अगर आप भारत के प्रधानमंत्री होते तो क्या करते?...


play
user

Ravi Sharma

Advocate

1:53

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर मैं भारत का प्रधानमंत्री होता, तो मैं सबसे पहले समान आचार संहिता यानी की यूनिफॉर्म सिविल कोर्ट को लागू करता है| सभी राज्यों के सभी नागरिकों को समान अधिकार प्राप्त हो, यह भी सुनिश्चित करता| आरक्षण जैसी सामाजिक बुराइयों को खत्म करने के लिए, जरूरी कदम उठाने के लिए भरसक प्रयास करता| और प्रदूषण व ग्लोबल वार्मिंग जैसी भयावह समस्याओं के प्रति जनता को जागरूक करने के लिए जरूरी कदम उठाता| प्रशासनिक भ्रष्टाचार के नियंत्रण हेतु, कठोर से कठोर कानून बने, यह सुनिश्चित करने के बाद, उन कानूनों को लागू करने के लिए, किस प्रकार से हम प्रशासनिक व न्यायिक व्यवस्था में परिवर्तन ला सकते हैं इसके लिए मैं प्रयत्न करता| व सभी धर्मों, जातियों व समूहों समुदायों के लिए लोगों को पर्याप्त अधिकार मिले, बराबर अवसर प्राप्त हो, तथा बेरोजगारी भत्ते में बढ़ोतरी के लिए भी प्रयास करता| इसके अन्यथा मुझे लगता है, कि सब से जो महत्वपूर्ण समस्या भारत के सामने है, वह है, इस समय आर्थिक असमानता की| जिस को खत्म करने के लिए हमें अभी बहुत से प्रयास करने बाकी है, मैं इसके लिए भी प्रयास करता हूं, कोशिश करता कि यह समस्या जल्दी से जल्दी भारत से दूर हो| अंत में सबसे इंपोर्टेंट याने की सबसे महत्वपूर्ण पॉइंट यह है, कि भारत एक कृषि प्रधान देश है| व किसानों की स्थिति बद से बदतर होती चली आ रही है, तो मैं इसके लिए प्रयास करता की, कृषि को किस प्रकार से मौसम से, मौसम पर निर्भरता उसकी खत्म हो, और किसानों को उन की फसल के उचित दाम मिले| धन्यवाद|

agar main bharat ka pradhanmantri hota toh main sabse pehle saman aachar sanhita yani ki uniform civil court ko laagu karta hai sabhi rajyo ke sabhi nagriko ko saman adhikaar prapt ho yah bhi sunishchit karta aarakshan jaisi samajik buraiyon ko khatam karne ke liye zaroori kadam uthane ke liye bharasak prayas karta aur pradushan va global warming jaisi bhyavah samasyaon ke prati janta ko jagruk karne ke liye zaroori kadam uthaata prashaasnik bhrashtachar ke niyantran hetu kathor se kathor kanoon BA ne yah sunishchit karne ke BA ad un kanuno ko laagu karne ke liye kis prakar se hum prashaasnik va nyayik vyavastha mein parivartan la sakte hai iske liye main prayatn karta va sabhi dharmon jaatiyo va samuho samudayo ke liye logo ko paryapt adhikaar mile BA rabar avsar prapt ho tatha berojgari bhatte mein BA dhotari ke liye bhi prayas karta iske anyatha mujhe lagta hai ki sab se jo mahatvapurna samasya bharat ke saamne hai vaah hai is samay aarthik asamanta ki jis ko khatam karne ke liye hamein abhi BA hut se prayas karne BA ki hai iske liye bhi prayas karta hoon koshish karta ki yah samasya jaldi se jaldi bharat se dur ho ant mein sabse important yane ki sabse mahatvapurna point yah hai ki bharat ek krishi pradhan desh hai va kisano ki sthiti BA d se BA dataar hoti chali aa rahi hai toh main iske liye prayas karta ki krishi ko kis prakar se mausam se mausam par nirbharta uski khatam ho aur kisano ko un ki fasal ke uchit daam mile dhanyavad

अगर मैं भारत का प्रधानमंत्री होता, तो मैं सबसे पहले समान आचार संहिता यानी की यूनिफॉर्म सिव

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  295
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या या भारत के प्रधानमंत्री होते तो आप क्या करते आंगन में भारत के प्रधानमंत्री होता तो वही कार्यकर्ता जो वर्तमान में भारत के प्रधानमंत्री का नरेंद्र मोदी वही कार्य हम ही करते जो भारत के प्रधानमंत्री रहते थे

kya ya bharat ke pradhanmantri hote toh aap kya karte aangan me bharat ke pradhanmantri hota toh wahi karyakarta jo vartaman me bharat ke pradhanmantri ka narendra modi wahi karya hum hi karte jo bharat ke pradhanmantri rehte the

क्या या भारत के प्रधानमंत्री होते तो आप क्या करते आंगन में भारत के प्रधानमंत्री होता तो वह

