क्या भारतीय मीडिया आज भी उतनी स्वतंत्र है?...


user

Inderjeet Veram

Photo Journalist

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दमाद अपने आप को के लिए काम करना है

damad apne aap ko ke liye kaam karna hai

दमाद अपने आप को के लिए काम करना है

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  327
WhatsApp_icon
13 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Amit Chamaria

Journalist/Professor

0:52

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कहां जा रहा है कि आप लोग समझने लगे इस तरह का जो पूरा खुल्लम खुल्ला आम जनता को भी लगने लगा है

kahaan ja raha hai ki aap log samjhne lage is tarah ka jo pura khullam khulla aam janta ko bhi lagne laga hai

कहां जा रहा है कि आप लोग समझने लगे इस तरह का जो पूरा खुल्लम खुल्ला आम जनता को भी लगने लगा

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  472
WhatsApp_icon
user

Markandey Pandey

Senior Journalist

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दुश्मन के मीडिया पूरी तरह स्वतंत्र है और चैनलों और अखबारों पर सरकार के खिलाफ सरकार के पक्ष और विपक्ष में जातियां आती हैं तो 2 स्वतंत्र है और अपने व्यक्तिगत कारणों से किसी पत्रकार को शाम को बता दे मारी चौथ किया जा रहा है या किसी तरह की पहरेदारी की जा रही है लोगों को तो सरकार के खिलाफ तो अभी

dushman ke media puri tarah swatantra hai aur channelon aur akhbaron par sarkar ke khilaf sarkar ke paksh aur vipaksh mein jatiya aati hain toh 2 swatantra hai aur apne vyaktigat karanon se kisi patrakar ko shaam ko bata de mari chauth kiya ja raha hai ya kisi tarah ki paharedari ki ja rahi hai logo ko toh sarkar ke khilaf toh abhi

दुश्मन के मीडिया पूरी तरह स्वतंत्र है और चैनलों और अखबारों पर सरकार के खिलाफ सरकार के पक्ष

Romanized Version
Likes  72  Dislikes    views  1099
WhatsApp_icon
user

Manoj Aligadi

Freelance Photo Journalist

2:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में मीडिया को चौथा स्तंभ कहा जाता है सवाल का जवाब बन ही रहना तुम भारत में लौह स्तंभ कहा जाता है पनर कहा जाता है औरत पटाने का भी जन्म हुआ है पिछले साल प्रधानमंत्री आने वाले कल में घटक काम करने जा रही है बताते हुए हैं लड़की से बात करके आया था तो हमको बहुत सारी गाइडलाइन लोगों ने सरकार विरोधी कोई भी खबर अगर प्रक्रिया पोर्टल पर आ रही है किसी का तो उसको मैडम तुरंत देखा जा रहा है यह पत्रकार के लिए यह भारतीय पत्रकारिता के लिए शुभ संकेत नहीं है कि साउथ कोरिया नहीं है या जो आलाकमान तक के पर मेरे और आप जैसे ही लोग निकलते हैं लेकिन आप पढ़ कर आएंगे अपने मां बाप को कितनी कठिन परिश्रम के होने पर आया था बहुत सारे लोग जिनके बाबा कौन है लिखता चला चला कर लगा लगा कर उनके बच्चे बने और वहां का तानाशाह बनेंगे और अपने आप को कंट्रोल नहीं कर मीडिया के हक और हुकूक को रोकने की कोशिश करी दबाने की कोशिश करी तो भारत में मीडिया के प्रभाव

bharat mein media ko chautha stambh kaha jata hai sawaal ka jawab ban hi rehna tum bharat mein loha stambh kaha jata hai panar kaha jata hai aurat pataane ka bhi janam hua hai pichle saal pradhanmantri aane waale kal mein ghatak kaam karne ja rahi hai batatey hue hai ladki se baat karke aaya tha toh hamko bahut saree guideline logo ne sarkar virodhi koi bhi khabar agar prakriya portal par aa rahi hai kisi ka toh usko madam turant dekha ja raha hai yah patrakar ke liye yah bharatiya patrakarita ke liye shubha sanket nahi hai ki south korea nahi hai ya jo alakman tak ke par mere aur aap jaise hi log nikalte hai lekin aap padh kar aayenge apne maa baap ko kitni kathin parishram ke hone par aaya tha bahut saare log jinke baba kaun hai likhta chala chala kar laga laga kar unke bacche bane aur wahan ka tanashah banenge aur apne aap ko control nahi kar media ke haq aur hukuk ko rokne ki koshish kari dabane ki koshish kari toh bharat mein media ke prabhav

