दिल्ली के लोग प्रदूषण के प्रभाव को कम करने के लिए क्या कर सकते हैं?...


play
user

आचार्य प्रशांत

IIT-IIM Alumnus, Ex Civil Services Officer, Mystic

8:49

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभी बातें जानते हैं कि प्रदूषण कहां से आ रहा है कोई वह किसी छुपे हुए ज्वालामुखी से तो निकल नहीं रहा है कि किसी पहाड़ से बहुत सारा धुआं आ रहा है और हम जानते नहीं है कहां से आ रहा है तू बड़ी हमारी लाचारी है हमें क्या नहीं पता यह सब जानते हुए भी हम वही काम करते हैं जिनसे धुआं और जैसे आ रही हैं तुम्हें सवाल ही नहीं होना चाहिए कि प्रदूषण का क्या करें सवाली होना चाहिए आचार्य जी हम अपना क्या करें प्रदूषण क्या करना तुम जब तक हो तुम प्रदूषण करोगे क्योंकि तुम जैसे हो तुम प्रदूषण नहीं करोगे तो क्या करोगे हमारे लिए असल में सांप हवा का कोई मूल्य नहीं है क्या कुछ मूल्य है अभी तो बाकी चीजों से बहुत कम मूल्य जिस चीज का मार्ले मूल्य है हम उसके पीछे भाग लेते हैं जब हवा इतनी खराब हो जाएगी कि मैं बुद्धम बैठी बैठी राज्य मारना शुरू कर देगी जो भी हो रहा है हर दिन हर महीने हो रहा है अगले साल और ज्यादा होगा कि लोग कुर्सियों पर बैठे बात कर रहे हो और गिर पड़े ऐसे मर रहे हैं तब हम चाहेंगे कुछ करेंगे अभी तो हमको दूसरी चीजें ज्यादा मूल्यवान लगती हैं त्योहारों का मौसम है चलो धुआं छोड़ो खुशियां घर लेकर आओ ले आओ खुशियां घर खुशियां घर लेकर के आए और तभी छाती पकड़ी और कुछ दर्द सा हो रहा है छाती में गिरे उठे नहीं चार्ट में खुशियां ही खुशियां जिस दिन समझ में आएगा कि साफ हवा इन खुशियों से ज्यादा कीमत की है उस दिन खुशियां थोड़ा किनारे रखोगे और सांप हवा की ओर ध्यान दे लोगे अभी तो यही है अभी तो यही है क्या कर हवा गंदी करने से खुशी मिलती है तो क्यों ना करें हमें खुशी होने मनाने का हक नहीं है क्या और तुम मुझसे कह रहे हो कि मैं हवा गंदी करता हूं पहले मेरे पड़ोसी को रोको हवा गंदी करने से मुझे कतई पसंद नहीं है कि सिर्फ मेरी खुशियां रोकी जाए कि मेरी खुशियां रोक रहे वाली बगल वाले कि नहीं रोक अरे यह तो मेरे लिए डबल दुख की बात है तो मेरी खुशियां ही एक दूसरा दुखी है कि बगलारी खुशियां नहीं गई रिश्ता कुछ समझ में आ रहा है ना हमारा जो कुछ खुशियां देता है हमको देखिए कि उसका प्रदूषण से ताल्लुक है या नहीं आप पर भरे जाएंगे आप आएंगे अधिकांशतः में जो कुछ कुछ करता है जो पृथ्वी को और प्रकृति को और हवा को भी करता है जैसे हमारी हर खुशी आती ही है धरती की छाती में एक और खंजर घोंप कर के यह रिश्ता है हमारी खुशियों में पृथ्वी प्रकृति और पर्यावरण में इतनी खुशियां बढ़ती हैं उतना ज्यादा