कार्यवाही देखने के लिए जम्मू-कश्मीर विधानसभा द्वारा योग्य महिला छात्रों के एक समूह को आमंत्रित किया गया। क्या यह लिंग पर पक्षपात है? क्यों?...


play
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:49

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल भी नहीं और किसी महिलाओं के ग्रुपों को जो इस योग्य है कि वह कार्यवाही देख सके विधानसभा की उन को बुलाया गया है तो उसका मतलब यह नहीं कि पुरुषों को नहीं बुलाया क्या ऐसा जरूर हुआ होगा कि आज से आज तक 70 सालों तक न जाने कई बार कितनी बार पुरुषों को भुलाया होगा लेकिन महिलाओं के ग्रुपों को नहीं बुलाया होगा और तक खबरें इसलिए नहीं आती है कि पुरुष हो जाते थे पुरुषों की खबर छापने में क्या है पुरुष सब काम करते हैं दुनिया के सारे गम पर सीधा करते हैं महिलाएं काम करती हैं जब महिलाओं ने पहली बार हमारे यहां पायलट बनी तब उनका नाम पेपर में आया कि पक्षपात नहीं है यह तो एक अच्छा एग्जांपल है महिलाओं के साथ भेदभाव को कम करने के लिए इसी तरह से नौसेना में मुझे पायलट बनी तब भी है खबर पेपर में आई इसके अलावा और भी जो जो जगह पर महिलाओं ने पहली बार में काम किया तू तो वह पेपर में आई इसके अलावा जम्मू कश विधानसभा में मुझे लगता है कि शायद पहली बार ऐसा हो रहा होगा कि महिलाओं की इतनी लड़कियों की महिलाओं का ग्रुप वहां पर गया है कार्यवाही देखने के यह तो अच्छी बात है यह लिंग के पक्ष भादो कम कर रहा है आप अगर आजादी नहीं देंगे महिलाओं को जो वह चाहती हैं करने के लिए तो आप क्या सोचते हैं कि हमारे देश का विकास हो जाएगा हम सजग रहना चाहिए इस चीज के लिए कि ठीक है मैं ना को बराबर दी जानी चाहिए लेकिन इसको प्रेक्टिकली भी पेमेंट करना बहुत आवश्यक है अगर आप इस चीज बड़ी विरोध करने लग जायेंगे कि महिलाओं से पक्षपात हो रहा है हमारे से पक्षपात होरन को क्यों बुलाया गया तब यह भी बोलिए ना कि पुरुषों के ब्लेजर पुरुषों कभी ना बनाया जाए आज तक पुरुषों को न जाने कितनी बार बुलाया होगा इसलिए इस बात से चिंता ना कीजिए और महिलाओं को सम्मान दीजिए उनको डिग्निटी डिग्निटी का ध्यान रखिए और जो जो जगह पर महिलाओं को बुलाकर अब फर्स्ट टाइम कोशिश कर रही तो उस चीज को आदर कीजिए उस चीज के लिए उनको सम्मानित कीजिए थैंक यू

bilkul bhi nahi aur kisi mahilaon ke grupon ko jo is yogya hai ki vaah karyavahi dekh sake vidhan sabha ki un ko bulaya gaya hai toh uska matlab yah nahi ki purushon ko nahi bulaya kya aisa zaroor hua hoga ki aaj se aaj tak 70 salon tak na jaane kai baar kitni baar purushon ko bhulaya hoga lekin mahilaon ke grupon ko nahi bulaya hoga aur tak khabren isliye nahi aati hai ki purush ho jaate the purushon ki khabar chaapne mein kya hai purush sab kaam karte hai duniya ke saare gum par seedha karte hai mahilaye kaam karti hai jab mahilaon ne pehli baar hamare yahan pilot bani tab unka naam paper mein aaya ki pakshapat nahi hai yah toh ek accha example hai mahilaon ke saath bhedbhav ko kam karne ke liye isi tarah se nausena mein mujhe pilot bani tab bhi hai khabar paper mein I iske alava aur bhi jo jo jagah par mahilaon ne pehli baar mein kaam kiya tu toh vaah paper mein I iske alava jammu kash vidhan sabha mein mujhe lagta hai ki shayad pehli baar aisa ho raha hoga ki mahilaon ki itni ladkiyon ki mahilaon ka group wahan par gaya hai karyavahi dekhne ke yah toh achi baat hai yah ling ke paksh bhado kam kar raha hai aap agar azadi nahi denge mahilaon ko jo vaah chahti hai karne ke liye toh aap kya sochte hai ki hamare desh ka vikas ho jaega hum sajag rehna chahiye is cheez ke liye ki theek hai na ko barabar di jani chahiye lekin isko prektikali bhi payment karna bahut aavashyak hai agar aap is cheez baadi virodh karne lag jayenge ki mahilaon se pakshapat ho raha hai hamare se pakshapat horan ko kyon bulaya gaya tab yah bhi bolie na ki purushon ke blazer purushon kabhi na banaya jaaye aaj tak purushon ko na jaane kitni baar bulaya hoga isliye is baat se chinta na kijiye aur mahilaon ko sammaan dijiye unko dignity dignity ka dhyan rakhiye aur jo jo jagah par mahilaon ko bulakar ab first time koshish kar rahi toh us cheez ko aadar kijiye us cheez ke liye unko sammanit kijiye thank you

बिल्कुल भी नहीं और किसी महिलाओं के ग्रुपों को जो इस योग्य है कि वह कार्यवाही देख सके विधान

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  183
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!