भारत में मीडिया को चौथा स्तंभ कहा जाता है सवाल का जवाब बन ही रहना तुम भारत में लौह स्तंभ क

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  158
WhatsApp_icon
user

SUSHIL LAKRA

Politician

0:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कुछ वीडियो भेज दीजिए मैं बोल रहा हूं कि रोशनी बात कर रहा था वह मैडम को थोड़ा क्या किया जाता थोड़ा हमको लगा के अभी दिखाओ

kuch video bhej dijiye main bol raha hoon ki roshni baat kar raha tha wah madam ko thoda kya kiya jata thoda hamko laga ke abhi dikhaao

कुछ वीडियो भेज दीजिए मैं बोल रहा हूं कि रोशनी बात कर रहा था वह मैडम को थोड़ा क्या किया जात

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  227
WhatsApp_icon
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपको किसने क्या भारतीय मिली थी क्या आज भी उतने स्वतंत्र है तो आंख बना देंगे देखे मीडिया जो है स्वतंत्र तो है लेकिन मीडिया आजकल एक चीज जो मैं बन गई है वह टीआरपी कौन सी न्यूज़ दिखाने पर अधिक से अधिक दर्शक उनके साथ जुड़ेंगे कौन सा खबर दिखा कर या मसाला लगाकर दिखाई जाए तो ज्यादा अच्छी लगेगी यह सीरियस के दौर में होने लगी है जिससे कि पत्रकारिता को उतना ज्यादा विश्वसनीय नहीं कहा जाता है जितना आपसे कुछ दशक पहले तक कहा जाता था तो यहां पर भारतीय मीडिया को इस सब चीजों से ऊपर उबरना होगा टीआरपी काम छोड़ना होगा तभी वह अच्छी पत्रकारिता कर पाएंगे मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद

aapko kisne kya bharatiya mili thi kya aaj bhi utne swatantra hai toh aankh bana denge dekhe media jo hai swatantra toh hai lekin media aajkal ek cheez jo main ban gayi hai vaah trp kaun si news dikhane par adhik se adhik darshak unke saath judenge kaun sa khabar dikha kar ya masala lagakar dikhai jaaye toh zyada achi lagegi yah serious ke daur mein hone lagi hai jisse ki patrakarita ko utana zyada viswasniya nahi kaha jata hai jitna aapse kuch dashak pehle tak kaha jata tha toh yahan par bharatiya media ko is sab chijon se upar ubarana hoga trp kaam chhodna hoga tabhi vaah achi patrakarita kar payenge main subhkamnaayain aapke saath hain dhanyavad

आपको किसने क्या भारतीय मिली थी क्या आज भी उतने स्वतंत्र है तो आंख बना देंगे देखे मीडिया जो

