जिसे हम सबसे ज़्यादा नफ़रत करते है , उस से प्रेम कैसे करें?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बेटा नफरत और पैर दोनों मानसिक भाग होते हैं दर्शन क्या है किसी से स्थाई नहीं होता नाश्ता करना चाहिए और हम तो पाता गांधी जी के देश में रहते हैं महात्मा गांधी जी की पोती को मानने वाले लोग तो महात्मा गांधी जी ने तो साफ शब्दों में कहा है कि पाप से घृणा करो पापी से नहीं तो तुम किसी ने कोई गलत काम किया और उस से आपको नफरत होगी लेकिन नफरत क्यों कर रहे हो आप उसको सुधारने का मौका दो ना एक अवसर देना चाहिए हो सकता है वह सुधर जाए और हो सकता है वह इतना अधिक सुधार पर आ जाए कि उसको क्या महात्मा गांधी जी ने चोरी नहीं की आत्मा गांधी जी ने चोरी भी की लेकिन उनके मन में क्योंकि सत्य के प्रति प्रेम था इसलिए उन्होंने का क्लिक करके जानें कि आपके पापा जी आपके ₹10 चुराए हैं मैं गलती की है मैंने उसका सजा का हकदार हूं उसने का बेटे मैं इस बात से दुख नहीं है मुझे कि मेरे ₹10 चोरी हुए मुझे इस बात की खुशी है कि तुमने अपनी गलती को एक्सेप्ट किया जता है उसको सुधारने का मौका देना चाहिए और उस से प्रेम किया जा सकता है और प्रेम में तो बहुत ताकत होती बच्चों के अच्छे-अच्छे कुछ उधार देता है सबसे यदि विश्व में कहीं सबसे बड़ी ताकत है तो वह प्रेम है बैंक के द्वारा बहुत सारी सारे कैदियों को सुधार दिया गया बहुत सारे अपराधी सुधर गए तो प्रेम की बात को समझो और देखो किसी को अक्सर 2 सुधारने का

beta nafrat aur pair dono mansik bhag hote hain darshan kya hai kisi se sthai nahi hota nashta karna chahiye aur hum toh pata gandhi ji ke desh mein rehte hain mahatma gandhi ji ki poti ko manne wale log toh mahatma gandhi ji ne toh saaf shabdo mein kaha hai ki paap se ghrina karo papi se nahi toh tum kisi ne koi galat kaam kiya aur us se aapko nafrat hogi lekin nafrat kyon kar rahe ho aap usko sudhaarne ka mauka do na ek avsar dena chahiye ho sakta hai wah sudhar jaye aur ho sakta hai wah itna adhik sudhaar par aa jaye ki usko kya mahatma gandhi ji ne chori nahi ki aatma gandhi ji ne chori bhi ki lekin unke man mein kyonki satya ke prati prem tha isliye unhone ka click karke jaane ki aapke papa ji aapke Rs churae hain main galti ki hai maine uska saza ka haqdaar hoon usne ka bete main is baat se dukh nahi hai mujhe ki mere Rs chori hue mujhe is baat ki khushi hai ki tumne apni galti ko except kiya jata hai usko sudhaarne ka mauka dena chahiye aur us se prem kiya ja sakta hai aur prem mein toh bahut takat hoti baccho ke acche acche kuch udhaar deta hai sabse yadi vishwa mein kahin sabse badi takat hai toh wah prem hai bank ke dwara bahut saree saare kaidiyo ko sudhaar diya gaya bahut saare apradhi sudhar gaye toh prem ki baat ko samjho aur dekho kisi ko aksar 2 sudhaarne ka

बेटा नफरत और पैर दोनों मानसिक भाग होते हैं दर्शन क्या है किसी से स्थाई नहीं होता नाश्ता कर

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  355
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!