क्या लिखावट खराब होने का UPSC के एग्ज़ाम में कोई फर्क पड़ता है?...


play
user

Dr. P. N. Jha

TOPPERS IAS app. Sr.Facuty, IAS Coaching.

6:19

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अबोध सही प्रश्न आपने किया है सबको यह जानना बहुत आवश्यक है कि यूपीएससी परीक्षा में जो पहला स्टेज है वह फिल्म्स का है जिसमें लिखने का कोई राजनीति नहीं है कोई परेशानी नहीं है आपको बस टिक माफ करना है और आपको आगे बढ़ जाना ऑब्जेक्टिव सिस्टम में जब आप सब्जेक्टिव एग्जामिनेशंस में इन करते हैं जैसे मैंने तो आपको लिखने होते अपने विचारों को अपने पक्ष को लॉजिक स्कोर इन सबों को लिखकर अपनी बातों को विभिन्न तरीके से कलात्मक आधार पर समीक्षात्मक आधार पर आलोचनात्मक आधार पर आपको तहे दिल से अपनी बातों को रखना होता है ताकि आपकी जो पराई है वह आपस में पूछे गए सवालों से मिले और झूले sm1 आपको अच्छी तरीके से लिखना अच्छे शब्दों का यूज करना और साथ में कुछ इस तरीके से लिखावट लिखना ताकि आपकी लिखी हुई बातें परीक्षक तक पहुंच जाए उसको पढ़ सकें आपकी इस जिज्ञासा है कि क्या लिखावट खराब होने पर आर यू पी सी एग्जामिनेशन में कोई फर्क पड़ता देखिए यह तो संभव नहीं है आदमी की पहचान की लिखावट से बैंक में हम लोग अपना अलग-अलग हस्ताक्षर करते सिग्नेचर करते हैं और एक सिग्नेचर से एक व्यक्ति की पहचान है तो हमारे स्ट्रोक्स और हमारे लिखावट वह बहुत सी बातें अलग अलग थी लेकिन अलग अलग होने के बाद भी वह पढ़ने योग्य होती है कुछ तो पढ़ने योग्य होती और कुछ जो है पढ़ने योग्य नहीं होती है तो प्रश्न यह है कि आपको किधर जाना है आपको कैसा भी लिखना है कैसे भी स्टॉप्स को लिखने हैं लेकिन और रेगुलर स्टोक्स को लिखने हैं और ऐसा लिखना है जो आपको सामने वाले आपके कॉपी को आफ कैंसर्स को पढ़ सके अगर वह सही मायने में आप कैंसर को पर शक रहा है तो आपकी विचार से अवगत है और आपको वह सही अंक देगा अगर आपने ठीक ढंग से नहीं लिखा वह पढ़ने योग्य नहीं है तो वह चाहकर भी आपको अंत नहीं देगा और आपके मार्क्स काम आ जाएंगे जहां तक का बस स्टैंड जा में लिखने का सवाल है या कभी क्या होता है कि जब पहली बार आप लिख रहे होते हैं तो यह के प्रैक्टिकल प्रॉब्लम है कि आपने दो लाइन लिखा फिर आपको लगाने नहीं है स्टार्ट ए गुड स्टार्ट वेरी गुड स्टार्ट आप शुरू करें आप दो लाइन को काट देते हैं फिर दो लाइन अप लिखना शुरू करते हैं फिर दो लाइन को काट देते ऐसा करते-करते पहले तो 3 क्वेश्चंस में अगर आप पहली बार लिख रहे हैं एग्जामिनेशन तो आपको झिझक सी होती है और आपके बहुत कटे कोठे सुरू केला इंच होते हैं इन सब से भी बचने की आवश्यकता है क्योंकि अगर आपका इंप्रेशन शुरुआती दौर में अमन मैंने आपसे आपका नाम पूछा और आप बोलेंगे जी मेरा नाम चाहे वह किसी भी कारण से हो कोई भी फैक्टर से हो आप बार-बार अपना नाम गलत करके काट रहे हैं और फिर अपना नाम सही कर रहे हैं तो वह देखने में कैसा लगेगा इसीलिए आपको इस बात का ध्यान रखना है एक तो आपकी लिखावट पढ़ने योग्य होनी चाहिए दूसरी बात कि अगर आप हिंदी और इंग्लिश में