इतिहास में पहली बार हुआ है जब 4 जजों ने कांफ्रेंस करके बताया है कि लोकतंत्र खतरे में है? हमें इस बारे में क्या करना चाहिए?...


user

Ansh jalandra

Motivational speaker & criminal lawyer

0:24
Play

Likes  106  Dislikes    views  2368
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए ऐसा भारत के इतिहास में आश्रम कह सकते हैं भारत के न्यायालय इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि 4 जजों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बताएं कि लोकतंत्र खतरे में है क्योंकि जिस प्रकार से सरकार ने CBI को पॉइंट किया है तो और उपचार सुप्रीम कोर्ट के जजों का यह मानना है कि लोकतंत्र ऐसे खतरे में आकर उन्हें बताएं कैसे लोकतंत्र का जो है जो ठीक कर रहा है या फिर हम कह सकते भ्रष्ट है हम जैसा आपको लगता है कोर्ट सुप्रीम को चलता है वैसा कोर्ट नहीं चल रहा है और मेरे हिसाब से तो चारो ही जो जो को एसा नहीं कहना चाहिए था अगर तुंहें कोई भी प्रॉब्लम है सीबीआई से जो कि इसका प्रैक्टिस कर सकते रख कुछ समय तक रख सकते थे और उसके बाद इस चीज का प्रोटेस्ट कर सकते थे किंतु अगर वह तुरंत के तुरंत यूनानी प्रेस कॉन्फ्रेंस की तो खाना कहां पर भारत के लोगों को जो है उनका जुडिशरी पर विश्वास उठ चुका है वह न्यायालय पर विश्वास उठ चुका हे को कोर्ट में विश्वास ज्यादा नहीं रख पाएंगे क्योंकि आम आदमी के लिए जो है अगर सरकार भ्रष्ट जाकर नेता भ्रष्ट नेताओं का भरोसा जो है वह पूरा का पूरा रूट पर जाएगा या नहीं लाए पर जाएगा उन्हें जोरों पर पूरा भरोसा रहता है कि हमें इंसाफ मिलेगा क्योंकि जज को ठेस मीना को हटाने वाला है वह भारत के डेमोक्रेसी खाएं लोकतंत्र का जो है तीसरा खंबा है और अगर अंबा की 3 घंटे की बात करें जैसे कि एग्जिक्यूटिव हो या फिर क्या सकते हैं पॉलिटिक्स हो या फिर मिल गया हो तो इन तीनों पर भी यही भ्रष्टाचार के या फिर हम कह सकते भ्रष्ट होने के आरोप लग चुकी है और अब लोकतंत्र पर और रब्बा माफ कीजिएगा कोर्ट जुडिशरी पर भी यह दाग लग चुका है तो मेरे साथ खाना कहां पर है यह सही नहीं था मेरे साथ चलो जैसे को प्रेस कॉन्फ्रेंस करने की जरुरत नहीं थी

dekhiye aisa bharat ke itihas mein ashram keh sakte hain bharat ke nyayalaya itihas mein pehli baar aisa hua hai ki 4 judgon ne press conference karke bataye ki loktantra khatre mein hai kyonki jis prakar se sarkar ne CBI ko point kiya hai toh aur upchaar supreme court ke judgon ka yah manana hai ki loktantra aise khatre mein aakar unhe bataye kaise loktantra ka jo hai jo theek kar raha hai ya phir hum keh sakte bhrasht hai hum jaisa aapko lagta hai court supreme ko chalta hai waisa court nahi chal raha hai aur mere hisab se toh chaaro hi jo jo ko aisa nahi kehna chahiye tha agar tunhen koi bhi problem hai cbi se jo ki iska practice kar sakte rakh kuch samay tak rakh sakte the aur uske baad is cheez ka protest kar sakte the kintu agar vaah turant ke turant unani press conference ki toh khana kahaan par bharat ke logo ko jo hai unka judiciary par vishwas uth chuka hai vaah nyayalaya par vishwas uth chuka hai ko court mein vishwas zyada nahi rakh payenge kyonki aam aadmi ke liye jo hai agar sarkar bhrasht jaakar neta bhrasht netaon ka bharosa jo hai vaah pura ka pura root par jaega ya nahi laye par jaega unhe joron par pura bharosa rehta hai ki hamein insaaf milega kyonki judge ko thes meena ko hatane vala hai vaah bharat ke democracy khayen loktantra ka jo hai teesra khamba hai aur agar amba ki 3 ghante ki baat kare jaise ki executive ho ya phir kya sakte hain politics ho ya phir mil gaya ho toh in tatvo par bhi yahi bhrashtachar ke ya phir hum keh sakte bhrasht hone ke aarop lag chuki hai aur ab loktantra par aur rabba maaf kijiega court judiciary par bhi yah daag lag chuka hai toh mere saath khana kahaan par hai yah sahi nahi tha mere saath chalo jaise ko press conference karne ki zarurat nahi thi

