संस्कार किसे कहते है?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वामी विवेकानंद इसके बारे में बहुत अच्छा कहा है कि आप धन्य खट्टा करके करोड़पति संता से बन सकते हैं किंतु संस्कारों का इकट्ठा करके संस्कारी वरना बहुत कठिन कार्य है संस्कार भी पद पर हैं जिन से मानिकपुर सभ्य मानव तंत्र और संस्कारों के बाद में चाय मनुष्य के पास वाली पेशन की काल की डिग्रियां काफी हो जाए उसके पास धन का भंडार को 3:30 बजे संस्कार नहीं मिलनसार था नहीं ब्रितानी सेवा के भाव नहीं है दूसरों का आदर देने के विचार नहीं है प्रेम पूर्वक किसी से मिलने के विचार नहीं है साहब दया दया की मां भी जो मानवीय गुण हैं उनसे बोल रहे तो है तो है सामान्य कीवर्ड जानवर ही हो सकता है उसके साथ नहीं कह सकते आप संस्कार ही हैं जो मानव को इंसान बनाते हैं भारतीय हिंदू धर्म के सोलह संस्कार माने जाते हैं जो गर्भाधान से लेकर कि मनुष्य के मरने तक अंत्येष्टि तक होते हैं इनमें एक होता है जिसको हम कहते उपनयन संस्कार यह 6 वर्ष का जब बालक होता था पहले तो उसको गुरु के पास ले जाते थे और गुरु उसको जनवादी धारण करा कर उसको दीक्षित करता था महाप्रभु 25 साल तक गुरु के पास रहता था जिसे ब्रह्मचर्य आश्रम कहते हैं उससे तो वह ग्रुप के पास संस्कार

swami vivekananda iske bare mein bahut accha kaha hai ki aap dhanya khatta karke crorepati santa se ban sakte hai kintu sanskaron ka ikattha karke sanskari varna bahut kathin karya hai sanskar bhi pad par hai jin se manikpur sabhya manav tantra aur sanskaron ke baad mein chai manushya ke paas wali pension ki kaal ki degreeya kaafi ho jaye uske paas dhan ka bhandar ko 3:30 baje sanskar nahi milansaar tha nahi britani seva ke bhav nahi hai dusro ka aadar dene ke vichar nahi hai prem purvak kisi se milne ke vichar nahi hai saheb daya daya ki maa bhi jo manviya gun hai unse bol rahe toh hai toh hai samanya keyword janwar hi ho sakta hai uske saath nahi keh sakte aap sanskar hi hai jo manav ko insaan banate hai bharatiya hindu dharm ke solah sanskar maane jaate hai jo garbhadhan se lekar ki manushya ke marne tak Antyesthi tak hote hai inme ek hota hai jisko hum kehte upnayan sanskar yeh 6 varsh ka jab balak hota tha pehle toh usko guru ke paas le jaate the aur guru usko janavaadee dharan kara kar usko dixit karta tha mahaprabhu 25 saal tak guru ke paas rehta tha jise brahmacharya ashram kehte hai usse toh wah group ke paas sanskar

स्वामी विवेकानंद इसके बारे में बहुत अच्छा कहा है कि आप धन्य खट्टा करके करोड़पति संता से बन

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  377
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

संस्कार किसे कहते हैं संस्कार यह एक दिव्य शब्द है संस्कार का अर्थ होता है सम कार अच्छी तरीके से की गई कार्य को ही संस्कार कहते हैं जिसमें दूसरे व्यक्ति को मान सम्मान भी दिया जाए और स्वयं भी आपकी आत्मा पुत्र रहे आपकी आत्मा भी कलुषित ना होए आपकी आत्मा में प्रदूषित ना होए और दूसरे की व्यक्ति की भी सम्मान हो जाए अर्थात अपने साथ-साथ दूसरे व्यक्ति का भी अगर सम्मान किया जाता है तो वह सारे कर्म संस्कारित कर्म कहलाते हैं अर्थात जिसमें करता और अन्य व्यक्तियों का भी जी वन्यजीवों का भी सम्मान हो या महान हो सब को लाभ मिले संस्कार कहलाते हैं अब इसको हम कहीं पर शुद्धिकरण कहते हैं तो कहीं पर हम कहते हैं कि यह भलाई है अच्छे कर्म हैं अच्छी बातें हैं उनके अलग-अलग नाम ले जा सकते हैं अच्छा अच्छे आदित्य को भी हम अच्छे संस्कार कहते हैं तो सारे उन्हीं के ही रूप हैं अर्थात वही कार्य जो सभी के लिए सभी जगह सही होते हैं वही संस्कार कहलाते हैं

