भारत में जात पात कब से चली आ रही है और जात पात क्यों है?...


user

Vikas Singh

Political Analyst

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में जात पात की शुरुआत कांग्रेस पार्टी ने किया है जब भारत आजाद हुआ तो उस टाइम हमारे देश में एक पार्टी थी कांग्रेस पार्टी कांग्रेस ने भारत का विभाजन किया पाकिस्तान बनाया पाकिस्तान जो बनाया तो पाकिस्तान को मुस्लिम कंट्री बनाना चाहिए हिंदुस्तान को हिंदू कंट्री बनाना चाहिए लेकिन इन लोगों को जात पात की राजनीति करनी थी हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई की राजनीति उन्होंने किया और हमें आपस में ही लड़ाया सांप्रदायिकता का जहर इतना फैलाया हम लोगों के बीच में कि आज तक हम लोग उससे उबर नहीं पाए और हमारा देश आज भी विकासशील है तो कांग्रेस पार्टी कहीं ना कहीं से इसकी शुरुआत की है जात पात की मैं आपको बताना चाहता हूं जब भगवान श्रीराम के समय भगवान राम देखिए जो नाव चलाने वाला था उसके साथ वह रहे उसका पैर तक उसका उसका साथ दिया उन्होंने भगवान शिव राम देखिए सुग्रीव सुग्रीव की सेना लेकर लंका पर आक्रमण किए चित्रकूट में जहां पर सीता मां का हरण हुआ था उस टाइम अगर भगवान राम चाहते हैं तो वह मां माता भगवान राम कहां से सेना लेकर अपने मामा के यहां से आक्रमण कर सकते थे अगर भगवान राम चाहते तो सीधे बाली के शरण में जाकर बोलते हैं और बाली रावण को अगले दिन लेकर आ जाता है लेकिन भगवान राम ने ऐसा नहीं किया भगवान राम ने छोटे लोगों को साथ लेकर कार्य किया तो हमारे देश में कोई भी अगर किसी को भी बड़ा बनना है तो छोटे लोगों का साथ हमेशा लेकर चलना होगा अभी अभी मोदी जी ने जो सफाई कर्मी थे उनका पैर उन्होंने धोया इलाहाबाद में बहुत बड़ी बात है तो आइए हम सभी लोग अपना महत्वपूर्ण वोट भारतीय जनता पार्टी को दें ताकि हमारा देश आगे बढ़ सके जात-पात से आगे हो सके धन्यवाद

bharat mein jaat pat ki shuruat congress party ne kiya hai jab bharat azad hua toh us time hamare desh mein ek party thi congress party congress ne bharat ka vibhajan kiya pakistan banaya pakistan jo banaya toh pakistan ko muslim country banana chahiye Hindustan ko hindu country banana chahiye lekin in logo ko jaat pat ki raajneeti karni thi hindu muslim sikh isai ki raajneeti unhone kiya aur hamein aapas mein hi ladaya saampradayikta ka zehar itna faelaya hum logo ke beech mein ki aaj tak hum log usse ubar nahi paye aur hamara desh aaj bhi vikasshil hai toh congress party kahin na kahin se iski shuruat ki hai jaat pat ki main aapko bataana chahta hoon jab bhagwan shriram ke samay bhagwan ram dekhiye jo nav chalane vala tha uske saath vaah rahe uska pair tak uska uska saath diya unhone bhagwan shiv ram dekhiye sugreev sugreev ki sena lekar lanka par aakraman kiye chitrakoot mein jaha par sita maa ka haran hua tha us time agar bhagwan ram chahte hain toh vaah maa mata bhagwan ram kahaan se sena lekar apne mama ke yahan se aakraman kar sakte the agar bhagwan ram chahte toh sidhe baali ke sharan mein jaakar bolte hain aur baali ravan ko agle din lekar aa jata hai lekin bhagwan ram ne aisa nahi kiya bhagwan ram ne chote logo ko saath lekar karya kiya toh hamare desh mein koi bhi agar kisi ko bhi bada banna hai toh chote logo ka saath hamesha lekar chalna hoga abhi abhi modi ji ne jo safaai karmi the unka pair unhone dhoya allahabad mein bahut badi baat hai toh aaiye hum sabhi log apna mahatvapurna vote bharatiya janta party ko de taki hamara desh aage badh sake jaat pat se aage ho sake dhanyavad

