भारतीय संविधान कठोर कम लचीला अधिक है क्यों?...


user

Sefali

Media-Ad Sales

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय संविधान कठोर से ज्यादा लचीला है क्योंकि जिस तरह के डाइवर्सिटी हमारे देश में शायद ही आपको किसी और देश में देखने को मिले l यहां पर हर स्टेट के सबसे अलग अलग रूल्स है, लोगों की कल्चर की हिसाब से अलग अलग रोल है उनकी कंफर्ट की हिसाब से उसे फॉलो किया जाता है उस पर्टिकुलर स्टेट की l यहाँ तक की भारत में काफी ज्यादा संविधान बने कास्ट सिस्टम भी बना था जिसमें की एससी, एसटी,ओबिसी, जनरल यह सब भी बनी थी तो उन सारे के रूल्स भी अलग-अलग है, एक नहीं है l तो सब और तो वह एक पर्टिकुलर फॉलो किया जाता है यहां पर हमारे देश में तो इसीलिए संविधान और काफी जो है लचीला है हमारे देश में l

bharatiya samvidhan kathor se zyada lachila hai kyonki jis tarah ke diversity hamare desh mein shayad hi aapko kisi aur desh mein dekhne ko mile l yahan par har state ke sabse alag alag rules hai logo ki culture ki hisab se alag alag roll hai unki comfort ki hisab se use follow kiya jata hai us particular state ki l yahaan tak ki bharat mein kaafi zyada samvidhan BA ne caste system bhi BA na tha jisme ki SC ST OBC general yah sab bhi BA ni thi toh un saare ke rules bhi alag alag hai ek nahi hai l toh sab aur toh vaah ek particular follow kiya jata hai yahan par hamare desh mein toh isliye samvidhan aur kaafi jo hai lachila hai hamare desh mein l

भारतीय संविधान कठोर से ज्यादा लचीला है क्योंकि जिस तरह के डाइवर्सिटी हमारे देश में शायद ही

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  231
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Vatsal

Engineering Student

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या यार आपने बहुत ही अच्छे सवाल किया कि भारतीय संविधान कठोर कम है और लक्ष्मी लगाते हैं के बहुत ही एक कड़वा सच है संविधान हमारा बहुत ही लचीला है उसका सबसे ताजा उदाहरण सबसे तो जाना पहचाना उदाहरण है क्या कोई भी केस चलता है तो आमतौर पर क्या रहता है कोई भी केस 10 12 18 साल 20 साल बाद उसका फैसला आता है जो जुडिशरी सिस्टम रानी कि उसको साबित भेजो वह लगते हैं वह तो लग जाते हैं लेकिन को साबित करने में 20 साल लगते हैं कि 20 साल बाद इंसान को सजा मिलेगी जो 20 साल पहले काम कर चुका है एक तो यह चीज हो गए दूसरे जितने भी नियम कायदे बनाए जाते हैं उस पर कठोर तरीके से पालन किया जाता हमारी कॉन्स्टिट्यूशन में जो भी एक ट्रैफिक जो भी लोग हैं उनके अकॉर्डिंग हेलमेट पहनना जरूरी है बट आप क्या देखेंगे कहीं पर भी हेलमेट पहने हुए आप लोग मिलेंगे नहीं मिलेंगे जुर्माने की व्यवस्था है गंदगी फैलाने पर तमाम प्रकार की चीजें हैं हम तरीके के नियम कानून है लेकिन बन जाते हैं उसका फायदा उसको लागू नहीं किया जाता है उसका इंप्लीमेंट नहीं किया जाता तो कम लचीला बहुत है और कठोर इस महीने में कम है यदि कोई सजा किसी को मिलती है तो वह जमानत के तौर पर बड़ी हो जाता है और फिर खुल्लम खुल्ला बोलता है तो वह जो कठोरता है वह कम है और लचीलापन बहुत ज्यादा

