क्या सोचते हैं वह लिख कर देते हैं आपको अंदाजा नहीं होता वह आपके बारे में क्या सोचते हो कि जब यह बुक अ मैंने खोला तो मैं पीछे स्थित चुकी इस ग्रुप में किसी एक इंद्रजल के बारे में सबसे ज्यादा कमेंट शेयर सबसे ज्यादा जो भी तुम क्योंकि आई थी तो वह मेरे लिए थी ट्राइबल सरप्राइज की हाईएस्ट नंबर ऑफ़ अ फ्रेंड से मेरे लिए लिखा था यह मेला सबसे बड़ा ट्रेजर रहेगा

itni saree cheezen hai jo zindagi mein pehli baar kiya wahan aur aisi cheez hai jo lagane ka ki hum kabhi kar sakte hai jo sirf ek saath 10 12 kilometre ka check karna ho ya phir matlab horse riding karni ho good sawari kabhi socha nahi tha life mein yah bhi karna hai phir toh hamesha accha lagta hi tha vaah gate aur na ka dimag aur dil par baitha hua hai lagta nahi ki kabhi wahan jaakar training karke wapas aa gaye subah subah itni thand mein vaah chai waale bhaiya ka chai lekar aana aur phir PP jana phir bahut saare classes hoti thi different subject economics for literature ki saree cheezen jaise bahut nahi thi chalo faisla soch toh aisi hoti rehti hai uske alava kal activities bahut saree hoti thi jaise play rama jama mein mila best actor ka award jitna rangoli competition uski aur uske alava literary club ho ya phir main so un sab ka number hona isse bahut kuch experience mila aur reh jaati hai ek toh hai ki hamara abhilash bhejo chota tha jisse gaon ka matlab darshan ho sakte aap hamein gaon use karte the aur hamein wahan jaakar wahan ki vyavastha ko chadhi karna hota tha aur uski report banana hota tha toh yah mere memory mein hamesha print hokar reh jayegi uske alava bharat darshan hum jaise liya bol sakte hai bharat ka kaafi saara hissa hum ghumte dekhiye aabha ki army attachment bol sakte hai ya phir social sector public sector 5 har har tractor ka thoda bahut idea bharat darshan se hamko mila toh 1 mahine 1 mahine tak hum chawal karte reh gaye apne group ke saath 15 logo ka group hota tha aaj use ameen bahut kuch sikhne ko mila bonding friendship delivery kaise hoti hai yah dekhne ko mila lekin sabse achi aap bol sakte hai uske sathi choti choti chijon se last hamara complete hua toh ek baar ban ke aaya jisme aapki friend aapke bare mein kya sochte hai vaah likh kar dete hai aapko andaja nahi hota vaah aapke bare mein kya sochte ho ki jab yah book a maine khola toh main peeche sthit chuki is group mein kisi ek indrajal ke bare mein sabse zyada comment share sabse zyada jo bhi tum kyonki I thi toh vaah mere liye thi trival surprise ki highest number of a friend se mere liye likha tha yah mela sabse bada treasure rahega

इतनी सारी चीजें हैं जो जिंदगी में पहली बार किया वहां और ऐसी चीज है जो लगाने का कि हम कभी क

Romanized Version
Likes  191  Dislikes    views  1950
WhatsApp_icon
play
user

Isha Pant

IPS Officer

1:24

Likes  280  Dislikes    views  3533
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  22  Dislikes    views  2331
WhatsApp_icon
user

