2018 में शिक्षा के क्षेत्र में सरकार का क्या फैसला लिया है?...


play
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:48

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शिक्षा के क्षेत्र में भी मोदी सरकार ने कई कार्य और अच्छे कदम उठाए हैं 2018 की 18 में शिक्षा के प्रसार और प्रचार के लिए भी सरकार ने कई फैसले लिए प्राथमिक सरकारी स्कूलों की शिक्षा में सुधार के लिए अफसरों जजों और जनप्रतिनिधियों के बच्चों का सरकारी स्कूलों में पढ़ना अनिवार्य कर दिया गया है अदालत का साफ कहना है कि जब तक इस समुदाय के लोगों के बच्चे कान्वेंट स्कूल छोड़कर इन स्कूलों में नहीं पढ़ेंगे इन स्कूलों का स्थान नहीं स्तर नहीं सुधरेगा प्रधानमंत्री ने एक बार कहा था कि अब तक सरकार का ध्यान देश भर में शिक्षा के प्रसार पर था पर अब वक्त आ गया है कि ध्यान शिक्षा की गुणवत्ता पर भी दिया जाए राज्य सरकारों की साझेदारी में केंद्र सरकार ने सर्व शिक्षा अभियान को सर्वव्यापी बनाने में सफलता पाई है इस अभियान के साथ ही आरंभिक कक्षाओं में अध्यापकों के 19.48 पदों की स्टेशन आ गया है देश की सभी सरकारी माध्यमिक विद्यालयों को आईसीटी से लैस किया जा रहा है ताकि बच्चों को पढ़ाने में इनका लाभ लिया जा सके उन्हें सूचना प्रौद्योगिकी से जुड़ी साक्षरता में सुधार किया जा सके सरकार ने की प्रक्रिया की पहल की है जिससे प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण के माध्यम से बच्चों का मूल्यांकन किया जाएगा जरूरत थी शिक्षा के प्रति उदासीनता को खत्म करने की सभी योजनाओं और अभियानों की सफलता के लिए सरकार नागरिक समाज संगठन विशेषज्ञों माता पिता सामुदायिक सदस्यों और स्वयं बच्चों का प्रयासरत होना बहुत आवश्यक है शिक्षित बच्चा ही कल विकास देश विकासशील भारत में युवाओं की ताकत बनेगा

shiksha ke kshetra mein bhi modi sarkar ne kai karya aur acche kadam uthye hain 2018 ki 18 mein shiksha ke prasaar aur prachar ke liye bhi sarkar ne kai faisle liye prathmik sarkari schoolon ki shiksha mein sudhaar ke liye afsaron judgon aur janapratinidhiyon ke baccho ka sarkari schoolon mein padhna anivarya kar diya gaya hai adalat ka saaf kehna hai ki jab tak is samuday ke logo ke bacche convent school chhodkar in schoolon mein nahi padhenge in schoolon ka sthan nahi sthar nahi sudhrega pradhanmantri ne ek baar kaha tha ki ab tak sarkar ka dhyan desh bhar mein shiksha ke prasaar par tha par ab waqt aa gaya hai ki dhyan shiksha ki gunavatta par bhi diya jaaye rajya sarkaro ki sajhedari mein kendra sarkar ne surv shiksha abhiyan ko sarvavyapi banane mein safalta payi hai is abhiyan ke saath hi aarambhik kakshaon mein adhyapakon ke 19 48 padon ki station aa gaya hai desh ki sabhi sarkari madhyamik vidhayalayo ko ICT se lase kiya ja raha hai taki baccho ko padhane mein inka labh liya ja sake unhe soochna praudyogiki se judi saksharta mein sudhaar kiya ja sake sarkar ne ki prakriya ki pahal ki hai jisse pratyek varsh rashtriya upalabdhi sarvekshan ke madhyam se baccho ka mulyankan kiya jaega zarurat thi shiksha ke prati udasinta ko khatam karne ki sabhi yojnao aur abhiyaanon ki safalta ke liye sarkar nagarik samaj sangathan vishesagyon mata pita samudayik sadasyon aur swayam baccho ka prayasarat hona bahut aavashyak hai shikshit baccha hi kal vikas desh vikasshil bharat mein yuvaon ki takat banega

शिक्षा के क्षेत्र में भी मोदी सरकार ने कई कार्य और अच्छे कदम उठाए हैं 2018 की 18 में शिक्ष

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  186
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!