योग करने की आदत कैसे डाले?...


user

Shailesh Kumar Dubey

Yoga Teacher , Retired Government Employee

3:45
Play

Likes  48  Dislikes    views  1126
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Anshu Sarkar

Founder & Director, Sarkar Yog Academy

7:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले तो मैं आपको धन्यवाद देना चाहूंगा कितना प्यारा सा सवाल का जवाब देने के लिए आपने मुझसे अवसर दिए साथ ही आप को मेरा नमस्कार आप का सवाल है योग करने की आदत कैसे डालें मुझे अपना अतीत याद आ रहा है क्योंकि मैं भी एक ही होगी हूं और पिछले 36 वर्षों से 366 फेयर मैंने अपना जीवन को योग के प्रति समर्पित कर दी सुबह शाम रात 2:00 पर केवल यूं ही कर रहा हूं आपको बताता पर हर्ष हो रहा है इस अवधि में मैंने 36 वर्ष में कई जिला स्तरीय राज्य स्तरीय राष्ट्रीय स्तर पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई उपलब्धियां अबाउट मैंने जीता मुझे याद रखना आज से 36 वर्ष पहले जब मैंने पहला दिन अपने मानसिक रूप से अपने आपको तैयार किए थे कि आज से मुझे योगा करना है विश्वास कीजिए मैं अतीत में चला गया अभी मैं हूं ही पर हूं और वहीं से मैं आपको जवाब दे रहा हूं आंखें बंद करके मैं महसूस कर रहा हूं उस दिन का सबसे पहला दिन मैंने जाकर अपना शरीर का जो जॉइंट था उसको मैंने पृथ्वी पर घुमाना नीचे घुमाना अर्जेंट प्लीज आखिरी किए थोड़ा-थोड़ा से उठे 23 ब्रीडिंग एक्साइज की है फिर उसके बाद जो मेरा फिर से वो मेरे को कराएं फिर ओम उच्चारण किए फिर हम को घर भेज दिया तो घर में जाकर मैंने मम्मी से बोला मम्मी योग हो गया तो मेरे को थोड़ा झूठ नहीं है उसे तुम तो ग्राउंड में जाकर ज्यादा दर्द करते थे तुम देखो आज अगर कुछ कर आए तो फिर और कुछ करें कि सर से धीरे-धीरे करके तुमको आगे बढ़ेगा तब मम्मी सही निकले फिर दोबारा दिन गए जब मैं उस दिन हम को ज्वाइन श्री कराया गया है नीतू एंकल ज्वाइंट पहले नेक शोल्डर एल्बम रिक्वेस्ट करनी थी मेरे को सबसे फ्री कर आएगा फिर जो भी दर्ज कराया गया था उससे थोड़ा थे और ज्यादा बिल्डिंग सेट कराया गया और 1 आसन भी कर आएगा मेरे को पहला दिन सेकंड शासन का नाम था वृक्षासन मुझे याद है दोनों पैर को सीधा करे खड़ा-खड़ा दिया गया एक पैर को सीधा रखते दूसरा तथा हम उसके बाद प्रदान किए फिर हाथ को ऊपर की तरफ ले गए यह था कि उसके बाद मुझे ओम का उच्चारण और कराया गया फिर छुट्टी दे दिया गया इसी तरह से धीरे-धीरे