अगर आप भारत के प्रधानमंत्री होते तो क्या करते?...


play
user

Ravi Sharma

Advocate

1:53

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर मैं भारत का प्रधानमंत्री होता, तो मैं सबसे पहले समान आचार संहिता यानी की यूनिफॉर्म सिविल कोर्ट को लागू करता है| सभी राज्यों के सभी नागरिकों को समान अधिकार प्राप्त हो, यह भी सुनिश्चित करता| आरक्षण जैसी सामाजिक बुराइयों को खत्म करने के लिए, जरूरी कदम उठाने के लिए भरसक प्रयास करता| और प्रदूषण व ग्लोबल वार्मिंग जैसी भयावह समस्याओं के प्रति जनता को जागरूक करने के लिए जरूरी कदम उठाता| प्रशासनिक भ्रष्टाचार के नियंत्रण हेतु, कठोर से कठोर कानून बने, यह सुनिश्चित करने के बाद, उन कानूनों को लागू करने के लिए, किस प्रकार से हम प्रशासनिक व न्यायिक व्यवस्था में परिवर्तन ला सकते हैं इसके लिए मैं प्रयत्न करता| व सभी धर्मों, जातियों व समूहों समुदायों के लिए लोगों को पर्याप्त अधिकार मिले, बराबर अवसर प्राप्त हो, तथा बेरोजगारी भत्ते में बढ़ोतरी के लिए भी प्रयास करता| इसके अन्यथा मुझे लगता है, कि सब से जो महत्वपूर्ण समस्या भारत के सामने है, वह है, इस समय आर्थिक असमानता की| जिस को खत्म करने के लिए हमें अभी बहुत से प्रयास करने बाकी है, मैं इसके लिए भी प्रयास करता हूं, कोशिश करता कि यह समस्या जल्दी से जल्दी भारत से दूर हो| अंत में सबसे इंपोर्टेंट याने की सबसे महत्वपूर्ण पॉइंट यह है, कि भारत एक कृषि प्रधान देश है| व किसानों की स्थिति बद से बदतर होती चली आ रही है, तो मैं इसके लिए प्रयास करता की, कृषि को किस प्रकार से मौसम से, मौसम पर निर्भरता उसकी खत्म हो, और किसानों को उन की फसल के उचित दाम मिले| धन्यवाद|

agar main bharat ka pradhanmantri hota toh main sabse pehle saman aachar sanhita yani ki uniform civil court ko laagu karta hai sabhi rajyo ke sabhi nagriko ko saman adhikaar prapt ho yah bhi sunishchit karta aarakshan jaisi samajik buraiyon ko khatam karne ke liye zaroori kadam uthane ke liye bharasak prayas karta aur pradushan va global warming jaisi bhyavah samasyaon ke prati janta ko jagruk karne ke liye zaroori kadam uthaata prashaasnik bhrashtachar ke niyantran hetu kathor se kathor kanoon BA ne yah sunishchit karne ke BA ad un kanuno ko laagu karne ke liye kis prakar se hum prashaasnik va nyayik vyavastha mein parivartan la sakte hai iske liye main prayatn karta va sabhi dharmon jaatiyo va samuho samudayo ke liye logo ko paryapt adhikaar mile BA rabar avsar prapt ho tatha berojgari bhatte mein BA dhotari ke liye bhi prayas karta iske anyatha mujhe lagta hai ki sab se jo mahatvapurna samasya bharat ke saamne hai vaah hai is samay aarthik asamanta ki jis ko khatam karne ke liye hamein abhi BA hut se prayas karne BA ki hai iske liye bhi prayas karta hoon koshish karta ki yah samasya jaldi se jaldi bharat se dur ho ant mein sabse important yane ki sabse mahatvapurna point yah hai ki bharat ek krishi pradhan desh hai va kisano ki sthiti BA d se BA dataar hoti chali aa rahi hai toh main iske liye prayas karta ki krishi ko kis prakar se mausam se mausam par nirbharta uski khatam ho aur kisano ko un ki fasal ke uchit daam mile dhanyavad

अगर मैं भारत का प्रधानमंत्री होता, तो मैं सबसे पहले समान आचार संहिता यानी की यूनिफॉर्म सिव

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  295
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
kya karte ho aap ; aap kya karte ho ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!