राजस्थान में सरकारी स्कूलों का निजीकरण करने से शिक्षा पर क्या प्रभाव पड़ेगा और क्या ऐसा करना सही है?...


play
user

Shubham

Software Engineer in IBM

1:38

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सोलंकी की जो आपने क्वेश्चन डाला है काफी अच्छा क्वेश्चन है और अगर मैं इसमें अपना ओपन हिंदू तो मैं यह बताना चाहता हूं कि हां मैं मानता हूं अगर कोई भी चीज का निजीकरण हो जाए मजा प्राइवेटाइजेशन हो जाए तो वह चीज में सुधार आता है अगर कहो रंग स्कूल Karbonn प्राइवेटाइजेशन कर दे तो काफी सुधार आएगा इसमें कोई डाउट नहीं है लेकिन मैं आपको बताऊं कि आपको तो पता ही है अगर हम प्राइवेटाइजेशन कर देंगे तो जो पहले सरकारी स्कूलों की फीस हुआ करती थी वह कई गुना बढ़ जाएगी जो कि गरीब बच्चे और गरीब फैमिली फोन नहीं कर पायेगी और वैसे भी आपको पता है जो गरीब बच्चे LED स्कूल नहीं जाते हैं तो प्राइवेटाइजेशन करने के बाद जब पीस बढ़ जाएगी तो और ज्यादा स्कूल नहीं जाएंगे बिल्कुल स्कूल नहीं जाएंगे तो बस यही है तो मुझे लगता है इस से कोई फायदा नहीं होगा अगर हां अगर गवर्नमेंट इस बात का निश्चय कर लें अब इस बात का को मारने की प्राइवेटाइजेशन होने के बाद फीस में कोई चेंज नहीं आएगा मैं फीस नहीं पड़ेगी और अफोर्डेबल हो गई सबके लिए तो मुझे लगता है तो सही कदम है वरना ही बेकार है और दूसरी चीज मैं आपको बताना चाहता हूं कि अगर गवर्नमेंट को सरकारी स्कूल को भी कंट्रोल नहीं कर सकती है तो यह हमारे देश के लिए बहुत बुरी बात और अब बहुत दुख वाली बात है कि हमारी सरकार उसके लिए कुछ अच्छा नहीं कर सकती है उसमें अच्छा सुधार नहीं रह सकती इसके पीछे गवर्नमेंट को सूचना चाहिए और जैसा अभी चल रहा है सरकारी स्कूल वैसे ही रखना चाहिए ताकि क्या कहते हैं और जो स्कूल अभी चल रहा है फिर जनवरी में सुधार ले कर जाएं ताकि सारे बच्चे सरकारी स्कूल को फिर शेयर करें ज्यादा और सारे बच्चे गरीब और अच्छे बच्चे सारे स्कूल में पढ़े सरकारी स्कूल

solanki ki jo aapne question dala hai kaafi accha question hai aur agar main isme apna open hindu toh main yah bataana chahta hoon ki haan main manata hoon agar koi bhi cheez ka nijikaran ho jaaye maza privatisation ho jaaye toh vaah cheez mein sudhaar aata hai agar kaho rang school Karbonn privatisation kar de toh kaafi sudhaar aayega isme koi doubt nahi hai lekin main aapko bataun ki aapko toh pata hi hai agar hum privatisation kar denge toh jo pehle sarkari schoolon ki fees hua karti thi vaah kai guna badh jayegi jo ki garib bacche aur garib family phone nahi kar payegi aur waise bhi aapko pata hai jo garib bacche LED school nahi jaate hai toh privatisation karne ke baad jab peace badh jayegi toh aur zyada school nahi jaenge bilkul school nahi jaenge toh bus yahi hai toh mujhe lagta hai is se koi fayda nahi hoga agar haan agar government is baat ka nishchay kar le ab is baat ka ko maarne ki privatisation hone ke baad fees mein koi change nahi aayega main fees nahi padegi aur affordable ho gayi sabke liye toh mujhe lagta hai toh sahi kadam hai varna hi bekar hai aur dusri cheez main aapko bataana chahta hoon ki agar government ko sarkari school ko bhi control nahi kar sakti hai toh yah hamare desh ke liye bahut buri baat aur ab bahut dukh wali baat hai ki hamari sarkar uske liye kuch accha nahi kar sakti hai usme accha sudhaar nahi reh sakti iske peeche government ko soochna chahiye aur jaisa abhi chal raha hai sarkari school waise hi rakhna chahiye taki kya kehte hai aur jo school abhi chal raha hai phir january mein sudhaar le kar jayen taki saare bacche sarkari school ko phir share kare zyada aur saare bacche garib aur acche bacche saare school mein padhe sarkari school

सोलंकी की जो आपने क्वेश्चन डाला है काफी अच्छा क्वेश्चन है और अगर मैं इसमें अपना ओपन हिंदू

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Janak

An Enthusiastic Entrepreneur.

