हिमालय का निर्माण कैसे हुआ?...


user
0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आकाश वाले हिमालय का निर्माण कैसे हुआ तो दोस्तों जीना स्थलों पर दो प्लेट आपस में टकराती है वह इतना अधिक दबाव पैदा होता है कि उसके सतह पर विशाल सिलवटें पड़ जाती है इनसे ऊंची पर्वत से चलाओ का निर्माण होता है पृथ्वी के बीच प्लेटो की सबसे बड़ी टक्कर से ही दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत श्रृंखला हिमालय और तिब्बत पठार का निर्माण हुआ है

akash waale himalaya ka nirmaan kaise hua toh doston jeena sthalon par do plate aapas me takarati hai vaah itna adhik dabaav paida hota hai ki uske satah par vishal silvate pad jaati hai inse unchi parvat se chalao ka nirmaan hota hai prithvi ke beech plato ki sabse badi takkar se hi duniya ki sabse unchi parvat shrinkhala himalaya aur tibet pathaar ka nirmaan hua hai

आकाश वाले हिमालय का निर्माण कैसे हुआ तो दोस्तों जीना स्थलों पर दो प्लेट आपस में टकराती है

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  558
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

feeling

Student

0:24

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

निमाड़ के सिद्धांतों के अनुसार यह भारत-ऑस्ट्रेलिया प्लेटों से इसमें प्लेस के टकराने से बना है हिमालय के निर्माण में प्रथम सोपान 650 वर्ष पूर्व हुआ था और मध्य हिमालय का उत्थान 450 वर्ष पूर्व हुआ था

nimad ke siddhanto ke anusaar yah bharat austrailia pleton se isme place ke takrane se BA na hai himalaya ke nirmaan mein pratham sopan 650 varsh purv hua tha aur madhya himalaya ka utthan 450 varsh purv hua tha

निमाड़ के सिद्धांतों के अनुसार यह भारत-ऑस्ट्रेलिया प्लेटों से इसमें प्लेस के टकराने से बना

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  22
WhatsApp_icon
user

Shilpi Kanchan

Assistant Manager at IPPB

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जो ग्राफी के संदर्भ में अगर हम देखें तो ऐसा कहा जाता है कि जहां आज हिमालय है वहां पर डीटेल्स करके ऐसी थी जो कि अंगारा लैंड जो कि नार्थ में है और गोंडवाना लैंड न्यू साउथ में है उसको आपस में डिवाइड करती थी और इंडियन प्लेट ज्योति आने की इंडियन लैंड वास के नीचे जो प्लेट थी वह गोंडवाना लैंड से जुड़ी हुई थी लगभग 7 करोड़ साल पहले इंडियन प्लेट नॉर्थ ईस्ट डायरेक्शन में मूव करना शुरू कर दिया जिससे कि वह यूरेशियन प्लेट के करीब चली गई फिर 50000000 साल तक यह दोनों प्लेट थोड़ा पास में ही रही और लगभग 2 करोड साल पहले दोनों प्लेट इतना ज्यादा पास आ गई तो उनमें आपस में घर्षण हो गया इस घर्षण से डीटीसी में जो भी सेडिमेंट्स थी वह फोल्ड होना शुरू कर गए और वही जो फोल्डेड चीज है वह आज हिमालय पर्वत थैंक यू सो मच

dekhiye jo graafi ke sandarbh mein agar hum dekhen toh aisa kaha jata hai ki jaha aaj himalaya hai wahan par details karke aisi thi jo ki angara land jo ki north mein hai aur gondwana land new south mein hai usko aapas mein divide karti thi aur indian plate jyoti aane ki indian land was ke niche jo plate thi vaah gondwana land se judi hui thi lagbhag 7 crore saal pehle indian plate north east direction mein move karna shuru kar diya jisse ki vaah yureshiyan plate ke kareeb chali gayi phir 50000000 saal tak yah dono plate thoda paas mein hi rahi aur lagbhag 2 crore saal pehle dono plate itna zyada paas aa gayi toh unmen aapas mein gharshan ho gaya is gharshan se DTC mein jo bhi sediments thi vaah fold hona shuru kar gaye aur wahi jo folded cheez hai vaah aaj himalaya parvat thank you so match

देखिए जो ग्राफी के संदर्भ में अगर हम देखें तो ऐसा कहा जाता है कि जहां आज हिमालय है वहां पर

