गाजा पट्टी पर इसराइल और फिलिस्तीन का क्या विवाद है?...


user

ज्योतिषी झा मेरठ (Pt. K L Shashtri)

Astrologer Jhaमेरठ,झंझारपुर और मुम्बई

0:24
Play

Likes  81  Dislikes    views  2194
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दरअसल तीन धर्मों को जन्म देने वाला पश्चिम एशिया का मानचित्र 343 क्षेत्र कहलाता है 1922 तक ब्रिटिश उसके कब्जे में रहा उसके बाद द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यहूदियों के एक अलग देश बनाने की मांग चल रही थी जिसे 30 नवंबर 1947 को स्वीकार किया गया और एक ने आदेश 15 मई 1948 को अस्तित्व में आया इसराइल जो यहूदियों का कहा गया इसके बाद 1967 में जो नया भूभाग था फिलिस्तीन का वह अरब देशों के साथ जोड़ा गया और अरब देशों की सेनाओं ने मिलकर इसराइल पर हमले की और वह युद्ध के दिनों तक चला और फल स्वरुप इसराइल की विजय हुई उसमें और इसराइल ने एक बड़े भू-भाग गाजा के चित्र पर कब्जा कर लिया जान लाखों फिलिस्तीनी या तो मारे गए एक्स एक्स एक्स हो गए फिर उसके बाद 25 वर्षों तक उस पर कब्जा लगातार बना रहा ईसाई का तत्पश्चात 1987 में पुनः विद्रोह हुआ और हम आज जो एक आतंकवादी संगठन है वह धीरे धीरे धीरे धीरे वहां से अस्तित्व में आना शुरू हुआ लंबे समय तक शांति बनी रही यासिर अराफात के कारण और इलाज सिर्फ आत्मिक शांति पूर्ण तरिके सेवा सरकार चलाई जो वेस्ट बैंक मालाड का क्षेत्र है वहां से उनकी लोग सरकार चलाते रहे लेकिन साथ ही साथ समाज के लोग भी सक्रिय रहे जो एक आतंकवादी गुट आतंकवादी संगठन है प्रतिबंधित संगठन है और 2007 में पुनः हमास ने गाजा के क्षेत्र से इसराइल के ऊपर हमले किए उसके बाद तकरीरवाला राय पूर्व क्षेत्र को इसराइली एक दीवाल से बांट दिया और कई प्रकार के क्षेत्र में प्रतिबंध लगा दिए तो वह गाजिया का चित्र है वह प्रतिबंधित

darasal teen dharmon ko janam dene vala paschim asia ka manchitra 343 kshetra kehlata hai 1922 tak british uske kabje mein raha uske baad dwitiya vishwa yudh ke baad yahudiyo ke ek alag desh banaane ki maang chal rahi thi jise 30 november 1947 ko sweekar kiya gaya aur ek ne aadesh 15 may 1948 ko astitva mein aaya israel jo yahudiyo ka kaha gaya iske baad 1967 mein jo naya bhubhag tha philistine ka vaah arab deshon ke saath joda gaya aur arab deshon ki senaoon ne milkar israel par hamle ki aur vaah yudh ke dino tak chala aur fal swarup israel ki vijay hui usmein aur israel ne ek bade bhu bhag gajja ke chitra par kabza kar liya jaan laakhon filistini ya toh maare gaye x x x ho gaye phir uske baad 25 varshon tak us par kabza lagatar bana raha isai ka tatpashchat 1987 mein punh vidroh hua aur hum aaj jo ek aatankwadi sangathan hai vaah dhire dhire dhire dhire wahan se astitva mein aana shuru hua lambe samay tak shanti bani rahi yasir arafat ke karan aur ilaj sirf atmik shanti purn tarike seva sarkar chalai jo west bank malad ka kshetra hai wahan se unki log sarkar chalte rahe lekin saath hi saath samaaj ke log bhi sakriy rahe jo ek aatankwadi gut aatankwadi sangathan hai pratibandhit sangathan hai aur 2007 mein punh hamas ne gajja ke kshetra se israel ke upar hamle kiye uske baad takarirvala rai purv kshetra ko isaraili ek diwal se baant diya aur kai prakar ke kshetra mein pratibandh laga diye toh vaah gajiya ka chitra hai vaah pratibandhit

दरअसल तीन धर्मों को जन्म देने वाला पश्चिम एशिया का मानचित्र 343 क्षेत्र कहलाता है 1922 तक

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  203
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गाजा पट्टी फ़िलिस्तीनी क्षेत्र है इजरायल और फिलिस्तीन के बीच क्षेत्र गाजा पट्टी को लेकर काफी लंबे समय से विवाद चल रहा है फिलिस्तीन में अधिकतर अरबी वह मुसलमान जनसंख्या वाले लोग रहते हैं इन पर हम आज द्वारा शासन किया जाता है और हमारे इजरायल विरोधी एक साधन आतंकवादी समूह है फिलिस्तीन अन्य कई मुस्लिम देश इजराइल को यहूदी राज्य के रूप में नहीं मानते हैं 1947 में जब यूएन ने फिलिस्तीन को एक यहूदी अरब राज्य में बांट दिया उसके बाद ही से इजरायल और फिलिस्तीन में संघर्ष जारी है इसमें से एक मुद्दा जो इस राज्य के रूप में स्वीकार करना है वह दूसरा गाजा पट्टी है जो इज़राइल की स्थापना के समय से ही इजराइल वह दूसरे अरब देशों के बीच संघर्ष का कारण है पिछले कुछ समय से दोनों ही देशों में जबरदस्त तनाव दिख रहा है फिलिस्तीन इसराइल दोनों ही अभी काफी संघर्ष कर रहे हैं

gajja patti filistini kshetra hai israel aur philistine ke beech kshetra gajja patti ko lekar kafi lambe samay se vivaad chal raha hai philistine mein adhiktar rb vaah musalman jansankhya waale log rehte hain in par hum aaj dwara shasan kiya jata hai aur hamare israel virodhi ek sadhan aatankwadi samuh hai philistine anya kai muslim desh israel ko yahudi rajya ke roop mein nahi maante hain 1947 mein jab un ne philistine ko ek yahudi arab rajya mein baant diya uske baad hi se israel aur philistine mein sangharsh jaari hai isme se ek mudda jo is rajya ke roop mein sweekar karna hai vaah doosra gajja patti hai jo israel ki sthapana ke samay se hi israel vaah dusre arab deshon ke beech sangharsh ka karan hai pichhle kuch samay se dono hi deshon mein jabardast tanaav dikh raha hai philistine israel dono hi abhi kafi sangharsh kar rahe hain

गाजा पट्टी फ़िलिस्तीनी क्षेत्र है इजरायल और फिलिस्तीन के बीच क्षेत्र गाजा पट्टी को लेकर का

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
इजरायल और फिलिस्तीन विवाद ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!