लोगों से बातचीत कैसे करें?...


play
user

Narinder Bhatia

Life Coach, Mentor, Blogger & Motivational Speaker

4:36

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन बातचीत कैसे करें से पहले आपको ही जाना जरूरी है कि हम बातचीत क्यों करते हैं हमारा मकसद क्या है बातचीत का कहीं ना कहीं हमारे दिमाग में यह धारणा बैठी हुई है कि बात का मकसद सिर्फ अपने विचार प्रकट करना अपनी सोच को ज्ञात करना तो इस धारणा को आप बदली और यह जाने की बातचीत का मकसद है कि जितने भी लोग उस बातचीत में इन वर्ल्ड हैं यह उसका हिस्सा है कहीं ना कहीं सबको यह लगे हैं उनको इस बातचीत से फायदा हुआ वह चीज मिली है जिस चीज की वह खोज कर रहे थे हो सकता है कि कुछ नया आईडिया या कोई दूसरी सोच दूसरा नजरिया वह चाहते हो हर कोई कुछ ना कुछ चाहता है बातचीत से यह जाने कि मैं बातचीत में क्यों हूं और जब आप बातचीत पर आते तो कहना कि अपने से ज्यादा आपको ध्यान रखना है दूसरे का कि इस बार से मेरे से बात करके दूसरे को वह मिल रहा है जो वह चाहता है उसी तरह यह भी आओ उसके बाद आप सोचें कि इस इंसान से बातचीत करके क्या मुझे भी वह मिल रहा है जो मैं चाहता हूं यह चाहती और कहीं ना कहीं बातचीत का यह मायने बिल्कुल ना मानें कि मुझे सिर्फ बोलना ही है बातचीत तो दो तरफा होती है तो इसलिए आपको यह ध्यान रखना है कि आप उतना ही बोलो जितना आवश्यक है और दूसरे के विचार भी सुने तभी फायदा है कि उनकी बातचीत समय लेता है बातचीत में एनर्जी जाते कहीं ना कहीं आप भी सोचेंगे कि अगर मैं किसी चीज में अपनी एनर्जी अपना टाइम दे रहा हूं या दे रही तो उससे मुझे वह मिले वह फायदा हो जो मैं चाहता हूं या चाहते इसलिए पहली बार जाने कि मैं इस बातचीत में क्यों जाना चाहता हूं या चाहती हूं दूसरा क्या मैं वह बोल रहा हूं या बोल रही है जो दूसरा व्यक्ति चाहता है और क्या मुझे वह मिल रहा है जो मुंह मैं चाहती हूं या चाहता हूं टीचर दूसरे में रुचि दिखाएं उसके हिसाब से अपनी बातचीत को घुमाएं अपने विचार प्रकट करें कहीं ना कहीं बातचीत पर यह तात्पर्य नहीं कि हम अपने विचार को ही सही माने और उसके लिए लड़ते ने बातचीत का मतलब है दूसरे के विचारों को भी सुने और उन्हें समझें और कुछ ना कुछ नया सीखे अब उसके बाद में बात करने के लिए कहीं आप तो अपनी बॉडी लैंग्वेज पर ध्यान देना है बातचीत हमेशा एक कॉन्फिडेंट तरीके से करने से नर्वस होने की जरूरत नहीं है कि यह बातचीत है बातचीत विचारों का आदान-प्रदान है इसलिए और विचारों का आदान-प्रदान कुछ भी हो सकता है हमारे विचार दूसरे से भिन्न हो सकते हैं इसलिए निसंकोच अपने विचारों को प्रकट करें बिना जी जाते तो विचार जब आप प्रकट करेंगे तो यह कॉन्फिडेंस बनाए रखें दूसरे अपनी बॉडी लैंग्वेज पॉलिटिक रखिए हम गलती करते हैं कि हम बहुत कम समय में किसी भी वजह से हो सकता हम धर्म सुधरे हुए हम बहुत तेजी से बोलना चाहते हैं बोलने लगते हैं और कहीं ना कहीं यह करते हुए हमारी जो बातचीत है वह खराब हो जाती है कहीं ना कहीं हम हकलाने लगते हैं कहीं ना कहीं हमारी जो अक्षांश की प्रक्रिया वह बहुत तेज हो जाती है इसलिए बिल्कुल आराम से सांस को नार्मल रखते हुए अब अपने विचार प्रकट कर दूसरे सीबीआई कांटेक्ट बनाकर रखेंगे सिर्फ आपकी विचार प्रकट हो रहे कोई एक इसी सोच की लड़ाई नहीं हो रही अगर सोच भी लड़ाई तो आप अपनी सोच अपने विचार अपने साथ उसके सामने रखे और उसको उसके विचार आपके सामने रखने दीजिए कहीं ना कहीं यह मत मानिए कि यह मेरी ईगो के विपरीत है यह बात यह गलत सही के चक्कर में ना पड़ें बातचीत सिर्फ एक आदान-प्रदान ही आप मानते चले बॉडी लैंग्वेज बिल्कुल पॉजिटिव रखी है आईकॉन पैक बनाकर रखी है और कहीं ना कहीं अपने कई बार होता कि हम बोलते हुए कहां चलाना शुरु कर रहे हो तो बेझिझक आराम से अपनी बहनों को कंट्रोल करते हुए आप बातचीत में शामिल हुई है और अपने से ज्यादा दूसरे को सोचें कि इसको मैं कितना सुन रहा हूं कहीं ना कहीं लिसनिंग का भी है टेस्ट होता है बाकी चीजें आप ध्यान में रखी है उसे देखी है आप किसी भी वार्तालाप में कितने अच्छे तरीके से शामिल हो सकते हैं