देखिए ऐसा भारत के इतिहास में आश्रम कह सकते हैं भारत के न्यायालय इतिहास में पहली बार ऐसा हु

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  150
WhatsApp_icon
play
user

Apurva D

Optimistic Coder

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए इतिहास में जरूरत से पहली बार हुआ है जब 4 + Kong कॉन्फ्रेंस करके आता बता रहा है कि लोकतंत्र खतरे में है मेरे ख्याल से ना सिर्फ सरकार ने तो देश वासियों ने भी इस बात पर गौर करना चाहिए क्योंकि लोकतंत्र है खतरे में है ऐसी बात कोई छोटे में गलत नहीं कर सकता हालांकि बहुत बड़े जाने-माने पहचान वाले जज जस्टिस चेलामेश्वर मदन लोकुर कुरियन जोसेफ और रंजन गोगोई अमेरिका के इंचार्ज का निर्णय के सामने आकर यह बात कही है आपने देखा जाए तो भारत में सबसे तेज चलता है लेकिन बहुत अच्छे लोग हैं अपनी बातें खुलेआम से बना सकते हैं और सबसे आगे से बातें करना अच्छी नहीं है तू मेरे ख्याल से यह उनका एक प्रकार का दरिया ही है कि उन्होंने ऐसी बात ना कर कभी और हालांकि वह इतने बड़े पद पर है वह टेक्स्ट को ऐसे ही बातें नहीं कर देश का भला ही चाहा होगा और फिर उनका यह सब उसके बारे में कहना है जरा मुझे लगा के पॉलिटिकल पार्टी आ रहे हैं और कुछ लोग बिल्कुल भी अच्छा नहीं किया कैसे कैसे जलसा कर सकते है और कुछ लोगों का मानना है कि सरकार की तरफ से इस बात पर ध्यान देना चाहिए क्योंकि अगर वह स्क्रीन कोर्ट के बड़े राजा दशरथ ने कुछ ऐसा कर दिया बात करनी होगी और सरकार ने इस बात का छुट्टी नहीं बैठे-बैठे चाहिए उन्हें कुछ न कुछ करना चाहिए क्योंकि लोकतंत्र खतरे में है

dekhiye itihas mein zarurat se pehli baar hua hai jab 4 Kong conference karke aata bata raha hai ki loktantra khatre mein hai mere khayal se na sirf sarkar ne toh desh vasiyo ne bhi is baat par gaur karna chahiye kyonki loktantra hai khatre mein hai aisi baat koi chote mein galat nahi kar sakta halaki bahut bade jaane maane pehchaan waale judge justice chelameshwar madan lokur kuriyan joseph aur ranjan gogoi america ke incharge ka nirnay ke saamne aakar yah baat kahi hai aapne dekha jaaye toh bharat mein sabse tez chalta hai lekin bahut acche log hain apni batein khuleaam se bana sakte hain aur sabse aage se batein karna achi nahi hai tu mere khayal se yah unka ek prakar ka dariya hi hai ki unhone aisi baat na kar kabhi aur halaki vaah itne bade pad par hai vaah text ko aise hi batein nahi kar desh ka bhala hi chaha hoga aur phir unka yah sab uske bare mein kehna hai zara mujhe laga ke political party aa rahe hain aur kuch log bilkul bhi accha nahi kiya kaise kaise jalsa kar sakte hai aur kuch logo ka manana hai ki sarkar ki taraf se is baat par dhyan dena chahiye kyonki agar vaah screen court ke bade raja dashrath ne kuch aisa kar diya baat karni hogi aur sarkar ne is baat ka chhutti nahi baithe baithe chahiye unhe kuch na kuch karna chahiye kyonki loktantra khatre mein hai

देखिए इतिहास में जरूरत से पहली बार हुआ है जब 4 + Kong कॉन्फ्रेंस करके आता बता रहा है कि लो

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  163
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
aa pehli baar hua hai ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!