भारतीय जीवन का मूल्य इतना कम क्यों है?...


user

Ruchi Garg

Counsellor and Psychologist(Gold MEDALIST)

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप बहुत ही गहरा सवाल है आपका बहुत ही सोचा समझा सवाल है कि भारतीय जीवन का मूल्य इतना कम क्यों है जैसा कि हम जानते हैं कि हमारे देश की जनसंख्या बहुत ज्यादा है तू जिसकी वजह से सरकार जो है कितने प्रयास करने के बाद भी सब लोगों तक जो बेसिक फैसिलिटी है वह आप नहीं पहुंचा पा रहे हैं अब यहां पर एक हमारे पास उपाय है कि हम दुखी हुए हम देश की है कि लोगों की मूल्य को देखकर दुखी हो या फिर हम ही कर सकते हैं कि हम अपना और अपने आसपास वालों वालों का ख्याल रखें हमें देखें कि हम अपने मित्रों की अपने आसपास रहने वालों की जितनी हो सके मदद कर सके और ऐसा नहीं है कि यह जनसंख्या कहीं और से आ रही है यह हम ही हैं जो बढ़ा रहे हैं तो आप और अपने आसपास की परिच ऐसी कही कि बच्चा जो है वह सोच के पैदा करे सोच-समझकर पैदा करें यह कैसी समझ है जो आप अपने आसपास के लोगों में डाल सकते हैं जिससे जो है आने वाले समय में जीवन का मूल्य जो है भारतीय जीवन का मूल्य भी बढ़ जाएगा

aap bahut hi gehra sawaal hai aapka bahut hi socha samjha sawaal hai ki bharatiya jeevan ka mulya itna kam kyon hai jaisa ki hum jante hain ki hamare desh ki jansankhya bahut zyada hai tu jiski wajah se sarkar jo hai kitne prayas karne ke baad bhi sab logo tak jo basic facility hai vaah aap nahi pohcha paa rahe hain ab yahan par ek hamare paas upay hai ki hum dukhi hue hum desh ki hai ki logo ki mulya ko dekhkar dukhi ho ya phir hum hi kar sakte hain ki hum apna aur apne aaspass walon walon ka khayal rakhen hamein dekhen ki hum apne mitron ki apne aaspass rehne walon ki jitni ho sake madad kar sake aur aisa nahi hai ki yah jansankhya kahin aur se aa rahi hai yah hum hi hain jo badha rahe hain toh aap aur apne aaspass ki parich aisi kahi ki baccha jo hai vaah soch ke paida kare soch samajhkar paida kare yah kaisi samajh hai jo aap apne aaspass ke logo mein daal sakte hain jisse jo hai aane waale samay mein jeevan ka mulya jo hai bharatiya jeevan ka mulya bhi badh jaega

आप बहुत ही गहरा सवाल है आपका बहुत ही सोचा समझा सवाल है कि भारतीय जीवन का मूल्य इतना कम क्य

Romanized Version
Likes  49  Dislikes    views  465
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sameer Tripathy