lekin batchit kaise karein se pehle aapko hi jana zaroori hai ki hum batchit kyon karte hai hamara maksad kya hai batchit ka kahin na kahin hamare dimag mein yeh dharana baithi hui hai ki baat ka maksad sirf apne vichar prakat karna apni soch ko gyaat karna toh is dharana ko aap badli aur yeh jaane ki batchit ka maksad hai ki jitne bhi log us batchit mein in world hai yeh uska hissa hai kahin na kahin sabko yeh lage hai unko is batchit se fayda hua wah cheez mili hai jis cheez ki wah khoj kar rahe the ho sakta hai ki kuch naya idea ya koi dusri soch doosra najariya wah chahte ho har koi kuch na kuch chahta hai batchit se yeh jaane ki main batchit mein kyon hoon aur jab aap batchit par aate toh kehna ki apne se zyada aapko dhyan rakhna hai dusre ka ki is baar se mere se baat karke dusre ko wah mil raha hai jo wah chahta hai usi tarah yeh bhi aao uske baad aap sochen ki is insaan se batchit karke kya mujhe bhi wah mil raha hai jo main chahta hoon yeh chahti aur kahin na kahin batchit ka yeh maayne bilkul na manen ki mujhe sirf bolna hi hai batchit toh do tarafa hoti hai toh isliye aapko yeh dhyan rakhna hai ki aap utana hi bolo jitna aavashyak hai aur dusre ke vichar bhi sune tabhi fayda hai ki unki batchit samay leta hai batchit mein energy jaate kahin na kahin aap bhi sochenge ki agar main kisi cheez mein apni energy apna time de raha hoon ya de rahi toh usse mujhe wah mile wah fayda ho jo main chahta hoon ya chahte isliye pehli baar jaane ki main is batchit mein kyon jana chahta hoon ya chahti hoon doosra kya main wah bol raha hoon ya bol rahi hai jo doosra vyakti chahta hai aur kya mujhe wah mil raha hai jo mooh main chahti hoon ya chahta hoon teacher dusre mein ruchi dikhaen uske hisab se apni batchit ko ghumaen apne vichar prakat karein kahin na kahin batchit par yeh tatparya nahi ki hum apne vichar ko hi sahi maane aur uske liye ladte ne batchit ka matlab hai dusre ke vicharon ko bhi sune aur unhein samajhe aur kuch na kuch naya sikhe ab uske baad mein baat karne ke liye kahin aap toh apni body language par dhyan dena hai batchit hamesha ek confident tarike se karne se nervous hone ki zarurat nahi hai ki yeh batchit hai batchit vicharon ka aadan pradan hai isliye aur vicharon ka aadan pradan kuch bhi ho sakta hai hamare vichar dusre se bhinn ho sakte hai isliye nisankoch apne vicharon ko prakat karein bina ji jaate toh vichar jab aap prakat karenge toh yeh confidence banaye rakhen dusre apni body language politic rakhiye hum galti karte hai ki hum bahut kam samay mein kisi bhi wajah se ho sakta hum dharm sudhre hue hum bahut teji se bolna chahte hai bolne lagte hai aur kahin na kahin yeh karte hue hamari jo batchit hai wah kharab ho jati hai kahin na kahin hum hakalane lagte hai kahin na kahin hamari jo akshansh ki prakriya wah bahut tez ho jati hai isliye bilkul aaram se saans ko normal rakhte hue ab apne vichar prakat kar dusre cbi Contact banakar rakhenge sirf aapki vichar prakat ho rahe koi ek isi soch ki ladai nahi ho rahi agar soch bhi ladai toh aap apni soch apne vichar apne saath uske saamne rakhe aur usko uske vichar aapke saamne rakhne dijiye kahin na kahin yeh mat maniye ki yeh meri ego ke viprit hai yeh baat yeh galat sahi ke chakkar mein na pade batchit sirf ek aadan pradan hi aap maante chale body language bilkul positive rakhi hai aikan pack banakar rakhi hai aur kahin na kahin apne kai baar hota ki hum bolte hue kahaan chalana shuru kar rahe ho toh bejhijhak aaram se apni bahanon ko control karte hue aap batchit mein shaamil hui hai aur apne se zyada dusre ko sochen ki isko main kitna sun raha hoon kahin na kahin listening ka bhi hai test hota hai baki cheezen aap dhyan mein rakhi hai use dekhi hai aap kisi bhi vartalaap mein kitne acche tarike se shaamil ho sakte hain

लेकिन बातचीत कैसे करें से पहले आपको ही जाना जरूरी है कि हम बातचीत क्यों करते हैं हमारा मकस

Romanized Version
Likes  155  Dislikes    views  1497
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!