क्या यह सही कि बॉलीवुड द्वारा कई फिल्में हिन्दू धर्म पर चोट करती हैं, चा है वह पीके जैसी फ़िल्म हो?...


play
user

Chandraprakash Joshi

Ex-AGM RBI & CEO@ixamBee.com

1:54

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम फिल्मों की बात क्यों करें ? अदर वाइज भी बहुत सारी किताबों में बहुत सारे लेखों में हिंदू धर्म के बारे में अलग-अलग तरीके के विचार व्यक्त किए जाते हैं, उसको क्रितिसैज़ भी किया जाता है, कुछ अप्प्रेसिअत भी किया जा सकता है और कई लोग उस पर क्वेश्चन भी उठाते हैं l लेकिन इस में दिक्कत कहां है ? इसमें आम हिंदू को दिक्कत नहीं है क्योंकि हिंदू धर्म इसीलिए सनातन है और इसीलिए यह अनंत काल से चला आ रहा है क्योंकि यहां पर लोगों में उसकी बुराइयों को भी सुनने समझने और सुधारने की क्षमता है l कुछ न कुछ रीतियाँ है ऐसी चली आती है हर जो हर धर्म हर संस्कृति और हर क्षेत्र में वह होती है जो वह ठीक नहीं होती है l लेकिन वह उस समय की परिस्थितियों में शायद जनरेट हो गई होती है l जैसे हम अगर हिंदू धर्म की बात करें तो बहुत सारी है ऐसे ही ऐसे ही चीजें नोर्म्स बना दिए गए हैं जिन्हें पोंगा पंडित के नॉर्म से भी बोल सकते हैं जो लोग फॉलो करते हैं क्योंकि उस समय शायद वह जरूरी थे l तो हिंदू धर्म की खास बात यही है कि लोग इतने सहनशील हैं लोग सुनते हैं और लोग इंप्रूव करते हैं इसीलिए के धर्म सदियों से चला आ रहा है l अब प्रश्न यह है कि हम इसको सोचते हैं कि इस पर कुछ मूवीस ने कमेंट कर दिया तो यह बहुत बड़ी प्रॉब्लम की बात है और ऐसा कुछ ही खास लोग सोचते हैं l तो उनकी सोच बाकी सब एक हिंदू समाज की सोच को जाहिर नहीं कर रही है और कुछ हद तक क्रिटिसिज्म होना, कुछ हद तक क्वेश्चन किया जाना अल्टीमेटली चीजों को इंप्रूव करने में फायदा करता है, और यही इस धर्म को आगे लेकर जा रहा है जिस तरीके से हिंदू धर्म सनातन है और केवल होता जा रहा है, यह वह सब बढ़ता रहेगा जब यह अपने को सहनशील बनाएगा, क्रिटिसिज्म को सुनेगा जो लोग कट्टर होने की बात करते हैं कट्टर होना ही नहीं चाहिए हिंदू धर्म में तो कट्टरता कहीं है ही नहीं l

hum filmo ki baat kyon kare other wise bhi bahut saree kitabon mein bahut saare lekho mein hindu dharm ke bare mein alag alag tarike ke vichar vyakt kiye jaate hain usko kritisaiz bhi kiya jata hai kuch appresiat bhi kiya ja sakta hai aur kai log us par question bhi uthate hain l lekin is mein dikkat kahaan hai isme aam hindu ko dikkat nahi hai kyonki hindu dharm isliye sanatan hai aur isliye yah anant kaal se chala aa raha hai kyonki yahan par logo mein uski buraiyon ko bhi sunne samjhne aur sudhaarne ki kshamta hai l kuch na kuch ritiyan hai aisi chali aati hai har jo har dharm har sanskriti aur har kshetra mein vaah hoti hai jo vaah theek nahi hoti hai l lekin vaah us samay ki paristhitiyon mein shayad generate ho gayi hoti hai l jaise hum agar hindu dharm ki baat kare toh bahut saree hai aise hi aise hi cheezen norms bana diye gaye hain jinhen ponga pandit ke norm se bhi bol sakte hain jo log follow karte hain kyonki us samay shayad vaah zaroori the l toh hindu dharm ki khaas baat yahi hai ki log itne sahanashil hain log sunte hain aur log improve karte hain isliye ke dharm sadiyon se chala aa raha hai l ab prashna yah hai ki hum isko sochte hain ki is par kuch Movies ne comment kar diya toh yah bahut badi problem ki baat hai aur aisa kuch hi khaas log sochte hain l toh unki soch baki sab ek hindu samaj ki soch ko jaahir nahi kar rahi hai aur kuch had tak kritisijm hona kuch had tak question kiya jana altimetli chijon ko improve karne mein fayda karta hai aur yahi is dharm ko aage lekar ja raha hai jis tarike se hindu dharm sanatan hai aur keval hota ja raha hai yah vaah sab badhta rahega jab yah apne ko sahanashil banayega kritisijm ko sunegaa jo log kattar hone ki baat karte hain kattar hona hi nahi chahiye hindu dharm mein toh kattartaa kahin hai hi nahi l

हम फिल्मों की बात क्यों करें ? अदर वाइज भी बहुत सारी किताबों में बहुत सारे लेखों में हिंदू

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  286
KooApp_icon
WhatsApp_icon
9 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!