Mir Mohammed Ali

IAS Officer

6:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल मुझसे यह पूछा गया है कि मसूरी की ट्रेनिंग अकैडमी में बिताए गए दिनों के बारे में कुछ बताएं और वहां की आप की सबसे सुनहरी यादें होती हैं पहली बात तो मैं चेन्नई से हूं और एक हिल स्टेशन में हम यूज ली हॉलिडे के लिए जाते हैं चार-पांच दिन के लिए जाते हैं मसूरी में जब हम लोग रहने के लिए गए थे ऑलमोस्ट एक डेढ़ साल मशीन में बताया था कोई रिलेशन में रहने का अनुभव ही कुछ अलग है पहाड़ों के बीच में वहां पर ज्यादा ट्रैफिक की कोई आवाज नहीं होती हैं और सिर्फ बेसिक लिखना लैंडस्केप के बीच में रहने का मौका मिलता है हवा बिल्कुल साफ होती है तो वह एक बहुत बड़ा एडवांटेज होता है मसूरी में रहने का और दूसरी चीज जो लोग मसूरी में ट्रेनिंग के लिए पहुंचते हैं वह लोग एक साथ दो-तीन साल की के कठिन परिश्रम के बाद वहां पर पहुंचता है तो मसूरी आपको एक बहुत अच्छा रिलैक्सिंग आत्मक फिर भी देता है और बहुत सारे लोग आप को मिलते हैं जैसे आप सिविल सर्विस के ट्रेन के लिए जवाब वहां जाते हैं तो आप देश के हर कोने से लोग होते हैं सारे कल्चर उसका एक मिक्सर आपको वहां पर मिलता है आपको हर स्टेट से किसी ना किसी से किसी ना किसी व्यक्ति से आपकी मुलाकात होती है एकेडमी की फैसिलिटी सी बहुत अच्छी हैं अगर आप बहुत सारी ऐसी चीजें होंगे जो आपने पहले ट्राई नहीं किया होगा वह आप मसूरी में आकर पढ़ाई कर सकते हैं जिससे मैं आपको बताऊं तो आज श्री आर्चरी मैंने कभी ट्राई नहीं की थी पर एकेडमी में आज चली का ऑफ यूनिटी मिलती है हॉर्स राइडिंग घुड़सवारी मैंने कभी नहीं की थी पर आपको हॉर्स राइडिंग कि ऑफिस ट्रैकिंग ज्यादा चेन्नई में रहने से ट्रैकिंग की ज्यादा ऑफिस यूनिट नहीं होती हैं तो ट्रैकिंग का बड़ा अच्छा अनुभव रहा फिर मसूरी की बहुत सारी एकेडमी की बहुत अच्छी जगह है जो एकेडमी के बिल्कुल जस्ता है और जिसका नाम है गंगा ढाबा तो गंगा ढाबा में हम सब हर शाम को आ गंगा ढाबा पर बैठते थे और कभी रात के 11:00 बजे कभी 12:01 कहीं पर बैठ कर बातें करते थे और बहुत मजे किए हैं कांगड़ा में फिजिकल फिटनेस की जाती आप एक-दो साल की एग्जाम की तैयारी कर रहे हैं तो आपका फिजिकल फिटनेस लेवल हो सकता है उतना अच्छा ना हो पर मसूरी में जवाब ट्रेनिंग स्टार्ट करते हैं तो रोज 5:55 आपके 155 मिनट सुबह को आपके एक्सरसाइज शुरू हो जाती है और उस एक्सरसाइज एक्सरसाइज कंपलसरी होती है और उसे कैसे एक डेढ़ महीने में आपके फिजिकल पैटर्न में बहुत बड़ा जाता है और उस इंप्रूवमेंट की वजह से आप एक हर ऑफिसर ट्रेनिंग का सबसे मेमोरेबल एक्सपीरियंस होगा उनकी यह माल एंट्रेक्ट हिमालय मैट्रिक होते जहां पर 120 किलोमीटर हिमालय में जाकर हिमालय पर्वत में आप ट्रैकिंग करते हैं मेरी जो ट्रेकिंग रुप थी वह पिंडारी ग्लेशियर और का फनी ग्लेशियर गई