भारत और चीन को आज़ादी लगभग एक साथ मिली, लेकिन अभी भी चीन भारत से आगे है, क्यों?...


play
user

Ghanshyam Mehar

Indian Politician

0:58

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे तू राजनीतिक बहस कांग्रेस के शासन काल में भारतीय जनता पार्टी की सरकार राजनीति में पक्ष और विपक्ष की पहली सरकार में आने के बाद में पौधों को वितरण करते हैं उन्हीं ग्रुपों पर सट्टा मटका

hamare tu raajnitik bahas congress ke shasan kaal mein bharatiya janta party ki sarkar rajneeti mein paksh aur vipaksh ki pehli sarkar mein aane ke baad mein paudho ko vitaran karte hain unhin grupon par satta matka

हमारे तू राजनीतिक बहस कांग्रेस के शासन काल में भारतीय जनता पार्टी की सरकार राजनीति में पक्

Romanized Version
Likes  62  Dislikes    views  687
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

MonuTiwari

Little Businessman And Motivational Teacher

2:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार जी आप का प्रश्न है भारत और चीन को आजादी लगभग एक साथ मिली लेकिन अभी भी चिन्हा से आगे है क्यों तो हम आपको बताते हैं हजारी से लोग एक साथ ही मिली है लेकिन चीन एक ऐसा देश है जो बहुत ही विकसित और बहुत ही चालाक पर है वह अपने अपने आप को एक बटा हुआ है वहां के प्रत्येक नागरिक काम करते हैं वह किसी भी काम को करने के लिए एकजुट हो जाते हैं और किसी काम को साधारण तरीके से खोज के करने का प्रयास करते हैं प्रत्येक काम को योजना पूर्व करते हैं जिसके कारण धीरे-धीरे करके वहां के लोग भाग से बहुत आगे हैं चीन की सरकार और चीन के नागरिक बहुत ही चतुर चाहा कि से अपने आप को आगे बढ़ा रहा है शिव यही नहीं चीन का एरिया भी सबसे बड़ा एरिया है प्रथम स्थान किस चीज का एरिया है इसका भी एक प्रमुख कारण है वह अपने एरिया को अपने विस्तार को दिन पर दिन प्रतिदिन आगे बढ़ता गया है वह चाहा जिसे चाहा कि क्या अपनी चतुराई की वजह से धीरे-धीरे करके अपने एरिया को दिन प्रतिदिन आगे बढ़ाता गया और अपने नागरिकों में एक प्रकार की विश्वास देते हुए लोगों में चतुर्थ आहट आ गया जिसकी वजह से चीन अपने भाई से अत्यधिक आगे हैं आभार अपना जब भारत की आजादी हुई थी हुई थी इसकी व्यवस्था अत्यधिक रूप से बिगड़ गई थी इसकी राजव्यवस्था आवाज में रुक्मणी मच गई थी अब भारत में कम पैसे कम करेंसी होने के कारण हर दिन प्रतिदिन पिछड़ा गया चीन की आगे बढ़ने की व्यवस्था वहां का लोकतंत्र शासन और वहां का नागरिक है जो चीन को धीरे धीरे एक विकसित देश के रूप में डाल चुके हैं लेकिन भारत आजादी के बाद से धीरे-धीरे दिन प्रतिदिन पिछ्रता रहा क्योंकि भारत के पास पैसे की कमी अनाज की कमी अत्यधिक लोगों की मृत्यु के कारण भारत पर छा गया लेकिन ऐसा नहीं है अब अपना भाग भी धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा है विकास तभी आगे बढ़ता जा रहा है शिखर पर पहुंचा जा रहा है अब ऐसा नहीं है कि भाग पीछे हैं अब हाथ भी दिए थे करके आगे बढ़ रहा है चीन को भी पीछे छोड़ देगा ऐसा अनुभव लगाया जा रहा है लेकिन बात चेंज करें तो यह बहुत ही चतुर्दशी अपनी इच्छा अनुसार तरीके से काम करता है अगर आपको किसी और पर ताकि सुझाव चाहिए तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं हम आपके कमेंट का रिप्लाई जरूर करेंगे जी नमस्कार

