आप भारतीय सोच के बारे में क्या नापसंद करते है?...


user

Brajesh Mishra

Politician

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय सोच के बारे में हम क्या पसंद करते हैं क्या नापसंद करते हैं यह प्रश्न ही बड़ा आना और तिरछा है क्योंकि एकता में अनेकता और पूरा भारत तमाम तरीके की सभ्यता और तमाम तरीके के संस्कृतियों और ढेर सारी अपने धार्मिक मान्यताओं के अनुरूप हमारा देश चलता है लेकिन एक बात जरूर कही जा सकती है कि हमारे देश में जो 70 साल की आबादी में एक तुष्टीकरण की घटिया राजनीति की जा रही थी उसको हम ना पसंद करते हैं तुष्टिकरण के बजाय पुष्टिकरण और उसके अलावा अगर कुछ किया जा सकता है तो देश को विकास के रास्ते पर लाने के लिए संघ के साथ बराबर का व्यवहार करना पड़ेगा नहीं तो हम को भारतीय सोच जो आरक्षण के माध्यम से विकास की बात करते हैं जो अनुदान ओं के माध्यम से विकास की बात करते हैं जो सरकारी बैंकों सरकार के धन और बैंकों के धन से जनता को ढेर सारी सुविधाएं जुटाने का काम करते हैं मुफ्त खोरी की आदत डालने का काम करते हैं इसको हम ना पसंद करते हैं यह भारतीय सोच जो हमारे देश की जनता की सोच है जो जितना ही हमको फ्री में खिलाएगा जितना ही हमको बैठे-बैठे हमको पैसा देगा वह हम हम उसको वोट करेंगे उसकी सरकार लाएंगे इस सोच को हम ना पसंद करते हैं

bharatiya soch ke bare me hum kya pasand karte hain kya napasand karte hain yah prashna hi bada aana aur teraksha hai kyonki ekta me anekata aur pura bharat tamaam tarike ki sabhyata aur tamaam tarike ke sanskritiyon aur dher saari apne dharmik manyataon ke anurup hamara desh chalta hai lekin ek baat zaroor kahi ja sakti hai ki hamare desh me jo 70 saal ki aabadi me ek tushtikaran ki ghatiya raajneeti ki ja rahi thi usko hum na pasand karte hain Tustikaran ke bajay pushtikaran aur uske alava agar kuch kiya ja sakta hai toh desh ko vikas ke raste par lane ke liye sangh ke saath barabar ka vyavhar karna padega nahi toh hum ko bharatiya soch jo aarakshan ke madhyam se vikas ki baat karte hain jo anudan on ke madhyam se vikas ki baat karte hain jo sarkari bankon sarkar ke dhan aur bankon ke dhan se janta ko dher saari suvidhaen jutane ka kaam karte hain muft khori ki aadat dalne ka kaam karte hain isko hum na pasand karte hain yah bharatiya soch jo hamare desh ki janta ki soch hai jo jitna hi hamko free me khilaega jitna hi hamko baithe baithe hamko paisa dega vaah hum hum usko vote karenge uski sarkar layenge is soch ko hum na pasand karte hain

भारतीय सोच के बारे में हम क्या पसंद करते हैं क्या नापसंद करते हैं यह प्रश्न ही बड़ा आना और

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  87
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
छोटी बहू सीरियल भेजिए ; छोटी बहू सीरियल भेजिए तो ; सुदीपा पिंकी ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!