थी ग्लेशियर के बारे में हमने बहुत कुछ सुना है पड़ा है कि ग्लेशियर पिघलता है तब उसका पानी नदी निकलता है तो उसका पानी नदी बनकर हमारे शहरों में पहुंचता है पर एक ग्लेशियर को देखना और ग्लेशियर के सामने खड़े होने का एक जॉब चुनौती थी वह मुझे मसूरी की ट्रेनिंग में मुझे दी थी बहुत बढ़िया अनुभव रहा हिमालयन ट्रेक्स इन चीजों से हटकर बहुत सारी कल्चरल एक्टिविटीज भी होते हैं मुझे तेज पर जाकर बात करना स्टेज पर परफॉर्म करना इन चीजों में दिलचस्पी थी पर स्कूल कॉलेज में मौके उतने नहीं मिले थे बेस्ट फॉर एग्जांपल मुझे बड़ा शौक था कि एक तेज प्ले मैक्ट एक्ट करने का मतलब है पांच 10 मिनट का प्ले नहीं पूरा 1 घंटे का प्ले तो यह मेरी एक ख्वाहिश थी और मुझे मसूरी अकैडमी में इंपॉर्टेंस ऑफ द नॉन एस नाम का एक का प्ले है जार्ज बर्नाड शॉ का तो उस प्ले में मुझे एकली डॉक्टर का रोल मिला था और हमारे दोस्तों ने उसको लाजमेंट नहीं डिलीट किया था और सोच एक्टिंग का एक मौका मिला बहुत म कंपलीट वन वर्ड फॉर प्ले में पाठ करने से बहुत दिनों से मेरी एक और ख्वाहिश एपीके मैं कुछ फिल्म बनाऊं एक फिल्म डिलीट करूं और फिल्म की क्लोजिंग डेट में मेरा नाम आए कि रिटन बाय या फिर डिडक्टेड बाय केके तू जब हमारा फाउंडेशन कोर्स खत्म हुआ जो पहले 100 दिन होते हैं फाउंडेशन कोर्स के उसके धमनी फाउंडेशन कोर्स पर एक फिल्म बनाने का निश्चय किया था और उस फिल्म में उस फिल्म को बनाने में मेरा काफी रोड रहा मैं और चार दोस्त मिलकर वह फिल्म बनाए थे वह फिल्म अभी भी ऑनलाइन यूट्यूब पर है आप अगर यूट्यूब पर जाकर ईटीसी फाउंडेशन कोर्स एट सिक्स 16 फाउंडेशन कोर्स मूवी टाइप करेंगे तो अब तो मूवी देख पाएंगे 20:25 मिनट की मूवी हम सब ने बनाई थी और हमारी जो फाउंडेशन को उसकी सारी यादें हैं वह उस फिल्म में आपको देखने को मिलेंगे और रानी बे ओवल जब 2 साल की ट्रेनिंग खत्म हो जाती है मसूरी में आज अब हम वहां से निकलते हैं तो अभी सब को बहुत बुरा लगता है मुझे तो बहुत बुरा लगा जब मसूरी से मसूरी छोड़कर केरला आया था पोस्टिंग के लिए और राम हमेशा यह यह सही है कि वापस मसूरी जाऊं और फिर वहां पर पर अभी तक मौका नहीं मिला हो सकता है अगले 1 साल 2 साल में फिर वापस मसूरी जाऊं तो बहुत अच्छा एक्सपीरियंस होता है और क्योंकि हम सब 2 साल की मेहनत के बाद वहां पर आते हैं ऐसा लगता है कि जो साकिर पैसे सामने की जो एक्सपीरियंस को हम ने मना कर दिया दोस्तों के साथ बाहर जाने से मना कर दिया बहुत सारे मूवी से हमने खुद को कट ऑफ कर लिया था क्योंकि हमें यूपीएससी की तैयारी करनी थी उन सब चीजों का एक कंपनसेशन भी लगता है आपको मसूरी में क्योंकि सारी चीजें आपको वहां पर करने को मिलती है उतना ज्यादा एंजॉयमेंट और इतना ज्यादा में उदय यारी के टाइम पर खो दिया था उसका रिटर्न आपको मसूरी में मिला सुधा कोसमा एक्सपीरियंस इन मसूरी