kya yaar aapne BA hut hi acche sawaal kiya ki bharatiya samvidhan kathor kam hai aur laxmi lagate hai ke BA hut hi ek kadwa sach hai samvidhan hamara BA hut hi lachila hai uska sabse taaza udaharan sabse toh jana pehchana udaharan hai kya koi bhi case chalta hai toh aamtaur par kya rehta hai koi bhi case 10 12 18 saal 20 saal BA ad uska faisla aata hai jo judiciary system rani ki usko saabit bhejo vaah lagte hai vaah toh lag jaate hai lekin ko saabit karne mein 20 saal lagte hai ki 20 saal BA ad insaan ko saza milegi jo 20 saal pehle kaam kar chuka hai ek toh yah cheez ho gaye dusre jitne bhi niyam kayade BA naye jaate hai us par kathor tarike se palan kiya jata hamari Constitution mein jo bhi ek traffic jo bhi log hai unke according helmet pahanna zaroori hai but aap kya dekhenge kahin par bhi helmet pehne hue aap log milenge nahi milenge jurmane ki vyavastha hai gandagi felane par tamaam prakar ki cheezen hai hum tarike ke niyam kanoon hai lekin BA n jaate hai uska fayda usko laagu nahi kiya jata hai uska implement nahi kiya jata toh kam lachila BA hut hai aur kathor is mahine mein kam hai yadi koi saza kisi ko milti hai toh vaah jamanat ke taur par BA di ho jata hai aur phir khullam khulla bolta hai toh vaah jo kathorata hai vaah kam hai aur lachilapan BA hut zyada

क्या यार आपने बहुत ही अच्छे सवाल किया कि भारतीय संविधान कठोर कम है और लक्ष्मी लगाते हैं के

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  323
WhatsApp_icon
play
user

Janak

An Enthusiastic Entrepreneur.

0:48

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय संविधान जो है वह कठोर का लचीला अधिक क्यों है क्योंकि जो डाइवर्सिटी हमारे देश में मिलती है वह और कहीं नहीं मिलती हर जगह अलग अलग और चार्ल्स के अलग-अलग कस्टम के अलग-अलग रूल्स के लोग होते हैं जिनके लिए सेट ऑफ़ रूल्स अलग होना चाहिए जब संविधान बना था तब फल और कष्ट फल और कष्ट को बहुत गिरा हुआ मानते थे जिसकी वजह से उनको काफी सारी प्रॉब्लम होती थी तो उनके लिए अलग सेट ऑफ रवीश बने थे मिडिल क्लास कॉलेज सेट ऑफ रोज बने थे हाई क्लास कलेक्शन डिफेंस गंदी हरकतें कहां मिलेगा न लगे इसलिए उन्हें अधिक लचीला होना फ्लेक्सिबल होना जरूरी था कठोर होने से ज्यादा

bharatiya samvidhan jo hai vaah kathor ka lachila adhik kyon hai kyonki jo diversity hamare desh mein milti hai vaah aur kahin nahi milti har jagah alag alag aur charles ke alag alag custom ke alag alag rules ke log hote hai jinke liye set of rules alag hona chahiye jab samvidhan BA na tha tab fal aur kasht fal aur kasht ko BA hut gira hua maante the jiski wajah se unko kaafi saree problem hoti thi toh unke liye alag set of ravish BA ne the middle kashi college set of roj BA ne the high kashi collection defence gandi harakatein kahaan milega na lage isliye unhe adhik lachila hona flexible hona zaroori tha kathor hone se zyada

भारतीय संविधान जो है वह कठोर का लचीला अधिक क्यों है क्योंकि जो डाइवर्सिटी हमारे देश में मि

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  151
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी भारतीय संविधान को कठोर काम और लचीला ज्यादा इसलिए बनाया गया है क्योंकि वह सिर्फ एक ही प्रकार के लोगों के लिए नहीं बनाया उस से बहुत अलग अलग तरह के लोगों के लिए बनाया गया है ताकि सारे लोग मिल जुलकर उसका सम्मान कर सके उस पर चल सके जैसे क्या बात करें कि हमारे भारतीय देश में अलग अलग धर्मों अलग-अलग जातियों के लोग रहते हैं और जब भी भारतीय संविधान बनाया गया था तब भी यही रणनीति हमारे देश की तो तभी अंबेडकर जी ने इस बात को ध्यान में रखकर इसे बनाया था कि अगर आगे चल कि इन लोगों पर कोई प्रॉब्लम आती है तो कोई शुरु किया जाएगा तू भारतीय संविधान उन लोगों को भी अपने अंतर्गत लेगा और उनको भी 18 जजमेंट मिलेगा तो भारतीय संविधान इसलिए ज्यादा लचीला है ताकि जो भी गलत थी गलती किए जाए उसको प्रॉपर जजमेंट दिया जाए और हर काम आसानी से हो सके

