भारत में मातृप्रधान प्रणाली कैसे काम करती है? कोई उदाहरण?...


play
user

Apurva D

Optimistic Coder

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आदित्य सर भारत में प्राचीन काल से ही अलग-अलग संस्कृति चलती आ रही है तो व्यक्ति में प्रणाली और सामूहिक प्रणाली उसके परिवार के बना लिया है जिसके अंदर पितृ प्रधान प्रणाली और मोक्ष प्रदान प्रणाली आते हैं तो भारत में प्रथम पितृ प्रधान प्रणाली तो चलती आ रही है और अभी भी है मतलब राजा महाबली के काल से पात्र प्रधान प्रणाली UP इनिशिएटिव लिया गया उसका जो कि वह भी अभी उसको बहुत सारा मिठाई तो यही कह सकते कि प्राचीन काल में शिव जी जो मात्र पर दाल फ्राई में चलती आ रही है तो यह मेहंदी दादा दक्षिण भारतीय राज्य में देखी जाती है मेरी मैं यह बोलूं कि अभी भी केरल में यह सारा कुछ दिखा जाता है मतलब मत प्रणाली दिखती है हमें इसका उदाहरण में देना चाहती हो कि लोग जैसे हम पिता का आदर करते हैं पिता को घर का एक सबसे बड़ा व्यक्ति समस्याएं व उनका माता का माता के लिए होता है तू बहुत लेने वाली सर्दी होती है तो सारे डिसीजन उसके अंदर होते हैं जो भी बहुत को माना जाता है हालांकि इन उनके नाम के साथ भी माता के नाम जुड़ जाते हैं तो ऐसा उदाहरण है और अभी मैंने ऐसा सुना है कि केरल में जो अभी हमारे यहां पर लड़कियों की शादी होती है तो वह एक अच्छी बात होती है बट फिर भी लड़की दूसरे घर में शादी करके जाए तो वह अलग पॉइंट होता है वह हमारे लिए तू या केरल में एक अलग ही होता है या हमारे जैसे नहीं होता है तो यह सब बहुत प्यारा है जहां पर मातृ प्रधान संस्कृति से अलग ठहर जा सकती है अभी हमारे यहां पर कभी-कभी कुछ गांव में महिला को डिजिटल समझता था लेकिन

aditya sir bharat mein prachin kaal se hi alag alag sanskriti chalti aa rahi hai toh vyakti mein pranali aur samuhik pranali uske parivar ke bana liya hai jiske andar pitr pradhan pranali aur moksha pradan pranali aate hain toh bharat mein pratham pitr pradhan pranali toh chalti aa rahi hai aur abhi bhi hai matlab raja mahabali ke kaal se patra pradhan pranali UP innitiative liya gaya uska jo ki vaah bhi abhi usko bahut saara mithai toh yahi keh sakte ki prachin kaal mein shiv ji jo matra par daal fry mein chalti aa rahi hai toh yah mehendi dada dakshin bharatiya rajya mein dekhi jaati hai meri main yah bolu ki abhi bhi kerala mein yah saara kuch dikha jata hai matlab mat pranali dikhti hai hamein iska udaharan mein dena chahti ho ki log jaise hum pita ka aadar karte hain pita ko ghar ka ek sabse bada vyakti samasyaen va unka mata ka mata ke liye hota hai tu bahut lene wali sardi hoti hai toh saare decision uske andar hote hain jo bhi bahut ko mana jata hai halaki in unke naam ke saath bhi mata ke naam jud jaate hain toh aisa udaharan hai aur abhi maine aisa suna hai ki kerala mein jo abhi hamare yahan par ladkiyon ki shadi hoti hai toh vaah ek achi baat hoti hai but phir bhi ladki dusre ghar mein shadi karke jaaye toh vaah alag point hota hai vaah hamare liye tu ya kerala mein ek alag hi hota hai ya hamare jaise nahi hota hai toh yah sab bahut pyara hai jaha par matr pradhan sanskriti se alag thahar ja sakti hai abhi hamare yahan par kabhi kabhi kuch gaon mein mahila ko digital samajhata tha lekin

आदित्य सर भारत में प्राचीन काल से ही अलग-अलग संस्कृति चलती आ रही है तो व्यक्ति में प्रणाली

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  229
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!