लोकतंत्र की सफलता में सबसे बड़ी बाधा कौन-कौन है?...


user

Purushottamdas Kisanlalji Bagdi

Social Worker , Sansthapak Janadhikar Bachao Paksha

5:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप पूछ रहे हो कल के जरिए लोकतंत्र की सफलता में सबसे बड़ी बाधा कौन-कौन लोग है ना अच्छा प्रश्न है जो कार्यकर्ता पहले हमारा देश के ही है करो जो कार्यकर्ता सप्ताह में जाना चाहते हैं और सत्ता में जाने के लिए वह कार्यकर्ता राजा रहो चाहे राजनीतिक कोई दारू पार्टी रहो मुझे हफ्ता में जाना चाहती है वह अलग-अलग रंग का खेल करती है अलग-अलग प्रकार का प्रचार करती है उसमें वह जाति का प्रचार करता है कोई धर्म नहीं होता है कोई पक्षकारों तार को कैसे बात करता है यह सबसे बड़ी बाजार रोक सकता है कि लोकतंत्र को देखना चाहते हैं या मजबूत करना चाहते हैं लोगों लोगों को जानकारी देना चाहते तो आप लोगों में जा कर यह बताओ लोकतंत्र के लिए हम तो इसके पहले सप्ताह में जो गए हम जा रहे हैं इसके पहले जो लोकतंत्र की मजबूती के लिए क्या किया संविधान में और हम लोग जाने के बाद संविधान में क्या करेंगे यह मुद्दा लेकर पब्लिक के सामने आना चाहिए चुनाव और वह मुद्दा बाजू में रखकर उसके प्रति जागरूक लोगों में नहीं लाना और अलग-अलग चुनाव अध्यक्ष ने अलग-अलग हथकंडे वहां पर ना अर्चना जी के जाना यह एक बहुत बड़ा बाजार इसमें है लोकतंत्र में लोकतंत्र की सफलता के बीच में और इसमें लोग भी अपने इजाजत जवाब देने जा रहे हैं कि वह भी स्कूल इस चीज को ले जयपुर से नहीं प्रश्न ऑस्ट्रेलिया या कुछ विचार नहीं करते हैं वह उनके द्वारा जो प्रचार माध्यमों का वापस किया जाता उसमें हो समाज के लोग हमारी बात भी अंधा उसके अंदर शामिल हो जाती है और अपने पैर में पत्थर लगे दुख से अब दुर्भाग्य बातें करना पड़ता है उसके द्वारा में जनता को बताऊंगा कि भाई भाई रे देखो आप पूछो आप सत्ता में थे तो क्या-क्या किया संविधान में क्या-क्या किया लोग तुम लोग अजय अतुल के यहां जाते क्या करना चाहते हो या जनता का सामान आज क्या करना है आगे क्या करवाना उनके साथ उनके चुनाव के मुद्दे पहली बार आ तो चुनाव का हथकंडा तो असली वाला चुनाव के गलत करने में लोगों का शामिल होना दूसरी बाधा है इसलिए लोकतंत्र सफल नहीं हो रहा मुख्य बाधा की है जो लोग उसे रविवार ने पढ़े लिखे जो राजनीति में दर्द है रहते सप्ताह में 74 साल में हम सत्ता में रहे हमने क्या किया लोकतंत्र के लिए संविधान में कैसे कैसे कैसे कैसे तुम्हारे इतने बदलाव लाए या 27 में बदलाव लाए यह बताने की आवश्यकता लोगों से ज्यादा बहुत बड़ी बात है आपने पूछा मुझे इस लायक समझा मैं आपका आभारी हूं धन्यवाद देता हूं ओके

aap puch rahe ho kal ke jariye loktantra ki safalta me sabse badi badha kaun kaun log hai na accha prashna hai jo karyakarta pehle hamara desh ke hi hai karo jo karyakarta saptah me jana chahte hain aur satta me jaane ke liye vaah karyakarta raja raho chahen raajnitik koi daaru party raho mujhe hafta me jana chahti hai vaah alag alag rang ka khel karti hai alag alag prakar ka prachar karti hai usme vaah jati ka prachar karta hai koi dharm nahi hota hai koi pakshakaron taar ko kaise baat karta hai yah sabse badi bazaar rok sakta hai ki loktantra ko dekhna chahte hain ya majboot karna chahte hain logo logo ko jaankari dena chahte toh aap logo me ja kar yah batao loktantra ke liye hum toh iske pehle saptah me jo gaye hum ja rahe hain iske pehle jo loktantra ki majbuti ke liye kya kiya samvidhan me aur hum log jaane ke baad samvidhan me kya karenge yah mudda lekar public ke saamne aana chahiye chunav aur vaah mudda baju me rakhakar uske prati jagruk logo me nahi lana aur alag alag chunav adhyaksh ne alag alag hathkande wahan par na archna ji ke jana yah ek bahut bada bazaar isme hai loktantra me loktantra ki safalta ke beech me aur isme log bhi apne ijajat jawab dene ja rahe hain ki vaah bhi school is cheez ko le jaipur se nahi prashna austrailia ya kuch vichar nahi karte hain vaah unke dwara jo prachar maadhyamon ka wapas kiya jata usme ho samaj ke log hamari baat bhi andha uske andar shaamil ho jaati hai aur apne pair me patthar lage dukh se ab durbhagya batein karna padta hai uske dwara me janta ko bataunga ki bhai bhai ray dekho aap pucho aap satta me the toh kya kya kiya samvidhan me kya kya kiya log tum log ajay atul ke yahan jaate kya karna chahte ho ya janta ka saamaan aaj kya karna hai aage kya karwana unke saath unke chunav ke mudde pehli baar aa toh chunav ka hathkanda toh asli vala chunav ke galat karne me logo ka shaamil hona dusri badha hai isliye loktantra safal nahi ho raha mukhya badha ki hai jo log use raviwar ne padhe likhe jo raajneeti me dard hai rehte saptah me 74 saal me hum satta me rahe humne kya kiya loktantra ke liye samvidhan me kaise kaise kaise kaise tumhare itne badlav laye ya 27 me badlav laye yah batane ki avashyakta logo se zyada bahut badi baat hai aapne poocha mujhe is layak samjha main aapka abhari hoon dhanyavad deta hoon ok

आप पूछ रहे हो कल के जरिए लोकतंत्र की सफलता में सबसे बड़ी बाधा कौन-कौन लोग है ना अच्छा प्रश

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  2026
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!