स्टैंड उप कॉमेडियन को अपने राजनीतिक विचारों पर घर खाली करने के लिए कहा, क्या वास्तव में भारत में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है या यह सिर्फ एक मिथक है? क्यों?...


play
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:16

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं भी इस चीज के बिल्कुल खिलाफ होंगे केवल स्टैंड अप कॉमेडी एक राजनीतिक विचार रखने पर घर खाली करने के लिए बोल दिया गया अगर यह सच बात है अगर यह सच बात है यह बहुत दुखद हमारी कंट्री में सिचुएशन शायद इंदिरा जी के टाइम पर ही होगी कि मैं किसी पार्टी को फॉलो नहीं कर रहा हूं लेकिन मैं बोल रहा हूं कि अगर इस तरह की बातें हो रही है क्योंकि मनमोहन सिंह दीपक खुद हमने जो बनाए थे आपने बनाए थे हमने बनाए थे इस दुनिया में अब सोशल मीडिया पर व्यक्तिगत विचार है बोलने के लिए वह कल वहां पर भी सभी लोग अपने विचार रखते तो विचार रखना क्या गलत है उसको मानना ना मानना अलग बात है अभी PK समझदारी के बड़े पेंट करता है लेकिन विचार रखना तो अच्छा है ना तो भारत में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है तू स्टैंडअप कॉमेडियन को इस तरह के लिए नहीं तो राजनीतिक विचार के लिए घर खाली नहीं करवाना चाहिए अगर सच बात है तो मुझे लगता तो नहीं है कि ऐसे ही बात होगी लेकिन यह सच बात है तो काफी दुखद और समझना चाहिए अब तो देश के लोगों को की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए बहुत आवश्यक हो गया है कि अपने आपको थोड़ा सा डिफरेंट करें और मुझे लगता है कि सच में फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन थोड़ा कम हो गया कंट्री में थैंक्यू

main bhi is cheez ke bilkul khilaf honge keval stand up comedy ek raajnitik vichar rakhne par ghar khaali karne ke liye bol diya gaya agar yah sach baat hai agar yah sach baat hai yah bahut dukhad hamari country mein situation shayad indira ji ke time par hi hogi ki main kisi party ko follow nahi kar raha hoon lekin main bol raha hoon ki agar is tarah ki batein ho rahi hai kyonki manmohan Singh deepak khud humne jo banaye the aapne banaye the humne banaye the is duniya mein ab social media par vyaktigat vichar hai bolne ke liye vaah kal wahan par bhi sabhi log apne vichar rakhte toh vichar rakhna kya galat hai usko manana na manana alag baat hai abhi PK samajhdari ke bade paint karta hai lekin vichar rakhna toh accha hai na toh bharat mein abhivyakti ki swatantrata hai tu standup comedian ko is tarah ke liye nahi toh raajnitik vichar ke liye ghar khaali nahi karwana chahiye agar sach baat hai toh mujhe lagta toh nahi hai ki aise hi baat hogi lekin yah sach baat hai toh kaafi dukhad aur samajhna chahiye ab toh desh ke logo ko ki abhivyakti ki swatantrata ke liye bahut aavashyak ho gaya hai ki apne aapko thoda sa different kare aur mujhe lagta hai ki sach mein freedom of expression thoda kam ho gaya country mein thainkyu

मैं भी इस चीज के बिल्कुल खिलाफ होंगे केवल स्टैंड अप कॉमेडी एक राजनीतिक विचार रखने पर घर खा

