उर्वशी के रचनाकार का क्या नाम है उर्वशी के रचनाकार का क्या नाम है?...


user

Ranjeet Singh Uppal

Retired GM ONGC

1:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उर्वशी राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की रचना है यह एक महाकाव्य है जो उन्होंने 1961 में प्रकाशित कराया था और एक महाकाव्य पर उनको ज्ञानपीठ पुरस्कार भी मिला था वैसे तो रामधारी सिंह दिनकर जी वीर रस के कवि माने जाते हैं परंतु उर्वशी में उन्होंने श्रृंगार रस का भरपूर उपयोग किया है इसके दो मुख्य पात्र हैं राजा पुरुरवा और अप्सरा उर्वशी वैसे उसके अलावा भी इसमें और भी कई अफसर आए हैं एडमिन का चित्र देखा वगैरह पर मुख्य रूप से यह दो ही पात्र है जो राजा पुरुरवा है वह देवत्व पाने के अभिलाषी हैं और जो उर्वशी है वह पृथ्वी पर सुख भोगने के लिए आई है दोनों की अपनी अलग अलग अभिलाष आएं हैं उर्वशी के बारे में या कथा प्रसिद्ध है कि समुद्र मंथन हुआ था तो उसमें से जो अप्सराएं निकली थी उनमें से एक उर्वशी थी और अर्जुन भी जब इंद्र के पास गए थे तो उर्वशी उनके ऊपर मोहित हो गई थी पर अर्जुन ने जब उनको स्वीकार नहीं किया तो और मशीनें उनको एक वर्ष नपुंसक रहने का जवाब भी दे दिया था इन दोनों पत्रों को ही अत्यंत सुंदर तरीके से दिनकर जी ने सूचित किया है धन्यवाद

urvashi rashtrya kavi ramdhari Singh dinkar ki rachna hai yah ek mahakavya hai jo unhone 1961 me prakashit karaya tha aur ek mahakavya par unko gyanapeeth puraskar bhi mila tha waise toh ramdhari Singh dinkar ji veer ras ke kavi maane jaate hain parantu urvashi me unhone shringar ras ka bharpur upyog kiya hai iske do mukhya patra hain raja pururava aur apsara urvashi waise uske alava bhi isme aur bhi kai officer aaye hain admin ka chitra dekha vagera par mukhya roop se yah do hi patra hai jo raja pururava hai vaah devatwa paane ke abhilashi hain aur jo urvashi hai vaah prithvi par sukh bhogane ke liye I hai dono ki apni alag alag abhilash aaen hain urvashi ke bare me ya katha prasiddh hai ki samudra manthan hua tha toh usme se jo apsaraen nikli thi unmen se ek urvashi thi aur arjun bhi jab indra ke paas gaye the toh urvashi unke upar mohit ho gayi thi par arjun ne jab unko sweekar nahi kiya toh aur mashinen unko ek varsh napunsak rehne ka jawab bhi de diya tha in dono patron ko hi atyant sundar tarike se dinkar ji ne suchit kiya hai dhanyavad

उर्वशी राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की रचना है यह एक महाकाव्य है जो उन्होंने 1961 में प्र

Romanized Version
Likes  139  Dislikes    views  2017
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!