Romanized Version
Likes  632  Dislikes    views  8034
WhatsApp_icon
user

Sachin Sinha

Journalist

2:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या भारतीय मीडिया की स्वतंत्रता को बुरा भी लगता है आप पहले पूरी तरीके से संपन्न थी ना आज पूरी तरीके से स्वतंत्र आज तो बल्कि यह बोली की पूरी चौपट हो चुकी है मीडिया वालों से उनका पेपर का छपाई का कार्यालय पूछा जाता है फिर जीएसटी लगाया जाता है आपको एक एक पति का हिसाब देना है कहां कहां दे रहे हैं तो बढ़िया पूरी बर्बाद हो चुकी है लगभग घुटने टेक चुके बढ़िया ही अब चल रही है और कई बढ़िया अब खत्म होने के कगार मैया हो चुकी तुम बढ़िया के असफलता की बात तो छोड़ दीजिए बहुत जगह से मामू सही है कि मुझे को सफेद सरकार कभी इसे सुनकर देना नहीं चाहती मदीना है ना रहेगी क्योंकि अगर मुझे कुछ हो गया तो इनका जो चक्र है जहां चुनाव जीतने का वह खत्म हो जाएगा और वह यही नहीं चाहते इसलिए हर पार्टी की अपनी एक फर्जी बढ़िया है जॉन के लिए बहुत बड़ा और वह वहीं तक सीमित कर दिया तक ही सीमित रहें उन्हें बाकी मुझे और कोई काम नहीं अगर आपको बस दुआ यही है कि बहुत जल्द ही भारत में भी बढ़िया और सफलता दिया जाए तो धन्यवाद

kya bharatiya media ki swatantrata ko bura bhi lagta hai aap pehle puri tarike se sampann thi na aaj puri tarike se swatantra aaj toh balki yah boli ki puri chowpat ho chuki hai media walon se unka paper ka chapai ka karyalay poocha jata hai phir gst lagaya jata hai aapko ek ek pati ka hisab dena hai kahan kahan de rahe hai toh badhiya puri barbad ho chuki hai lagbhag ghutne take chuke badhiya hi ab chal rahi hai aur kai badhiya ab khatam hone ke kagar maiya ho chuki tum badhiya ke asafaltaa ki baat toh chod dijiye bahut jagah se mamu sahi hai ki mujhe ko safed sarkar kabhi ise sunkar dena nahi chahti madina hai na rahegi kyonki agar mujhe kuch ho gaya toh inka jo chakra hai jaha chunav jitne ka vaah khatam ho jaega aur vaah yahi nahi chahte isliye har party ki apni ek farji badhiya hai john ke liye bahut bada aur vaah wahi tak simit kar diya tak hi simit rahein unhe baki mujhe aur koi kaam nahi agar aapko bus dua yahi hai ki bahut jald hi bharat mein bhi badhiya aur safalta diya jaaye toh dhanyavad

क्या भारतीय मीडिया की स्वतंत्रता को बुरा भी लगता है आप पहले पूरी तरीके से संपन्न थी ना आज

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  236
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरा मानना है कि आज के मीडिया स्वतंत्र है ही नहीं कहां स्वतंत्र पत्रकार चालू करते हैं जिस तरह पत्रकारिता होना चाहिए करते अगर सच में पत्रकार स्वतंत्र हो जाए तो देश की 9% आर्थिक स्थिति सुधर जाएगी चाटुकार करते उससे भारतीय मीडिया स्वतंत्र नहीं हो सकती है जो राजनीतिक स्थिति है ऑफिस स्वतंत्र नहीं हो सकता है कभी क्या किया जाए

mera manana hai ki aaj ke media swatantra hai hi nahi kahan swatantra patrakar chaalu karte hain jis tarah patrakarita hona chahiye karte agar sach mein patrakar swatantra ho jaaye toh desh ki 9 aarthik sthiti sudhar jayegi chatukar karte usse bharatiya media swatantra nahi ho sakti hai jo raajnitik sthiti hai office swatantra nahi ho sakta hai kabhi kya kiya jaaye

मेरा मानना है कि आज के मीडिया स्वतंत्र है ही नहीं कहां स्वतंत्र पत्रकार चालू करते हैं जिस

