भगवान श्री कृष्ण की भगवत गीता के अनुसार 24 घंटे की दिनचर्या बताएँ?...


user
0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका सवाल है कि श्रीमद्भागवत गीता भगवान श्री कृष्ण की वाणी है या किसी मानव की कृष्ण की वाणी है तो देखिए भागवत गीता जो है जो एक हिंदू धर्म की बहुत ही पवित्र ग्रंथ है जिनमें उन्हें स्वयं भगवान श्री कृष्ण जी के बारे में उनकी सभी सोचो का वर्णन किया क्या है और इसका निर्णय है कि भागवत की तस्वीर भगवान श्री कृष्ण जवानी है या मानव श्री कृष्ण एक वाणी है तो यदि आप श्री कृष्ण जी को भगवान के रूप में मानते हैं तो भगवान श्री कृष्ण के वाणी होकर या जो श्रीकृष्ण को सिर्फ एक साधारण मानव मानता है उनके लिए साधारण मानव की दीवानी होगी धन्यवाद

namaskar aapka sawaal hai ki shrimadbhagavat geeta bhagwan shri krishna ki vani hai ya kisi manav ki krishna ki vani hai toh dekhiye bhagwat geeta jo hai jo ek hindu dharm ki bahut hi pavitra granth hai jinmein unhe swayam bhagwan shri krishna ji ke bare me unki sabhi socho ka varnan kiya kya hai aur iska nirnay hai ki bhagwat ki tasveer bhagwan shri krishna jawaani hai ya manav shri krishna ek vani hai toh yadi aap shri krishna ji ko bhagwan ke roop me maante hain toh bhagwan shri krishna ke vani hokar ya jo shrikrishna ko sirf ek sadhaaran manav maanta hai unke liye sadhaaran manav ki deewani hogi dhanyavad

नमस्कार आपका सवाल है कि श्रीमद्भागवत गीता भगवान श्री कृष्ण की वाणी है या किसी मानव की कृष्

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  72
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Gunjan

Junior Volunteer

0:43

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं क्या करूं भगवत गीता की बात करें तो इसमें लिखा है कि इंसान का धर्म जो है वह सर्वोपरि होता है उसको कभी भी फल की अपेक्षा नहीं करनी चाहिए अपने काम करते रहना चाहिए जिसके लिए उस को चाहिए कि वह मुंह छोड़ें और अपने कर्तव्यों का पालन करें आपका जो टारगेट होता है तो आपकी दिनचर्या को उसी हिसाब से आप सेट करें अब सुबह उठकर जो है वह भगवान का धन्यवाद करें फिर आपका जो भी दाने कार्य उसमें आप लगे और रात में जो है वह आप शांत मन से सोए अगर आप कल के अपेक्षा करेंगे तो से आपको बहुत ज्यादा आगे दिक्कत हो सकती है तो इसीलिए तो है गीता का आपको हमेशा मान रखना चाहिए मोह माया से ऊपर उठकर कर पर ध्यान देना चाहिए

main kya karu bhagwat geeta ki BA at karein toh ismein likha hai ki insaan ka dharm jo hai wah sarvopari hota hai usko kabhi bhi fal ki apeksha nahi karni chahiye apne kaam karte rehna chahiye jiske liye us ko chahiye ki wah mooh choodey aur apne kartavyon ka palan karein aapka jo target hota hai toh aapki dincharya ko usi hisab se aap set karein ab subah uthakar jo hai wah bhagwan ka dhanyavad karein phir aapka jo bhi daane karya usme aap lage aur raat mein jo hai wah aap shaant man se soye agar aap kal ke apeksha karenge toh se aapko BA hut zyada aage dikkat ho sakti hai toh isliye toh hai geeta ka aapko hamesha maan rakhna chahiye moh maya se upar uthakar kar par dhyan dena chahiye

मैं क्या करूं भगवत गीता की बात करें तो इसमें लिखा है कि इंसान का धर्म जो है वह सर्वोपरि हो

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  9
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!