पृथ्वी बर्बाद होती है उतना प्रकृति उतने पर्यावरण पर इसका मतलब यह भी खुशियां छोड़ दे दुखी हो जाए इसका मतलब यह कि खुशियां झूठी है अगर खुशियों सच्ची होती तो इनसे पृथ्वी को प्रकृति को पशुओं को पर्यावरण को कितना नुकसान नहीं हो सकता था यह खुशियां झूठी है हरियाणा खुशियां झूठी है तो चाइना खुशियां कह सकते तुझसे खुशियां भी नहीं है तो हम हर तरफ से मारे गए खुशी की खातिर क्या-क्या बर्बाद किया पृथ्वी प्रकृति पर्यावरण शब्द फिर पता चला है कि जिस खुशी की खातिर यह सब बर्बाद किया वह खुशी खोखली हर तरफ से मारे गए ना खुशी अगर सच्ची होती तो उससे सब को फायदा होता यह पहचान है असली खुशी की सच्ची खुशी है नहीं हो सकती क्या आप त्यौहार मना रहे हो और आपके बम धमाकों से चिड़िया और कुत्ते मरे जा रहे हैं सच्ची खुशी यह नहीं हो सकती कि आप तो हार बना रहे हो और आप का त्योहार है ही यही कि आज करोड़ों जानवरों की कुर्बानी देनी है इस त्यौहार से अगर आपको खुशी मिल रही है तो बहुत झूठी और खोखले खुशी है वह जैसे कोई मोहल्ले में अमीरों का घर हो और वह आधी रात के बाद पार्टी करें धूम धमाके से जोरो से अश्लील संगीत लगा करके क्या बना रहे हो खुशियां पूरा मोहल्ला अपना माथा पीट रहा है कि यह क्या हो रहा है ऐसी तो हमारी खुशियां है कि जिस मोहल्ले की बात नहीं कर रहा हूं उसका नाम है पत्नी जब हम खुशी मनाते हैं तो पूरी पृथ्वी रोती है जिस दिन तुम खुश हो उस दिन समझ लो पूरी धरती रो रही है धरती ना रोए तुम कुछ हो ही नहीं पाते शादी पर आते हैं हमारे न जाने कितने रोते हैं जिस दिन हमारी खुशियां उठती हैं तो दुआ की है थोड़ा तो पी लो इतनी चीजें पीते दो ही पी लो हमारी हर खुशी का मतलब है धूप तुम जंक्शन पर कंजंक्शन बिना धोनी के हो नहीं सकता पंचम के लिए क्या चाहिए प्रोडक्शन पहली बात तो हमें भोगना है दूसरी बात हमारे भोगने में यह भी शामिल है कि हमारे पास बच्चे होने चाहिए हम बच्चों को भी बोलेंगे और एक जवाब बच्चा पैदा करते हुए एक तो होता नहीं जो कि अब उसके पीछे उसके खानदान की पूरी संख्या चलेगी कितने पैदा करें अरे पढ़े लिखे हो लगाओ जो मैट्रिक प्रोग्रेशन एक बच्चा कितने लेकर आया है पहली बात तो हमें भोगना है और दूसरी बात हमें सिर्फ चीजों को नहीं भोगना है जिसमें को भी भोगना है तो उससे क्या पैदा होते हैं बच्चे और बच्चे पैदा होते अभिनय भी भोगना ही तो गजब हो गया भोग रेस टू द पावर ऑफ b2b दिल में आग लगी हो तो हवा में ध्वनि हम तो जलते हुए लोग हैं जो आग लगी रहती है भीतर वही तो इंजन है हमारा जब तक सीना जलना राव तब तक हम खेलते हैं कुछ करते कहां है धुआ धुआ है चारों तरफ धुआं धुआं है चारों तरफ तो ऐतराज़ क्यों करते हो भाई भैया