टाइप कर करके आज यहां तक हम पहुंचे आपका मन में जब किया गया कि आपको योग करना है तो उसकी आदत तो डालनी है आपको रोज योग करना है लेकिन हां ना ही आपको किताब देखकर यानी की बुक पढ़ कर और ना ही टीवी के माध्यम से टीवी देख के योग करना है अगर दुनिया में सबसे गलत चीज कुछ है तो यह है टीवी देख के योग करना बुक पर के जो करना क्योंकि सोचिए आप टीवी देख के योग कर रहे हैं तो क्रीम में टीवी का स्पीड में योग योग का शिक्षा दिया जा रहा है और आप इधर अपने से कर रहे हैं तो जो कुछ भी आप कर रहे हैं उसमें अगर कुछ अब गलत कर रहे हैं तो स्क्रीन से निकल कर आ कर जो भी आपको योग का शिक्षा दे रहे हैं वह आपको ठीक करके उसके नहीं जाएंगे मेरठ में तो निकलता निकलता तो गलत होते ही रहेगा मत कीजिए सही है लेकिन गलत मत कीजिए अगर योग करने से शुभ परिणाम है फायदा है तो यह गलत करने से दुष्परिणाम है गलत करने से हानि भी होता है तो आप किसी संस्था में किसी गुरु के सान्निध्य में जिनका योग में पकड़ है अपना जीवन को योग में समर्पित कर दिया और बेकारी है दूसरों का चाहते हैं शिक्षा देना चाहते हैं ऐसे किसी गुरु का तलाब कीजिए और योग का शिक्षा लीजिए देखिएगा यह एक ऐसा आदत है जीवन का अंतिम सप्ताह की आदत आपका साथ रहेगा क्योंकि जोड़ता है जब आत्मा से परमात्मा को जोड़ता है इतना अच्छा इसका परिभाषा है तो योग जब आप करेंगे तो आप का संपूर्ण विकास होगा शारीरिक मानसिक आर्थिक आर्थिक आध्यात्मिक संपूर्ण अधिकार संपन्न होता है जो करने से कम थी तो मैंने होती है योग करने से आज किस-किस दिन दुनिया में जहां स्वास्थ्य में प्रदूषण थाना में मिलावट चारों तरफ तनाव ऐसे अवस्था में मनुष्य को निरोग्यं चिंता मत रहना असंभव प्रतीत हो रहा है इस असंभव को संभव बदलता है योग प्रणाम योग के द्वारा कई असाध्य बीमारी से निजात पा सकते हैं प्रणाम के द्वार आपका स्वास्थ्य गतिविधि को नियंत्रण विभाग के स्वास्थ संबंधित सहित कई बीमारी से निजात पा सकते हैं इधर को बढ़ा सकता है 100% तक बढ़ा सकते हैं एवं सिस्टम को स्ट्रांग कर सकते हैं बीमारी से लाने का ताकत बना सकते हैं साथ में ध्यान कराकर आप चंचल बंद को बस में ला सकते हैं इनका तनाव से दूर केवल चिंता ही आने वाला भविष्य सुनहरा बिता सकते हैं योग के द्वारा प्रयोग शरीर चिंतामन आत्मविश्वास दिल पांचों में ताकत जीवन में कुछ कर गुजरने का चाहा निरोग शरीर दीर्घायु जीवन में आने वाला भविष्य सुंदर एवं चिंता मुक्त जीवन के लिए योजनाएं धन्यवाद

