भाषाविज्ञान क्यों महत्वपूर्ण है?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाषा विज्ञान के अध्ययन से आप समझ सकते हैं कि भारतीय भाषाओं भारत में बोली जाने वाली भाषाएं या इस संसार की विश्व में बोली वाली भाषाएं समस्त भाषाओं का उद्गम कहां से हुआ है उनमें क्या क्या समानता है और उच्चारण लागत के कारण क्या-क्या उनमें अंतर जैसी अधिकांश भाषाओं की जननी जो है संस्कृत भाषा है और संस्कृत भाषा से की विभिन्न भाषाओं की जन्म हुए समय-समय पर संसार की सबसे प्राचीनतम भाषा संस्कृत है अब आप ले लीजिए बहुत से शब्द ऐसे हैं जो थोड़े थोड़े उच्चारण लागत के कारण से बदलते गए हैं बाकी बे संस्कृत पर ही हैं मूल रूप से तत्सम शब्द संस्कृत के ही हैं इस भाषा विज्ञान को हमें तुलनात्मक रूप से जन करना चाहिए और यह समझने का प्रयास करना चाहिए उच्चारण लागत के कारण से बहुत भाषाओं में कितने अंतर आ जाते हैं और उसकी सरलता भी उनको ज्ञात होती है

bhasha vigyan ke adhyayan se aap samajh sakte hain ki bharatiya bhashaon bharat mein boli jaane wali bhashayen ya is sansar ki vishwa mein boli wali bhashayen samast bhashaon ka udgam kahaan se hua hai unmen kya kya samanata hai aur ucharan laagat ke karan kya kya unmen antar jaisi adhikaansh bhashaon ki janani jo hai sanskrit bhasha hai aur sanskrit bhasha se ki vibhinn bhashaon ki janam hue samay samay par sansar ki sabse prachintam bhasha sanskrit hai ab aap le lijiye bahut se shabd aise hain jo thode thode ucharan laagat ke karan se badalte gaye hain baki be sanskrit par hi hain mul roop se tatsam shabd sanskrit ke hi hain is bhasha vigyan ko hamein tulnaatmak roop se jan karna chahiye aur yah samjhne ka prayas karna chahiye ucharan laagat ke karan se bahut bhashaon mein kitne antar aa jaate hain aur uski saralata bhi unko gyaat hoti hai

भाषा विज्ञान के अध्ययन से आप समझ सकते हैं कि भारतीय भाषाओं भारत में बोली जाने वाली भाषाएं

Romanized Version
Likes  80  Dislikes    views  1594
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user
1:51

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाषा ज्ञान बहुत महत्वपूर्ण है इसका एक चैनल कैसे महत्वपूर्ण है तो यह कहा जा सकता है कि अगर भाषा का मनुष्य के जीवन में कुछ महत्व है जो भाषा विज्ञान की भाषा का कितने क्षेत्रों में महत्व है कि अगर भाषा के बारे में हमें जानकारी हो उन क्षेत्रों में हम भाषा का भाषा विज्ञान की जानकारी का प्रयोग करके उस क्षेत्र में बेहतर काम कर सकते हैं और क्षेत्र का अध्ययन कर सकते हैं तो इस तरह जैसे मैंने उसमें भाषा हो गया नाम की मदद कर सकता है कि हम बादशाहों के इतिहास को देखेंगे किस भाषा से किस भाषा का संबंध रहा है इसलिए होगा तो उस भाषा को बोलने का भी आपस में कोई ना कोई संबंध कभी जीवन में रहा है जैसे यह सिद्धांत के आया जो है वह भाषण ए जो यूनानी है और लाठी भी है और संस्कृत है ग्रीक लेटिन On7 की जो भाषाएं हैं इतनी समानताएं हैं कि वह समझता है आचार्य की नहीं हो सकती हैं इस भाषा को बोलने वाले जाटों की पूर्वज कोई शादी भाषा रही है और या फिर वह कह रहे हैं तो उसके बाद सो जा तैयार होने और चलो जी सो जाते हैं और कॉलेज में उन्होंने यह इसकी पड़ताल शुरू की दसवीं पास की भाषा संस्कृत है उसकी आपस में बहुत समानता है बहुत क्षेत्र में काम आ सकता है

bhasha gyaan bahut mahatvapurna hai iska ek channel kaise mahatvapurna hai toh yah kaha ja sakta hai ki agar bhasha ka manushya ke jeevan mein kuch mahatva hai jo bhasha vigyan ki bhasha ka kitne kshetro mein mahatva hai ki agar bhasha ke bare mein hamein jaankari ho un kshetro mein hum bhasha ka bhasha vigyan ki jaankari ka prayog karke us kshetra mein behtar kaam kar sakte hain aur kshetra ka adhyayan kar sakte hain toh is tarah jaise maine usme bhasha ho gaya naam ki madad kar sakta hai ki hum badshahon ke itihas ko dekhenge kis bhasha se kis bhasha ka sambandh raha hai isliye hoga toh us bhasha ko bolne ka bhi aapas mein koi na koi sambandh kabhi jeevan mein raha hai jaise yah siddhant ke aaya jo hai vaah bhashan a jo unani hai aur lathi bhi hai aur sanskrit hai greek latin On7 ki jo bhashayen hain itni samantayen hain ki vaah samajhata hai aacharya ki nahi ho sakti hain is bhasha ko bolne waale jaaton ki purvaj koi shadi bhasha rahi hai aur ya phir vaah keh rahe hain toh uske baad so ja taiyar hone aur chalo ji so jaate hain aur college mein unhone yah iski padatal shuru ki dasavi paas ki bhasha sanskrit hai uski aapas mein bahut samanata hai bahut kshetra mein kaam aa sakta hai

भाषा ज्ञान बहुत महत्वपूर्ण है इसका एक चैनल कैसे महत्वपूर्ण है तो यह कहा जा सकता है कि अगर

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  325
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!