दिवाली वाले दिन राम की पूजा क्यों नहीं करते, लक्ष्मी और गणेश की पूजा क्यों करते हैं?...


user

Pramod Kushwaha

famous Motivational Guru N Painter

1:06
Play

Likes  54  Dislikes    views  1861
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr Kanahaiya

Dr Kanahaiya Reki Grand Masstr Apt .Sujok .Homyopathy .

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उर्दू लक्ष्मी पूजन की तैयारियां युक्त और दीपावली को पहली बार तू ही मेरा नाम था राजा बलि राजा बलि ने पहली बार किसी का नाम रखा गया है रामजी रामजी धनबाद को भूल गए तो ऐसा में दीपावली दीपावली बनाना बंद कर दिया जब राम जी दोस्त के आर आई एस द्वारा दीपावली तोहार बनाना चालू होगा करवा चौथ का त्यौहार

urdu laxmi pujan ki taiyariya yukt aur deepawali ko pehli baar tu hi mera naam tha raja bali raja bali ne pehli baar kisi ka naam rakha gaya hai ramji ramji dhanbad ko bhool gaye toh aisa mein deepawali deepawali banana band kar diya jab ram ji dost ke R I s dwara deepawali tohar banana chaalu hoga karva chauth ka tyohar

उर्दू लक्ष्मी पूजन की तैयारियां युक्त और दीपावली को पहली बार तू ही मेरा नाम था राजा बलि रा

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  789
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दीपावली का पर्व का अधिकार से मनाया जाता है यह संसार में खुशी का प्रतीक माना गया है इस त्योहार का अर्थ है दीपों की रोशनी से तमिल यानी कि अंधकार को हराना इससे और भी कई इतिहास जुड़े हुए हैं इसी दिन भगवान श्री कृष्ण ने अपने शरीर का त्याग किया था जैन मत के अनुसार भगवान श्री महावीर स्वामी ने इसी दिन निर्माण को प्राप्त किया था स्वामी रामदेव का जन्म इसी दिन हुआ और इसी दिन उन्होंने जलसमाधि भी ली थी मैं श्री दयानंद सरस्वती ने भी इसी दिन निर्वाण प्राप्त किया था दीपावली सतयुग में भी मनाई जाती थी दीपावली का त्यौहार शास्त्रों के अनुसार 3 महारथियों कालरात्रि महारात्रि वह मोहरात्रि से बना हुआ है आज प्रत्येक मानव मुंबई डूबा हुआ है अतः इस मोह रूपी अंधकार को भगाने के लिए अमावस्या के घने अंधकार में दीपोत्सव के द्वारा रोशनी की जाती है दीपावली लक्ष्मी जी के साथ गणेश जी की भी पूजा होती है क्योंकि गणेश जी को उन का मानस पुत्र माना गया है जो प्रार्थना करते हैं कि जिस तरह माता लक्ष्मी ने अपने पुत्र के साथ रहती है वैसे ही हमारे जीवन में भी रहे और धन्य धान्य से हमारा जीवन सुखी करें

deepawali ka parv ka adhikaar se manaya jata hai yah sansar mein khushi ka prateek mana gaya hai is tyohar ka arth hai dipon ki roshni se tamil yani ki andhakar ko harana isse aur bhi kai itihas jude hue hain isi din bhagwan shri krishna ne apne sharir ka tyag kiya tha jain mat ke anusaar bhagwan shri mahavir swami ne isi din nirmaan ko prapt kiya tha swami ramdev ka janam isi din hua aur isi din unhone jalasmadhi bhi li thi main shri dayanand saraswati ne bhi isi din nirvan prapt kiya tha deepawali satayug mein bhi manai jaati thi deepawali ka tyohar shastron ke anusaar 3 maharthiyon kalratri maharatri vaah mohratri se bana hua hai aaj pratyek manav mumbai dooba hua hai atah is moh rupee andhakar ko bhagane ke liye amavasya ke ghane andhakar mein dipotsav ke dwara roshni ki jaati hai deepawali laxmi ji ke saath ganesh ji ki bhi puja hoti hai kyonki ganesh ji ko un ka manas putra mana gaya hai jo prarthna karte hain ki jis tarah mata laxmi ne apne putra ke saath rehti hai waise hi hamare jeevan mein bhi rahe aur dhanya dhanya se hamara jeevan sukhi karen

दीपावली का पर्व का अधिकार से मनाया जाता है यह संसार में खुशी का प्रतीक माना गया है इस त्यो

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  236
WhatsApp_icon
user
0:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लक्ष्मी और गणेश जी की सबसे पहले शास्त्रों में लिखा है कि कोई भी शुभ कार्य करने से पहले हमको गणेश जी की पूजा करते हो लक्ष्मी जी क्यों पैसे का से लेकर आने का नहीं है कि रामचंद्र जी को का तो वह आईटी अब तो 16 साल बाद लौट के आया था नहीं बहाना बना रखी है लोगों ने आह्वान करने के लिए किसी भी किसान के लिए सबसे पहले हमको गणेश की पूजा करनी होती इतनी जी की पूजा की जाती है और की धमकी

laxmi aur ganesh ji ki sabse pehle shashtro mein likha hai ki koi bhi shubha karya karne se pehle hamko ganesh ji ki puja karte ho laxmi ji kyon paise ka se lekar aane ka nahi hai ki ramachandra ji ko ka toh wah it ab toh 16 saal baad lot ke aaya tha nahi bahana bana rakhi hai logo ne aahvaan karne ke liye kisi bhi kisan ke liye sabse pehle hamko ganesh ki puja karni hoti itni ji ki puja ki jati hai aur ki dhamki

लक्ष्मी और गणेश जी की सबसे पहले शास्त्रों में लिखा है कि कोई भी शुभ कार्य करने से पहले हमक

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  450
WhatsApp_icon
play
user

Ghanshyamvan

मंदिर सेवा

0:57

Likes  11  Dislikes    views  257
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
दिवाली रा राम राम ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!