sabse pehle toh main aapko dhanyavad dena chahunga kitna pyara sa sawaal ka jawab dene ke liye aapne mujhse avsar diye saath hi aap ko mera namaskar aap ka sawaal hai yog karne ki aadat kaise Daalein mujhe apna ateet yaad aa raha hai kyonki main bhi ek hi hogi hoon aur pichle 36 varshon se 366 fair maine apna jeevan ko yog ke prati samarpit kar di subah shaam raat 2 00 par keval yun hi kar raha hoon aapko batata par harsh ho raha hai is awadhi me maine 36 varsh me kai jila stariy rajya stariy rashtriya sthar par antararashtriya sthar par kai upalabdhiyaan about maine jita mujhe yaad rakhna aaj se 36 varsh pehle jab maine pehla din apne mansik roop se apne aapko taiyar kiye the ki aaj se mujhe yoga karna hai vishwas kijiye main ateet me chala gaya abhi main hoon hi par hoon aur wahi se main aapko jawab de raha hoon aankhen band karke main mehsus kar raha hoon us din ka sabse pehla din maine jaakar apna sharir ka jo joint tha usko maine prithvi par ghumaana niche ghumaana urgent please aakhiri kiye thoda thoda se uthe 23 Breeding excise ki hai phir uske baad jo mera phir se vo mere ko karaye phir om ucharan kiye phir hum ko ghar bhej diya toh ghar me jaakar maine mummy se bola mummy yog ho gaya toh mere ko thoda jhuth nahi hai use tum toh ground me jaakar zyada dard karte the tum dekho aaj agar kuch kar aaye toh phir aur kuch kare ki sir se dhire dhire karke tumko aage badhega tab mummy sahi nikle phir dobara din gaye jab main us din hum ko join shri karaya gaya hai neetu enkal joint pehle neck shoulder album request karni thi mere ko sabse free kar aayega phir jo bhi darj karaya gaya tha usse thoda the aur zyada building set karaya gaya aur 1 aasan bhi kar aayega mere ko pehla din second shasan ka naam tha vrikshasan mujhe yaad hai dono pair ko seedha kare khada khada diya gaya ek pair ko seedha rakhte doosra tatha hum uske baad pradan kiye phir hath ko upar ki taraf le gaye yah tha ki uske baad mujhe om ka ucharan aur karaya gaya phir chhutti de diya gaya isi tarah se dhire dhire type kar karke aaj yahan tak hum pahuche aapka man me jab kiya gaya ki aapko yog karna hai toh uski aadat toh daalni hai aapko roj yog karna hai lekin haan na hi aapko kitab dekhkar yani ki book padh kar aur na hi TV ke madhyam se TV dekh ke yog karna hai agar duniya me sabse galat cheez kuch hai toh yah hai TV dekh ke yog karna book par ke jo karna kyonki sochiye aap TV dekh ke yog kar rahe hain toh cream me TV ka speed me yog yog ka shiksha diya ja raha hai aur aap idhar apne se kar rahe hain toh jo kuch bhi aap kar rahe hain usme agar kuch ab galat kar rahe hain toh screen se nikal kar aa kar jo bhi aapko yog ka shiksha de rahe hain vaah aapko theek karke uske nahi jaenge meerut me toh nikalta nikalta toh galat hote hi rahega mat kijiye sahi hai lekin galat mat kijiye agar yog karne se shubha parinam hai fayda hai toh yah galat karne se dushparinaam hai galat karne se hani bhi hota hai toh aap kisi sanstha me kisi guru ke sannidhya me jinka yog me pakad hai apna jeevan ko yog me samarpit kar diya aur bekari hai dusro ka chahte hain shiksha dena chahte hain aise kisi guru ka talab kijiye aur yog ka shiksha lijiye dekhiega yah ek aisa aadat hai jeevan ka antim saptah ki aadat aapka saath rahega kyonki Jodta hai jab aatma se paramatma ko Jodta hai itna accha iska paribhasha hai toh yog jab aap karenge toh aap ka sampurna vikas hoga sharirik mansik aarthik aarthik aadhyatmik sampurna adhikaar sampann hota hai jo karne se kam thi toh maine hoti hai yog karne se aaj kis kis din duniya me jaha swasthya me pradushan thana me milavat charo taraf tanaav aise avastha me manushya ko nirogyan chinta mat rehna asambhav pratit ho raha hai is asambhav ko sambhav badalta hai yog pranam yog ke dwara kai asadhya bimari se nijat paa sakte hain pranam ke dwar aapka swasthya gatividhi ko niyantran vibhag ke swaasth sambandhit sahit kai bimari se nijat paa sakte hain idhar ko badha sakta hai 100 tak badha sakte hain evam system ko strong kar sakte hain bimari se lane ka takat bana sakte hain saath me dhyan karakar aap chanchal band ko bus me la sakte hain inka tanaav se dur keval chinta hi aane vala bhavishya sunehra bita sakte hain yog ke dwara prayog sharir chintaman aatmvishvaas dil panchon me takat jeevan me kuch kar guzarne ka chaha nirog sharir dirghayu jeevan me aane vala bhavishya sundar evam chinta mukt jeevan ke liye yojanaye dhanyavad