namaskar ji aap ka prashna hai bharat aur china ko azadi lagbhag ek saath mili lekin abhi bhi chinha se aage hai kyon toh hum aapko batatey hain hazari se log ek saath hi mili hai lekin china ek aisa desh hai jo bahut hi viksit aur bahut hi chalak par hai vaah apne apne aap ko ek bataa hua hai wahan ke pratyek nagarik kaam karte hain vaah kisi bhi kaam ko karne ke liye ekjut ho jaate hain aur kisi kaam ko sadhaaran tarike se khoj ke karne ka prayas karte hain pratyek kaam ko yojana purv karte hain jiske karan dhire dhire karke wahan ke log bhag se bahut aage hain china ki sarkar aur china ke nagarik bahut hi chatur chaha ki se apne aap ko aage badha raha hai shiv yahi nahi china ka area bhi sabse bada area hai pratham sthan kis cheez ka area hai iska bhi ek pramukh karan hai vaah apne area ko apne vistaar ko din par din pratidin aage badhta gaya hai vaah chaha jise chaha ki kya apni chaturaai ki wajah se dhire dhire karke apne area ko din pratidin aage badhata gaya aur apne nagriko me ek prakar ki vishwas dete hue logo me chaturth aahat aa gaya jiski wajah se china apne bhai se atyadhik aage hain abhar apna jab bharat ki azadi hui thi hui thi iski vyavastha atyadhik roop se bigad gayi thi iski rajvyavastha awaaz me rukmani match gayi thi ab bharat me kam paise kam currency hone ke karan har din pratidin pichda gaya china ki aage badhne ki vyavastha wahan ka loktantra shasan aur wahan ka nagarik hai jo china ko dhire dhire ek viksit desh ke roop me daal chuke hain lekin bharat azadi ke baad se dhire dhire din pratidin pichrata raha kyonki bharat ke paas paise ki kami anaaj ki kami atyadhik logo ki mrityu ke karan bharat par cha gaya lekin aisa nahi hai ab apna bhag bhi dhire dhire aage badh raha hai vikas tabhi aage badhta ja raha hai shikhar par pohcha ja raha hai ab aisa nahi hai ki bhag peeche hain ab hath bhi diye the karke aage badh raha hai china ko bhi peeche chhod dega aisa anubhav lagaya ja raha hai lekin baat change kare toh yah bahut hi chaturdashi apni iccha anusaar tarike se kaam karta hai agar aapko kisi aur par taki sujhaav chahiye toh aap hamein comment karke puch sakte hain hum aapke comment ka reply zaroor karenge ji namaskar

नमस्कार जी आप का प्रश्न है भारत और चीन को आजादी लगभग एक साथ मिली लेकिन अभी भी चिन्हा से आग

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  183
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अच्छा सवाल पूछा है आपने और इसका सबसे सीधा जवाब यह है कि चीन को जब आजादी मिली तो उसमें वहां पर लोकतंत्र के नाम पर एक तरह से कह सकते हैं कि डिक्टेटरशिप चालू हो गई डिक्टेटरशिप से मेरा मतलब यह है कि वहां पर हमारे जैसा फ्रीडम नहीं है अगर आप देखें तो हम बानी प्रेस को इतना फ्रीडम है प्रेसिडेंट मीटिंग में उसका 180 देशों में 176 राजस्थान है वहां पर अगर शी जिनपिंग ने कुछ बोल दिया तो वही होकर रहता है हमारे यहां पर विरोध करने का परमिशन है हमारे यहां पर ह्यूमन राइट काफी अच्छे हैं मुझे लगता है यह चीज है विकास में भी काफी अतकबादी पहुंचाती है मेरा ऐसा मानना है क्योंकि कभी अच्छी चीज होती है विपक्ष अमिताभ को मना करता जैसे जीएसटी की बात करें जीएसटी जो कांग्रेस आ रही थी तो 18 परसेंट की एक सिंपल इसलिए मिला रही थी तो उस टाइम बीजेपी ने तो कुदरत किया बीजेपी सरकार गवर्नमेंट में उसने 28 परसेंट तक ट्रेन लेकर आई है तो किया तो उस पार्टी के विरोध लेकिन जब खुद पार्टी में आई तो उसने इतनी बड़ी मतलब महंगाई करते हुए इतना महंगा दिल लगाते हुए किया इस तरह की चीजें हमेशा चलती है दिन जब पक्ष-विपक्ष होता है विपक्ष मजबूत होना आवश्यक है इसलिए बांधा भी होता है कभी-कभी कह सकते डेवलपमेंट किया इसके अलावा कांग्रेस पार्टी ने जिस समय तक राज किया केवल गरीबी मिटाओ गरीबी हटाओ का नारा देती इंदिरा गांधी 15 साल तक डेवलपमेंट कुछ किया नहीं आने की डेवलपमेंट काफी हुआ लेकिन उत्तर पर नहीं होना चाहिए था विकास में कई Rowdy लगाए गए कई सारे जन आंदोलन हुए आपात कब लागू किया गया मुझे लगता है युद्ध भी बहुत हुए थे अकाल भी बहुत पढ़ा था तो यह सब मुझे लगता है चीन को एक अंतरराष्ट्रीय युद्ध ब्लड मुंबई अधिवेशन में एक प्रण मेंबरशिप मिलने की वजह से भी बहुत बड़ा फर्क पड़ा है अब जाकर हम इनकी बराबरी पर आ सकते हैं मुझे लगता जल्दी ही हम चीन से आगे निकल जाएंगे पूजा अगले 10 साल में हर एक रिपोर्ट आई एम एस की वर्ल्ड बैंक कि सब लोग कहते हैं कि हम फ़िदा निकल जाएंगे तो कोई बड़ी बात नहीं है बस हमें थोड़ा कंट्री के हित में सोचने की आवश्यकता है थैंक यू