लिख रहे हैं तो हिंदी और इंग्लिश में भी थोड़े बहुत ग्रामर का ध्यान करते हुए और सजावट के हिसाब से आपको अपने वाक्यों का विन्यास करना आवश्यक है मैं यह नहीं कहता कि अब बिल्कुल हिंदी साहित्य के छात्र की तरह आपकी हिंदी होनी चाहिए बिल्कुल क्लिष्ट भाषा होनी चाहिए आप बड़े आराम से बोलचाल की भाषा में लिख सकते हैं और हो सकता है कि को पांडे पसंद का महीना हो अगर वह 67 परसेंट सत्तर परसेंट भी ग्रामर चाहिए चलेगा अगर जा वाले सेल डीलर आफ हिंदी साहित्य के विद्यार्थी अगर आप हिंदी साहित्य की विधि साहित्य में लिख रहे हैं तो साहित्य में आपको बिल्कुल सही सही लिखना आवश्यक होगा नहीं तो आपके मार्क्स कटेगी दूसरी बात यह है कि अच्छे-अच्छे चीजों को लिखने के लिए अच्छी बातों को लिखने के लिए उसका ठीक ढंग से आप उसको प्रोजेक्ट करना बहुत इंपॉर्टेंट है इसे आप कंप्यूटर पर टाइप करते हो तो इंपोर्टेंट को अंडरलाइन करते हो या फिर आप इनवर्टेड कॉमा में लेते हो इसी प्रकार से जवाब लिखोगे तो एक तो सही सही लिखना ऐसा लिखना जो कि वह संभल के कर सके जो परीक्षा का कोर्स को पढ़ सके तीसरी बात इंपॉर्टेंट बातों को प्रोजेक्ट करना था कि वो इस बातों पर ज्यादा ध्यान कर सके यह सब बड़ा आवश्यक होता है हम को उठाने के लिए दूसरी बात है कि कभी-कभी क्या होता है कि के व्यक्तियों को लिखने टाइम में हाथ में बहुत पसीना आ जाता है तो उसमें लोगों को करना क्या चाहिए नीचे में कुछ कपड़ा रखना चाहिए थैंक यू वगैरह रखना चाहिए ताकि आपके पसीने से आपके जो आंसर बुक हैं वह सेंसर बुक पर पसीना ना पड़े और कोकिला ना हो जाए कभी कभी क्या होता है डॉन जो वह कुछ लोग लिखते हैं तो वह बिल्कुल ही नीचे की तरफ लिखते हैं जैसे शुरुआत अगर उन्होंने किया तो वो लिखते लिखते लिखते जो बिल्कुल सीध में लिखकर नीचे की तरफ लिखना शुरु कर देते हैं तो डोंट जो है वह नहीं होना चाहिए आप उसको आप कॉपी को अपने आंसर बुक को थोड़ा सा टेढ़ा करके लिखें ताकि आपके लिखावट बिल्कुल सीधी रेखा में हूं ना कि वह नीचे की तरफ जाए क्योंकि वह नीचे की तरफ जाना भी अच्छा नहीं माना जाता तो इन सब तरीके का चीजों का ध्यान रखना पड़ेगा आपको एक तो और दूसरी बातें की आज की डेट में यूपीएससी में अब बहुत ज्यादा लिखने की आवश्यकता नहीं है डेट 100 200 वर्ड्स के क्वेश्चन के आंसर साफ करने बहुत सोच-समझकर आराम आराम से लेकर अगर आपने देशों के बदले सवा सौ भी लिख दिया अगर आपने दोस्त गोबर लेकर 175 80 भी लिख दिया और खराब से खराब अगर आपने अच्छे तरीके से लिखा अच्छे विचारों को स्पष्ट कर दिया तो आप के नंबर होंगे बड़े आराम से धीरे धीरे लिखे जब तक और उसकी खूब प्रैक्टिस करेक्ट जरूरी नहीं है हमारा हैंडराइटिंग तभी खराब होता है जो हर पासवर्ड लोड होता है बहुत सारे क्वेश्चंस टाइम कम होता है और हम घबराहट को अपने सेटिंग को खराब करते हैं इन सब बातों को ध्यान में रखकर आराम से करें और आप भी अगर आपको कोई जिज्ञासा हो कुछ समझ में ना हो तो आप फिर मेरे से पूछे और निश्चित रूप से हम आपकी पूरी सहायता करेंगे ऑल द सॉरी बस फ्रॉम माय साइड थैंक यू वेरी मच

