चीन भारत से अपने सीमा सैनि कौन को नियंत्रित करने के लिए कह रहा है, क्या आपको लगता है कि चीनी कुछ ज़्यादा ही तगड़ी प्रतिक्रिया कर र है हैं?...


play
user

Neha S

UPSC कोच

0:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभी रेसिपी 22 दिसंबर को एक सीमा समझौता लागू को समझना है कि सीमा समझौता क्यों लागू 72 दिन तक चले डोकलाम गतिरोध डोकलाम गतिरोध के उपरांत यह है कि 16 जून को डोकलाम में चीन की सीमा सड़क निर्माण करने की कोशिश करी थी जिसकी वजह से भारतीय सेना ने अपने साथ बढ़ा दी थी और उसके बाद ही जाकर खत्म हुई 28 अगस्त के करीब आकर में जाकर खत्म हो इतने दिनों की मेहनत के बाद जब वह समझौता सीमा समझौता हो चुका है लागू हो चुकी है तू सीमा पर शांति और स्थिरता बनी रहेगी अगर आप उनकी तरफ से कोई नहीं सेटिंग नहीं लिया जाएगा तो भारत की तरफ से भी नहीं दिया जाएगा यह एक नार्मल सी चीज है चीनी का काम 3 चैनल चाइनीस लोग हैं यह चाइना की जोशीना है या चाइना चाइना चाइना के लोग हैं उन लोगों का वह कुछ ना कुछ करते हैं बोलते रहते हैं

abhi recipe 22 december ko ek seema samjhauta laagu ko samajhna hai ki seema samjhauta kyon laagu 72 din tak chale Doklam gatirodh Doklam gatirodh ke uprant yah hai ki 16 june ko Doklam mein china ki seema sadak nirmaan karne ki koshish kari thi jiski wajah se bharatiya sena ne apne saath badha di thi aur uske baad hi jaakar khatam hui 28 august ke kareeb aakar mein jaakar khatam ho itne dino ki mehnat ke baad jab vaah samjhauta seema samjhauta ho chuka hai laagu ho chuki hai tu seema par shanti aur sthirta bani rahegi agar aap unki taraf se koi nahi setting nahi liya jaega toh bharat ki taraf se bhi nahi diya jaega yah ek normal si cheez hai chini ka kaam 3 channel Chinese log hain yah china ki joshina hai ya china china china ke log hain un logon ka vaah kuch na kuch karte hain bolte rehte hain

अभी रेसिपी 22 दिसंबर को एक सीमा समझौता लागू को समझना है कि सीमा समझौता क्यों लागू 72 दिन त

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  147
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Shubham

Software Engineer in IBM

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फ्री नागिन को हमेशा भारत से दिक्कत है कभी सीमा को लेकर तो कभी किसी और चीज को लेकर और आपको तो पता ही है पहले भारत और चीन में युद्ध हो भी चुका है और चीन हमेशा से पाकिस्तान को सपोर्ट करता रहा है क्योंकि पाकिस्तान और भारत की कभी छुट्टी नहीं अच्छे से और हमेशा लड़ाई रहती है और चीन इसीलिए पाकिस्तान को सपोर्ट करता है और जो जितना भी प्रकृति पर एक भाषण दिया और एक बयान दिया है कि अपने सैनिकों को सीमा पर नियंत्रण रखें यह सब तो मुझे नहीं लगता भारत को चीन की बात सुननी चाहिए और अपने जो सैनिक है जो जाबाज सैनिक है उनको कुछ इसके बारे में बोलना चाहिए तो क्योंकि चीन का कोई हक नहीं है यह स्टेटमेंट देने का और भारतीय सैनिकों पर कोई जवाब देने का या फिर कुछ जरुर कराने का है कुछ काम कराने का

free nagin ko hamesha bharat se dikkat hai kabhi seema ko lekar toh kabhi kisi aur cheez ko lekar aur aapko toh pata hi hai pehle bharat aur china mein yudh ho bhi chuka hai aur china hamesha se pakistan ko support karta raha hai kyonki pakistan aur bharat ki kabhi chhutti nahi acche se aur hamesha ladai rehti hai aur china isliye pakistan ko support karta hai aur jo jitna bhi prakriti par ek bhashan diya aur ek bayan diya hai ki apne sainikon ko seema par niyantran rakhen yah sab toh mujhe nahi lagta bharat ko china ki baat sunnani chahiye aur apne jo sainik hai jo jabaj sainik hai unko kuch iske bare mein bolna chahiye toh kyonki china ka koi haq nahi hai yah statement dene ka aur bharatiya sainikon par koi jawab dene ka ya phir kuch zaroor karane ka hai kuch kaam karane ka

फ्री नागिन को हमेशा भारत से दिक्कत है कभी सीमा को लेकर तो कभी किसी और चीज को लेकर और आपको

