मैं बहुत ज़्यादा गाली देता हूँ , और इसके वजह से मुझे बहुत सारी परेशनियाँ झेलनी पड़ रही हैं। मैं इस आदत को कैसे छोड़ूँ?...


play
user

Mr.MISHRA AMITKUMAR KESHRIPRASAD

REHABILITATION PSYCHOLOGIST

0:44

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एब्यूज वर्ड यूज़ करता है तुमको डिस्टर्ब कर रहे हैं इसलिए उनको यह भी डिस्कस करने के लिए गिफ्ट ऑफिस में साइकोलॉजिस्ट अकाउंट से लड़के का और वह उस प्रॉब्लम से उनको डील करना बताइए कैसे उनको उसकी सेटिंग करना है याद कैसे उस कंडीशन या उस वर्ड से बचना है वह बार बार बार उनके मायने में चूहा था उसके पीछे रीजन क्या है उसको जानना पहले जरूरी है और फिर उसका प्रीवेंशन कर सकते हैं कि यह बार-बार क्यों आ रहा है उसका रीजन क्या है

abuse word use karta hai tumko disturb kar rahe hain isliye unko yeh bhi disky karne ke liye gift office mein psychologist account se ladke ka aur wah us problem se unko deal karna bataiye kaise unko uski setting karna hai yaad kaise us condition ya us word se bachna hai wah baar baar baar unke maayne mein chuha tha uske peeche reason kya hai usko janana pehle zaroori hai aur phir uska privenshan kar sakte hain ki yeh baar baar kyon aa raha hai uska reason kya hai

एब्यूज वर्ड यूज़ करता है तुमको डिस्टर्ब कर रहे हैं इसलिए उनको यह भी डिस्कस करने के लिए गिफ

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  468
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Priyanka Kapoor

Clinical Psychologist

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अबे कोई इंसान है तू कर रहा है बन जाती है तो आदत कभी नहीं यादों को टर्न कॉलिंग करके उस को कंट्रोल करना शुरू करें या फिर कमेंट करें एक हफ्ते में 2 घंटे के आगे पूरे बिना गाली निकाल लूंगा और कल है क्या पहले इंसान को पता हो कि हां मैं गाड़ी लेकर को नुकसान हो रहा है अब गाली देकर अपने आप आएगा चेतन को ना कि हां मैं गलत कर रहा हूं पेमेंट चेक करूंगा हर कोई थोड़े टाइम में 14 घंटे में यहां 4 घंटे में प्यार करते हो वॉलपेपर

abe koi insaan hai tu kar raha hai ban jaati hai toh aadat kabhi nahi yaadon ko turn Calling karke us ko control karna shuru kare ya phir comment kare ek hafte mein 2 ghante ke aage poore bina gaali nikaal lunga aur kal hai kya pehle insaan ko pata ho ki haan main gaadi lekar ko nuksan ho raha hai ab gaali dekar apne aap aayega chetan ko na ki haan main galat kar raha hoon payment check karunga har koi thode time mein 14 ghante mein yahan 4 ghante mein pyar karte ho wallpaper

अबे कोई इंसान है तू कर रहा है बन जाती है तो आदत कभी नहीं यादों को टर्न कॉलिंग करके उस को क