sawaal mujhse yah poocha gaya hai ki masoori ki training academy mein bitae gaye dino ke bare mein kuch bataye aur wahan ki aap ki sabse sunahari yaadain hoti hai pehli baat toh main Chennai se hoon aur ek hil station mein hum use li holiday ke liye jaate hai char paanch din ke liye jaate hai masoori mein jab hum log rehne ke liye gaye the alamost ek dedh saal machine mein bataya tha koi relation mein rehne ka anubhav hi kuch alag hai pahadon ke beech mein wahan par zyada traffic ki koi awaaz nahi hoti hai aur sirf basic likhna landscape ke beech mein rehne ka mauka milta hai hawa bilkul saaf hoti hai toh vaah ek bahut bada advantage hota hai masoori mein rehne ka aur dusri cheez jo log masoori mein training ke liye pahunchate hai vaah log ek saath do teen saal ki ke kathin parishram ke baad wahan par pahuchta hai toh masoori aapko ek bahut accha rilaiksingh aatmkatha phir bhi deta hai aur bahut saare log aap ko milte hai jaise aap civil service ke train ke liye jawab wahan jaate hai toh aap desh ke har kone se log hote hai saare culture uska ek mixer aapko wahan par milta hai aapko har state se kisi na kisi se kisi na kisi vyakti se aapki mulakat hoti hai academy ki facility si bahut achi hai agar aap bahut saree aisi cheezen honge jo aapne pehle try nahi kiya hoga vaah aap masoori mein aakar padhai kar sakte hai jisse main aapko bataun toh aaj shri archery maine kabhi try nahi ki thi par academy mein aaj chali ka of unity milti hai horse riding ghudsavaari maine kabhi nahi ki thi par aapko horse riding ki office tracking zyada Chennai mein rehne se tracking ki zyada office unit nahi hoti hai toh tracking ka bada accha anubhav raha phir masoori ki bahut saree academy ki bahut achi jagah hai jo academy ke bilkul jasta hai aur jiska naam hai ganga dhaba toh ganga dhaba mein hum sab har shaam ko aa ganga dhaba par baithate the aur kabhi raat ke 11 00 baje kabhi 12 01 kahin par baith kar batein karte the aur bahut maje kiye hai kangada mein physical fitness ki jaati aap ek do saal ki exam ki taiyari kar rahe hai toh aapka physical fitness level ho sakta hai utana accha na ho par masoori mein jawab training start karte hai toh roj 5 55 aapke 155 minute subah ko aapke exercise shuru ho jaati hai aur us exercise exercise compulsory hoti hai aur use kaise ek dedh mahine mein aapke physical pattern mein bahut bada jata hai aur us improvement ki wajah se aap ek har officer training ka sabse memorable experience hoga unki yah maal entrekt himalaya metric hote jaha par 120 kilometre himalaya mein jaakar himalaya parvat mein aap tracking karte hai meri jo trekking roop thi vaah pindari glacier aur ka Funny glacier gayi thi glacier ke bare mein humne bahut kuch