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  122
WhatsApp_icon
user

Ganesh Joshi

Journalist

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय मीडिया की स्वतंत्रता की बात आज के समय में थोड़ा सोचने को मजबूर करती है मीडिया दो प्रभु मन भर चुका है एक तो सत्ता पक्ष के साथ 1 सप्ताह के विरोध की लेकिन तमाम ऐसे पत्रकार हैं मीडिया घराने भी हैं जो आज जो आज बात निष्पक्षता की करना चाहते हैं लेकिन उनकी आवाज उच्च स्तर पर नहीं पहुंच पा रही है ओवरऑल देखें जो मीडिया की स्वतंत्रता आज उस लेवल पर नहीं है जहां होनी चाहिए विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में मीडिया की आजादी बढ़नी चाहिए बड़े स्कैम या बड़े लेवल पर घोटाले के उजागर होने चाहिए थे वह नहीं हो रहे हैं जिस तरह की सच्चाई सामने आनी चाहिए कि वह कई स्तर पर जान जा रही है ऐसे में हमें जरूरी है कि मीडिया स्वतंत्र बने सबसे बड़ी भागीदारी आम जनता की आम जनता क्या जानना चाहती है सच या झूठ या फिर घड़ी हुई कहानी अगर जनता सजाना चाहती है तो मीडिया को सपोर्ट करना चाहिए मीडिया कर्मियों को सपोर्ट करें और जहां पर 22 दिन लगता है जहां पर एक तरफा समाचार लगता है उसका पूरी तरह से खंडन करने के लिए उतर जाना चाहिए धन्यवाद

bharatiya media ki swatantrata ki baat aaj ke samay mein thoda sochne ko majboor karti hai media do prabhu man bhar chuka hai ek toh satta paksh ke saath 1 saptah ke virodh ki lekin tamaam aise patrakar hain media gharane bhi hain jo aaj jo aaj baat nishpakshata ki karna chahte hain lekin unki awaaz ucch sthar par nahi pohch paa rahi hai overall dekhen jo media ki swatantrata aaj us level par nahi hai jaha honi chahiye vishwa ke sabse bade loktantrik desh mein media ki azadi badhani chahiye bade scam ya bade level par ghotale ke ujagar hone chahiye the vaah nahi ho rahe hain jis tarah ki sacchai saamne aani chahiye ki vaah kai sthar par jaan ja rahi hai aise mein hamein zaroori hai ki media swatantra bane sabse badi bhagidari aam janta ki aam janta kya janana chahti hai sach ya jhuth ya phir ghadi hui kahani agar janta sajana chahti hai toh media ko support karna chahiye media karmiyon ko support kare aur jaha par 22 din lagta hai jaha par ek tarfa samachar lagta hai uska puri tarah se khandan karne ke liye utar jana chahiye dhanyavad

भारतीय मीडिया की स्वतंत्रता की बात आज के समय में थोड़ा सोचने को मजबूर करती है मीडिया दो प्

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  133
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मीडिया स्वतंत्र नहीं है वीडियो के अंदर पैसा बहुत चलता है और यही कारण है कि सभी चैनल वाले आज मोदी सरकार की बढ़ाई करते हैं और मैं भी लगा उसी लड़के हैं लेकिन जाने वाले एक भी एक भी चैनल नहीं करते भी कांग्रेस ने यह काम अच्छा किया जो किया है करेगी लेकिन मोदी सरकार के सारे गाने बताइए फिल्मी

media swatantra nahi hai video ke andar paisa bahut chalta hai aur yahi karan hai ki sabhi channel waale aaj modi sarkar ki badhai karte hain aur main bhi laga usi ladke hain lekin jaane waale ek bhi ek bhi channel nahi karte bhi congress ne yah kaam accha kiya jo kiya hai karegi lekin modi sarkar ke saare gaane bataiye filmy

मीडिया स्वतंत्र नहीं है वीडियो के अंदर पैसा बहुत चलता है और यही कारण है कि सभी चैनल वाले आ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखा जाए तो भारत का मीडिया जितना स्वतंत्र नहीं है क्योंकि आज हम देखते हैं कि पूरे भारत में कहीं ना के कुछ ना कुछ हो ही रहा है जो कि भारतीय सरकार की नीतियों के खिलाफ है तो इसके लिए तो चीजें होनी चाहिए अत वह लोग अच्छे तो भारतीय वीडियोकॉन का साथ देना चाहिए या तो बुरे हैं उनका नीति खिलाफ होना बेकार है तो सरकार को उनसे बात करनी चाहिए उन्हें समझाना चाहिए लेकिन आज हम देखते हैं कि मीडिया सिर्फ और सिर्फ यही गुणगान करता रहता है नरेंद्र मोदी जी ने काली नरेंद्र मोदी जी यहां जा रहे हैं नरेंद्र मोदी ने खाना खा रहे हैं नरेंद्र मोदी जी मतलब भारत में सिर्फ और सिर्फ एक नरेंद्र मोदी कि सब बेकार है भारतीय जनता जिनके आधार पर ने प्रधानमंत्री बनाया गया है आज उन्हीं की कदर नहीं करते आज हम देख सकते कि भारत में किस तरीके से पूरे भारत के अंदर कहीं आग लगाई जा रही है कहीं दंगे हो रहे हैं कितने लोग मर रहे हैं लेकिन सरकार अपने ऐसे काम पर ले बैठी हुई है जो जाति की से लागू ही होगा और लागू कर रखा है तो मुझे नहीं लगता कि भारतीय मीडिया स्वतंत्र दुनिया को दिखा सके लोगों को एकत्रित कर सके ताकि लोग एकत्रित होकर प्रशासन वापस मांग सके नरेंद्र मोदी से

