अजमेर में कौनसे सूफी सेंट है?...


play
user

महेश हिन्दू

विधार्थी

5:26

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार भाइयों बहनों मैं आपका पसंद है एक बार दौरा देता हूं आपका पसंद थोड़ा ठीक नहीं है लोगों को समझ में नहीं आया इसलिए आपने पूछना ऐसा था कि अजमेर में कौन से सूफी संत हैं तो मैं बता दूं कि अजमेर में सूफी सूफी कुछ नहीं होता सूफी एक अरबी शब्द है ठीक है ना यह तो हिंदुओं को बेवकूफ बनाने के लिए संत का प्रयोग किया आप ऐसा कह सकते हैं कि बलात्कारी दुराचारी लाचारी और इस्लामिक जिहादियों का दलाल बिचौलिया मौलाना शेख मोइनुद्दीन ठीक है ना यह जो है इसने पृथ्वीराज चौहान जी की बहनों का बलात्कार किया था और फिर पहले तो खुद ने किया उसके बाद और उसे करवाया उसके बाद उनका कत्ल करवा दिया हजारों हिंदुओं का स्नेह कत्ल करवाया पर्दे के पीछे रहकर और चोला ओढ़ रखा था जिस प्रकार आसाराम ने बोला था ना राम रहीम ने उड़ा था इसी प्रकार जिस प्रकार कांग्रेस के दो राहुल बाबा ने जो लाउड रखा है हिंदू धर्म का हिंदुओं को बेवकूफ बनाने के लिए जिस प्रकार यह अब्दुल्ला परिवार है नेहरू परिवार ऐसे बहुत से हैं जो यह आज कर रहे हैं ठीक उसी प्रकार वहीदुद्दीन करता था उस वक्त फिर जब इसका जो पीछे जो सकती थी मोहम्मद गोरी जब उसका कब्जा हो गया तब उसने जो यह आज की जो मौजूदा दरगाह है यहां पर पहिले एक संस्कृत विद्यालय और छोटा सा मंदिर हुआ करता था उसको मस्जिद सॉरी दरगाह में तब्दील कर दिया जब भी मोहित दिन मर गया था तब उसको काट दिया ठीक है ना पहले क्या था एक ढोंगी तो था ही पाखंडी भी था और कुछ ऐसे जिस प्रकार आज के युग में है लोग जो चमत्कार दिखाता है उसको नमस्कार करते हैं तो यह ऐसी कुछ भारत में आने के बाद में और पहले से ही जानता था कुछ तंत्र मंत्र विद्या लोगों को बेवकूफ बनाने के लिए तो उससे क्या है इसकी जब समाधि बन गई तब इस मुल्क को हिंदुओं ने भी पूछना शुरू कर दिया और जो मुस्लिम थे उन्होंने भी इसको अपना तीर मार लिया संत मांग लिया फिर इसके बाद जो अकबर था बहुत बड़ा दामिनी खोर उसने इसकी 15 बार या कहीं बारिश ने इस को धन दिया इस दरगाह को बड़ा बनाया और आज तो पूरा विश्व में प्रसिद्ध हो गई इस आईएएस बाबा की दरगाह न तो हिंदू भाइयों आपसे प्रार्थना निवेदन है हाथ जोड़कर विनती करता हूं हर दे पूर्वक आपको कहना चाहता हूं कि आप इस झूठे आईएससी निकम ने बलात्कार चोर और इस दलाल के अंडा जिसे यह दरगाह कहते हैं अजमेर कभी भी मत चाहे ठीक है ना अगर एक शब्द में कहूं किसी भी मजार पर ना जाएं किसी भी दरगाह में ना जाए जहां तक आप में हिम्मत है तो आप उन दरगाह दरगाह का विरोध करें जिस प्रकार हिंदू जागा था 1992 में मस्जिद का क्या हाल किया था इस प्रकार आप जाकर उनका हाल कर दो इनकी औकात पता चल जाएगी मुसलमानों की यह हिंदुओं के आगे घुटने टेक देंगे बस आप एक हो जाओ मजबूत हो जाओ आप से जितनी भी लड़ाई है जो जाति भेदभाव है उसको रखो लेकिन मैं यह कहता हूं कि जब धर्म की बात आए राष्ट्र की बात आए तो एक हो जाओ इन तर्कों के खिलाफ हो जाओ धन्यवाद