suna hai pada hai ki glacier pighalata hai tab uska paani nadi nikalta hai toh uska paani nadi bankar hamare shaharon mein pahuchta hai par ek glacier ko dekhna aur glacier ke saamne khade hone ka ek job chunauti thi vaah mujhe masoori ki training mein mujhe di thi bahut badhiya anubhav raha himalayan treks in chijon se hatakar bahut saree cultural activities bhi hote hai mujhe tez par jaakar baat karna stage par perform karna in chijon mein dilchaspi thi par school college mein mauke utne nahi mile the best for example mujhe bada shauk tha ki ek tez play maikt act karne ka matlab hai paanch 10 minute ka play nahi pura 1 ghante ka play toh yah meri ek khwaahish thi aur mujhe masoori academy mein importance of the non s naam ka ek ka play hai jaaraj barnad shaw ka toh us play mein mujhe ekali doctor ka roll mila tha aur hamare doston ne usko lajment nahi delete kiya tha aur soch acting ka ek mauka mila bahut main complete van word for play mein path karne se bahut dino se meri ek aur khwaahish APK main kuch film banau ek film delete karu aur film ki closing date mein mera naam aaye ki written bye ya phir didakted bye KK tu jab hamara foundation course khatam hua jo pehle 100 din hote hai foundation course ke uske dhamani foundation course par ek film banane ka nishchay kiya tha aur us film mein us film ko banane mein mera kaafi road raha main aur char dost milkar vaah film banaye the vaah film abhi bhi online youtube par hai aap agar youtube par jaakar ETC foundation course ate six 16 foundation course movie type karenge toh ab toh movie dekh payenge 20 25 minute ki movie hum sab ne banai thi aur hamari jo foundation ko uski saree yaadain hai vaah us film mein aapko dekhne ko milenge aur rani be Oval jab 2 saal ki training khatam ho jaati hai masoori mein aaj ab hum wahan se nikalte hai toh abhi sab ko bahut bura lagta hai mujhe toh bahut bura laga jab masoori se masoori chhodkar kerala aaya tha posting ke liye aur ram hamesha yah yah sahi hai ki wapas masoori jaaun aur phir wahan par par abhi tak mauka nahi mila ho sakta hai agle 1 saal 2 saal mein phir wapas masoori jaaun toh bahut accha experience hota hai aur kyonki hum sab 2 saal ki mehnat ke baad wahan par aate hai aisa lagta hai ki jo sakir paise saamne ki jo experience ko hum ne mana kar diya doston ke saath bahar jaane se mana kar diya bahut saare movie se humne khud ko cut of kar liya tha kyonki hamein upsc ki taiyari karni thi un sab chijon ka ek kampanaseshan bhi lagta hai aapko masoori mein kyonki saree cheezen aapko wahan par karne ko milti hai utana zyada enjoyment aur itna zyada mein uday yaari ke time par kho diya tha uska return aapko masoori mein mila sudha kosma experience in masoori