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  175
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत ही दुखद चीज है कि किसी भी कॉमेडियन या फिर किसी भी आम इंसान को भी अपने राजनीतिक विचारों के व्यक्ति के तरीके से अगर उसने व्यक्त किया है तो उस पर आप उसे घर खाली करने को बोला गया और उसकी जो स्वतंत्रता है अभिव्यक्ति की वह छीन ली गई यह बहुत ही गलत चीज है क्योंकि हमारे संविधान में यह चीज साफ-साफ लिखा है कि अगर कोई इंसान आप कोई भी तरह का ओपिनियन देना चाहता है जिससे दूसरे किसी भी इंसान की इमेज पर कोई भी हानि नहीं आ रही है तुम पूरी तरह से दे सकता है और उसको पूरा हक है अपनी आवाज उठाने का अपनी बात कहने का देश के सामने रखने का तो ऐसा कहा ऐसा करना कि उसकी राजनीतिक विचार उससे व्यक्त की है और उसके घर खाली करने को कहा गया तो यह बहुत ही गलत चीज है और मेरे हिसाब से उस इंसान को अपने खिलाफ लोगों के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए थी और अपने लिए लड़ना चाहिए था कि हमारे देश में फ्रीडम ऑफ स्पीच इन एक्सप्रेशन है जब आप कोई भी चीज बोल सकते हैं और कोई भी चीज एक्सप्रेस कर सकते हैं पूरी आज तक जब कि जब तक वह किसी दूसरे इंसान को हानि नहीं पहुंचा रही है और मेरे हिसाब से आप अगर कोई चीज संवैधानिक है तो कोई भी इंसान उसको छीन नहीं सकता है और इसको एक सिर्फ मिथुन आकर जरूर बनाकर नहीं रखना है हमें पूरा पूरा हक है क्या मैसेज को एक्सरसाइज कर सके और हमारे देश में जो हो मीठी जा चल रही है उस पर अपना फ्यूचर उप नियंत्रक सके तो यह बहुत ही दुखद चीज है जो मेरे सामने आई है और हमें अपने देश के लिए खुद ही कुछ करना पड़ेगा और लोकतंत्र की राजनीति चलती हमारे देश में आने डेमोक्रेसी हमारे देश में तो अगर ऐसा कुछ हो रहा है तो हमें आवाज उठानी चाहिए और उस इंसान के साथ खड़ा होना चाहिए जिसके साथ यह सब हुआ है क्योंकि हमारे देश में फ्रीडम है और प्रिज्म का पूरा पूरा लाइट है हमको जो कि फंडामेंटल राइट्स में भी लिखा हुआ है

bahut hi dukhad cheez hai ki kisi bhi comedian ya phir kisi bhi aam insaan ko bhi apne raajnitik vicharon ke vyakti ke tarike se agar usne vyakt kiya hai toh us par aap use ghar khaali karne ko bola gaya aur uski jo swatantrata hai abhivyakti ki vaah cheen li gayi yah bahut hi galat cheez hai kyonki hamare samvidhan mein yah cheez saaf saaf likha hai ki agar koi insaan aap koi bhi tarah ka opinion dena chahta hai jisse dusre kisi bhi insaan ki image par koi bhi hani nahi aa rahi hai tum puri tarah se de sakta hai aur usko pura haq hai apni awaaz uthane ka apni baat kehne ka desh ke saamne rakhne ka toh aisa kaha aisa karna ki uski raajnitik vichar usse vyakt ki hai aur uske ghar khaali karne ko kaha gaya toh yah bahut hi galat cheez hai aur mere hisab se us insaan ko apne khilaf logo ke khilaf awaaz uthani chahiye thi aur apne liye ladna chahiye tha ki hamare desh mein freedom of speech in expression hai jab aap koi bhi cheez bol sakte hain aur koi bhi cheez express kar sakte hain puri aaj tak jab ki jab tak vaah kisi dusre insaan ko hani nahi pohcha rahi hai aur mere hisab se aap agar koi cheez samvaidhanik hai toh koi bhi insaan usko cheen nahi sakta hai aur isko ek sirf mithun aakar zaroor banakar nahi rakhna hai hamein pura pura haq hai kya massage ko exercise kar sake aur hamare desh mein jo ho mithi ja chal rahi hai us par apna future up niyantrak sake toh yah bahut hi dukhad cheez hai jo mere saamne I hai aur hamein apne desh ke liye khud hi kuch karna padega aur loktantra ki raajneeti chalti hamare desh mein aane democracy hamare desh mein toh agar aisa kuch ho raha hai toh hamein awaaz uthani chahiye aur us insaan ke saath khada hona chahiye jiske saath yah sab hua hai kyonki hamare desh mein freedom hai aur prism ka pura pura light hai hamko jo ki fundamental rights mein bhi likha hua hai

बहुत ही दुखद चीज है कि किसी भी कॉमेडियन या फिर किसी भी आम इंसान को भी अपने राजनीतिक विचारो

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  178
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!