भारत जनसँख्या की दृष्टि में कौन से नंबर पर आता है?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जनसंख्या की दृष्टि से भारत का विश्व में दूसरा स्थान है पहला स्थान चाइना का है लेकिन हमारे यहां की विद्वानों ने कलाकारों ने यह कहा है कि 2050 तक आते-आते भारत विश्व में जनसंख्या वृद्धि में जनसंख्या में नंबर एक स्थान पर रूका मुझे बात का बड़ा कहते हुए बड़ा हो गया बड़ा दर्द है कि चाइना में जनसंख्या तो बड़ी चाइना ने टेक्नोलॉजी इस कदर विकसित की मानव संसाधनों का इस कदर प्रयोग लिया इतना अधिक प्रयोग लिया कि आज चाइना टेक्नोलॉजी में विश्व में भारत से बहुत आगे है लेकिन हम भारतीय लोग देखने हमारे मानव संसाधन का उचित प्रयोग में हमारी जनसंख्या तो बढ़ रही है लेकिन मानव संसाधन का उचित प्रयोग नहीं है इस मानव संसाधन का सही प्रयोग किया जाए तो हम लोग भी पिक्चर सेंड के देशों में काम कर सकते हैं इस जनसंख्या वृद्धि की समस्या पर ले जा पाई जाए लेकिन दुर्भाग्य इस बात का है कि इस नेतागण अधिकतर बातें तो करते हैं खरीद डिस्कस करते हैं यह भाषण दे सकते हैं लेकिन यह करते कुछ कह दिया होता देश की समस्याओं को मुक्त करने के लिए प्रयास किए होते देश के मुद्दों पर लड़ाई होते देश विकास के मुद्दों पर दिल तारीख की समस्याएं जनसंख्या वृद्धि की समस्या है भोजन आवास आदि की जो समस्या है उसके लिए हमको चर्चाएं करनी चाहिए उस पर विचार करना चाहिए लेकिन यह अपने स्वार्थ के लिए लड़ते हैं

jansankhya ki drishti se bharat ka vishwa mein doosra sthan hai pehla sthan china ka hai lekin hamare yahan ki vidvaano ne kalakaro ne yeh kaha hai ki 2050 tak aate aate bharat vishwa mein jansankhya vriddhi mein jansankhya mein number ek sthan par ruka mujhe BA at ka BA da kehte hue BA da ho gaya BA da dard hai ki china mein jansankhya toh BA di china ne technology is kadar viksit ki manav sansadhano ka is kadar prayog liya itna adhik prayog liya ki aaj china technology mein vishwa mein bharat se BA hut aage hai lekin hum bharatiya log dekhne hamare manav sansadhan ka uchit prayog mein hamari jansankhya toh BA dh rahi hai lekin manav sansadhan ka uchit prayog nahi hai is manav sansadhan ka sahi prayog kiya jaye toh hum log bhi picture send ke deshon mein kaam kar sakte hai is jansankhya vriddhi ki samasya par le ja payi jaye lekin durbhagya is BA at ka hai ki is netagan adhiktar BA tein toh karte hai kharid disky karte hai yeh bhashan de sakte hai lekin yeh karte kuch keh diya hota desh ki samasyaon ko mukt karne ke liye prayas kiye hote desh ke muddon par ladai hote desh vikas ke muddon par dil tarikh ki samasyaen jansankhya vriddhi ki samasya hai bhojan aawas aadi ki jo samasya hai uske liye hamko charchaen karni chahiye us par vichar karna chahiye lekin yeh apne swarth ke liye ladte hain

जनसंख्या की दृष्टि से भारत का विश्व में दूसरा स्थान है पहला स्थान चाइना का है लेकिन हमारे

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  739
KooApp_icon
WhatsApp_icon
17 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
jansankhya ki drishti se ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!