dekha jaaye toh bharat ka media jitna swatantra nahi hai kyonki aaj hum dekhte hain ki poore bharat mein kahin na ke kuch na kuch ho hi raha hai jo ki bharatiya sarkar ki nitiyon ke khilaf hai toh iske liye toh cheezen honi chahiye at vaah log acche toh bharatiya videocon ka saath dena chahiye ya toh bure hain unka niti khilaf hona bekar hai toh sarkar ko unse baat karni chahiye unhe samajhana chahiye lekin aaj hum dekhte hain ki media sirf aur sirf yahi gunagan karta rehta hai narendra modi ji ne kali narendra modi ji yahan ja rahe hain narendra modi ne khana kha rahe hain narendra modi ji matlab bharat mein sirf aur sirf ek narendra modi ki sab bekar hai bharatiya janta jinke aadhar par ne pradhanmantri banaya gaya hai aaj unhi ki kadar nahi karte aaj hum dekh sakte ki bharat mein kis tarike se poore bharat ke andar kahin aag lagayi ja rahi hai kahin dange ho rahe hain kitne log mar rahe hain lekin sarkar apne aise kaam par le baithi hui hai jo jati ki se laagu hi hoga aur laagu kar rakha hai toh mujhe nahi lagta ki bharatiya media swatantra duniya ko dikha sake logo ko ekatrit kar sake taki log ekatrit hokar prashasan wapas maang sake narendra modi se

देखा जाए तो भारत का मीडिया जितना स्वतंत्र नहीं है क्योंकि आज हम देखते हैं कि पूरे भारत में

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  76
WhatsApp_icon
user

Vatsal

Engineering Student

1:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

BJP BJP कि केंद्र में सरकार आने के बाद चाहे कोई कुछ भी कहे लेकिन मैंने यह एक्सपीरियंस किया है कि भारतीय मीडिया उतना सुंदर नहीं रहा अंदरखाने जो भी हो जैसा भी हो यह हमें नहीं पता लग सकता है लेकिन दर्शकों के रूप में एक जनता आम जनता के रूप में जो मैंने एक्सपीरियंस किया है महसूस किया है कि भारतीय मीडिया केवल और केवल सरकार के अच्छे काम बना रहा है आजकल बहुत सारे चैनल इसमें शामिल है मैं नाम नहीं लेना चाहूंगा लेकिन क्योंकि सब लोग जानते हैं इसलिए लेना पड़ रहा है Zee TV खुलेआम सपोर्ट करता है भारत केंद्र सरकार का करना भी चाहिए लेकिन हर काम का नहीं करना चाहिए जो काम हो रहा है उसकी बुराई करनी चाहिए जैसे हाल ही में कुछ दिन पहले एक रिश्ता आया था NDTV चैनल ने केंद्र सरकार के किसी की आलोचना की थी जिसके कारणवश क्वेश्चन को 1 दिन के लिए बंद कर दिया गया था मीडिया के लिए काला धंधा को अवगत कराना सच्चाई से किसी की झूठी तारीफ नहीं करना तो इसलिए उनको स्वतंत्रता हमें आजादी मिलनी चाहिए उन पर किसी भी तरीके की बहुत टेंशन नहीं होगी

