नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी को किस वजह से मारा था?...


play
user
0:21

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नाथूराम गोडसे ने उन पर काम कर रहे हैं और में जाकर हमको परेशानी का सबब

nathuram godse ne un par kaam kar rahe hain aur mein jaakar hamko pareshani ka sabab

नाथूराम गोडसे ने उन पर काम कर रहे हैं और में जाकर हमको परेशानी का सबब

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  679
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप ने सवाल किया है कि नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी को किस वजह से मारा था तो ऐसी दवा हुआ कि नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी को किसने मारा था कि गुटके को लगता था कि वह महात्मा गांधी मुस्लिमों की ओर ज्यादा झुक रहे हैं कोर्ट से बंटवारा नहीं चाहते थे इसी वजह से उन्होंने महात्मा गांधी को मारा था

aap ne sawaal kiya hai ki nathuram godse ne mahatma gandhi ko kis wajah se mara tha toh aisi dawa hua ki nathuram godse ne mahatma gandhi ko kisne mara tha ki gutake ko lagta tha ki vaah mahatma gandhi muslimo ki aur zyada jhuk rahe hain court se batwara nahi chahte the isi wajah se unhone mahatma gandhi ko mara tha

आप ने सवाल किया है कि नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी को किस वजह से मारा था तो ऐसी दवा हुआ

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  552
WhatsApp_icon
user

User

Teacher

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी को किस वजह से मारा तो दोस्तों नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी को मारने की वजह यह थी कि बुड्ढे के हिसाब से महात्मा गांधी का झुकाव मुस्लिमों की तरफ हो रहा था महात्मा गांधी की प्रथम विभाजन की जिम्मेदार थे वह हिंदुओं को महत्व नहीं देते थे इन्हीं सब बातों को लेकर के गोडसे के मन में महात्मा के प्रति आगे ना भरी है उसने हत्या की

aapka prashna hai nathuram godse ne mahatma gandhi ko kis wajah se mara toh doston nathuram godse ne mahatma gandhi ko maarne ki wajah yah thi ki buddhe ke hisab se mahatma gandhi ka jhukaav muslimo ki taraf ho raha tha mahatma gandhi ki pratham vibhajan ki zimmedar the vaah hinduon ko mahatva nahi dete the inhin sab baaton ko lekar ke godse ke man me mahatma ke prati aage na bhari hai usne hatya ki

आपका प्रश्न है नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी को किस वजह से मारा तो दोस्तों नाथूराम गोडसे

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  1305
WhatsApp_icon
user
0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी को किस वजह से मारा तो दोस्तों नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी को मारने की वजह यह थी कि उनके हिसाब से महात्मा गांधी का झुकाव मुस्लिमों की तरफ हो रहा था महात्मा गांधी प्रथम विभाजन पर जिम्मेदार थे वह हिंदुओं को मात्र नहीं देते थे इन्हीं सब बातों को लेकर के गोडसे के मन में महात्मा के प्रति साधना भरी है उसने हत्या की

aapka prashna hai nathuram godse ne mahatma gandhi ko kis wajah se mara toh doston nathuram godse ne mahatma gandhi ko maarne ki wajah yah thi ki unke hisab se mahatma gandhi ka jhukaav muslimo ki taraf ho raha tha mahatma gandhi pratham vibhajan par zimmedar the vaah hinduon ko matra nahi dete the inhin sab baaton ko lekar ke godse ke man me mahatma ke prati sadhna bhari hai usne hatya ki

आपका प्रश्न है नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी को किस वजह से मारा तो दोस्तों नाथूराम गोडसे

