गुरु कैसा होना चाहिए?...


play
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

2:27

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी गुरु तो वैसा होना चाहिए जैसा हम सब जानते हैं गुरुर ब्रह्मा गुरु विष्णु गुरु देवो महेश्वरा गुरु साक्षात परम ब्रम्ह तस्मै श्री गुरुवे नमः गुरु वह होता है जिसके पास ज्ञान होता है गुरु वह होता है जो जानता है कि मेरे शिष्य को क्या जरूरत है उसको ऊपर उठने के लिए मैं उसके लिए कैसे सहायक हो सकता हूं वह यह नहीं देखता की शीशी को पीड़ा हो रही है तकलीफ हो रही है कष्ट हो रहा है वगैरा-वगैरा वह तो बस यह देखता है कि यह मेरे पास एक जो मेरा शिष्य है यह पत्थर समा है और इसको तराश कर कैसे एक सुंदर प्रतिमा बनाई जाए जो इसके लिए सही हो अपना अपनी पूरी ज्ञान और शक्ति लगा देता है अपने शिष्य के प्रति तो इसीलिए यह खाली गुरु के ऊपर नहीं होता है यह शिष्य के ऊपर भी होता है कि शिष्य किस को अपना गुरु मानता है क्या बात मानता है नहीं मानता उनकी बातों का चीजों का अनुसरण करता है या नहीं करता बहुत इंपोर्टेंट होता है ग्रुप 1 मेंटर होता है कुछ होता है एक पीला सा फूल होता है एक गाइड होता है आप जो भी नाम दे दीजिए गुरु तो वह होता है जो हमेशा अपने शिष्य के हित के बारे में ही सोचता है सारे कदम वैसे ही उठाता है और अपने शिष्य को प्रोत्साहित करता है जीवन में अग्रसर होने के लिए अपने मुकाम तक पाने के लिए उसे क्या करना होगा इन सब के लिए वह प्रोत्साहित करता है उसे उसे पोस्ट करता है भले शीशे को कभी लगता होगा कि ऐसा क्यों करता है लेकिन गुरु जानता है कि उस शिष्य को वह चीज कैसे मिल सकती है और उसके लिए वह प्रयत्नशील रहता है गुरु हमेशा शिष्य के बारे में सोचता है उसे यह हमेशा रहता है कि मुझे इसकी उपलब्धि पर बड़ा गर्व होगा तो सोचेगा गुरु बहुत है कि बोर्ड रोल प्ले करता है तो हमें गुरु का आदर करना चाहिए हमें गुरु की बातों का अनुसरण भी करना चाहिए और गुरु को भी ऐसा होना चाहिए कि भाई वही ना देखे कि मुझे शीशे से क्या मिल रहा है उसे यह देखना चाहिए कि भाई मेरा शिष्य मेरे कारण ऊपर जा पा रहा है या नहीं क्या मैं पूरी लगन से ईमानदारी से कार्य कर रहा हूं अपने शिष्य को ऊपर उठाने के लिए या नहीं उसकी मंजिल तक पहुंचाने के लिए यानी क्योंकि वह अपनी मंजिल चाहता है इसीलिए वह आपके पास आए उसने आपको अपना गुरु माना है अब आपका यह फर्ज बनता है और दायित्व बनता है कि आप उसकी सहायता करें उसके जर्नी में सहयोग दें