सवाल मुझसे यह पूछा गया है कि मसूरी की ट्रेनिंग अकैडमी में बिताए गए दिनों के बारे में कुछ ब

Romanized Version
Likes  141  Dislikes    views  1839
WhatsApp_icon
play
user

Rohini Katoch Sepat

Indian Police Officer

1:01

Likes  137  Dislikes    views  2743
WhatsApp_icon
user

Mittali Sethi

IAS 2017 Batch

5:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मसूरी की ट्रेनिंग अकैडमी में जीवन के सब कुछ बहुत ही अमेजिंग मोमेंट्स रहे हैं बहुत ही अच्छे पल रहे हैं मसूरी का एकेडमी अगर मैं इतना कम टाइम में बयान कर सकूं तो जितने भी इंस्टिट्यूशन मैंने पढ़ाई की है आज तक और 34 इंस्टिट्यूट मैंने पढ़ाई कैसे फूटते के मसूरी की अकैडमी में जिस तरह से में सिखाया जाता है ए क्वेश्चन ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट के जो प्रिंसिपल रहते हैं उनके बहुत पास आती है ट्रेनिंग अकैडमी पढ़ाई तू बहुत अच्छी है मसूरी की जो ट्रेनिंग है वह बहुत हमारी फेसबुक में डिवाइडेड रहती है अम्मा शुरू करते हैं फाउंडेशन कोर्स के साथ जिसमें सब सर्विस से साथ में आकर 3 महीने रहती हैं उसके बाद आईएएस के लिए बाकी सब सर्विसेज अपने-अपने रिस्पेक्टिव ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट में जाती हैं व्हेयर आईएस ले बाजना में ही रहते हैं और हमारा फेस बंद रहता है जिसके बीच में भारत दर्शन भी होता है एंड उसके बाद हम डिस्ट्रिक्ट ट्रेनिंग पर जाते हैं अभी एक का सैंडविच मॉडल है ट्रेनिंग का जिसमें फेस वन के बाद डिस्ट्रिक्ट ट्रेनिंग में जाया जाता है 1 साल के लिए और आप मसूरी हम वापस आते हैं फेस टू के लिए जिसके बाद दिल्ली में 3 महीने का स्टैंड रहता है केंद्रीय सरकार के साथ और उसके बाद हम अपने रिस्पेक्टिव स्टेट्स में वापिस जाते हैं अपनी पहली पोस्टिंग के साथ तो हम फाउंडेशन कोर्स स्पेशली हम लोगों के लिए बहुत मेमोरेबल रहता है क्योंकि सब तरह के लोग 400 लोग साथ में रहते हैं और हर सर्विस के लोग रहते हैं फॉरेन सर्विस रेवेन्यू सर्विस पुलिस सर्विस इतने सारे लोग प्रस्तावित सब साथ में रहते हैं तू आजा दिल्ली बहुत डाइवर्सिटी देखने को मिलता है देखने को मिलता है कि कितने प्रकार के लोग कैसे-कैसे बैकग्राउंड से क्लियर करके आए हैं सबसे सुनहरी यादें मैं ही कहूंगी के दोस्त बहुत बनाए इतने 2 सालों में और मसूरी की कुछ एक्टिविटीज भी ऐसी रहती है जो करने में बहुत मजा आता है जैसे कि हमारा फाउंडेशन कोर्स में 10 दिन का ट्रैक रहता है जिसमें हमें रोज 10:00 15 किलो मीटर ट्रैक करना पड़ता है और एक बहुत एग्जॉटिक लोकेशन में भेजा जाता है जहां पर हम खुद की लिमिट होती है कि उतना फिजिकल फिटनेस आप में है या नहीं मसूरी की रोज द फिजिकल फिटनेस