सबसे पहले तो मैं आपको धन्यवाद देना चाहूंगा कितना प्यारा सा सवाल का जवाब देने के लिए आपने म

Romanized Version
Likes  333  Dislikes    views  2042
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्ती आपसे बात करने के लिए अपने एक मित्र नहीं है जो कि आपको मिल जाने का एक किस टाइप के अपने मन को बिल्ड अप कीजिए कि स्वास्थ्य का को प्राप्त करने योग्य माध्यमिक द्वारा त्यागपत्र

dosti aapse baat karne ke liye apne ek mitra nahi hai jo ki aapko mil jaane ka ek kis type ke apne man ko build up kijiye ki swasthya ka ko prapt karne yogya madhyamik dwara tyagpatra

दोस्ती आपसे बात करने के लिए अपने एक मित्र नहीं है जो कि आपको मिल जाने का एक किस टाइप के अप

Romanized Version
Likes  406  Dislikes    views  3690
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

1:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन जहां तक है कि योग करने की आदत कैसे डालें तो मेरा मानना है कि वो करने की आदत कैसे डालें यह क्वेश्चन बहुत ही सराहनीय क्वेश्चन है आपका किसी भी चीज को आदत डालने के लिए थोड़ा सा पत्थर लगता है शुरू शुरू में तो अगर आप मेरे से चला लेना चाह रहे हैं तो पहले आप अपने सोने का और जागने का टाइम फिक्स कीजिए आप कम से कम 9:00 बजे तो सो ही जाए अगर आप तो बिजी रहते तो 10:00 बजे तो सो जाइए और तदुपरांत आप ब्रह्म मुहूर्त में 3:00 से 4:00 के बीच में झांकने का प्रयास कीजिए और नित्य क्रियाओं से निवृत्त होने के बाद स्नान आदि करके आप पहले वज्रासन में बैठने का प्रयास करें जब बचने का कोरम आपका पूरा होने लगेगा काफी देर से 40 मिनट तक आ जाएंगे तो उसी आसन में कोशिश कीजिए कि आपका प्राणायाम के लिए अलोम विलोम ऐसे ही धीरे धीरे धीरे करते-करते आपका योग करने का डल जाएगा इसमें कोई घबराने की बात नहीं है और पेट को बिल्कुल नीट एंड क्लीन रखें आप करने की आदत पड़ जाएगी धन्यवाद

aapka question jahan tak hai ki yog karne ki aadat kaise Daalein toh mera manana hai ki vo karne ki aadat kaise Daalein yah question bahut hi sarahniya question hai aapka kisi bhi cheez ko aadat dalne ke liye thoda sa patthar lagta hai shuru shuru mein toh agar aap mere se chala lena chah rahe hain toh pehle aap apne sone ka aur jagne ka time fix kijiye aap kam se kam 9 00 baje toh so hi jaaye agar aap toh busy rehte toh 10 00 baje toh so jaiye aur taduprant aap Brahma muhurt mein 3 00 se 4 00 ke beech mein jhankane ka prayas kijiye aur nitya kriyaon se sevanervit hone ke baad snan aadi karke aap pehle vajrasan mein baithne ka prayas karen jab bachne ka koram aapka pura hone lagega kafi der se 40 minute tak aa jaenge toh usi aasan mein koshish kijiye ki aapka pranayaam ke liye alom vilom aise hi dhire dhire dhire karte karte aapka yog karne ka dal jaega isme koi ghabrane ki baat nahi hai aur pet ko bilkul neet and clean rakhen aap karne ki aadat pad jayegi dhanyavad

आपका क्वेश्चन जहां तक है कि योग करने की आदत कैसे डालें तो मेरा मानना है कि वो करने की आदत

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  952
WhatsApp_icon
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि योग करने की आदत कैसे डालें देखिए क्या है जब भी हम कोई भी काम करते हैं और मुझे निरंतर करते रहते हैं तो हम उसकी आती है मुझे एक मनोवैज्ञानिक ने बताया था कि हम कोई भी काम अगर लगातार 90 दिन तक करते हैं तो वह हमारी आदत हो जाता है तो यदि आप लगातार जो है 3 महीने तक किसी भी योग संस्थान पर जाकर यूपी से रहते हैं योगाभ्यास करते रहते हैं तो आप उसको जाते हैं और आपको अच्छा महसूस होने लगता है अच्छा फील जब होता है तो आपको आपका मन करने लगता है वो करने की फिर आपको एक ऐसा महसूस राजस्थान ब्यावर क्लासेस किसी कारण से नहीं कर पाएंगे कि आपका बहुत कुछ टूट रहा है तो आपकी आदत बन जाएगी तो इसीलिए किसी कुशल योग गुरु के निर्देशन में किसी अच्छे संस्थान 3 महीने 6 महीने

aapka prashna hai ki yog karne ki aadat kaise Daalein dekhiye kya hai jab bhi hum koi bhi kaam karte hain aur mujhe nirantar karte rehte hain toh hum uski aati hai mujhe ek manovaigyanik ne bataya tha ki hum koi bhi kaam agar lagatar 90 din tak karte hain toh vaah hamari aadat ho jata hai toh yadi aap lagatar jo hai 3 mahine tak kisi bhi yog sansthan par jaakar up se rehte hain yogabhayas karte rehte hain toh aap usko jaate hain aur aapko accha mahsus hone lagta hai accha feel jab hota hai toh aapko aapka man karne lagta hai vo karne ki phir aapko ek aisa mahsus rajasthan byavar classes kisi karan se nahi kar payenge ki aapka bahut kuch toot raha hai toh aapki aadat ban jayegi toh isliye kisi kushal yog guru ke nirdeshan mein kisi acche sansthan 3 mahine 6 mahine