abodh sahi prashna aapne kiya hai sabko yah janana bahut aavashyak hai ki upsc pariksha mein jo pehla stage hai vaah films ka hai jisme likhne ka koi raajneeti nahi hai koi pareshani nahi hai aapko bus tick maaf karna hai aur aapko aage badh jana objective system mein jab aap subjective egjamineshans mein in karte hai jaise maine toh aapko likhne hote apne vicharon ko apne paksh ko logic score in sabon ko likhkar apni baaton ko vibhinn tarike se kalaatmak aadhaar par samikshatmak aadhaar par aalochanaatmak aadhaar par aapko tahe dil se apni baaton ko rakhna hota hai taki aapki jo parai hai vaah aapas mein pooche gaye sawalon se mile aur jhule sm1 aapko achi tarike se likhna acche shabdon ka use karna aur saath mein kuch is tarike se likhavat likhna taki aapki likhi hui batein parikshak tak pohch jaaye usko padh sake aapki is jigyasa hai ki kya likhavat kharab hone par R you p si examination mein koi fark padta dekhiye yah toh sambhav nahi hai aadmi ki pehchaan ki likhavat se bank mein hum log apna alag alag hastakshar karte signature karte hai aur ek signature se ek vyakti ki pehchaan hai toh hamare strokes aur hamare likhavat vaah bahut si batein alag alag thi lekin alag alag hone ke baad bhi vaah padhne yogya hoti hai kuch toh padhne yogya hoti aur kuch jo hai padhne yogya nahi hoti hai toh prashna yah hai ki aapko kidhar jana hai aapko kaisa bhi likhna hai kaise bhi stops ko likhne hai lekin aur regular stokes ko likhne hai aur aisa likhna hai jo aapko saamne waale aapke copy ko of kainsars ko padh sake agar vaah sahi maayne mein aap cancer ko par shak raha hai toh aapki vichar se avgat hai aur aapko vaah sahi ank dega agar aapne theek dhang se nahi likha vaah padhne yogya nahi hai toh vaah chahkar bhi aapko ant nahi dega aur aapke marks kaam aa jaenge jaha tak ka bus stand ja mein likhne ka sawaal hai ya kabhi kya hota hai ki jab pehli baar aap likh rahe hote hai toh yah ke practical problem hai ki aapne do line likha phir aapko lagane nahi hai start a good start very good start aap shuru kare aap do line ko kaat dete hai phir do line up likhna shuru karte hai phir do line ko kaat dete aisa karte karte pehle toh 3 questions mein agar aap pehli baar likh rahe hai examination toh aapko jhijhak si hoti hai aur aapke bahut kate kothe shuru kela inch hote hai in sab se bhi bachne ki avashyakta hai kyonki agar aapka impression shuruati daur mein aman maine aapse aapka naam poocha aur aap bolenge ji mera naam chahen vaah kisi bhi karan se ho koi bhi factor se ho aap baar baar apna naam galat karke kaat rahe hai aur phir apna naam sahi kar rahe hai toh vaah dekhne mein kaisa lagega isliye aapko is baat ka dhyan rakhna hai ek toh aapki likhavat padhne yogya honi chahiye dusri baat ki agar aap hindi aur english mein likh rahe hai toh hindi aur english mein bhi thode bahut grammar ka dhyan karte hue aur sajawat ke hisab se aapko apne vaakyon ka vinyas karna aavashyak hai yah nahi kahata ki ab bilkul hindi sahitya ke chatra ki tarah aapki hindi honi chahiye bilkul klisht bhasha honi chahiye aap bade aaram se bolchal ki bhasha mein likh sakte hai aur ho sakta hai ki ko pandey pasand ka mahina ho agar vaah 67 percent sattar percent bhi grammar chahiye chalega agar ja waale cell dealer of hindi sahitya ke vidyarthi agar aap hindi sahitya ki vidhi sahitya mein likh rahe hai toh sahitya mein aapko bilkul sahi sahi likhna aavashyak hoga nahi toh aapke marks kategi dusri baat yah hai ki acche acche chijon ko likhne ke liye achi baaton ko likhne ke liye uska theek dhang se aap usko project karna bahut important hai ise aap computer par type karte ho toh important ko underline karte ho ya phir aap inverted coma mein lete ho isi prakar se jawab likhoge toh ek toh sahi sahi likhna aisa likhna jo ki vaah sambhal ke kar sake jo pariksha ka course ko padh sake teesri baat important baaton ko project karna tha ki vo is baaton par zyada dhyan kar sake yah sab bada aavashyak hota hai hum ko uthane ke liye dusri baat hai ki kabhi kabhi kya hota hai ki ke vyaktiyon ko likhne time mein hath mein bahut paseena aa jata hai toh usme logo ko karna kya chahiye niche mein kuch kapda rakhna chahiye thank you vagera rakhna chahiye taki aapke pasine se aapke jo answer book hai vaah censor book par paseena na pade aur kokila na ho jaaye kabhi kabhi kya hota hai don jo vaah kuch log likhte hai toh vaah bilkul hi niche ki taraf likhte hai jaise shuruat agar unhone kiya toh vo likhte likhte likhte jo bilkul seedh mein likhkar niche ki taraf likhna shuru kar dete hai toh dont jo hai vaah nahi hona chahiye aap usko aap copy ko apne answer book ko thoda sa tedha karke likhen taki aapke likhavat bilkul seedhi rekha mein hoon na ki vaah niche ki taraf jaaye kyonki vaah niche ki taraf jana bhi accha nahi mana jata toh in sab tarike ka chijon ka dhyan rakhna padega aapko ek toh aur dusri batein ki aaj ki date mein upsc mein ab bahut zyada likhne ki avashyakta nahi hai date 100 200 words ke question ke answer saaf karne bahut soch samajhkar aaram aaram se lekar agar aapne deshon ke badle sava sau bhi likh diya agar aapne dost gobar lekar 175 80 bhi likh diya aur kharab se kharab agar aapne acche tarike se likha acche vicharon ko spasht kar diya toh aap ke number honge bade aaram se dhire dhire likhe jab tak aur uski khoob practice correct zaroori nahi hai hamara handwriting tabhi kharab hota hai jo har password load hota hai bahut saare questions time kam hota hai aur hum ghabarahat ko apne setting ko kharab karte hai in sab baaton ko dhyan mein rakhakar aaram se kare aur aap bhi agar aapko koi jigyasa ho kuch samajh mein na ho toh aap phir mere se pooche aur nishchit roop se hum aapki puri sahayta karenge all the sorry bus from my side thank you very match