sanskar kise kehte hain sanskar yah ek divya shabd hai sanskar ka arth hota hai some car achi tarike se ki gayi karya ko hi sanskar kehte hain jisme dusre vyakti ko maan sammaan bhi diya jaaye aur swayam bhi aapki aatma putra rahe aapki aatma bhi kalushit na hoe aapki aatma me pradushit na hoe aur dusre ki vyakti ki bhi sammaan ho jaaye arthat apne saath saath dusre vyakti ka bhi agar sammaan kiya jata hai toh vaah saare karm sanskarit karm kehlate hain arthat jisme karta aur anya vyaktiyon ka bhi ji vanyajivon ka bhi sammaan ho ya mahaan ho sab ko labh mile sanskar kehlate hain ab isko hum kahin par shuddhikaran kehte hain toh kahin par hum kehte hain ki yah bhalai hai acche karm hain achi batein hain unke alag alag naam le ja sakte hain accha acche aditya ko bhi hum acche sanskar kehte hain toh saare unhi ke hi roop hain arthat wahi karya jo sabhi ke liye sabhi jagah sahi hote hain wahi sanskar kehlate hain

संस्कार किसे कहते हैं संस्कार यह एक दिव्य शब्द है संस्कार का अर्थ होता है सम कार अच्छी तरी

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  179
WhatsApp_icon
user

shekhar11

Volunteer

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां संस्कार का मतलब होता है शुद्धीकरण के संस्कार के दो रूप होते हैं केक आंतरिक रूप और दूसरा ब्रह्म रूप ब्रह्म रूप का नाम रिति रिवाज भी कह सकते हैं यांत्रिक रूप की रक्षा करता है हमारा इस जीवन में प्रवेश करने का मुख्य कारण यह है कि पूर्व जन्म में जिस अवस्था तक हम आत्मिक उन्नति कर चुके हैं इस जन्म में उसे अधिक उन्नति करें आंतरिक रुक हमारी जीवन चर्या है या कुछ नियमों पर आधारित हो तभी मनुष्य आत्मिक उन्नति कर सकता है संस्कार की बात की जाए तो संस्कार जो हमारा कर्तव्य होता है हमारी निष्ठा होती है वही संस्कार कहलाती है

haan sanskar ka matlab hota hai shudhikaran ke sanskar ke do roop hote hain cake aantarik roop aur doosra Brahma roop Brahma roop ka naam riti rivaaj bhi keh sakte hain yantrik roop ki raksha karta hai hamara is jeevan mein pravesh karne ka mukhya karan yah hai ki purv janam mein jis avastha tak hum atmik unnati kar chuke hain is janam mein use adhik unnati kare aantarik ruk hamari jeevan charya hai ya kuch niyamon par aadharit ho tabhi manushya atmik unnati kar sakta hai sanskar ki baat ki jaaye toh sanskar jo hamara kartavya hota hai hamari nishtha hoti hai wahi sanskar kahalati hai

हां संस्कार का मतलब होता है शुद्धीकरण के संस्कार के दो रूप होते हैं केक आंतरिक रूप और दूसर

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  370
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
sanskar kise kahate hain ; संस्कार किसे कहते है ; संस्कार किसे कहते हैं ; sanskar kise kehte hain ; संस्कार सन किसे कहते हैं ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!