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  504
WhatsApp_icon
user

Dr. Jitubhai Shah

Friend, Philosopher and Guide

1:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फिर तो आपको ही सोचना चाहिए कि मैं गाली देता हूं इनके लिए मैं ही जिम्मेदार हूं और मुझे ही इसमें सुधार करना पड़ेगा कोई दूसरा नहीं कर सकता तो आपको दृढ़ संकल्प करना पड़ेगा डिटरमिनेशन करना पड़ेगा कि मुझे गाली नहीं देनी है आपके नजदीक के रिश्ते वाले हैं आपकी वाइफ है आपका नजदीकी फ्रेंड है उनको आपको रिक्वेस्ट करना पड़ेगा कि मैं आपको रिक्वेस्ट करता हूं कि अगर मैं गाली बोलूं तो मुझे याद दिलवाना ऐसी कोई साइन करना जैसे कि हाथ थोड़ा करना 8:00 बाद में पसारना तो आपको पता चल जाएगा कि मैं गाड़ी बोलो अगर आपका जन संकल्प है और आपको गलती सुधारना है और अब दूसरे के साथ आप सपोर्ट लेना चाहते हैं तो जरूर इसमें फायदा होगा 10 बार गाड़ी बोलते हैं तो 8 बार बोलेंगे 8 में से 6 भर देंगे ऐसे करके करके आप निकल जाएंगे और यह आदत में से मुक्त होना बहुत जरूरी है क्योंकि इससे हमारे देश में शीश होते हैं इससे हम को भी नुकसान होता है दूसरों को भी नुकसान होता है तो आपकी इच्छा है बहुत अच्छी बात है लेकिन आपको दृढ़ संकल्प करके रात ना ही आपको करना चाहिए

phir toh aapko hi sochna chahiye ki main gaali deta hoon inke liye main hi zimmedar hoon aur mujhe hi isme sudhaar karna padega koi doosra nahi kar sakta toh aapko dridh sankalp karna padega ditaramineshan karna padega ki mujhe gaali nahi deni hai aapke nazdeek ke rishte waale hain aapki wife hai aapka najdiki friend hai unko aapko request karna padega ki main aapko request karta hoon ki agar main gaali bolu toh mujhe yaad dilwana aisi koi sign karna jaise ki hath thoda karna 8 00 baad mein pasarana toh aapko pata chal jaega ki main gaadi bolo agar aapka jan sankalp hai aur aapko galti sudharna hai aur ab dusre ke saath aap support lena chahte hain toh zaroor isme fayda hoga 10 baar gaadi bolte hain toh 8 baar bolenge 8 mein se 6 bhar denge aise karke karke aap nikal jaenge aur yah aadat mein se mukt hona bahut zaroori hai kyonki isse hamare desh mein sheesh hote hain isse hum ko bhi nuksan hota hai dusro ko bhi nuksan hota hai toh aapki iccha hai bahut achi baat hai lekin aapko dridh sankalp karke raat na hi aapko karna chahiye

फिर तो आपको ही सोचना चाहिए कि मैं गाली देता हूं इनके लिए मैं ही जिम्मेदार हूं और मुझे ही इ

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  410
WhatsApp_icon
user

Chandrakant Shrivastav

Educationist N Counsellor. PD Trainer. Motivator

2:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां भाई साहब यह सवाल के लिए आई एम द बेस्ट पर्सन टू आंसर मैं बहुत ज्यादा गालियां देता हूं जिसकी वजह से बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है सही बात है गालियां दोगे सृष्टि का नियम है आप जो भी दोगे वापिस आपके पास वही आएगा आप जो चाहते हो अब सम्मान चाहते हो तो सम्मान दो प्यार चाहते हो दुनिया को प्यार दो गालियां चाहते हो तो फिर गालियां दो व्हाट ई विल यू गिव यू हैव टू रिसीव आप जो चाहते हो वह दुनिया को दो ना आप आपके पास वापस आएगा अब रहा तो इसमें दूसरा पहलू यह है कि कुछ लोग गालियां देते हैं लेकिन मन के बड़े सांप होते हैं उनके मुंह में जहर होता है पेट में अमृत होता है लेकिन फिर भी यह हकीकत है एक होता है असर बातों में तुम भी भूल जाओगे दो चार मुलाकातों में आपके बातों में ऐसा नहीं लोगों को बुरा लगता है मत बोलिए मत बोलिए अब इसके लिए आप एक काम कीजिए काम कीजिए आपकी बहन मेरी बहन ऐसे कोई मतलब भी जा सकते हैं गालियां सुनने वाला कौन है उस पर भी निर्भर करता है ज्यादा गाड़ी जहां देते थे लेकिन हमें कभी बुरा नहीं माना क्योंकि पता था इनके मुंह में जहर है पेट में अमृत है यह वह आदमी है जो हम सोते हैं तो चुपके से भी चार आंखें नी में ब्लैंकेट हमको उड़ा दे दे अभी कलयुग है थैंक यू वेरी मच