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  759
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी नाथूराम गोडसे जिन्होंने महात्मा गांधी को 30 जनवरी को मार दिया था उनके मारने के कई सारे कारण क्या कर रहे हो सर पहला कारण देखे तो अंधी जो तेरे उस समय में सबसे ज्यादा ही फ्रेंडशिप भारतीय थे कि जिस प्रकार से उनके दोष विचार यह था कि वह अंग्रेजों के खिलाफ जो है एकदम शांतिपूर्ण तरीके से घटा मांगेंगे या फिर अहिंसा जो है वह करेंगे जितना भी से कितना बैलेंस हम नहीं करेंगे शांतिपूर्ण तरीके से हम हर एक चीज का प्रदाह प्रोटेस्ट करेंगे तो यह चीजों से शुरुआत में मंत्र नाथूराम गोडसे को अच्छी लगने लगी इस चीज को पाती अखबार करते थे गांधी जी को लेकिन जैसे समय चलता क्या इस चीज से ज्यादा इरिटेट होने लग गए तो सबसे पहला कारण नहीं था दूसरा कारण यह था कि गांधीजी जब जिंदा थे उन्होंने इस जीत गई थी कि भारत का बंटवारा नहीं होना चाहिए और जब तक है तब तक भारत का बंटवारा नहीं होने देंगे और अगर उनके मरने के बाद भी जो है वह भारत के पटवारी के खिलाफ रहेंगे तो यह चीज चल रही थी और खाना खा पर यह चीज जो है भारतीय लोगों में भी फेल है जो भारत के लोगों को भी उस समय में बंटवारा नहीं चाहता था लेकिन नथुराम गोडसे को जय वापस से इस चीज की अच्छी नहीं लगी गांधी जी की और खाना कहां पर शुरू हुआ नहीं बाद में कहा कि गलती के कारण जय भारत में बंटवारा हुआ भाई नहीं गर्म और एक कारण दिखे तो कौन से ब्राह्मण थे और वह खुद को एक बहुत ही बड़ा हिंदुत्व लीडर मानते थे और सिर्फ वही नहीं आज इस प्रकार से आउट गोडसे ने जो है महात्मा गांधी को मारा वह भी उन्होंने कुछ हिंदुओं के मदद से मारा और उन्होंने जो है यह कहां कि हमने जो किया है वह बिल्कुल अच्छा किया है और मुस्लिमों के लिए बहुत खिलाफ है जिसके कारण उन्होंने गांधी जी को मारकर गांधी जी जो थे वह ज्यादा धर्म में नहीं मानते थे भाषा सिनेमा

dekhi nathuram godse jinhone mahatma gandhi ko 30 january ko maar diya tha unke maarne ke kai saare karan kya kar rahe ho sir pehla karan dekhe toh andhi jo tere us samay mein sabse zyada hi friendship bharatiya the ki jis prakar se unke dosh vichar yah tha ki vaah angrejo ke khilaf jo hai ekdam shantipurna tarike se ghata mangege ya phir ahinsa jo hai vaah karenge jitna bhi se kitna balance hum nahi karenge shantipurna tarike se hum har ek cheez ka pradah protest karenge toh yah chijon se shuruat mein mantra nathuram godse ko achi lagne lagi is cheez ko pati akhbaar karte the gandhi ji ko lekin jaise samay chalta kya is cheez se zyada irritate hone lag gaye toh sabse pehla karan nahi tha doosra karan yah tha ki gandhiji jab zinda the unhone is jeet gayi thi ki bharat ka batwara nahi hona chahiye aur jab tak hai tab tak bharat ka batwara nahi hone denge aur agar unke marne ke baad bhi jo hai vaah bharat ke patvari ke khilaf rahenge toh yah cheez chal rahi thi aur khana kha par yah cheez jo hai bharatiya logo mein bhi fail hai jo bharat ke logo ko bhi us samay mein batwara nahi chahta tha lekin nathuram godse ko jai wapas se is cheez ki achi nahi lagi gandhi ji ki aur khana kahaan par shuru hua nahi baad mein kaha ki galti ke karan jai bharat mein batwara hua bhai nahi garam aur ek karan dikhe toh kaunsi brahman the aur vaah khud ko ek bahut hi bada hindutv leader maante the aur sirf wahi nahi aaj is prakar se out godse ne jo hai mahatma gandhi ko mara vaah bhi unhone kuch hinduon ke madad se mara aur unhone jo hai yah kahaan ki humne jo kiya hai vaah bilkul accha kiya hai aur muslimo ke liye bahut khilaf hai jiske karan unhone gandhi ji ko marakar gandhi ji jo the vaah zyada dharm mein nahi maante the bhasha cinema