namaskar bhaiyo bahanon main aapka pasand hai ek baar daura deta hoon aapka pasand thoda theek nahi hai logo ko samajh mein nahi aaya isliye aapne poochna aisa tha ki ajmer mein kaunsi sufi sant hai toh main bata doon ki ajmer mein sufi sufi kuch nahi hota sufi ek rb shabd hai theek hai na yeh toh hinduon ko bewakoof banane ke liye sant ka prayog kiya aap aisa keh sakte hai ki balatkari durachari lachari aur islamic jihadiyon ka dalaal bichaulia maulana shekh Moinuddin theek hai na yeh jo hai isne prithviraj Chauhan ji ki bahanon ka balatkar kiya tha aur phir pehle toh khud ne kiya uske baad aur use karvaya uske baad unka katl karva diya hazaro hinduon ka sneh katl karvaya parde ke peeche rahkar aur chola odh rakha tha jis prakar asharam ne bola tha na ram rahim ne uda tha isi prakar jis prakar congress ke do rahul baba ne jo loud rakha hai hindu dharm ka hinduon ko bewakoof banane ke liye jis prakar yeh abdullah parivar hai nehru parivar aise bahut se hai jo yeh aaj kar rahe hai theek usi prakar vahiduddin karta tha us waqt phir jab iska jo peeche jo sakti thi muhammad gori jab uska kabza ho gaya tab usne jo yeh aaj ki jo maujuda dargah hai yahan par pahile ek sanskrit vidyalaya aur chota sa mandir hua karta tha usko masjid sorry dargah mein tabdil kar diya jab bhi mohit din mar gaya tha tab usko kaat diya theek hai na pehle kya tha ek dhongi toh tha hi pakhandi bhi tha aur kuch aise jis prakar aaj ke yug mein hai log jo chamatkar dikhaata hai usko namaskar karte hai toh yeh aisi kuch bharat mein aane ke baad mein aur pehle se hi jaanta tha kuch tantra mantra vidya logo ko bewakoof banane ke liye toh usse kya hai iski jab samadhi ban gayi tab is mulk ko hinduon ne bhi poochna shuru kar diya aur jo muslim the unhone bhi isko apna teer maar liya sant maang liya phir iske baad jo akbar tha bahut bada damini khor usne iski 15 baar ya kahin barish ne is ko dhan diya is dargah ko bada banaya aur aaj toh pura vishwa mein prasiddh ho gayi is IAS baba ki dargah na toh hindu bhaiyo aapse prarthna nivedan hai hath jodkar vinati karta hoon har de purvak aapko kehna chahta hoon ki aap is jhuthe ISC nikam ne balatkar chor aur is dalaal ke anda jise yeh dargah kehte hai ajmer kabhi bhi mat chahe theek hai na agar ek shabd mein kahun kisi bhi majaar par na jayen kisi bhi dargah mein na jaye jaha tak aap mein himmat hai toh aap un dargah daragah ka virodh karein jis prakar hindu jaga tha 1992 mein masjid ka kya haal kiya tha is prakar aap jaakar unka haal kar do inki aukat pata chal jayegi musalmanon ki yeh hinduon ke aage ghutne take denge bus aap ek ho jao majboot ho jao aap se jitni bhi ladai hai jo jati bhedbhav hai usko rakho lekin main yeh kahata hoon ki jab dharm ki baat aaye rashtra ki baat aaye toh ek ho jao in tarkon ke khilaf ho jao dhanyavad

नमस्कार भाइयों बहनों मैं आपका पसंद है एक बार दौरा देता हूं आपका पसंद थोड़ा ठीक नहीं है लोग

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  60
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

MD HAROON

Teacher

0:13
Play

Likes  109  Dislikes    views  1498
WhatsApp_icon
user

Gulnaz

लेवल 1 (बिगिनर)

0:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अजमेर में अनचाहे सूफी संत हजरत ख्वाजा मोहिद्दीन चिश्ती रहमतुल्ला ले ख्वाजा गरीब नवाज का दरगाह है जो पूरी इंडिया के लिए फेमस है

ajmer mein anchahe sufi sant hazrat khwaja mohiddin chistee rahamtulla le khwaja garib nawaj ka dargah hai jo puri india ke liye famous hai

अजमेर में अनचाहे सूफी संत हजरत ख्वाजा मोहिद्दीन चिश्ती रहमतुल्ला ले ख्वाजा गरीब नवाज का दर

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  124
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!