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  438
WhatsApp_icon
user

ANUP KUMAR

Student

3:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पृथ्वी का जब प्रारंभिक उत्पत्ति हुआ है तो उस समय सिर्फ एक महासागर जो था वह पहला सा ग्रुप में था और इससे सुपर महादेव पिंड दिया था जब पिंजरा से जब दो टुकड़ा हुआ तो अंगारा लैंड और गोंडवाना लैंड बना अंगारा लैंड में इंग्लैंड से निकला को नॉर्थ अमेरिका प्लेट फील यूरेशियन प्लेट और गोंडवाना लैंड से साउथ अमेरिकन प्लेट अफ्रीकन प्लेट एंड ऑस्ट्रेलिया प्लेयर अंटार्कटिका प्लेट और प्रशांत महासागर का जो पतला सा कोशिश था उस वक्त था जब अंगारा लैंड ऑफ गोंडवाना लैंड अलग होते हैं तो यह जो बीच में जो बसता है प्रीति सागर का चित्र था जो उन्नति भी बोलते हैं क्या होता है यह होता है और गहरा सा भाग होता है तू ही माना कि नहीं मानना क्या होते हैं कि गोंडवाना लैंड जो कि इंडोर स्टेडियम प्लेट और अंगार यूरेशियन प्लेट जमीन पर दोनों ओर संपीडन बल लगता है तो यह उठ जाते हैं रूठ जाते हैं और मुर्दार या वलित पर्वत सी कहते हैं और हिमालय का निर्माण करते हैं कैसे उड़ते हैं और कैसे नहीं मांगा इस पर बात करते हैं जो हम देखे हैं तो जो पहले जो अब यह धाम अरावली का जो रिंग था वह आपका 9000 मीटर से भी ऊपर था और आज अगर सबसे ऊंचा शिखर का बात करें तो यह गुरु से करें इसका जो 1752 मीटर तक नहीं पहुंचा है तू करोड़ों साल पहले जब भी सागर में जो और शादी कब हुआ और शादी करण की प्रक्रिया हुई विभिन्न अध्ययन से हुआ सतपुड़ा शुरू अरावली से हुआ यह सब जाकर और प्रीति सागर में जमा होते हैं और प्रीति सागर में जब जमा हुए और गोंडवाना लैंड ऑफ यूरोपियन प्लेट के बीच जब टकराव हुआ उसको अभिसारी प्लेट किनारा भी बोलते हैं तो जाकर हिमालय पर्वत हिमालय में कोई भी ज्वालामुखी पर्वत नहीं है क्यों नहीं है उनको गोंडवाना लैंड का जो प्लेट है वह ज्यादा अंदर तक गहराई में नहीं गया ज्यादा अंदर गहराई में नहीं है तो आपको वहां पर उसको थोड़ी ना ज्यादा आप मिल पा रहा है जो जितना अंदर जाएगा उतना ज्यादा वक्त मिलेगा जब मिलेगा तो फिर उसका मैग्मा बनेगा और मैग्मा बंकिंग तो लावा निकलेगा ज्वालामुखी का निर्माण होगा नहीं है मेन सेंट्रल थ्रस्ट जो है वह आपको भी हिमालय और शिवालिक जो बीच में पड़ता है इसमें सबसे ज्यादा भूकंप आते हैं इसको एनसीटी लाइन बोलते हैं

prithvi ka jab prarambhik utpatti hua hai toh us samay sirf ek mahasagar jo tha vaah pehla sa group mein tha aur isse super mahadev pind diya tha jab pinjara se jab do tukda hua toh angara land aur gondwana land BA na angara land mein england se nikala ko north america plate feel yureshiyan plate aur gondwana land se south american plate african plate and austrailia player antarctica plate aur prashant mahasagar ka jo patla sa koshish tha us waqt tha jab angara land of gondwana land alag hote hai toh yah jo beech mein jo BA sta hai preeti sagar ka chitra tha jo unnati bhi bolte hai kya hota hai yah hota hai aur gehra sa bhag hota hai tu hi mana ki nahi manana kya hote hai ki gondwana land jo ki indoor stadium plate aur anger yureshiyan plate jameen par dono aur sampidan BA l lagta hai toh yah uth jaate hai rooth jaate hai aur murdar ya walit parvat si kehte hai aur himalaya ka nirmaan karte hai kaise udte hai aur kaise nahimaanga is par BA at karte hai jo hum dekhe hai toh jo pehle jo ab yah dhaam aravalli ka jo ring tha vaah aapka 9000 meter se bhi upar tha aur aaj agar sabse uncha shikhar ka BA at kare toh yah guru se kare iska jo 1752 meter tak nahi pohcha hai tu karodo saal pehle jab bhi sagar mein jo aur shadi kab hua aur shadi karan ki prakriya hui vibhinn adhyayan se hua satapura shuru aravalli se hua yah sab jaakar aur preeti sagar mein jama hote hai aur preeti sagar mein jab jama hue aur gondwana land of european plate ke beech jab takraav hua usko abhisari plate kinara bhi bolte hai toh jaakar himalaya parvat himalaya mein koi bhi jwalamukhi parvat nahi hai kyon nahi hai unko gondwana land ka jo plate hai vaah zyada andar tak gehrai mein nahi gaya zyada andar gehrai mein nahi hai toh aapko wahan par usko thodi na zyada aap mil paa raha hai jo jitna andar jaega utana zyada waqt milega jab milega toh phir uska magma BA nega aur magma BA nking toh lava niklega jwalamukhi ka nirmaan hoga nahi hai central thrust jo hai vaah aapko bhi himalaya aur shivalik jo beech mein padta hai isme sabse zyada bhukamp aate hai isko NCT line bolte hain

