धार्मिक स्वतंत्रता और क़ानून में संबंध क्या है?...


play
user

Vivek Shukla

Life coach

1:13

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विज्ञापन वाले की धार्मिक स्वतंत्रता और कानून में क्या संबंध है परिवार धार्मिक स्वतंत्रता पहले कानून नाम की कोई बहुत बड़ी बात नहीं थी कानून एक लिखित संविधान होता है जिसे मानना अनिवार्य होता है उसे ना मानने वाले को दंडित किया था जो कि धार्मिक स्वतंत्रता अपने पूर्ण स्वतंत्र उसे छोड़ भी सकते हैं या उसे बदल भी सकते लेकिन कानून व्यवस्था बहुत ही बड़ी माने बहुत ज्यादा सोच समझकर रानी चटर्जी बदलाव लाना बहुत ही मुश्किल होता है बहुत ज्यादा इसके मनी सांसदों ने बहुत ज्यादा से पारित करने के बाद भी बदलाव लाया जा सकता है और दोनों में संबंध नहीं है कि दोनों ही व्यक्ति के सामाजिक और नैतिक के कारणों को मानिक कार्य किए गए कार्यों को कंट्रोल में से एक व्यक्ति अपनी स्वतंत्रता से बढ़कर दूसरी वक्त के स्वतंत्रता में हस्तक्षेप नहीं कर सकता वह इतना स्वतंत्र नहीं होता वही दोनों ही चीजें उसे रोक लगाती हैं एक धार्मिक स्वतंत्रता अंदर से रोक लगाती है उसे भाग्य से बचपन से उसे सिखाए गए कार्यों से सम्मानित सम्मानित रिकी सरकार हमको क्या सामाजिक स्थिति धार्मिक स्वतंत्रता होते तभी कानून बाहरी स्वतंत्र आती है उसके लिए रोक लगाता है कि ऐसा करने पर दंडित किया जाएगा जिसकी वजह से आदमी कंट्रोल में रहता है वह किसी भी प्रकार से किसी को भी नुकसान नहीं पहुंचाता या फिर अपनी स्वतंत्रता को उतना ही टैक्सिम सत्ता जितने में दूसरे के सपना हो ओके बाय फ्रेंड

vigyapan wale ki dharmik swatantrata aur kanoon mein kya sambandh hai parivar dharmik swatantrata pehle kanoon naam ki koi bahut badi baat nahi thi kanoon ek likhit samvidhan hota hai jise manana anivarya hota hai use na manne wale ko dandit kiya tha jo ki dharmik swatantrata apne poorn swatantra use chod bhi sakte hain ya use badal bhi sakte lekin kanoon vyavastha bahut hi badi maane bahut zyada soch samajhkar rani chatterjee badlav lana bahut hi mushkil hota hai bahut zyada iske money sansadon ne bahut zyada se paarit karne ke baad bhi badlav laya ja sakta hai aur dono mein sambandh nahi hai ki dono hi vyakti ke samajik aur naitik ke karanon ko manik karya kiye gaye karyo ko control mein se ek vyakti apni swatantrata se badhkar dusri waqt ke swatantrata mein hastakshep nahi kar sakta wah itna swatantra nahi hota wahi dono hi cheezen use rok lagati hain ek dharmik swatantrata andar se rok lagati hai use bhagya se bachpan se use sikhaye gaye karyo se sammanit sammanit riki sarkar hamko kya samajik sthiti dharmik swatantrata hote tabhi kanoon bahri swatantra aati hai uske liye rok lagata hai ki aisa karne par dandit kiya jayega jiski wajah se aadmi control mein rehta hai wah kisi bhi prakar se kisi ko bhi nuksan nahi pohchta ya phir apni swatantrata ko utana hi Taxim satta jitne mein dusre ke sapna ho ok by friend

विज्ञापन वाले की धार्मिक स्वतंत्रता और कानून में क्या संबंध है परिवार धार्मिक स्वतंत्रता प

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  862
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!