haan bhai saheb yah sawaal ke liye I M the best person to answer main bahut zyada galiya deta hoon jiski wajah se bahut saari pareshaniyo ka samana karna padta hai sahi baat hai galiya doge shrishti ka niyam hai aap jo bhi doge vaapas aapke paas wahi aayega aap jo chahte ho ab sammaan chahte ho toh sammaan do pyar chahte ho duniya ko pyar do galiya chahte ho toh phir galiya do what E will you give you have to receive aap jo chahte ho vaah duniya ko do na aap aapke paas wapas aayega ab raha toh isme doosra pahaloo yah hai ki kuch log galiya dete hain lekin man ke bade saap hote hain unke mooh me zehar hota hai pet me amrit hota hai lekin phir bhi yah haqiqat hai ek hota hai asar baaton me tum bhi bhool jaoge do char mulakaton me aapke baaton me aisa nahi logo ko bura lagta hai mat bolie mat bolie ab iske liye aap ek kaam kijiye kaam kijiye aapki behen meri behen aise koi matlab bhi ja sakte hain galiya sunne vala kaun hai us par bhi nirbhar karta hai zyada gaadi jaha dete the lekin hamein kabhi bura nahi mana kyonki pata tha inke mooh me zehar hai pet me amrit hai yah vaah aadmi hai jo hum sote hain toh chupake se bhi char aankhen ni me blanket hamko uda de de abhi kalyug hai thank you very match

हां भाई साहब यह सवाल के लिए आई एम द बेस्ट पर्सन टू आंसर मैं बहुत ज्यादा गालियां देता हूं ज

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  372
WhatsApp_icon
user

Vatsal

Engineering Student

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देसी गाली देना जो होती है बहुत ही गंदी आदत होती खराब आदत होती है क्योंकि हमें धीरे धीरे झगड़ती रहती हो और हम उसके पूरे काबू में आ जाते हैं और फिर उसको वह एक तो जवान पर चढ़ जाती है तो यदि आप को गाली देना बंद करना है तो आप को अपने आप पर कंट्रोल करना पड़ेगा और बिल्कुल अपने को बिल्कुल पक्का करना पड़ेगा कि मेरे को यह सब चीजें नहीं देनी है यह सब चीजें नहीं करनी है तो टाइम लगेगा धीरे-धीरे लेकिन आप इस पर काबू आ जाएंगे ज्ञान तौर पर होता है कि हम बाहर देते हैं घर में कम देते हैं तो उसका कारण वही है क्योंकि हमें पता है या नहीं देनी है यदि यही फीलिंग आप हर समय अपने दिमाग में रखेंगे तो बेशक अपनी जबान पर कंट्रोल कर पाएंगे और गाली देना बंद कर

desi gaali dena jo hoti hai bahut hi gandi aadat hoti kharab aadat hoti hai kyonki hamein dhire dhire jhagdati rehti ho aur hum uske poore kabu mein aa jaate hain aur phir usko vaah ek toh jawaan par chad jaati hai toh yadi aap ko gaali dena band karna hai toh aap ko apne aap par control karna padega aur bilkul apne ko bilkul pakka karna padega ki mere ko yah sab cheezen nahi deni hai yah sab cheezen nahi karni hai toh time lagega dhire dhire lekin aap is par kabu aa jaenge gyaan taur par hota hai ki hum bahar dete hain ghar mein kam dete hain toh uska karan wahi hai kyonki hamein pata hai ya nahi deni hai yadi yahi feeling aap har samay apne dimag mein rakhenge toh beshak apni jaban par control kar payenge aur gaali dena band kar

देसी गाली देना जो होती है बहुत ही गंदी आदत होती खराब आदत होती है क्योंकि हमें धीरे धीरे झग

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  277
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
gali ka pakka number ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!