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां मुझे लगता है कि अगर सरकारी स्कूलों का प्राइवेटाइजेशन कर दिया तो पैन स्टेशन में काफी सारा बदलाव आएगा लोगों को एजुकेशन इज बिलिंग मिलेगा क्योंकि मुझे ऐसा लगता है कि इंडियन गवर्मेंट का जो एजुकेशन सिस्टम में काफी स्लो प्रोसेस है और गांव तक तो बहुत ही स्लो है कई बार टीचर्स नहीं हवेली बोल रहे थे कई बार स्टूडेंट्स हमसफ़र नहीं रहते कई बार कोई बुक सब्जी बनी रहती है से स्टेशन हो गया तो एक कमांड आ जाएगा उन लोगों पर और ताकि वे और उसके उसके वजह से वह बच्चों को अच्छी शिक्षा दे पाएंगे प्रॉब्लम यह होगी कि आज ऑफिस होती है बेकाबू हो सकता है बट जाए अवार्ड पर हो सकता है नहीं भी हो सकता है वहां के लोगों के लिए तो प्रॉब्लम होगा गांव फीस स्ट्रक्चर बाकी तो आपको स्टेशन कर दिया तो सुधार होगा प्रोग्रेस होगा

haan mujhe lagta hai ki agar sarkari schoolon ka privatisation kar diya toh pan station mein kaafi saara badlav aayega logo ko education is billing milega kyonki mujhe aisa lagta hai ki indian government ka jo education system mein kaafi slow process hai aur gaon tak toh bahut hi slow hai kai baar teachers nahi haweli bol rahe the kai baar students humsafar nahi rehte kai baar koi book sabzi bani rehti hai se station ho gaya toh ek command aa jaega un logo par aur taki ve aur uske uske wajah se vaah baccho ko achi shiksha de payenge problem yah hogi ki aaj office hoti hai bekabu ho sakta hai but jaaye award par ho sakta hai nahi bhi ho sakta hai wahan ke logo ke liye toh problem hoga gaon fees structure baki toh aapko station kar diya toh sudhaar hoga progress hoga

हां मुझे लगता है कि अगर सरकारी स्कूलों का प्राइवेटाइजेशन कर दिया तो पैन स्टेशन में काफी सा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  92
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राजस्थान में सरकारी स्कूलों का निजीकरण करने से शिक्षा पर असर पड़ेगा मुझे लगता है कि यह एक हद तक सही भी है और इसका विपरीत असर भी देखने को मिलेगा जो बच्चे गरीब है वह वैसे शिक्षा की ओर अपने कदम नहीं बना पाते हैं निजीकरण होने से शिक्षा और महंगी हो जाएगी तो यह सही नहीं है निजी संस्थाओं का सरकारी स्कूल के मुक़ाबले पढ़ाई खेलकूद अन्य सभी एक्टिविटीज में पर अच्छा होता है इसलिए बच्चों के उज्जवल भविष्य की संभावनाएं ज्यादा रहती है लेकिन मुझे लगता है कि सरकार को शिक्षा व्यवस्था में सुधार करके सरकारी स्कूलों को और बेहतर बनाने की ओर कदम बढ़ाना चाहिए और कई अन्य एक्टिविटी भी आरंभ करनी चाहिए जिससे पैरेंट सरकारी स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए आकर्षित हो और गरीब बच्चे भी शिक्षित हो सके

rajasthan mein sarkari schoolon ka nijikaran karne se shiksha par asar padega mujhe lagta hai ki yah ek had tak sahi bhi hai aur iska viprit asar bhi dekhne ko milega jo bacche garib hai vaah waise shiksha ki aur apne kadam nahi bana paate hain nijikaran hone se shiksha aur mehengi ho jayegi toh yah sahi nahi hai niji sasthaon ka sarkari school ke mukable padhai khelkud anya sabhi activities mein par accha hota hai isliye baccho ke ujjawal bhavishya ki sambhavnayen zyada rehti hai lekin mujhe lagta hai ki sarkar ko shiksha vyavastha mein sudhaar karke sarkari schoolon ko aur behtar banane ki aur kadam badhana chahiye aur kai anya activity bhi aarambh karni chahiye jisse parent sarkari schoolon mein apne baccho ko padhane ke liye aakarshit ho aur garib bacche bhi shikshit ho sake

राजस्थान में सरकारी स्कूलों का निजीकरण करने से शिक्षा पर असर पड़ेगा मुझे लगता है कि यह एक

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  121
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!