देखी नाथूराम गोडसे जिन्होंने महात्मा गांधी को 30 जनवरी को मार दिया था उनके मारने के कई सार

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  206
WhatsApp_icon
user

munmun

Volunteer

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी महात्मा गांधी को नाथूराम गोडसे ने इसलिए मारा क्योंकि और नाथूराम गोडसे को यह लगा कि जो महात्मा गांधी है वह मुसलमान की साइड ले रहे हैं तो क्योंकि और नाथूराम गोडसे जो थे हिंदू कट्टर हिंदू थे

vicky mahatma gandhi ko nathuram godse ne isliye mara kyonki aur nathuram godse ko yah laga ki jo mahatma gandhi hai vaah musalman ki side le rahe hain toh kyonki aur nathuram godse jo the hindu kattar hindu the

विकी महात्मा गांधी को नाथूराम गोडसे ने इसलिए मारा क्योंकि और नाथूराम गोडसे को यह लगा कि जो

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नाथूराम गोडसे को और गांधी जी का एक समर्थक कहा जाता था और रोम नाथूराम गोडसे और गांधी जी के जो वर्क नीतियां थी और जिस तरह से वह रहते थे उनकी लाइफ से बहुत ज्यादा इंस्पायर्ड थे और उनको अपना एक तरफ से गुरु मानते थे लेकिन ना तो यह बात है कि नाथूराम गोडसे ने गांधी जी को क्यों मारा तो इसकी बहुत सारी अटकले लगाई जाती है उसके बहुत सारे कारण है जिसमें से जो सच्चा कारणवश तक किसी को भी नहीं पता है तो वह जो कारण है वह मैं आपको बताना चाहूंगी जो अटकले लगाई जाती है वह सकता है इस में से कोई भी कारण सच भी हो पर हम यह नहीं कह सकती को पूरी तरह से सच है लेकिन जो आज कुछ लोग मानते हैं वह यह है कि कुछ लोगों का कहना है कि नाथूराम गोडसे ने गांधी जी को पसंद करते थे लेकिन वह उनके विचारों को ज्यादा पसंद करते थे ना कि उनको ऐसा पोस्ट तो जब तुमको पता चला कि ना गांधी जी अहिंसा वादी है और सब कुछ है तो उन लोगों को उन के भावनात्मक जुड़ाव महसूस हुआ नाथूराम गोडसे को और उनके समर्थक बन गए लेकिन एक बार जब उनको यह पता चला कि गांधीजी की वजह से हमारा देश आजाद आजाद नहीं हो पा रहे हो गांधीजी कैसा एक्ट बना रहे हैं जिसकी वजह से हम लोग कभी भी ब्रिटिश उसकी चंगुल है या उनके कंट्रोल से आजाद नहीं हो सकते हैं तो इसी वजह से गांधी जी को उन्होंने मार दिया क्योंकि गांधीजी कानून बनाने जा रहे थे जिसमें ब्रिटिशर्स और इंडियंस को एक बराबर माना जाएगा और ब्रिटिश हम पर राज करते रहेंगे और दूसरी बात यह थी कि कुछ लोग कहते हैं कि ब्रिटिश ने ही गांधी जी को मरवाया है नाथूराम गोडसे को पैसे देकर तुझे पुकार दोनों कारण है जो गांधी जी को नाथूराम गोडसे ने मारा अब इसमें सच क्या है और झूठ क्या इसका अभी भी कोई भी पता नहीं है लेकिन इन्हीं में से कुछ सच है

