एक इंसान अपने जीवन में क्या चाहता है?...


user

Norang sharma

Social Worker

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तों वह कल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज का सवाल है एक इंसान अपने जीवन में क्या चाहता है तो दोस्तों हर इंसान अपनी जीवन में अकाउंट में कुछ ना कुछ चाहता ही रहता है कभी वह चाहता है कि उसके पास खूब सारे पैसे हो जिससे वह अपनी जरूरतों से लेकर तो अपने सपनों को पूरा करने का सफर तय कर सके कभी वह चाहता है कि उसके पास एक अच्छी गाड़ी हो कभी वह चाहता है उसके पास उसके सपनों का घर हो कभी वह चाहता है उसे समझने वाला उसकी भावनाओं का सम्मान करने वाला कोई जीवन साथी भी उसके जीवन में हो उसके बाद वह चाहता है कि उसका परिवार बड़े उसके बच्चे हो बच्चे भी हो जाते हैं फिर उन बच्चों को सेटल करना यानी कोई ना कोई इच्छाएं जो है इंसान की उम्र के हिसाब से लगातार बनती रहती है और बदलती भी रहती है एक इच्छा पूरी होते ही 4 नई इच्छाएं खड़ी हो जाती है जीवन का यही स्वरूप है मेरे मित्रों हमारी इच्छाएं एक सागर की तरह होती हैं जिसका कोई और नहीं होता जिसकी कोई सीमा ही नहीं होती कुछ इच्छाएं पूरी हो जाती है और कुछ इच्छाएं हमारे साथ ही चली जाती हैं यानी कि अधूरी रह जाती है तो दोस्तों यही है इच्छाओं का विज्ञान धन्यवाद

hello doston vaah kal par sun rahe mere sabhi buddhijeevi shrotaon ko mera pyar bhara namaskar aaj ka sawaal hai ek insaan apne jeevan me kya chahta hai toh doston har insaan apni jeevan me account me kuch na kuch chahta hi rehta hai kabhi vaah chahta hai ki uske paas khoob saare paise ho jisse vaah apni jaruraton se lekar toh apne sapno ko pura karne ka safar tay kar sake kabhi vaah chahta hai ki uske paas ek achi gaadi ho kabhi vaah chahta hai uske paas uske sapno ka ghar ho kabhi vaah chahta hai use samjhne vala uski bhavnao ka sammaan karne vala koi jeevan sathi bhi uske jeevan me ho uske baad vaah chahta hai ki uska parivar bade uske bacche ho bacche bhi ho jaate hain phir un baccho ko settle karna yani koi na koi ichhaen jo hai insaan ki umar ke hisab se lagatar banti rehti hai aur badalti bhi rehti hai ek iccha puri hote hi 4 nayi ichhaen khadi ho jaati hai jeevan ka yahi swaroop hai mere mitron hamari ichhaen ek sagar ki tarah hoti hain jiska koi aur nahi hota jiski koi seema hi nahi hoti kuch ichhaen puri ho jaati hai aur kuch ichhaen hamare saath hi chali jaati hain yani ki adhuri reh jaati hai toh doston yahi hai ikchao ka vigyan dhanyavad

हेलो दोस्तों वह कल पर सुन रहे मेरे सभी बुद्धिजीवी श्रोताओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार आज का

Romanized Version
Likes  90  Dislikes    views  2380
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!