abhi batein jante hai ki pradushan kahaan se aa raha hai koi vaah kisi chhupe hue jwalamukhi se toh nikal nahi raha hai ki kisi pahad se bahut saara dhuan aa raha hai aur hum jante nahi hai kahaan se aa raha hai tu baadi hamari lachari hai hamein kya nahi pata yah sab jante hue bhi hum wahi kaam karte hai jinse dhuan aur jaise aa rahi hai tumhe sawaal hi nahi hona chahiye ki pradushan ka kya kare savali hona chahiye aacharya ji hum apna kya kare pradushan kya karna tum jab tak ho tum pradushan karoge kyonki tum jaise ho tum pradushan nahi karoge toh kya karoge hamare liye asal mein saap hawa ka koi mulya nahi hai kya kuch mulya hai abhi toh baki chijon se bahut kam mulya jis cheez ka marle mulya hai hum uske peeche bhag lete hai jab hawa itni kharab ho jayegi ki main buddham baithi baithi rajya marna shuru kar degi jo bhi ho raha hai har din har mahine ho raha hai agle saal aur zyada hoga ki log kursiyo par baithe baat kar rahe ho aur gir pade aise mar rahe hai tab hum chahenge kuch karenge abhi toh hamko dusri cheezen zyada mulyavan lagti hai tyoharon ka mausam hai chalo dhuan chodo khushiya ghar lekar aao le aao khushiya ghar khushiya ghar lekar ke aaye aur tabhi chhati pakadi aur kuch dard sa ho raha hai chhati mein gire uthe nahi chart mein khushiya hi khushiya jis din samajh mein aayega ki saaf hawa in khushiyon se zyada kimat ki hai us din khushiya thoda kinare rakhoge aur saap hawa ki aur dhyan de loge abhi toh yahi hai abhi toh yahi hai kya kar hawa gandi karne se khushi milti hai toh kyon na kare hamein khushi hone manne ka haq nahi hai kya aur tum mujhse keh rahe ho ki main hawa gandi karta hoon pehle mere padosi ko roko hawa gandi karne se mujhe katai pasand nahi hai ki sirf meri khushiya roi jaaye ki meri khushiya rok rahe wali bagal waale ki nahi rok are yah toh mere liye double dukh ki baat hai toh meri khushiya hi ek doosra dukhi hai ki baglari khushiya nahi gayi rishta kuch samajh mein aa raha hai na hamara jo kuch khushiya deta hai hamko dekhiye ki uska pradushan se talluk hai ya nahi aap par bhare jaenge aap aayenge adhikansatah mein jo kuch kuch karta hai jo prithvi ko aur prakriti ko aur hawa ko bhi karta hai jaise hamari har khushi aati hi hai dharti ki chhati mein ek aur khanjar ghomp kar ke yah rishta hai hamari khushiyon mein prithvi prakriti aur paryavaran mein itni khushiya badhti hai utana zyada prithvi barbad hoti hai utana prakriti utne paryavaran par iska matlab yah bhi khushiya chod de dukhi ho jaaye iska matlab yah ki khushiya jhuthi hai agar khushiyon sachi hoti toh inse prithvi ko prakriti ko pashuo ko paryavaran ko kitna nuksan nahi ho sakta tha yah khushiya jhuthi hai haryana khushiya jhuthi hai toh china khushiya keh sakte tujhse khushiya bhi nahi hai toh hum har taraf se maare gaye khushi ki khatir kya kya barbad kiya prithvi prakriti paryavaran shabd phir pata chala hai ki jis khushi ki khatir yah sab barbad kiya vaah khushi khokhli har taraf se maare gaye na khushi agar sachi hoti toh usse sab ko fayda hota yah pehchaan hai asli khushi ki sachi khushi hai nahi ho sakti kya aap tyohar mana rahe ho aur aapke bomb dhamaakon se chidiya aur kutte mare ja rahe hai sachi khushi yah nahi ho sakti ki aap toh haar bana rahe ho aur aap ka tyohar hai hi yahi ki aaj karodo jaanvaro ki kurbani deni hai is tyohar se agar aapko khushi mil rahi hai toh bahut jhuthi aur khokle khushi hai vaah jaise koi mohalle mein amiron ka ghar ho aur vaah aadhi raat ke baad party kare dhoom dhamake se joro se ashleel sangeet laga karke kya bana rahe ho khushiya pura mohalla apna matha peat raha hai ki yah kya ho raha hai aisi toh hamari khushiya hai ki jis mohalle ki baat nahi kar raha hoon uska naam hai patni jab hum khushi manate hai toh puri prithvi roti hai jis din tum khush ho us din samajh lo puri dharti ro rahi hai dharti na ROYE tum kuch ho hi nahi paate shadi par aate hai hamare na jaane kitne rote hai jis din hamari khushiya uthati hai toh dua ki hai thoda toh p lo itni cheezen peete do hi p lo hamari har khushi ka matlab hai dhoop tum junction par conjunction bina dhoni ke ho nahi sakta pancham ke liye kya chahiye production pehli baat toh hamein bhogna hai dusri baat hamare bhogane mein yah bhi shaamil hai ki hamare paas bacche hone chahiye hum baccho ko bhi bolenge aur ek jawab baccha paida karte hue ek toh hota nahi jo ki ab uske peeche uske khandan ki puri sankhya chalegi kitne paida kare are padhe likhe ho lagao jo metric Progression ek baccha kitne lekar aaya hai pehli baat toh hamein bhogna hai aur dusri baat hamein sirf chijon ko nahi bhogna hai jisme ko bhi bhogna hai toh usse kya paida hote hai bacche aur bacche paida hote abhinay bhi bhogna hi toh gajab ho gaya bhog race to the power of b2b dil mein aag lagi ho toh hawa mein dhwani hum toh jalte hue log hai jo aag lagi rehti hai bheetar wahi toh engine hai hamara jab tak seena jalna rav tab tak hum khelte hai kuch karte kahaan hai dhua dhua hai charo taraf dhuan dhuan hai charo taraf toh aitaraz kyon karte ho bhai bhaiya

अभी बातें जानते हैं कि प्रदूषण कहां से आ रहा है कोई वह किसी छुपे हुए ज्वालामुखी से तो निकल

Romanized Version
Likes  362  Dislikes    views  4426
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
chalu mai jaha jaye tu ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!