vicky bharatiya samvidhan ko kathor kaam aur lachila zyada isliye BA naya gaya hai kyonki vaah sirf ek hi prakar ke logo ke liye nahi BA naya us se BA hut alag alag tarah ke logo ke liye BA naya gaya hai taki saare log mil julakar uska sammaan kar sake us par chal sake jaise kya BA at kare ki hamare bharatiya desh mein alag alag dharmon alag alag jaatiyo ke log rehte hai aur jab bhi bharatiya samvidhan BA naya gaya tha tab bhi yahi rananiti hamare desh ki toh tabhi ambedkar ji ne is BA at ko dhyan mein rakhakar ise BA naya tha ki agar aage chal ki in logo par koi problem aati hai toh koi shuru kiya jaega tu bharatiya samvidhan un logo ko bhi apne antargat lega aur unko bhi 18 judgement milega toh bharatiya samvidhan isliye zyada lachila hai taki jo bhi galat thi galti kiye jaaye usko proper judgement diya jaaye aur har kaam aasani se ho sake

विकी भारतीय संविधान को कठोर काम और लचीला ज्यादा इसलिए बनाया गया है क्योंकि वह सिर्फ एक ही

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  170
WhatsApp_icon
user

Pooja Kairav

Hard Working

0:00
Play

संविधान हमारा बहुत ही लचीला है उसका सबसे ताजा उदाहरण सबसे तो जाना पहचाना उदाहरण है क्या कोई भी केस चलता है तो आमतौर पर क्या रहता है कोई भी केस 10 12 18 साल 20 साल बाद उसका फैसला आता है जो जुडिशरी सिस्टम रानी कि उसको साबित भेजो वह लगते हैं वह तो लग जाते हैं लेकिन को साबित करने में 20 साल लगते हैं कि 20 साल बाद इंसान को सजा मिलेगी जो 20 साल पहले काम कर चुका है एक तो यह चीज हो गए दूसरे जितने भी नियम कायदे बनाए जाते हैं उस पर कठोर तरीके से पालन किया जाता हमारी कॉन्स्टिट्यूशन में जो भी एक ट्रैफिक जो भी लोग हैं उनके अकॉर्डिंग हेलमेट पहनना जरूरी है बट आप क्या देखेंगे कहीं पर भी हेलमेट पहने हुए आप लोग मिलेंगे नहीं मिलेंगे जुर्माने की व्यवस्था है गंदगी फैलाने पर तमाम प्रकार की चीजें हैं हम तरीके के नियम कानून है लेकिन बन जाते हैं उसका फायदा उसको लागू नहीं किया जाता है।

samvidhan hamara BA hut hi lachila hai uska sabse taaza udaharan sabse toh jana pehchana udaharan hai kya koi bhi case chalta hai toh aamtaur par kya rehta hai koi bhi case 10 12 18 saal 20 saal BA ad uska faisla aata hai jo judiciary system rani ki usko saabit bhejo vaah lagte hai vaah toh lag jaate hai lekin ko saabit karne mein 20 saal lagte hai ki 20 saal BA ad insaan ko saza milegi jo 20 saal pehle kaam kar chuka hai ek toh yah cheez ho gaye dusre jitne bhi niyam kayade BA naye jaate hai us par kathor tarike se palan kiya jata hamari Constitution mein jo bhi ek traffic jo bhi log hai unke according helmet pahanna zaroori hai but aap kya dekhenge kahin par bhi helmet pehne hue aap log milenge nahi milenge jurmane ki vyavastha hai gandagi felane par tamaam prakar ki cheezen hai hum tarike ke niyam kanoon hai lekin BA n jaate hai uska fayda usko laagu nahi kiya jata hai

संविधान हमारा बहुत ही लचीला है उसका सबसे ताजा उदाहरण सबसे तो जाना पहचाना उदाहरण है क्या को

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  18
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
भारतीय संविधान कठोर है या लचीला ; sabse lachila samvidhan ; सबसे लचीला संविधान कहां का है ; bharat ka samvidhan lachila hai ya kathor ; sabse kathor samvidhan kahan ka hai ; sabse lachila kanoon kis desh ka hai ; जो देश एक लचीला संविधान है ; लचीला संविधान कहा का है ; सबसे लचीला संविधान ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!