BJP BJP ki kendra mein sarkar aane ke baad chahen koi kuch bhi kahe lekin maine yah experience kiya hai ki bharatiya media utana sundar nahi raha andarakhane jo bhi ho jaisa bhi ho yah hamein nahi pata lag sakta hai lekin darshakon ke roop mein ek janta aam janta ke roop mein jo maine experience kiya hai mehsus kiya hai ki bharatiya media keval aur keval sarkar ke acche kaam bana raha hai aajkal bahut saare channel isme shaamil hai naam nahi lena chahunga lekin kyonki sab log jante hain isliye lena pad raha hai Zee TV khuleaam support karta hai bharat kendra sarkar ka karna bhi chahiye lekin har kaam ka nahi karna chahiye jo kaam ho raha hai uski burayi karni chahiye jaise haal hi mein kuch din pehle ek rishta aaya tha NDTV channel ne kendra sarkar ke kisi ki aalochana ki thi jiske karanvash question ko 1 din ke liye band kar diya gaya tha media ke liye kaala dhandha ko avgat krana sacchai se kisi ki jhuthi tareef nahi karna toh isliye unko swatantrata hamein azadi milani chahiye un par kisi bhi tarike ki bahut tension nahi hogi

BJP BJP कि केंद्र में सरकार आने के बाद चाहे कोई कुछ भी कहे लेकिन मैंने यह एक्सपीरियंस किया

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  11
WhatsApp_icon
user

S

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वीडियो कितना स्वतंत्र है यह एक बहुत बड़ा सवाल है और शायद इसका एक सटीक आंसर दे पाना बहुत मुश्किल है जितने भी लीडिंग मीडिया हाउस इन इंडिया में आप तो देखेंगे अगर उन की तह तक जाए तो आप को साफ दिख जाएगा कि उनका एक ना एक बड़ी पार्टी जो इंडिया में पॉलिटिकल पार्टी है उसके साथ कुछ न कुछ गड़बड़ है और वैसे मैं वह कितने स्वतंत्र हैं और कितने निष्पक्ष हैं इसका अंदाजा लगा पाना अपने आप के दम पर बहुत मुश्किल है लेकिन अगर आप टाइटंस फॉलो करें और उन को रिकॉर्ड करने की कोशिश करें तो आपको दिख जाएगा कि साफ तौर पर दो अलग-अलग धाराएं हैं और हर एक चैनल उनमें से किसी न किसी एक में आपको अधिक जाएगा तो वैसे मैं आप बहुत ज्यादा एक्सपेक्ट नहीं कर सकते हैं खासकर जो मेनस्ट्रीम मीडिया टेलीविजन और न्यूज़ पेपर्स उनसे मुझे लगता है कि बहुत ज्यादा स्वतंत्रता उनके अंदर और निष्पक्षता उनके पर हरमेश कि आप उम्मीद नहीं करें तो बेहतर

video kitna swatantra hai yah ek bahut bada sawaal hai aur shayad iska ek sateek answer de paana bahut mushkil hai jitne bhi leading media house in india mein aap toh dekhenge agar un ki tah tak jaaye toh aap ko saaf dikh jaega ki unka ek na ek badi party jo india mein political party hai uske saath kuch na kuch gadbad hai aur waise main vaah kitne swatantra hain aur kitne nishpaksh hain iska andaja laga paana apne aap ke dum par bahut mushkil hai lekin agar aap taitans follow kare aur un ko record karne ki koshish kare toh aapko dikh jaega ki saaf taur par do alag alag dharayen hain aur har ek channel unmen se kisi na kisi ek mein aapko adhik jaega toh waise main aap bahut zyada expect nahi kar sakte hain khaskar jo mainstream media television aur news papers unse mujhe lagta hai ki bahut zyada swatantrata unke andar aur nishpakshata unke par harmesh ki aap ummid nahi kare toh behtar

वीडियो कितना स्वतंत्र है यह एक बहुत बड़ा सवाल है और शायद इसका एक सटीक आंसर दे पाना बहुत मु

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  39
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!