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  112
WhatsApp_icon
user

Neha S

UPSC कोच

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं भारत की प्रधानमंत्री होती तो कुछ बेसिक बेसिक से काम करती हे तू केसा चल रहा है भारत में बहुत तेजी से पकड़ बना रहा है अपनी स्क्रीन में सबसे पहले कुछ नहीं सर TubeMate साथ-साथ एन एंप्लॉयमेंट क्या जून में जन्मे लोगों के ऊपर को दूर करने के कुछ तो लिख कुछ हेल्प ले कर दूसरों की एक ही है कि जब ब्लैक मनी वाला ऐसा बहुत उठा था आया था तो ब्लैक मनी क्या हुआ नहीं पता मैं कितना आया है आने के बाद से कोबरा की भारत में वापस आ गया होगा मनुष्य के ऊपर

main bharat ki pradhanmantri hoti toh kuch BA sic BA sic se kaam karti hai tu kesa chal raha hai bharat mein BA hut teji se pakad BA na raha hai apni screen mein sabse pehle kuch nahi sir TubeMate saath saath N employment kya june mein janme logo ke upar ko dur karne ke kuch toh likh kuch help le kar dusro ki ek hi hai ki jab black money vala aisa BA hut utha tha aaya tha toh black money kya hua nahi pata main kitna aaya hai aane ke BA ad se kobra ki bharat mein wapas aa gaya hoga manushya ke upar

मैं भारत की प्रधानमंत्री होती तो कुछ बेसिक बेसिक से काम करती हे तू केसा चल रहा है भारत में

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
user

Shubham

Software Engineer in IBM

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शशिकांत जी आपने कभी ऐसे क्वेश्चन पूछा है अगर मैं अपना भी दूं अगर मैं भारत का प्रधानमंत्री होता तो सबसे पहले में क्वालिटी एजुकेशन प्रोवाइडर आने की कोशिश करता है जैसे आपको पता है लोग बीएससी करते हैं बिटिया करते हैं तो उन लोगों को उन बच्चों को क्वालिटी एजुकेशन नहीं मिलती जैसे मैं अभी तक किया वह खुद तो मुझे पता है कि हमारे कॉलेज में सिर्फ कुट्टी कन्नौज नहीं होती ना इंडस्ट्री नॉलेज होती ना प्रैक्टिकल नॉलेज होती हम सिर्फ पैसा बढ़ते हैं और एक रात भर के पास हो जाते हमारे पास डिग्री आती है दूसरी जी अब वह लोग बीएससी बीकॉम यह सब करते हैं उनको पेट्रोल नहीं होती और हमारे तो कुछ बच्चे बीएससी का फॉर्म डाल देते हैं और अपने बाहर कुछ भी करते रहते हो जब भी पेपर होते वह दिन चले जाते हैं उनको चीटिंग में जाती निकल मिल जाती है और पास हो जाते हैं तो यह भी जो मैनेजमेंट है यह बहुत खराब हो चुका है तो मैं इस को सुधारने की कोशिश करता है ताकि बच्चे को नौकरी मिल अच्छे से आपको पता हमारे भारत में क्या कहते हैं बच्चे पढ़े लिखे बच्चें भी नौकरी नहीं पाते पाते उसका नंबर चाहिए मूवी पर्सपेक्टिव नॉलेज नहीं होती और उनकी स्क्रीन प्रॉब्लम नहीं होती दूसरी चीज आपको बताया कि हमारे यहां भारत में गवर्नमेंट स्कूल का हाल दो कोई भी अच्छा नहीं है तो अगर मैं प्रधानमंत्री होता तो मैं यह कोशिश करता कि हमारे गवर्नमेंट स्कूल की क्वालिटी उनकी जो क्वालिटीज़ है वह सोच रहे हैं क्वालिटी एजुकेशन दी जाए और मैं यह कोशिश करना चाहती पॉलिटिकल लीडर से और जो बड़े-बड़े लोग है उनके सारे सरकारी स्कूल में बच्चे सरकारी स्कूल में पढ़ेंगे तो कैसी बात है कि जो खुद पॉलिटिकल के डर से जो घमंड करते हैं वह कोशिश करेंगे तो सरकारी स्कूल से अच्छे नेता के उनके बच्चे भी ज्यादा एजुकेटेड कोशिश करता हूं कोशिश कर रही थी उसी से करता है कि जैसे आप को पता है हमारे ग्रुप d m होता है वह हमारी जो हमारे हमारी छुट्टी को जो कमांड करता है उसकी जो पावर होती है वह कहीं ना कहीं जो हमारे मुख्यमंत्री होते हैं स्टेट के उसके अंदर होती है तो जो हमारा DM होता है वह कही ना कही दवा होता है अपने काम के अंदर तो मैं कोशिश करता हूं मुख्यमंत्री से स्टेट के कट जाएगी अच्छे काम करें