अबोध सही प्रश्न आपने किया है सबको यह जानना बहुत आवश्यक है कि यूपीएससी परीक्षा में जो पहला

Romanized Version
Likes  114  Dislikes    views  2896
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपको किसने क्या लिखावट खराब होने का यूपीएससी के एग्जाम में कोई फर्क पड़ता है तो बताना चाहेंगे की लिखावट का फर्क हमारे जीवन में जरूर पड़ता है आप चाहे यूपीएससी का एग्जाम दे रहे हो चैट पूरी सब एग्जाम दे रहे हो तो इस स्कूल के जा कॉलेज के जाए कोई ओर से हर एक जगह अगर आपकी लिखावट अच्छी है तो आपको कुछ मार्क्स एक्स्ट्रा मिल ही जाते हैं जो एग्जाम में रोता है जो कॉपी चेक कर रहा होता है अगर आपकी लिखावट खराब है उसको खुश समझ में नहीं आ रहा है कि आपने क्या लिखा है आपने बहुत सामान लिखा है लेकिन हम पढ़ नहीं पा रहा है उसको दिक्कत आ रही है तो आप के मार्क्स कम हो ही जाते हैं धन्यवाद

aapko kisne kya likhavat kharab hone ka upsc ke exam mein koi fark padta hai toh batana chahenge ki likhavat ka fark hamare jeevan mein zaroor padta hai aap chahe upsc ka exam de rahe ho chat puri sab exam de rahe ho toh is school ke ja college ke jaye koi aur se har ek jagah agar aapki likhavat acchi hai toh aapko kuch marks extra mil hi jaate hain jo exam mein rota hai jo copy check kar raha hota hai agar aapki likhavat kharab hai usko khush samajh mein nahi aa raha hai ki aapne kya likha hai aapne bahut saamaan likha hai lekin hum padh nahi pa raha hai usko dikkat aa rahi hai toh aap ke marks kam ho hi jaate hain dhanyavad

आपको किसने क्या लिखावट खराब होने का यूपीएससी के एग्जाम में कोई फर्क पड़ता है तो बताना चाहे

Romanized Version
Likes  125  Dislikes    views  4941
WhatsApp_icon
user

shekhar11

Volunteer

0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी लिखावट की बात की जाए तो यूपी में जो मैथ पेपर होती है वह सब्जेक्टिव होती है वह डिस्क्रिप्टिव होती है वहां पर हमें आंसर लिखने होते हैं तो देखा जाए तो लिखावट की बात किया तो यहां पर बहुत पसंद करनी होती है लेकिन अब देखा जाए जो भी लिख रहे हैं अगर इडली पढ़ा जा सकता है समझा जा सकता है तो इस तरह से आप कहां पर देखा जाए तो ज्यादा ध्यान नहीं दी जाती है बस इतना पास रखनी चाहिए कि जो भी आप कंटेंट लिख रहे हैं वह उसे पढ़कर आसानी से समझा जा सके

vicky likhavat ki baat ki jaaye toh up mein jo math paper hoti hai vaah subjective hoti hai vaah Descriptive hoti hai wahan par hamein answer likhne hote hain toh dekha jaaye toh likhavat ki baat kiya toh yahan par bahut pasand karni hoti hai lekin ab dekha jaaye jo bhi likh rahe hain agar idli padha ja sakta hai samjha ja sakta hai toh is tarah se aap kahaan par dekha jaaye toh zyada dhyan nahi di jaati hai bus itna paas rakhni chahiye ki jo bhi aap content likh rahe hain vaah use padhakar aasani se samjha ja sake

विकी लिखावट की बात की जाए तो यूपी में जो मैथ पेपर होती है वह सब्जेक्टिव होती है वह डिस्क्र

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  12
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!