एक्टिविटी रहती है सुबह सुबह 5:30 बजे और रबड़ डिसिप्लिन रहता है आपको वक्त की कीमत आपको पंक्चुअलिटी सिखाई जाती है बहुत सारे अच्छे स्पीकर जाते हैं मसूरी में लेक्चर देने के लिए मैं बोलूंगी एकेडमी तू है ही मतलब क्या आदमी का जो मॉड्यूल है और एकेडमी में जो सिखाया जाता है वह तो बहुत अच्छा है ही उससे ज्यादा मैं कहूंगी कि जो लोग आपके साथ रहते हैं जो आपके बैचमेट तेनु कंपनी मिल पाना आपकी सोच आपके जैसा सोचने वाले लोग आपको मिल पाना जिनके साथ बैठकर आप बातें कर सकते हैं आपको भी तो सब एक्टिविटी हम सब के साथ करते हैं यह शायद सबसे बड़ी चीज शायद यही रहती है क्योंकि यह जो दोस्ती आपकी होती है यह सिर्फ अकेडमी तक सीमित नहीं रहती है यह दोस्ती आपकी वैसे ही है जो आप शायद जिंदगी भर कहीं ना कहीं अपने साथ ले जाते हैं तो अभी भी हमारे जो बाकी और सर्विस इसके दोस्त हैं आप सोचें कि फोन सर्विसेज वाले कहां चले जाते हैं ब्रेविनी सर्विस वाले कहां चले जाते हैं सब वही लोग है जिनके साथ साथ पूरी जिंदगी साथ मिलने की कोशिश करते हैं अपनी प्रॉब्लम जिनके साथ डिस्कस कर सकते हैं तो यह जो एक रिलेशनशिप लोगों के साथ stop-loss करना है बहुत ही ज्यादा इंपॉर्टेंट जाता है और मजा आता है लोगों से मिलने में और यह मैं पक्का कहूंगी कि हम सूरी की सबसे अच्छी बात शायद यही है अब आपको सब मसूर में मौसम आज अच्छा रहता है बहुत सुंदर एकेडमी है वह तो है ही और अंशु कुछ टीचर जो वहां पर है जिन लोगों से आप मिलते हैं जिन्होंने सर्विसेज में इतने साल गुजारे हैं उनके साथ बैठकर बातें करने में बहुत मजा आता है अब भारत दर्शन ऑफ कोर्स बहुत रहता है मैं और एग्जांपल में कभी इतना ट्रैवल शायद मैंने किया ही नहीं था हर तीसरे दिन अपना बैग पैक करके कहीं से निकलना नॉट समथिंग जो मैं कभी समझ भी पाती अगर मैंने भारत दर्शन नहीं किया होता तो तू एक लेबर डिपार्टमेंट को अंडरस्टैंड कर पाना कि आप कहां रहते हैं यह शायद आपको आपके लिए मैटर करना बंद कर दिया फिर अप्वॉइंट कि अब तो मतलब ऐसा हो गया कि जहां रात को सो लिए वह घर हो गया थोड़ा कुछ कभी-कभी ऐसा भी लगता था कि शायद एकेडमी इतना फास्ट पेस है इतनी सारी चीजें साथ में हो रही है कि बीच में कभी कभी लगता था कि शायद सोचने का पेड़ अब आराम से बैठने का कभी वक्त ही नहीं मिला पर इतना भी साथ साथ में रिलीज हुआ कि शायद अपना जॉब भी वैसा ही है और शायद एकेडमी का परपज यही है कि हमें मटरबेशन दे पाएंगे ऐसे ही आपका जीवन अभी रहने वाला है युसूफ लोन क्या आपको कैसे कुपअप करना है आपको कैसे अदा करना है तो यह सब समझने के लिए मसूरी का ट्रेनिंग अकैडमी बहुत अच्छा था बहुत मजा आया और बहुत जिंदगी भर ऐसा लगता है कि हमेशा मसूरी हमेशा याद रहेगी और हमेशा मिस करेंगे अपनी

