मूर्ति और प्रतिमा में क्या अंतर होता है?...


user

Rohit Singh

Junior Volunteer

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इतना जो है वह स्थिति के आधार पर बनाई जाती है जिससे वह किसी महापुरुष की बनाएंगे तो उसे प्रतिमा कहेंगे और मूर्ति जो है वह आप भगवान की बनाते हैं जिनको आपने देखा नहीं है और आप उसकी कल्पना करके बना रहे हैं

itna jo hai vaah sthiti ke aadhaar par banai jaati hai jisse vaah kisi mahapurush ki banayenge toh use pratima kahenge aur murti jo hai vaah aap bhagwan ki banate hain jinako aapne dekha nahi hai aur aap uski kalpana karke bana rahe hain

इतना जो है वह स्थिति के आधार पर बनाई जाती है जिससे वह किसी महापुरुष की बनाएंगे तो उसे प्रत

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  258
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Preetisingh

Junior Volunteer

1:35

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभी बात कीजिए मूर्ति और प्रतिमा में अंतर क्या है तो देखें सबसे पहले हम बात करेंगे प्रतिमा कि तू प्रतिमा उसे कहते हैं जो स्मृति के अनुसार हमें आज इसकी संरचना का भाषा अनुमान होता है उसे प्रकट करने के लिए प्रतिमा बनाई जाती है प्रतिमा की प्रकृति जो है वह अस्थाई होती है और प्रतिमा में कभी पूर्णता नहीं होती जैसे किसी महापुरुष की प्रतिमा प्रतिमा जो है वह बनाई जाए किसी प्राकृतिक दृश्य को उकेरा जाए इन प्रतिमाओं में स्मृति के आधार पर जितने अवे होते हैं सभी शामिल करने का प्रयास किया जाता है इसके बावजूद जो सृजन भर आता है उसमें कभी पूर्णता नहीं आ पाती है कालांतर में प्रतिमाएं अपना रूप और स्वरूप दोनों बदल सकते हैं और सामान्य तौर पर बदलती ही हैं वही बात कीजिए मूर्ति की तो मूर्ति अपने आप में एक पूर्णता के लिए जो है रूप होता है और देवताओं का विग्रह केवल सौंदर्य बोध का प्रचार नहीं होता उसे विविध मैं में संबंधित देवता के सभी गुणों का समावेश करने का प्रयास किया जाता है जिस मूर्ति का निर्माण किया जाता है वह मूर्ति अपने आप में उस भाव से संबंधित सभी गुणों के लिए हुए होती है हमें युद्ध में शंखनाद करते कृष्ण का विग्रह भी मिलता है बाल गोपाल का भी और रास रचाते कृष्ण का भी हमें ठुमक चलत रामचंद्र का विग्रह भी मिलता है धनुष तोड़ते युवा राम का रामेश्वर जो रामेश्वरम है उसकी स्थापना करते स्वामी राम और रावण का वध करते हुए राम का विग्रह भी मिलता है

abhi baat kijiye murti aur pratima mein antar kya hai toh dekhen sabse pehle hum baat karenge pratima ki tu pratima use kehte hain jo smruti ke anusaar humein aaj iski sanrachna ka bhasha anumaan hota hai use prakat karne ke liye pratima banai jati hai pratima ki prakriti jo hai wah asthai hoti hai aur pratima mein kabhi purnata nahi hoti jaise kisi mahapurush ki pratima pratima jo hai wah banai jaye kisi prakritik drishya ko ukera jaye in prtimaon mein smruti ke aadhaar par jitne away hote hain sabhi shaamil karne ka prayas kiya jata hai iske bawajud jo srijan bhar aata hai usme kabhi purnata nahi aa pati hai kalantar mein pratimaen apna roop aur swaroop dono badal sakte hain aur samanya taur par badalti hi hain wahi baat kijiye murti ki toh murti apne aap mein ek purnata ke liye jo hai roop hota hai aur devatao ka vigrah keval saundarya bodh ka prachar nahi hota use vividh main mein sambandhit devta ke sabhi gunon ka samavesh karne ka prayas kiya jata hai jis murti ka nirmaan kiya jata hai wah murti apne aap mein us bhav se sambandhit sabhi gunon ke liye hue hoti hai humein yudh mein SHANKHNAD karte krishna ka vigrah bhi milta hai baal gopal ka bhi aur ras rachaate krishna ka bhi humein thumak chalat ramachandra ka vigrah bhi milta hai dhanush todte yuva ram ka rameshwar jo rameshwaram hai uski sthapna karte swami ram aur ravan ka vadh karte hue ram ka vigrah bhi milta hai

अभी बात कीजिए मूर्ति और प्रतिमा में अंतर क्या है तो देखें सबसे पहले हम बात करेंगे प्रतिमा

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  189
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!