प्यार और आकर्षण में क्या फरक है?...


play
user

Kriti Gupta

Clinical Psychologist

1:46

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आकर्षण जो है वह ज्यादातर फिजिकल अट्रैक्शन हो सकता है यानी कि आप किसी की तरफ अगर आप किसी की तरफ जो काम है तो उस कर सकते तो उसकी खूबसूरती के कारण हो सकता है और वह कुछ समय के लिए होता है या हो सकता है कि सामाजिक दबाव के कारण ही आप अगर किसी के प्रति झुकाव महसूस कर रहे हैं तो वह आकर्षण है क्योंकि आकर्षण होता है वह थोड़े दिनों की अगर आप मान लीजिए आकर्षण के कारण किसी की तरफ झुकाव हो आप उनके साथ समय बिताते तो आपको लगने लगता है कि आप इनके साथ आप ज्यादा टाइम नहीं रह सकते या हो सकते कि आपके उसे हर बात पर लड़ाई होगी और कितनी बढ़ेगी कभी भी उसमें होना भी मुश्किल होगा इसके उलट होता है प्यार शुरुआत में आकर्षण की वजह से हो सकता है लेकिन आप किसी की तरह आकर्षक महसूस करे किसी की तरफ आकर्षित होकर गाना शुरू किया और हमें खूबसूरती पर न होकर उनकी आंतरिक सूची के कारण होने लगे और हम उनका सम्मान करने लगे और अगर हमारे बीच में कोई मतभेद हो तो उसको हम की तरफ ज्यादा जो डाले बजाय उनसे झगड़ा करके आ जाता है मजबूत होता है तो मत भेज दूं एक जगह रखें एक्साइट करके एक दूसरे के लिए काम करने की इच्छा होती है यह प्यार होता अगर होता है कि जो कि वह कुछ टाइम के लिए तो वह टेंपरेरी होता है लेकिन प्यार जो होता है वह ज्यादा लंबे समय उम्मीद है कि आपको मेरी कुछ मदद मिली होगी

aakarshan jo hai vaah jyadatar physical attraction ho sakta hai yani ki aap kisi ki taraf agar aap kisi ki taraf jo kaam hai toh us kar sakte toh uski khoobsoorti ke karan ho sakta hai aur vaah kuch samay ke liye hota hai ya ho sakta hai ki samajik dabaav ke karan hi aap agar kisi ke prati jhukaav mehsus kar rahe hain toh vaah aakarshan hai kyonki aakarshan hota hai vaah thode dino ki agar aap maan lijiye aakarshan ke karan kisi ki taraf jhukaav ho aap unke saath samay Bitate toh aapko lagne lagta hai ki aap inke saath aap zyada time nahi reh sakte ya ho sakte ki aapke use har baat par ladai hogi aur kitni badhegi kabhi bhi usme hona bhi mushkil hoga iske ulat hota hai pyar shuruat mein aakarshan ki wajah se ho sakta hai lekin aap kisi ki tarah aakarshak mehsus kare kisi ki taraf aakarshit hokar gaana shuru kiya aur hamein khoobsoorti par na hokar unki aantarik suchi ke karan hone lage aur hum unka sammaan karne lage aur agar hamare beech mein koi matbhed ho toh usko hum ki taraf zyada jo dale bajay unse jhagda karke aa jata hai majboot hota hai toh mat bhej doon ek jagah rakhen eksait karke ek dusre ke liye kaam karne ki iccha hoti hai yah pyar hota agar hota hai ki jo ki vaah kuch time ke liye toh vaah tempareri hota hai lekin pyar jo hota hai vaah zyada lambe samay ummid hai ki aapko meri kuch madad mili hogi

आकर्षण जो है वह ज्यादातर फिजिकल अट्रैक्शन हो सकता है यानी कि आप किसी की तरफ अगर आप किसी की

Romanized Version
Likes  169  Dislikes    views  3943
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!