masoori ki training academy mein jeevan ke sab kuch bahut hi amazing moments rahe hain bahut hi acche pal rahe hain masoori ka academy agar main itna kam time mein bayan kar sakun toh jitne bhi instityushan maine padhai ki hai aaj tak aur 34 institute maine padhai kaise phutate ke masoori ki academy mein jis tarah se mein sikhaya jata hai a question training institute ke jo principal rehte hain unke bahut paas aati hai training academy padhai tu bahut achi hai masoori ki jo training hai vaah bahut hamari facebook mein divided rehti hai amma shuru karte hain foundation course ke saath jisme sab service se saath mein aakar 3 mahine rehti hain uske baad IAS ke liye baki sab services apne apne respective training institute mein jaati hain veyar ias le bajna mein hi rehte hain aur hamara face band rehta hai jiske beech mein bharat darshan bhi hota hai and uske baad hum district training par jaate hain abhi ek ka saindavich model hai training ka jisme face van ke baad district training mein jaya jata hai 1 saal ke liye aur aap masoori hum wapas aate hain face to ke liye jiske baad delhi mein 3 mahine ka stand rehta hai kendriya sarkar ke saath aur uske baad hum apne respective states mein vaapas jaate hain apni pehli posting ke saath toh hum foundation course speshli hum logo ke liye bahut memorable rehta hai kyonki sab tarah ke log 400 log saath mein rehte hain aur har service ke log rehte hain foreign service revenue service police service itne saare log prastavit sab saath mein rehte hain tu aajad delhi bahut diversity dekhne ko milta hai dekhne ko milta hai ki kitne prakar ke log kaise kaise background se clear karke aaye hain sabse sunahari yaadain main hi kahungi ke dost bahut banaye itne 2 salon mein aur masoori ki kuch activities bhi aisi rehti hai jo karne mein bahut maza aata hai jaise ki hamara foundation course mein 10 din ka track rehta hai jisme hamein roj 10 00 15 kilo meter track karna padta hai aur ek bahut egjatik location mein bheja jata hai jaha par hum khud ki limit hoti hai ki utana physical fitness aap mein hai ya nahi masoori ki roj the physical fitness activity rehti hai subah subah 5 30 baje aur rubber discipline rehta hai aapko waqt ki kimat aapko pankchualiti sikhai jaati hai bahut saare acche speaker jaate hain masoori mein lecture dene ke liye main bolungi academy tu hai hi matlab kya aadmi ka jo module hai aur academy mein jo sikhaya jata hai vaah toh bahut accha hai hi usse zyada main kahungi ki jo log aapke saath rehte hain jo aapke baichmet tenu company mil paana aapki soch aapke jaisa sochne waale log aapko mil paana jinke saath baithkar aap batein kar sakte hain aapko bhi toh sab activity hum sab ke saath karte hain yah shayad sabse badi cheez shayad yahi rehti hai kyonki yah jo dosti aapki hoti hai yah sirf academy tak simit nahi rehti hai yah dosti aapki waise hi hai jo aap shayad zindagi bhar kahin na kahin apne saath le jaate hain toh abhi bhi hamare jo baki aur service iske dost hain aap sochen ki phone services waale kahaan chale jaate hain brevini service waale kahaan chale jaate hain sab wahi log hai jinke saath saath puri zindagi saath milne ki koshish karte hain apni problem jinke saath discs kar sakte hain toh yah jo ek Relationship logo ke saath stop loss karna hai bahut hi zyada important jata hai aur maza aata hai logo se milne mein aur yah main pakka kahungi ki hum suri ki sabse achi baat shayad yahi hai ab aapko sab masur mein mausam aaj accha rehta hai bahut sundar academy hai vaah toh hai hi aur anshu kuch teacher jo wahan par hai jin logo se aap milte hain jinhone services mein itne saal gujare hain unke saath baithkar batein karne mein bahut maza aata hai ab bharat darshan of course bahut rehta hai aur example mein kabhi itna travel shayad maine kiya hi nahi tha har teesre din apna bag pack karke kahin se nikalna not something jo main kabhi samajh bhi pati agar maine bharat darshan nahi kiya hota toh tu ek labour department ko understand kar paana ki aap kahaan rehte hain yah shayad aapko aapke liye matter karna band kar diya phir apwaint ki ab toh matlab aisa ho gaya ki jaha raat ko so liye vaah ghar ho gaya thoda kuch kabhi kabhi aisa bhi lagta tha ki shayad academy itna fast pass hai itni saree cheezen saath mein ho rahi hai ki beech mein kabhi kabhi lagta tha ki shayad sochne ka ped ab aaram se baithne ka kabhi waqt hi nahi mila par itna bhi saath saath mein release hua ki shayad apna job bhi waisa hi hai aur shayad academy ka purpose yahi hai ki hamein matarabeshan de payenge aise hi aapka jeevan abhi rehne vala hai yusuf loan kya aapko kaise kupap karna hai aapko kaise ada karna hai toh yah sab samjhne ke liye masoori ka training academy bahut accha tha bahut maza aaya aur bahut zindagi bhar aisa lagta hai ki hamesha masoori hamesha yaad rahegi aur hamesha miss karenge apni

मसूरी की ट्रेनिंग अकैडमी में जीवन के सब कुछ बहुत ही अमेजिंग मोमेंट्स रहे हैं बहुत ही अच्छे

Romanized Version
Likes  202  Dislikes    views  1944
WhatsApp_icon
play
user
4:55

Likes  44  Dislikes    views  853
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!