भारत में जात पात की शुरुआत कांग्रेस पार्टी ने किया है जब भारत आजाद हुआ तो उस टाइम हमारे दे

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  463
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ravi Sharma

Advocate

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत के इतिहास को खंगाल के देखा जाए तो आपको मालूम होगा कि भारत में जल जात पात का बंधन है वह अधिक पुराना नहीं है परंतु मनुस्मृति के द्वारा इसको अधिक आबादी गई भारत में विशेष वर्गों का निर्माण हुआ जैसे कि ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य शूद्र उनके कार्यों के आधार पर यह जाते जो है अविभाजित की गई परंतु धीरे-धीरे करके या आप पीढ़ी का बनता गया यानी की पुश्तैनी होता गया तथा धीरे-धीरे करके जो ब्राह्मण थे उनके पुत्र ब्राह्मण होने लगे तथा वैश्य शुद्र थे उनके पुत्र वैश्य शूद्र होने लगे धीरे-धीरे करके इस प्रकार की जो कुरीतियां थी वह भारत की सभ्यता व संस्कृति की जड़ों में घर कर दी गई तथा शूद्रों का विशेष तौर पर शोषण किया गया क्षत्रियों तथा ब्राह्मणों को एक विशेष जो है अधिकार प्राप्त हुए समाज में अच्छी पैठ बनी तथा वैश्य ने भी अपने आप वर्चस्व जो है व्यवसायिक गतिविधियों में कायम किया परंतु शूद्रों की स्थिति बद से बदतर होती चली गई धीरे-धीरे करके भारत की स्वतंत्रता के बाद विशेष प्रावधान संशोधित किए गए भारत के संविधान में तथा शूद्रों को तथा अन्य पिछड़े वर्गों कौन का सही स्थान प्राप्त हुआ परंतु यह जातिगत आरक्षण भी एक प्रकार से एक अनुच्छेद रवैया था जिससे इन जातियों का कोई स्थान नहीं हो पाया परंतु इसको केवल राजनीतिक सामित्व आप अपने फायदे के लिए ही राजनेताओं ने इस्तेमाल किया इस प्रकार का सामाजिक और जातिगत वर्गीकरण भारत में बहुत अधिक पुराना नहीं है परंतु इसका समाधान अभी निकालने की सख्त आवश्यकता है तो मुझे लगता है कि इसका मुख्य कारण यही है कि आप सभी जातियां अपना वर्चस्व सामाजिक ढांचे पर कायम रखना चाहती थी इसी के मैसेज आप पर बनी रहे धन्यवाद

bharat ke itihas ko khangal ke dekha jaaye toh aapko maloom hoga ki bharat mein jal jaat pat ka bandhan hai vaah adhik purana nahi hai parantu manusmriti ke dwara isko adhik aabadi gayi bharat mein vishesh vargon ka nirmaan hua jaise ki brahman kshatriya vaiishay shudra unke karyo ke aadhaar par yah jaate jo hai avibhajit ki gayi parantu dhire dhire karke ya aap peedhi ka baata gaya yani ki pushtaini hota gaya tatha dhire dhire karke jo brahman the unke putra brahman hone lage tatha vaiishay shudra the unke putra vaiishay shudra hone lage dhire dhire karke is prakar ki jo kuritiyan thi vaah bharat ki sabhyata va sanskriti ki jadon mein ghar kar di gayi tatha shudron ka vishesh taur par shoshan kiya gaya kshatriyon tatha brahmanon ko ek vishesh jo hai adhikaar prapt hue samaj mein achi paith bani tatha vaiishay ne bhi apne aap varchaswa jo hai vyavasayik gatividhiyon mein kayam kiya parantu shudron ki sthiti bad se badataar hoti chali gayi dhire dhire karke bharat ki swatantrata ke baad vishesh pravadhan sanshodhit kiye gaye bharat ke samvidhan mein tatha shudron ko tatha anya pichade vargon kaun ka sahi sthan prapt hua parantu yah jaatigat aarakshan bhi ek prakar se ek anuched ravaiya tha jisse in jaatiyo ka koi sthan nahi ho paya parantu isko keval raajnitik samitwa aap apne fayde ke liye hi rajnetao ne istemal kiya is prakar ka samajik aur jaatigat vargikaran bharat mein bahut adhik purana nahi hai parantu iska samadhan abhi nikalne ki sakht avashyakta hai toh mujhe lagta hai ki iska mukhya karan yahi hai ki aap sabhi jatiya apna varchaswa samajik dhanche par kayam rakhna chahti thi isi ke massage aap par bani rahe dhanyavad