पृथ्वी का जब प्रारंभिक उत्पत्ति हुआ है तो उस समय सिर्फ एक महासागर जो था वह पहला सा ग्रुप म

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  98
WhatsApp_icon
user

Preetisingh

Junior Volunteer

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिमालय पर्वत का निर्माण कैसे हुआ देखे तो जोक्स भूविज्ञान है जो थे उन्होंने जो है उसमें जीएफजेजे मंजू थे उन्होंने वैज्ञानिकों की एक टीम द्वारा हाल ही में किए भूकंप अध्ययनों से यह बात सामने आई थी कि लगभग 5 करोड़ों साल पहले भारत के यूरेशियन महाद्वीप के साथ हुई टक्कर में तिब्बत के नीचे स्थित भारतीय प्लेट को लगभग 500 किलोमीटर धकेल दिया था जिससे मैं 250 किलोमीटर की गहराई तक चली गई थी पीछे के बीच प्लेटो की सबसे बड़ी इस टक्कर से ही दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत श्रृंखला हिमालय पर्वत पठार जो है उसका निर्माण हुआ था इतना ही नहीं इस ट्रैक्टर की वजह संसार भर के 7000 मीटर से अधिक ऊंचे पर्वतों की श्रृंखला बना दी गई थी और लाखों साल उसके पूरा जो भारतीय उपमहाद्वीप है

himalaya parvat ka nirmaan kaise hua dekhe toh jokes bhuvigyan hai jo the unhone jo hai usme GFJJ manju the unhone vaigyaniko ki ek team dwara haal hi mein kiye bhukamp adhyayano se yeh BA at saamne I thi ki lagbhag 5 karodo saal pehle bharat ke Eurasian mahadweep ke saath hui takkar mein tibet ke niche sthit bharatiya plate ko lagbhag 500 kilometre dhakel diya tha jisse main 250 kilometre ki gehrai tak chali gayi thi peeche ke beech pluto ki sabse BA di is takkar se hi duniya ki sabse uchi parvat shrinkhala himalaya parvat pathaar jo hai uska nirmaan hua tha itna hi nahi is tractor ki wajah sansar bhar ke 7000 meter se adhik unche parwato ki shrinkhala BA na di gayi thi aur laakhon saal uske pura jo bharatiya upamahadweep hai

हिमालय पर्वत का निर्माण कैसे हुआ देखे तो जोक्स भूविज्ञान है जो थे उन्होंने जो है उसमें जीए

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  356
WhatsApp_icon
user

Farha Hussain

Community Developer at Vokal

0:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह तो अब भगवान से ही पूछना पड़ेगा मुझे तो इसके बारे में नहीं पता

yah toh ab bhagwan se hi poochna padega mujhe toh iske BA re mein nahi pata

यह तो अब भगवान से ही पूछना पड़ेगा मुझे तो इसके बारे में नहीं पता

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  241
WhatsApp_icon
user

Kriti

Classical Dancer

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिमालय का निर्माण कैसे हुआ था तो देखिए भारतीय प्लेट और यूरेशियन प्लेट के बीच टकराव के परिणाम स्वरूप हिमालय पर्वत श्रंखला और तिब्बती पठार का निर्माण हुआ है जो 50 मिलियन साल पहले शुरू हुआ था और आज भी जारी है 225 मिलियन साल पहले भारत का बड़ा द्वीप था जो ऑस्ट्रेलियाई तट से दूर था और रितेश 33 महासागर से एशिया से अलग हुआ था

himalaya ka nirmaan kaise hua tha toh dekhiye bharatiya plate aur yureshiyan plate ke beech takraav ke parinam swaroop himalaya parvat shrinkhala aur tibbati pathaar ka nirmaan hua hai jo 50 million saal pehle shuru hua tha aur aaj bhi jaari hai 225 million saal pehle bharat ka BA da dweep tha jo australiaai tat se dur tha aur ritesh 33 mahasagar se asia se alag hua tha

हिमालय का निर्माण कैसे हुआ था तो देखिए भारतीय प्लेट और यूरेशियन प्लेट के बीच टकराव के परिण

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  12
WhatsApp_icon
user

Rohit Singh

Junior Volunteer

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जहां पर हैं वहां का जो है और वह चलते चलते जो है सट्टे की सट्टे 50 मिलियन सालों में है यानी कोई 50000000 सालों में जो है वह आपकी यूरोप की प्लेट में आकर चली और जब यह अभी भी अंदर बना

jahan par hai wahan ka jo hai aur vaah chalte chalte jo hai satte ki satte 50 million salon mein hai yani koi 50000000 salon mein jo hai vaah aapki europe ki plate mein aakar chali aur jab yah abhi bhi andar BA na

जहां पर हैं वहां का जो है और वह चलते चलते जो है सट्टे की सट्टे 50 मिलियन सालों में है यानी

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  3
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
हिमालय के निर्माण में कौन सा सिद्धांत सर्वमान्य है ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!