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  144
WhatsApp_icon
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन चीन हमेशा कुछ न कुछ भारत के खिलाफ बोलता ही रहता है हमने देखा है कि वह हमेशा भारत के खिलाफ पाकिस्तान को बहुत ज्यादा सपोर्ट करता है अगर चीन इस तरह की कोई बात कह रहा है तो मुझे नहीं लगता कि भारत सरकार को भारत के डिफेंस डिपार्टमेंट को इस पर कोई प्रतिक्रिया देने की जरूरत है भारत एक डेमोक्रेटिक कंट्री है हम अपने से यह हम डिसाइड करेंगे कि हमको अपने सैनिकों को कैसे कंट्रोल करना हो कैसे नहीं करना है ठीक है तुम मुझे नहीं होता इनका इसमें कोई रूल होना भी चाहिए और चीन जो भी कहे उस से हमें कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि हम अपनी पॉलिसी को बड़ा बनाने वाले उनको डिसाइड करने वाले हम खुद ही हैं

lekin china hamesha kuch na kuch bharat ke khilaf bolta hi rehta hai humne dekha hai ki vaah hamesha bharat ke khilaf pakistan ko bahut zyada support karta hai agar china is tarah ki koi baat keh raha hai toh mujhe nahi lagta ki bharat sarkar ko bharat ke defence department ko is par koi pratikriya dene ki zaroorat hai bharat ek democratic country hai hum apne se yah hum decide karenge ki hamko apne sainikon ko kaise control karna ho kaise nahi karna hai theek hai tum mujhe nahi hota inka isme koi rule hona bhi chahiye aur china jo bhi kahe us se hamein koi fark nahi padta kyonki hum apni policy ko bada banaane waale unko decide karne waale hum khud hi hain

लेकिन चीन हमेशा कुछ न कुछ भारत के खिलाफ बोलता ही रहता है हमने देखा है कि वह हमेशा भारत के

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  238
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए चीन अपने आप को एक बहुत ही ताकतवर और सिर्फ 16 पर समझता है उन्हें नहीं लगता कि नहीं किसी दूसरे की जरूरत है और वह हमेशा ही भारत के अगेंस्ट गए हैं जब यूएन में भी पाकिस्तान को भारत में अलग-थलग कर दिया था तब भी चीन ने पाकिस्तान को सपोर्ट करें और उन्हें उससे अलग नहीं होने दिया ऐसे बहुत सारे वो क्या है तो अब जब यह डोकलाम विवाद जो जून में शुरू हुआ था 16 को 28 अगस्त को खत्म हुआ तो इस 7310 के बाद जब पहली बार एक बॉर्डर टॉक हुए जो 22 दिसंबर को अब हुई थी दिल्ली के अंदर तो इसके बारे में जो चीन के जो स्पोक्सपर्सन है जो उनके डिफरेंट स्पोक्सपर्सन है कॉल रेन उन्होंने बोला कि जो इंडियंस है उन्होंने कहा कि हम आशा करते हैं कि जो भारतीय हैं वह जो एग्रीमेंट हुआ है उस वार्तालाप में उसको स्ट्रिक्टली फॉलो करेंगे जो अपने बॉर्डर के दो Soldier से जो बॉर्डर की ट्रूप्स है उन को नियंत्रण में रखेंगे बिल्कुल सीन एक बहुत ही सुंदर बहुत ही सख्त प्रतिक्रिया दे रहा है ऐसी की जरूरत नहीं है क्योंकि भारत हमेशा से एक शांतिप्रिय देश रहा है और ऐसे कोई भी हमला जैसे कोई भी आदमी मैंट कभी भी भारत के तरफ से शुरू नहीं किया गया है तो चाइना पता नहीं है वैसे कर क्या साबित करना चाहता है बट जरूरी कहना चाहूंगी कि चाइना चाहे कुछ भी कर ले भारतीय अपनी एकता में और अपने देश की सुरक्षा में कभी पीछे नहीं रहेंगे और जरूरत पड़ने पर हम मुझे लगता है जिसे हमारी डिफेंस मिनिस्ट्री पिक्चर थे कि किसी भी हमले के लिए तैयार रहेंगे

dekhiye china apne aap ko ek bahut hi takatwar aur sirf 16 par samajhata hai unhe nahi lagta ki nahi kisi dusre ki zaroorat hai aur vaah hamesha hi bharat ke against gaye hain jab un mein bhi pakistan ko bharat mein alag thalag kar diya tha tab bhi china ne pakistan ko support karen aur unhe usse alag nahi hone diya aise bahut saare vo kya hai toh ab jab yah Doklam vivaad jo june mein shuru hua tha 16 ko 28 august ko khatam hua toh is 7310 ke baad jab pehli baar ek border talk hue jo 22 december ko ab hui thi delhi ke andar toh iske bare mein jo china ke jo spokesperson hai jo unke different spokesperson hai call rain unhone bola ki jo indians hai unhone kaha ki hum asha karte hain ki jo bharatiya hain vaah jo Agreement hua hai us vartalaap mein usko striktali follow karenge jo apne border ke do Soldier se jo border ki troops hai un ko niyantran mein rakhenge bilkul seen ek bahut hi sundar bahut hi sakht pratikriya de raha hai aisi ki zaroorat nahi hai kyonki bharat hamesha se ek shantipriye desh raha hai aur aise koi bhi hamla jaise koi bhi aadmi maint kabhi bhi bharat ke taraf se shuru nahi kiya gaya hai toh china pata nahi hai waise kar kya saabit karna chahta hai but zaroori kehna chahungi ki china chahen kuch bhi kar le bharatiya apni ekta mein aur apne desh ki suraksha mein kabhi peeche nahi rahenge aur zaroorat padane par hum mujhe lagta hai jise hamari defence ministry picture the ki kisi bhi hamle ke liye taiyar rahenge

देखिए चीन अपने आप को एक बहुत ही ताकतवर और सिर्फ 16 पर समझता है उन्हें नहीं लगता कि नहीं कि

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!