भारत के इतिहास को खंगाल के देखा जाए तो आपको मालूम होगा कि भारत में जल जात पात का बंधन है व

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  498
WhatsApp_icon
user

Markandey Pandey

Senior Journalist

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जाट कॉमेंट है कि अपनी जाति को लेकर श्रेष्ठता का अनुभव दूसरों को नीचा देखना और छुआछूत तमाम चीजें यह सब जाति जाटव जाति वादी भावनाएं और बाती वादों है या जाति व्यवस्था पर देखें तो कहा जाता है कि उसने उच्च नीच की भावनाओं और भी दुर्लभ हम दलित हैं दलित समाज में भी हो तुम खिलाफ हो चाहे बाल्मीकि हो चाहे और दूसरे संत महापुरुषों आज की भूत बन के कारण हुआ तो यह जाना कि जातिवाद अभी तक तो कोई दिक्कत नहीं थी जाट रेजीमेंट राजपूत रेजीमेंट यह रेजीमेंट हो रेडीमेंट बनाना शुरू किया और कितनी गहरी होती गई करना है तो जाति के आधार पर वोट बैंक बना कर करना है तो एक ही निकलना पड़ेगा कर लोगों के अंदर नेशनल कौन सी ऐसी दवा कर और आपकी जो कहती है उसको कम करके खत्म कर दे

jaat comment hai ki apni jati ko lekar shreshthata ka anubhav dusro ko nicha dekhna aur chuachut tamaam cheezen yah sab jati jatav jati wadi bhaavnaye aur bati vaado hai ya jati vyavastha par dekhen toh kaha jata hai ki usne ucch neech ki bhavnao aur bhi durlabh hum dalit hai dalit samaj mein bhi ho tum khilaf ho chahen balmiki ho chahen aur dusre sant mahapurushon aaj ki bhoot ban ke karan hua toh yah jana ki jaatiwad abhi tak toh koi dikkat nahi thi jaat regiment rajput regiment yah regiment ho rediment banana shuru kiya aur kitni gehri hoti gayi karna hai toh jati ke aadhaar par vote bank bana kar karna hai toh ek hi nikalna padega kar logo ke andar national kaun si aisi dawa kar aur aapki jo kehti hai usko kam karke khatam kar de

जाट कॉमेंट है कि अपनी जाति को लेकर श्रेष्ठता का अनुभव दूसरों को नीचा देखना और छुआछूत तमाम

Romanized Version
Likes  71  Dislikes    views  1126
WhatsApp_icon
play
user

Barsha Paul

Software Developer

0:47

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जातिवादी समुदाय के लोग रहते हैं जो पॉलिटिकल अनुमान लगा है मुस्लिमों के साथ मोदी सरकार अन्याय कर रही है उनको अपने उम्मीदवार भी नहीं बनाएंगे जिससे इस बार बनाई है सब हिंदुओं को बनाएं बीजेपी से मुस्लिम को दरकिनार कर रहे हैं मोदी सरकार इसलिए c1a हवा उठ रही है कि इंडिया में हमारे कंट्री में जातिवाद को ही है

jativadi samuday ke log rehte hain jo political anumaan laga hai muslimo ke saath modi sarkar anyay kar rahi hai unko apne ummidvar bhi nahi banayenge jisse is baar banai hai sab hinduon ko banaye bjp se muslim ko darakinar kar rahe hain modi sarkar isliye c1a hawa uth rahi hai ki india mein hamare country mein jaatiwad ko hi hai

जातिवादी समुदाय के लोग रहते हैं जो पॉलिटिकल अनुमान लगा है मुस्लिमों के साथ मोदी सरकार अन्य

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  150
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
kab aa rahi hai ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!