आपका प्रश्न है कि योग करने की आदत कैसे डालें देखिए क्या है जब भी हम कोई भी काम करते हैं और

Romanized Version
Likes  143  Dislikes    views  1762
WhatsApp_icon
user

Awanish Kumar

Yoga Instructor

3:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अब तुलसीदास जी ने कुंती बोली है कि सुर नर मुनि सबकी यह रीति स्वारथ लागि करहिं सब प्रीती मतलब सुर नर मुनि देवता इंसान और ऋषि लोग तीन लोग की तीनों की रीती है तीनों की यह परंपरा है तीनों की आदत कर सकते हैं कि वे सब लोग अपने स्वार्थ के लिए ही प्रेम करते हैं आप योग से प्रेम करने के लिए योग में अपना स्वार्थी ढूंढिए पहले हमें योग देखा क्या और वह जब स्वार्थ आपको दिख जाएगा कि हमें योग से यही चीजें मिल सकती है तो फिर अभी असली आपका मन आपको पैसे डाले अकेले चलो करो बैठे आसन करो काम करो उसके लिए आपको समझना होगा उसको समझने के साथ आपको अपने जीवन के उद्देश्य को समझना होगा कि आप सोचिए इतना बढ़िया खूबसूरत शरीर इतने बढ़िया फंक्शन के साथ में इतनी अच्छी ढेर सारी टेक्नॉलॉजी के साथ में शरीर में मिला है तो क्यों मिला है परमात्मा हमें यह क्यों दिया है यह सवाल अब जब कीजिए गाना तोला के साथ जिस उद्देश्य परमात्मन हमें शरीर दिया यह इतना बढ़िया से कनेक्शन दिए कॉन्फ़िगरेशन दिया है तो यह क्या अपने उद्देश्य में लग रहा है कि नहीं लग रहा है कि नहीं लग रहा था हम कैसे लगाएं और वह लगाने के लिए चुटकुल है टूल्स है जो माध्यम है वह योग के माध्यम से आपको प्राप्त हो सकता है अब सोचिए कि आजादी हम जैसे हम मानवों की हमने भी मन बैंक्स कि आप कुछ भी खा सकते कुछ भी पहन सकते हैं पशु पक्षी हैं जानवर उनको यह आजादी नहीं है जैसे बकरी है उसे घास फूस ही खाना है वह बोले कि नहीं सर में चौमिन खाऊंगी तो वह उसके लिए अलाउड नहीं है अब भाग्य है और भी ऐसे जानवर है उनके लिए भोजन उनका कपड़ा सब नियंत्रित है अब बात बोले कि नहीं साथ में पेंट पहन लूंगा तो पॉसिबल है क्या नहीं पॉसिबल हाथी बोले कि मैं पेड़ पर रहूंगा ही बल है क्या नहीं खा सकते हैं कुछ भी पहन सकते हैं कहीं पर भी रह सकते हैं हाल में किसी ने अंडर ग्राउंड वाटर में जाकर की शादी करी और वहां पर अपना शायद कुछ ऐसा बनाए मतलब आपके पास में हर चीज फ्रीडम है उस उद्देश्य के साथ में योग के उद्देश्य को रिलेट करेंगे तभी योग करने मजा आएगा क्योंकि आपको टारगेट मिल जाएगा कि हमेशा हम शरीर को सुदृढ़ रखना है मन को हमें एक उसके उसके बिखराव को रोकना है और उसे एक अच्छे पद पर ले चलना है हमें अपने आपको जानना है हम कौन हैं एक प्रश्न खाना को हम सोहम सदानंद वाहन शिवोहम यह क्या हम इसमें सही लिखा हुआ है इंशा इन सारी चीजों का अनुभूत करने के लिए आप लक्ष्य बना लीजिएगा तो ऑटोमेटिक आपका मन करेगा कि हम लोग करें और ऐसे भी आपको अच्छा फील होगा शरीर बिल्कुल हल्का फुल्का लगेगा तनाव मुक्त रहेंगे अच्छी चिड़ा पन आपसे दूर हो जाएगा सद्भाव सद्गुण प्रेम यह सब बहने लगेगा थी तभी तो मजा आएगा ही आएगा