Political Critic

0:59
Play

Likes  11  Dislikes    views  165
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल सही बात है कि भारत जब भारतीय जीवन का मूल्य बहुत कम हो चुका है| हम यह तो छोड़े हम अपने हम किसी और के जीवन के बारे में तो छोड़े हम अपना ही ख्याल रखने में समर्थ नहीं हो पा रहे हैं हम छोटी-छोटी गलतियां करते हैं अगर हम आज अपने आप से आंखें बंद करके यह सच बोलने को कहे कि क्या हम सीट बेल्ट और जो हेलमेट पहनते हैं| क्या हम यह लोग इसलिए पहनते हैं ताकि हमारा चलान ना हो या फिर हम इसलिए पहनते ताकि हम लोग सुरक्षित रह सके| आपको पता चलेगा कि 100 में से 80% लोग जो इस चीज को सुन रहे है| वे मन ही मन में यह बात जरुर मानेंगे कि वे जो सीट बेल्ट है या हेलमेट है वो इसलिए पहनते हैं| ताकि चलान ना हो पाए| तो ये एक दुखनिय सोच है कि हम लोग अपनी जान और सुरक्षा के साथ खेलना जरुर पसंद करेंगे|पर वही अपने पैसों के साथ वैसा नहीं करते हैं | आजकल हम इतने ज्यादा लापरवाह हो गए हैं| कि हम अपना तो क्या हम अपने परिवार के बारे में तक नहीं सोचते, अपने जीवन के साथ खेलने में| तो जो भारतीय लोग हैं इनको थोड़ा सतर्क होना पड़ेगा| अपनी वॉइस बढानी पड़ेगी| अगर वह अपनी सेफ्टी के बारे में चाहते हैं| हम देखते हैं कि ट्रेन के ऊपर लोग हैं| लोग इधर-उधर भरे पड़े हैं| कोई रेगुलेशन नहीं है| कोई डिसिप्लिन नहीं है| कोई भी सिक्योरिटी नहीं है| तो यह चीज़ें अगर हमें चाहिए| तो हम इसके लिए टैक्स पे कर रहे हैं| तो हम गवर्नमेंट से इस चीज़ कि मांग कर सकते हैं| पर उसको मांग करने के लिए भी हमें जागरुक होना पड़ेगा| कि हमें यह यह चीजें मिल सकती है| और हम इसकी मांग कर सकते हैं| और हम लोगों को किसी और की जान नहीं पहले, हमे अपनी जान के बारे में सोचना चाहिए तो हमें यह छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखना चाहिए कि हम अपने जीवन का खुद मूल्य कम ना करें और सारे रूल्स और रेगुलेशन फॉलो करें और हम नए रूल्स रेगुलेशन बनाने के लिए बारे में भी सोचो जो हमारे जीवन का जो मूल्य है जिससे कम ना हो बल्कि बढे|

bilkul sahi baat hai ki bharat jab bharatiya jeevan ka mulya bahut kam ho chuka hai hum yah toh chode hum apne hum kisi aur ke jeevan ke bare mein toh chode hum apna hi khayal rakhne mein samarth nahi ho paa rahe hai hum choti choti galtiya karte hai agar hum aaj apne aap se aankhen band karke yah sach bolne ko kahe ki kya hum seat belt aur jo helmet pehente hai kya hum yah log isliye pehente hai taki hamara chalan na ho ya phir hum isliye pehente taki hum log surakshit reh sake aapko pata chalega ki 100 mein se 80 log jo is cheez ko sun rahe hai ve man hi man mein yah baat zaroor manenge ki ve jo seat belt hai ya helmet hai vo isliye pehente hai taki chalan na ho paye toh ye ek dukhniya soch hai ki hum log apni jaan aur suraksha ke saath khelna zaroor pasand karenge par wahi apne paison ke saath waisa nahi karte hai aajkal hum itne zyada laaparavaah ho gaye hai ki hum apna toh kya hum apne parivar ke bare mein tak nahi sochte apne jeevan ke saath khelne mein toh jo bharatiya log hai inko thoda satark hona padega apni voice badhani padegi agar vaah apni safety ke bare mein chahte hai hum dekhte hai ki train ke upar log hai log idhar udhar bhare pade hai koi regulation nahi hai koi discipline nahi hai koi bhi Security nahi hai toh yah chize agar hamein chahiye toh hum iske liye tax pe kar rahe hai toh hum government se is cheez ki maang kar sakte hai par usko maang karne ke liye bhi hamein jagruk hona padega ki hamein yah yah cheezen mil sakti hai aur hum iski maang kar sakte hai aur hum logo ko kisi aur ki jaan nahi pehle hume apni jaan ke bare mein sochna chahiye toh hamein yah choti choti baaton ka dhyan rakhna chahiye ki hum apne jeevan ka khud mulya kam na kare aur saare rules aur regulation follow kare aur hum naye rules regulation banane ke liye bare mein bhi socho jo hamare jeevan ka jo mulya hai jisse kam na ho balki badhe

बिल्कुल सही बात है कि भारत जब भारतीय जीवन का मूल्य बहुत कम हो चुका है| हम यह तो छोड़े हम अ

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  157
WhatsApp_icon
play
user

Garvita

Influencer

2:05

Likes    Dislikes    views  11
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
lelijiye ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!