nathuram godse ko aur gandhi ji ka ek samarthak kaha jata tha aur roam nathuram godse aur gandhi ji ke jo work nitiyan thi aur jis tarah se vaah rehte the unki life se bahut zyada inspired the aur unko apna ek taraf se guru maante the lekin na toh yah baat hai ki nathuram godse ne gandhi ji ko kyon mara toh iski bahut saree atakale lagayi jaati hai uske bahut saare karan hai jisme se jo saccha karanvash tak kisi ko bhi nahi pata hai toh vaah jo karan hai vaah main aapko bataana chahungi jo atakale lagayi jaati hai vaah sakta hai is mein se koi bhi karan sach bhi ho par hum yah nahi keh sakti ko puri tarah se sach hai lekin jo aaj kuch log maante hain vaah yah hai ki kuch logo ka kehna hai ki nathuram godse ne gandhi ji ko pasand karte the lekin vaah unke vicharon ko zyada pasand karte the na ki unko aisa post toh jab tumko pata chala ki na gandhi ji ahinsa wadi hai aur sab kuch hai toh un logo ko un ke bhavnatmak judav mehsus hua nathuram godse ko aur unke samarthak ban gaye lekin ek baar jab unko yah pata chala ki gandhiji ki wajah se hamara desh azad azad nahi ho paa rahe ho gandhiji kaisa act bana rahe hain jiski wajah se hum log kabhi bhi british uski changul hai ya unke control se azad nahi ho sakte hain toh isi wajah se gandhi ji ko unhone maar diya kyonki gandhiji kanoon banane ja rahe the jisme britishers aur indians ko ek barabar mana jaega aur british hum par raj karte rahenge aur dusri baat yah thi ki kuch log kehte hain ki british ne hi gandhi ji ko marwaya hai nathuram godse ko paise dekar tujhe pukaar dono karan hai jo gandhi ji ko nathuram godse ne mara ab isme sach kya hai aur jhuth kya iska abhi bhi koi bhi pata nahi hai lekin inhin mein se kuch sach hai

नाथूराम गोडसे को और गांधी जी का एक समर्थक कहा जाता था और रोम नाथूराम गोडसे और गांधी जी के

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  321
WhatsApp_icon
user

Gunjan

Junior Volunteer

0:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महात्मा गांधी को जो है वह नाथूराम गोडसे ने क्यों मारा था तू जिस तरीके से जो है वह देश को विभाजित कर दिया गया था तो उस कारण से जो है वह बहुत ज्यादा लोग को देखे तो ऐसे कारण है उन्होंने दिया था

mahatma gandhi ko jo hai vaah nathuram godse ne kyon mara tha tu jis tarike se jo hai vaah desh ko vibhajit kar diya gaya tha toh us karan se jo hai vaah bahut zyada log ko dekhe toh aise karan hai unhone diya tha

महात्मा गांधी को जो है वह नाथूराम गोडसे ने क्यों मारा था तू जिस तरीके से जो है वह देश को व

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  352
WhatsApp_icon
user

Preetisingh

Junior Volunteer

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नाथूराम एक हिंदू और हिंदूवादी कार्यकर्ता और पत्रकार भी थे वह हिंदूवादी को सपोर्ट करते हैं विभाजन के बाद पाकिस्तानी ₹550000000 मांगे थे भारत सरकार ने पहले तो उसे देने से इंकार कर दिया लेकिन गांधीजी के दबाव में रुपए पाकिस्तान को दे दिए इस बात को लेकर आने हिंदी में कोच्चि कोच्चि की तरह गांधीजी सेना राष्ट्रीय इस्पात के गोडसे ने गांधीजी को मारा

nathuram ek hindu aur hinduvaadi karyakarta aur patrakar bhi the vaah hinduvaadi ko support karte hain vibhajan ke baad pakistani Rs mange the bharat sarkar ne pehle toh use dene se inkar kar diya lekin gandhiji ke dabaav mein rupaye pakistan ko de diye is baat ko lekar aane hindi mein Kochi Kochi ki tarah gandhiji sena rashtriya ispaat ke godse ne gandhiji ko mara

नाथूराम एक हिंदू और हिंदूवादी कार्यकर्ता और पत्रकार भी थे वह हिंदूवादी को सपोर्ट करते हैं

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  390
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!