ab tulsidas ji ne kuntee boli hai ki sur nar muni sabki yah riti swarath lagi karahin sab preeti matlab sur nar muni devta insaan aur rishi log teen log ki teenon ki riti hai teenon ki yah parampara hai teenon ki aadat kar sakte hain ki ve sab log apne swartha ke liye hi prem karte hain aap yog se prem karne ke liye yog mein apna swaarthi dhundhiye pehle hamein yog dekha kya aur vaah jab swartha aapko dikh jaega ki hamein yog se yahi cheezen mil sakti hai toh phir abhi asli aapka man aapko paise dale akele chalo karo baithe aasan karo kaam karo uske liye aapko samajhna hoga usko samjhne ke saath aapko apne jeevan ke uddeshya ko samajhna hoga ki aap sochiye itna badhiya khoobsurat sharir itne badhiya function ke saath mein itni achi dher saree technology ke saath mein sharir mein mila hai toh kyon mila hai paramatma hamein yah kyon diya hai yah sawaal ab jab kijiye gaana tola ke saath jis uddeshya paramatman hamein sharir diya yah itna badhiya se connection diye configuration diya hai toh yah kya apne uddeshya mein lag raha hai ki nahi lag raha hai ki nahi lag raha tha hum kaise lagaen aur vaah lagane ke liye chutkul hai tools hai jo madhyam hai vaah yog ke madhyam se aapko prapt ho sakta hai ab sochiye ki azadi hum jaise hum manavon ki humne bhi man banks ki aap kuch bhi kha sakte kuch bhi pahan sakte hain pashu pakshi hain janwar unko yah azadi nahi hai jaise bakri hai use ghas fuss hi khana hai vaah bole ki nahi sir mein chaumin khaungi toh vaah uske liye allowed nahi hai ab bhagya hai aur bhi aise janwar hai unke liye bhojan unka kapda sab niyantrit hai ab baat bole ki nahi saath mein paint pahan lunga toh possible hai kya nahi possible haathi bole ki main ped par rahunga hi bal hai kya nahi kha sakte hain kuch bhi pahan sakte hain kahin par bhi reh sakte hain haal mein kisi ne under ground water mein jaakar ki shadi kari aur wahan par apna shayad kuch aisa banaye matlab aapke paas mein har cheez freedom hai us uddeshya ke saath mein yog ke uddeshya ko relate karenge tabhi yog karne maza aayega kyonki aapko target mil jaega ki hamesha hum sharir ko sudridh rakhna hai man ko hamein ek uske uske bikhraav ko rokna hai aur use ek acche pad par le chalna hai hamein apne aapko janana hai hum kaun hain ek prashna khana ko hum soham sadanand vaahan shivoham yah kya hum isme sahi likha hua hai insha in saree chijon ka anubhut karne ke liye aap lakshya bana lijiega toh Automatic aapka man karega ki hum log karen aur aise bhi aapko accha feel hoga sharir bilkul halka fulka lagega tanaav mukt rahenge achi chida pan aapse dur ho jaega sadbhav sadgun prem yah sab behne lagega thi tabhi toh maza aayega hi aayega

अब तुलसीदास जी ने कुंती बोली है कि सुर नर मुनि सबकी यह रीति स्वारथ लागि करहिं सब प्रीती मत

Romanized Version
Likes  27  Dislikes    views  382
WhatsApp_icon
user

Apurva D

Optimistic Coder

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए सर एक बात हमारी आदत कब बन जाती है जब हम उसे दिन-ब-दिन रेगुलर करते हैं तो मेरे ख्याल से अगर आप योगा की बात कर रहे हैं तो योगा तो हेल्थ के लिए बहुत ही अच्छा होता है और मेरे ख्याल से सबसे पहले योगा की प्रॉपर ट्रेनिंग लेनी चाहिए क्योंकि वह सही तरीके से करने के बाद ही उसके फायदे होते हैं और अगर हमें योगा की आदत डाली है तो पहले खुद को यह समझाना पड़ेगा कि वह किस लिए हमारे लिए जरूरी है और हमें एक बार हमारा प्रॉपर माइंड सेट कर लिया तो फिर क्या हम को कोई रोक नहीं सकता हम आ मेरे ख्याल से उसकी आदत डालने के लिए आपने अपने प्रॉपर रेगुलर टाइम टेबल से एक और टाइम निकालना चाहिए स्पेशली उसके लिए सुबह का टाइम अच्छा होता है तो सब कहते है तो मेरे ख्याल से सुबह एक डेढ़ घंटा घर आपने निकाला और रेगुलर नहीं मेरे हिसाब से 7 दिन में आपने सुबह उठकर एक घंटा रेगुलर करा मेरे ख्याल से यह आदत आपकी मेहनत मेहनत चलेगी लेकिन उसके लिए आपको एक थोड़े दिन खुद से उसमें जोक देना पड़ेगा कि नहीं मुझे करना है यह खुद से बता अपने यह खुद को बताया तो ही यह होगा किसी भी आदत को अपने में डालने के लिए यही बहुत जरूरी रहता है