shashikant ji aapne kabhi aise question poocha hai agar main apna bhi doon agar main bharat ka pradhanmantri hota toh sabse pehle mein quality education provider aane ki koshish karta hai jaise aapko pata hai log bsc karte hai bitiya karte hai toh un logo ko un BA cchon ko quality education nahi milti jaise main abhi tak kiya vaah khud toh mujhe pata hai ki hamare college mein sirf kutty kannauj nahi hoti na industry knowledge hoti na practical knowledge hoti hum sirf paisa BA dhte hai aur ek raat bhar ke paas ho jaate hamare paas degree aati hai dusri ji ab vaah log bsc B.COM yah sab karte hai unko petrol nahi hoti aur hamare toh kuch BA cche bsc ka form daal dete hai aur apne BA har kuch bhi karte rehte ho jab bhi paper hote vaah din chale jaate hai unko cheating mein jaati nikal mil jaati hai aur paas ho jaate hai toh yah bhi jo management hai yah BA hut kharab ho chuka hai toh main is ko sudhaarne ki koshish karta hai taki BA cche ko naukri mil acche se aapko pata hamare bharat mein kya kehte hai BA cche padhe likhe BA chchen bhi naukri nahi paate paate uska number chahiye movie parsapektiv knowledge nahi hoti aur unki screen problem nahi hoti dusri cheez aapko BA taya ki hamare yahan bharat mein government school ka haal do koi bhi accha nahi hai toh agar main pradhanmantri hota toh main yah koshish karta ki hamare government school ki quality unki jo kwalitiz hai vaah soch rahe hai quality education di jaaye aur main yah koshish karna chahti political leader se aur jo BA de BA de log hai unke saare sarkari school mein BA cche sarkari school mein padhenge toh kaisi BA at hai ki jo khud political ke dar se jo ghamand karte hai vaah koshish karenge toh sarkari school se acche neta ke unke BA cche bhi zyada educated koshish karta hoon koshish kar rahi thi usi se karta hai ki jaise aap ko pata hai hamare group d m hota hai vaah hamari jo hamare hamari chhutti ko jo command karta hai uski jo power hoti hai vaah kahin na kahin jo hamare mukhyamantri hote hai state ke uske andar hoti hai toh jo hamara DM hota hai vaah kahi na kahi dawa hota hai apne kaam ke andar toh main koshish karta hoon mukhyamantri se state ke cut jayegi acche kaam karen

शशिकांत जी आपने कभी ऐसे क्वेश्चन पूछा है अगर मैं अपना भी दूं अगर मैं भारत का प्रधानमंत्री

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  197
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर मैं भारत की प्रधानमंत्री होती तो सबसे पहला काम ही करती के जो भी सर्वे किए जाते हैं हर गांव और शहरों में के किस परिवार के पास क्या चीज की उपलब्ध है क्या चीज उपलब्ध नहीं है किसी इंसान को क्या चीज की जरूरत है क्या चीज की जरूरत नहीं है तुझको यह सर्वे किए जाते हैं तो इनकी जो रिपोर्ट आती है उसको सबसे पहले तो सबकी नजरों के सामने लाठी और उससे उस क्षेत्र में रह रही है पर स्टेशन यानी कि उसकी डीएम एसडीएम और पुलिस प्रशासन के सामने लाती है उसे और उन लोगों को इस चीज का आदेश तिथि थी जिस परिवार को या जिस इंसान को किसी भी चीज की आवश्यकता है उसी इंसान कोशिश की उपलब्धि कराई जाए और ना की चीजों को ऐसे पाठक वितरित किया जाए जिससे चीन को उसकी आवश्यकता ही नहीं है तो इस से एक तो सरकार का काम बचेगा और जो सर्वे होंगे उन सर्वे से आप बहुत ही आसानी से लोगों तक उनकी जरुरत की चीज पहुंचा सकेंगे तो जो सर्वे होते हैं अभी भी हमारे देश में उन शवों को सिर्फ फाइलों में बंद करके रखने के लिए नहीं रखती और उनको सही तरह से इस्तेमाल करती हो

agar main bharat ki pradhanmantri hoti toh sabse pehla kaam hi karti ke jo bhi survey kiye jaate hai har gaon aur shaharon mein ke kis parivar ke paas kya cheez ki uplabdh hai kya cheez uplabdh nahi hai kisi insaan ko kya cheez ki zarurat hai kya cheez ki zarurat nahi hai tujhko yah survey kiye jaate hai toh inki jo report aati hai usko sabse pehle toh sabki nazro ke saamne lathi aur usse us kshetra mein reh rahi hai par station yani ki uski dm sdm aur police prashasan ke saamne lati hai use aur un logo ko is cheez ka aadesh tithi thi jis parivar ko ya jis insaan ko kisi bhi cheez ki avashyakta hai usi insaan koshish ki upalabdhi karai jaaye aur na ki chijon ko aise pathak vitrit kiya jaaye jisse china ko uski avashyakta hi nahi hai toh is se ek toh sarkar ka kaam BA chega aur jo survey honge un survey se aap BA hut hi aasani se logo tak unki zarurat ki cheez pohcha sakenge toh jo survey hote hai abhi bhi hamare desh mein un shavon ko sirf filon mein BA nd karke rakhne ke liye nahi rakhti aur unko sahi tarah se istemal karti ho

अगर मैं भारत की प्रधानमंत्री होती तो सबसे पहला काम ही करती के जो भी सर्वे किए जाते हैं हर

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  174
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
kya karte ho aap ; aap kya karte ho ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!