ji guru toh waisa hona chahiye jaisa hum sab jante hain guroor brahma guru vishnu guru devo maheshwara guru sakshat param bramha tasmai shri guruve Namah guru wah hota hai jiske paas gyaan hota hai guru wah hota hai jo jaanta hai ki mere shishya ko kya zarurat hai usko upar uthane ke liye main uske liye kaise sahayak ho sakta hoon wah yeh nahi dekhta ki sisi ko peeda ho rahi hai takleef ho rahi hai kasht ho raha hai vagaira vagaira wah toh bus yeh dekhta hai ki yeh mere paas ek jo mera shishya hai yeh patthar sama hai aur isko taraash kar kaise ek sundar pratima banai jaye jo iske liye sahi ho apna apni puri gyaan aur shakti laga deta hai apne shishya ke prati toh isliye yeh khaali guru ke upar nahi hota hai yeh shishya ke upar bhi hota hai ki shishya kis ko apna guru manata hai kya baat manata hai nahi manata unki baaton ka chijon ka anusaran karta hai ya nahi karta bahut important hota hai group 1 mentor hota hai kuch hota hai ek peela sa fool hota hai ek guide hota hai aap jo bhi naam de dijiye guru toh wah hota hai jo hamesha apne shishya ke hit ke bare mein hi sochta hai saare kadam waise hi uthaata hai aur apne shishya ko protsahit karta hai jeevan mein agrasar hone ke liye apne mukam tak pane ke liye use kya karna hoga in sab ke liye wah protsahit karta hai use use post karta hai bhale shishe ko kabhi lagta hoga ki aisa kyon karta hai lekin guru jaanta hai ki us shishya ko wah cheez kaise mil sakti hai aur uske liye wah prayatnsheel rehta hai guru hamesha shishya ke bare mein sochta hai use yeh hamesha rehta hai ki mujhe iski upalabdhi par bada garv hoga toh sochega guru bahut hai ki board roll play karta hai toh humein guru ka aadar karna chahiye humein guru ki baaton ka anusaran bhi karna chahiye aur guru ko bhi aisa hona chahiye ki bhai wahi na dekhe ki mujhe shishe se kya mil raha hai use yeh dekhna chahiye ki bhai mera shishya mere kaaran upar ja pa raha hai ya nahi kya main puri lagan se imandari se karya kar raha hoon apne shishya ko upar uthane ke liye ya nahi uski manjil tak pahunchane ke liye yani kyonki wah apni manjil chahta hai isliye wah aapke paas aaye usne aapko apna guru mana hai ab aapka yeh farz baata hai aur dayitva baata hai ki aap uski sahayta karein uske journey mein sahyog dein

जी गुरु तो वैसा होना चाहिए जैसा हम सब जानते हैं गुरुर ब्रह्मा गुरु विष्णु गुरु देवो महेश्व

Romanized Version
Likes  604  Dislikes    views  7500
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sandeep Saini

Spiritual Guide | Journalist

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुरु और गुरु की साधना करते हैं उनका इसलिए गुरु बिन माला फेरते गुरु बिन दोनों निष्फल है पूछो क्या हर किसी के इश्क में खुद को चले गए सूखने गुरु की महिमा बताते ही परमात्मा कह रहे हैं कि सुखदेव नाम के ऋषि को गर्म वही मां के गर्भ में ज्ञान हो गया कि मुस्लिम परमात्मा प्राप्ति के लिए प्राप्त होता है और न ही अपना जीवन नष्ट करके

guru aur guru ki sadhna karte hain unka isliye guru bin mala ferte guru bin dono nishfal hai pucho kya har kisi ke ishq mein khud ko chale gaye sukhne guru ki mahima batatey hi paramatma keh rahe hain ki sukhadeva naam ke rishi ko garam wahi maa ke garbh mein gyaan ho gaya ki muslim paramatma prapti ke liye prapt hota hai aur na hi apna jeevan nasht karke

गुरु और गुरु की साधना करते हैं उनका इसलिए गुरु बिन माला फेरते गुरु बिन दोनों निष्फल है पूछ

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  264
WhatsApp_icon
user

Ghanshyamvan

मंदिर सेवा

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो गुरु ब्रह्म से मिला दे जो गुरु एचडी बंधन से मुक्त करते जो गुरु संसार की मोह माया से दूर करके हमें उस परमात्मा के रूप में मिला दे वही गुरु सतगुरु प्रणाम गुरु कहलाता है

jo guru Brahma se mila de jo guru hd bandhan se mukt karte jo guru sansar ki moh maya se dur karke humein us paramatma ke roop mein mila de wahi guru Satguru pranam guru kehlata hai

जो गुरु ब्रह्म से मिला दे जो गुरु एचडी बंधन से मुक्त करते जो गुरु संसार की मोह माया से दूर

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  805
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
गुरु कैसा होना चाहिए ; guru kaisa hona chahiye ; guru kaisa hona chahie ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!