dekhiye sir ek baat hamari aadat kab ban jaati hai jab hum use din bsp din regular karte hain toh mere khayal se agar aap yoga ki baat kar rahe hain toh yoga toh health ke liye bahut hi accha hota hai aur mere khayal se sabse pehle yoga ki proper training leni chahiye kyonki vaah sahi tarike se karne ke baad hi uske fayde hote hain aur agar hamein yoga ki aadat dali hai toh pehle khud ko yah samajhana padega ki vaah kis liye hamare liye zaroori hai aur hamein ek baar hamara proper mind set kar liya toh phir kya hum ko koi rok nahi sakta hum aa mere khayal se uski aadat dalne ke liye aapne apne proper regular time table se ek aur time nikalna chahiye speshli uske liye subah ka time accha hota hai toh sab kehte hai toh mere khayal se subah ek dedh ghanta ghar aapne nikaala aur regular nahi mere hisab se 7 din mein aapne subah uthakar ek ghanta regular kara mere khayal se yah aadat aapki mehnat mehnat chalegi lekin uske liye aapko ek thode din khud se usmein joke dena padega ki nahi mujhe karna hai yah khud se bata apne yah khud ko bataya toh hi yah hoga kisi bhi aadat ko apne mein dalne ke liye yahi bahut zaroori rehta hai

देखिए सर एक बात हमारी आदत कब बन जाती है जब हम उसे दिन-ब-दिन रेगुलर करते हैं तो मेरे ख्याल

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  176
WhatsApp_icon
user

rajan mishra

Self Employed

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे सबसे पहले तो योग करने के लिए सुबह उठी और ठीक है और कोशिश करके घर में योग ना करें बाहर आ जाएं ठीक है बाहर आप के आस पास अगर कोई कंपाउंड है या फिर कोई सुन लेगा ग्राउंड है वहां पार के बाद वहां पर देखेंगे कि बहुत सारे लोग होंगे जो कम्युनिटी चला रहे हैं ग्रुप चला रहे हैं जो योग योग योग करवाते होंगे ठीक आप सबसे पहले तो कॉमेडी को ढूंढ कॉमेडी के साथ जुड़े फिर धीरे-धीरे आपको वहां पर तालमेल बनानी पड़ेगी उसे ठीक है आपको जब तक आप इंटरेस्ट नहीं ले उसके प्रतिउत्तर नहीं उस सर्कुलर कर पाएंगे और सबसे बड़ी चीज में होती के रुला देती जितना ज्यादा पॉपुलर रहेंगे अपनी अच्छी प्रेक्टिस होगी प्रेक्टिस अच्छी होगी तो उसका जो बेनिफिट आपको ज्यादा मिलने की शान से इस चीज को ध्यान में रखते हुए जो है अलग से कंटिन्यू करना चाहिए

mujhe sabse pehle toh yog karne ke liye subah uthi aur theek hai aur koshish karke ghar mein yog na karen bahar aa jayen theek hai bahar aap ke aas paas agar koi compound hai ya phir koi sun lega ground hai wahan par ke baad wahan par dekhenge ki bahut saare log honge jo community chala rahe hain group chala rahe hain jo yog yog yog karwaate honge theek aap sabse pehle toh comedy ko dhundh comedy ke saath jude phir dhire dhire aapko wahan par talmel banani padegi use theek hai aapko jab tak aap interest nahi le uske pratiuttar nahi us circular kar payenge aur sabse badi cheez mein hoti ke rula deti jitna zyada popular rahenge apni achi practice hogi practice achi hogi toh uska jo benefit aapko zyada milne ki shan se is cheez ko dhyan mein rakhte hue jo hai alag se continue karna chahiye

मुझे सबसे पहले तो योग करने के लिए सुबह उठी और ठीक है और कोशिश करके घर में योग ना करें बाहर

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  4
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!