accha sawaal poocha hai aapne aur iska sabse seedha jawab yah hai ki china ko jab azadi mili toh usmein wahan par loktantra ke naam par ek tarah se keh sakte hain ki dictatorship chaalu ho gayi dictatorship se mera matlab yah hai ki wahan par hamare jaisa freedom nahi hai agar aap dekhen toh hum bani press ko itna freedom hai president meeting mein uska 180 deshon mein 176 rajasthan hai wahan par agar shi jinping ne kuch bol diya toh wahi hokar rehta hai hamare yahan par virodh karne ka permission hai hamare yahan par human right kafi acche hain mujhe lagta hai yah cheez hai vikas mein bhi kafi atakbadi pahunchati hai mera aisa manana hai kyonki kabhi achi cheez hoti hai vipaksh amitabh ko mana karta jaise gst ki baat karen gst jo congress aa rahi thi toh 18 percent ki ek simple isliye mila rahi thi toh us time bjp ne toh kudrat kiya bjp sarkar government mein usne 28 percent tak train lekar I hai toh kiya toh us party ke virodh lekin jab khud party mein I toh usne itni badi matlab mahangai karte hue itna mehnga dil lagate hue kiya is tarah ki cheezen hamesha chalti hai din jab paksh vipaksh hota hai vipaksh mazboot hona aavashyak hai isliye bandha bhi hota hai kabhi kabhi keh sakte development kiya iske alava congress party ne jis samay tak raj kiya keval gareebi mitao gareebi hatao ka naara deti indira gandhi 15 saal tak development kuch kiya nahi aane ki development kafi hua lekin uttar par nahi hona chahiye tha vikas mein kai Rowdy lagaye gaye kai saare jan aandolan hue aapaat kab laagu kiya gaya mujhe lagta hai yudh bhi bahut hue the akaal bhi bahut padha tha toh yah sab mujhe lagta hai china ko ek antararashtriya yudh blood mumbai adhiveshan mein ek pran membership milne ki wajah se bhi bahut bada fark pada hai ab jaakar hum inki barabari par aa sakte hain mujhe lagta jaldi hi hum china se aage nikal jaenge puja agle 10 saal mein har ek report I imei s ki world bank ki sab log kehte hain ki hum fida nikal jaenge toh koi badi baat nahi hai bus hamein thoda country ke hit mein sochne ki avashyakta hai thank you

अच्छा सवाल पूछा है आपने और इसका सबसे सीधा जवाब यह है कि चीन को जब आजादी मिली तो उसमें वहां

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  179
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

VOLUNTEER

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक साथ भारत पहला आजाद हुआ था 6 साल बाद आजाद हुआ था बस उसे थोड़ी सी सजा मिलती है कि चीन में जो है वह कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार करना पड़ेगा

ek saath bharat pehla azad hua tha 6 saal baad azad hua tha bus use thodi si saza milti hai ki china mein jo hai vaah communist party ki sarkar karna padega

एक साथ भारत पहला आजाद हुआ था 6 साल बाद आजाद हुआ था बस उसे थोड़ी सी सजा मिलती है कि चीन में

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  312
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
china ko azadi kab mili ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!